BSEB 9 SST POL CH 02

BSEB Bihar Board Class 9 Social Science Political Science Solutions Chapter 2 लोकतन्त्र क्या और क्यों?

Bihar Board Class 9 Political Science लोकतन्त्र क्या और क्यों? Text Book Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहुविकल्पीय प्रश्न :

प्रश्न 1.
किस प्रकार के शासन प्रणाली में सरकार के अधिकारी अपने हित में शासन करते हैं ?
(क) लोकतंत्र में
(ख) गैर-लोकतांत्रिक
(ग) दोनों
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(ख) गैर-लोकतांत्रिक

प्रश्न 2.
पाकिस्तान में परवेज मुशर्रफ ने किस वर्ष सैनिक तख्त पलट की अगुवाई की?
(क) 1990 ई. में
(ख) 1999 ई. में
(ग) 2000 ई. में
(घ) 2002 ई. में
उत्तर-
(ख) 1999 ई. में

प्रश्न 3.
किस वर्ष परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान का संविधान बदल डाला?
(क) 1999 ई. में
(ख) 2000 ई. में .
(ग) 2001 ई. में.
(घ) 2002 ई. में
उत्तर-
(घ) 2002 ई. में

प्रश्न 4.
चीन की संसद के लिए कितने वर्षों बाद नियमित रूप से चुनाव होती है ?
(क) 5 वर्ष
(ख) 6 वर्ष
(ग) 8 वर्ष
(घ) 10 वर्ष
उत्तर-
(क) 5 वर्ष

प्रश्न 5.
चीन में चुनाव लड़ने से पहले किससे मंजूरी लेनी पड़ती है ?
(क) सरकार से.
(ख) संयुक्त राष्ट्र संघ से
(ग) चीनी कम्युनिस्ट पार्टी से
(घ) किसी से भी नहीं
उत्तर-
(ग) चीनी कम्युनिस्ट पार्टी से

प्रश्न 6.
“लोकतंत्र ऐसा शासन है जिसमें लोगों का, लोगों के लिए और लोगों द्वारा शासन किया जाता है-” निम्नलिखित में से किसका कथन
(क) जॉर्ज वाशिंगटन का
(ख) महात्मा गाँधी का
(ग) रूजवेल्ट का
(घ) अब्राहम लिंकन का
उत्तर-
(क) जॉर्ज वाशिंगटन का

प्रश्न 7.
किस शासन व्यवस्था में राज परिवार में जन्म लेने वाला व्यक्ति शासक बन जाता है ?
(क) लोकतंत्र में
(ख) सैनिक शासन में
(ग) राजशाही में
(घ) गणतात्रिक शासन में
उत्तर-
(ग) राजशाही में

प्रश्न 8.
किस देश में प्रत्यक्ष लोकतंत्र है ?
(क) चीन में
(ख) म्यांमार में
(ग) जापान में
(घ) स्विट्जरलैंड में
उत्तर-
(घ) स्विट्जरलैंड में

प्रश्न 9.
निम्नलिखित में से कौन-सा तथ्य लोकतंत्र के लिए जरूरी है ?
(क) सैनिक अधिकारी ही शासन चलाते हैं
(ख) जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि ही शासन चलाते हैं
(ग) लोग स्वयं शासन करते हैं
(घ) राजपरिवार को कोई संतान
उत्तर-
(ख) जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि ही शासन चलाते हैं

प्रश्न 10.
निम्नलिखित में से किस देश में महिलाओं को अभी भी वोट देने का अधिकार नहीं है ?
(क) पाकिस्तान में
(ख) चीन में
(ग) जापान में
(घ) सऊदी अरब में
उत्तर-
(घ) सऊदी अरब में

प्रश्न 11.
लोकतंत्र के लिए क्या आवश्यक है ?
(क) सरकार संवैधानिक कानूनों के भीतर ही काम करती है।
(ख) सरकार मनमाने ढंग से काम करती है।
(ग) सरकार कोई भी फैसला अपने मन से करती है।
(घ) सरकार के लिए संविधान जानना आवश्यक नहीं।
उत्तर-
(क) सरकार संवैधानिक कानूनों के भीतर ही काम करती है।

प्रश्न 12.
लोकतंत्र शासन का ऐसा रूप है जिसमें- .
(क) चुनाव स्वतंत्र नहीं होते हैं
(ख) चुनाव में एक ही दल भाग लेता है
(ग) चुनाव पक्षपातपूर्ण होता है
(घ) जनता के पास शासकों को बदलने का विकल्प और अवसर उपलब्ध होते हैं
उत्तर-
(घ) जनता के पास शासकों को बदलने का विकल्प और अवसर उपलब्ध होते हैं

प्रश्न 13.
लोकतंत्र का मुख्य दोष है
(क) गैर जिम्मेदार लोगों का
(ख) विद्वानों का
(ग) देशभक्तों का
(घ) सच्चे सेवकों का
उत्तर-
(क) गैर जिम्मेदार लोगों का

प्रश्न 14.
चीन में भयंकर अकाल कब पड़ा था ?
(क) 1958-61 ई. के दौरान
(ख) 1965 ई. में
(ग) 1965-70 ई. के दौरान
(घ) 1980 ई० में
उत्तर-
(क) 1958-61 ई. के दौरान

प्रश्न 15.
किसके शासन काल में भारत में 1975 ई० में आपातकाल लागू किया गया?
(क) श्री लालबहादुर शास्त्री
(ख) श्रीमती इंदिरा गाँधी
(ग) डॉ. मनमोहन सिंह
(घ) श्री देवगोड़ा
उत्तर-
(ख) श्रीमती इंदिरा गाँधी

प्रश्न 16.
लोकतंत्र में अकाल भुखमरी की संभावना कम रहती है । यह तर्क देने में कौन-सा कारण सही है ?
(क) सरकार की आलोचना कर सकने वाला स्वतंत्र मीडिया होता
(ख) विपक्षी दल कमजोर होते हैं
(ग) एक दलीय चुनावी व्यवस्था होती है
(घ) अधिकारी मनमानी करते हैं
उत्तर-
(क) सरकार की आलोचना कर सकने वाला स्वतंत्र मीडिया होता

प्रश्न 17.
निम्नलिखित में से कहाँ का शासन लोकतांत्रिक होता है ?
(क) जहाँ सैनिक पदाधिकारी शासक हो
(ख) जहाँ का शासक राजा का पुत्र हो
(ग) जहाँ का शासक एक तानाशाह हो
(घ) जहाँ लोगों द्वारा चुने गए प्रतिनिधि ही शासन करते हैं।
उत्तर-
(घ) जहाँ लोगों द्वारा चुने गए प्रतिनिधि ही शासन करते हैं।

प्रश्न 18.
‘मूरों का शासन’-किस शासन का अवगुण है।
(क) राजतंत्र का
(ख) सैनिक शासन में
(ग) लोकतंत्र में
(घ) इनमें से कोई नही
उत्तर-
(ग) लोकतंत्र में

प्रश्न 19.
किस शासन प्रणाली में चुनाव में अनेक दलों की भागीदारी होती
(क) सैनिक शासन में
(ख) राजतंत्र में ।
(ग) लोकतंत्र में
(घ) तानाशाही में
उत्तर-
(ग) लोकतंत्र में

प्रश्न 20.
लोकतंत्र शासन का प्रमुख दोष है।
(क) संविधान के अनुसार काम करना
(ख) जनता की बातों पर ध्यान देना
(ग) भ्रष्ट नेताओं के हाथ का खिलौना बन जाना
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(ग) भ्रष्ट नेताओं के हाथ का खिलौना बन जाना

रिक्त स्थान की पूर्ति करें :

प्रश्न 1.
परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान में सैनिक तख्तापलट कर खुद देश का …… घोषित कर दिया।
उत्तर-
मुख्य कार्यकारी

प्रश्न 2.
फरवरी …………… में पाकिस्तान में आम चुनाव हुए।
उत्तर-
2008 ई.

प्रश्न 3.
पाकिस्तान के राष्ट्रपति …. हैं।
उत्तर-
अशिफ अली जरदारी

प्रश्न 4.
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ………….. हैं।
उत्तर-
युसूफ

प्रश्न 5.
संसदीय प्रणाली में मतदान द्वारा चुनाव में जीते हुए प्रत्याशी कहलाते हैं।
उत्तर-
प्रतिनिधि

प्रश्न 6.
लोकतंत्र में बिना किसी डर, भय एवं …………… के इच्छानुसार वोट डाला जाता है।
उत्तर-
प्रलोभन

प्रश्न 7.
फिजी देश के मूलवासियों के वोट का महत्व भारतीय मूल के ……………… के. वोट से ज्यादा है।
उत्तर-
फिजी नागरिक

प्रश्न 8.
लोकतंत्र में सरकार ………….. नहीं कर सकती।
उत्तर-
मनमानी

प्रश्न 9.
लोकतंत्र में सरकार उसी की बनती है जिसका विधानसभा या लोकसभा में ………………. प्राप्त हो।
उत्तर-
बहुमत

प्रश्न 10.
लोकतंत्र में सरकार लोगों के अधिकारों को ……………. रखती है।
उत्तर-
सुरक्षित

प्रश्न 11.
लोकतंत्र में नेता सिर्फ ………. के प्रयास में रहते हैं।
उत्तर-
सत्ता हथियाने

प्रश्न 12.
अर्थशास्त्रियों के अनुसार लोकतांत्रिक देश में कही भी बड़ी …………. नहीं हुई।
उत्तर-
त्रासदी

प्रश्न 13.
लोकतंत्र में …………… चुनावी व्यवस्था होती है।
उत्तर-
बहुदलीय

प्रश्न 14.
लोकतांत्रिक सरकार ……………… के लिए सबसे उत्तम शासन है।
उत्तर-
लोककल्याण

प्रश्न 15.
लोकतंत्र में …………….. निरंतर व्यवस्थापिका एवं कार्यपालिका पर नजर रखे रहती है।
उत्तर-
न्यायपालिका

प्रश्न 16.
लोकतंत्र में लोगों की गरिमा एवं इच्छाओं का ………. किए जाने की ज्यादा संभावना है
उत्तर-
सम्मान

प्रश्न 17.
लोकतंत्र में केवल प्रतिनिधि ही ………… में भाग लेते हैं।
उत्तर-
शासन-संचालन

प्रश्न 18.
लोकतंत्र केवल सरकार तक ही सीमित नहीं है बल्कि उसकी पहुँच संगठन, गाँव एवं …………. तक है।
उत्तर-
परिवार

प्रश्न 19.
लोकतंत्र शासन व्यवस्था एक ……. है।
उत्तर-
आदर्श

प्रश्न 20.
लोकतंत्र सामान्य मनुष्य में …… पैदा करती है।
उत्तर-
निष्ठा

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लोकतंत्र में किस प्रकार की सरकार होती है ?
उत्तर-
लोकतंत्र में ऐसी सरकार होती है जहाँ जनता अपने शासक का स्वयं चुनाव करती है।

प्रश्न 2.
जनरल परवेज मुशर्रफ पाकिस्तान में किस प्रकार के शासक थे ?
उत्तर-
सैनिक शासक ।

प्रश्न 3.
जनरल परवेज मुशर्रफ ने धोखाधड़ी का सहारा लेकर क्या किया?
उत्तर-
अपना कार्यकाल पांच वर्षों के लिए बढ़वा लिया।

प्रश्न 4.
2002 ई० में परवेज मुशर्रफ ने क्या किया?
उत्तर-
उन्होंने संविधान को बदल डाला। ।

प्रश्न 5.
पाकिस्तान में 2008 के आम चुनाव में राष्ट्रपति कौन बने ?
उत्तर-
आसिफ अली जरदारी।

प्रश्न 6.
राजशाही शासन व्यवस्था में शासन कौन चलाता है?
उत्तर-
राजा।

प्रश्न 7.
चीन में सदस्यों का चुनाव कौन करता है ?
उत्तर-सेना करती है।

प्रश्न 8.
अब्राहम लिंकन कहाँ के राष्ट्रपति थे?
उत्तर-
संयुक्त राज्य अमेरिका के।

प्रश्न 9.
लोकतंत्र में अन्तिम शक्ति कहां निवास करती है?
उत्तर-
जनता में।

प्रश्न 10.
लोकतांत्रिक शासन प्रणाली का एकण लिखें।
उत्तर-
नागरिकों को मताधिकार एवं स्वतंत्रता प्राप्त है

प्रश्न 11.
लोकतंत्र की एक महत्वपूर्ण विशेषता लिखें।.
उत्तर-
लोकतंत्र स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव पर आधारित होता है।

प्रश्न 12.
वर्ष 2005 में बिहार के मुख्यमंत्री कान बने ।
उत्तर-
श्री नीतिश कुमार ।

प्रश्न 13.
भारतीय जनता पार्टी का चुनाव चिह्न क्या है ?
उत्तर-
कमल छाप।

प्रश्न 14.
लोकतंत्र का पहला गुण क्या है ?
उत्तर-
लोकतंत्र में शासक को जनता के प्रति अधिक जवाबदेही होती है।

प्रश्न 15.
लोकतंत्र शासन कैसी व्यवस्था है ?
उत्तर-
लोकतंत्र शासन एक ऐसी व्यवस्था है जिसका प्रयोग जीवन के किसी भी क्षेत्र में हो सकता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लोकतंत्र क्या है?
उत्तर-
एक ऐसी शासन-व्यवस्था जो लोगों द्वारा चुनी जाती है और लोगों के हित में शासन करती है। लोकतंत्र कहलाती है। इसमें समानता, स्वतंत्रता जैसे लोकतांत्रिक सिद्धान्तों पर विशेष बल दिया जाता है। वर्तमान समय में यह शासन व्यवस्था सबसे लोकप्रिय है।

प्रश्न 2.
लोकतंत्र की एक प्रसिद्ध परिभाषा दें।
उत्तर-
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन ने लोकतंत्र की जो व्याख्या दी वह सबसे प्रसिद्ध परिभाषा सिद्ध हुई । उनके अनुसार ‘लोकतंत्र ऐसा शासन है जिसमें लोगों का, लोगों के लिए और लोगों द्वारा शासन किया जाता है।’

(“Democracy is a government of the people, by the people and for the people.”)
-Abraham Lincoln.

प्रश्न 3.
गैर-लोकतांत्रिक शासन क्या है ?
उत्तर-
कुछ सरकारें ऐसी होती हैं जो लोगों द्वारा निर्वाचित न होकर अन्य माध्यमों जैसे तख्तापलट, पारिवारिक परम्परा आदि से स्थापित होती हैं ऐसी सरकारों के अधिकारी अपने हित में शासन करते हैं। ऐसी शासन-व्यवस्था को गैर-लोकतांत्रिक शासन कहा जाता है। जैसे6 अक्टूबर 1999 ई. से लगभग.दिसम्बर 2007 ई. तक पाकिस्तान का
शासन सैनिक तख्तापलट के कारण जनरल मुशर्रफ के हाथ में रहा । .

प्रश्न 4.
प्रत्यक्ष लोकतंत्र और अप्रत्यक्ष लोकतंत्र में क्या अन्तर है ?
उत्तर-
प्रत्यक्ष लोकतंत्र- प्रत्यक्ष लोकतंत्र शासन व्यवस्था का वह रूप है जिसमें जनता प्रत्यक्ष रूप से शासन संचालन में भाग लेती है, एवं कानून का निर्माण भी स्वयं करती है। प्राचीन काल में भारत में लिच्छवी, विदेह आदि जनपदों में प्रत्यक्ष लोकतंत्र था। आज स्विट्जरलैंड में यह शासन प्रणाली वर्तमान है।

अप्रत्यक्ष लोकतंत्र-अप्रत्यक्ष लोकतंत्र शासन-व्यवस्था का वह रूप है जहाँ लोग अपने प्रतिनिधि का चुनाव करते हैं और चुने हुए प्रतिनिधि – के द्वारा शासन में स्वयं भाग लेते हैं । भारत, अमेरिका, वर्तमान पाकिस्तान में इस प्रकार का लोकतंत्र कायम हैं।

प्रश्न 5.
लोकतांत्रिक और गैर-लोकतांत्रिक सरकार का एक-एक लक्षण लिखें।
उत्तर-
लोकतांत्रिक सरकार-लोकतंत्र में लोग अपने-अपने वोट के माध्यम से अपने प्रतिनिधि का चुनाव करते हैं। ये चुने हुए प्रतिनिधि ही शासन का संचालन करते हैं, सरकार के लिए फैसले लेते हैं और कानूनों का निर्माण करते हैं।

गैर-लोकतांत्रिक सरकार-वैसी सरकारें जो लोगों द्वारा निर्वाचित न । होकर अन्य माध्यमों जैसे तख्तापलट, पारिवारिक परम्परा आदि से स्थापित होती हैं के अधिकारी अपने हित में शासन करते हैं। ऐसी शासन-व्यवस्था को गैर-लोकतांत्रिक शासन कहा जाता है। जैसेम्यांमार में अभी भी सैनिक शासन है जो कि गैर-लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था है।

प्रश्न 6.
लोकतंत्र, राजतंत्र और सैनिक शासन से किस प्रकार भिन्न है ?
उत्तर-
लोकतंत्र-लोकतंत्र वह शासन प्रणाली है जिसमें राज्य की ‘सना जनता के हाथ में होती है और सरकार जनता द्वारा चुने गए – प्रतिनिधियों द्वारा चलाई जाती है।

राजतक राजतंत्र में शासन का कार्य राजा द्वारा चलाया जाता है। राजा निर्वाचित नहीं होता बल्कि पैतृक आधार पर राज्य का अधिकारी बन जाता है।

सैनिक शासन-सैनिक शासन में सेना का शासन होता है। सेना तानाशाही या मनमाने ढंग से अपनी भलाई के लिए शासन करती है। यह शासन किसी के प्रति उत्तरदायी नहीं होती । इस प्रकार के शासन में चुनावों का कोई स्थान नहीं होता है। विरोध करने वाले को जेल में डाल दिया जाता है या फिर मौत के घाट उतार दिया जाता है।

इस प्रकार राजतंत्र और सैनिक शासन दोनों ही गैर-लोकतांत्रिक शासन हैं।

प्रश्न 7.
लोकतांत्रिक सरकार की किन्हीं चार आवश्यक तथ्यों का वर्णन
करें।
उत्तर-

  • शासकों का चुनाव जनता के द्वारा होता है ।
  • चुनाव निष्पक्ष और स्वतंत्र होते हैं ।
  • चुनाव में अनेक दलों की भागीदारी होती है, जिसके कारण लोगों के पास शासकों को बदलने का विकल्प और अवसर उपलब्ध होते हैं।
  • चुनाव में बनी सरकार संविधान द्वारा निर्धारित तौर-तरीकों एवं नियमों के अन्दर ही कार्य करत. है और सरकार लोगों के अधिकारों को सुरक्षित रखती है।

प्रश्न 8.
लोकतांत्रिक शासन में नागरिकों को प्राप्त (पाठ के आधार पर) किन्हीं चार अधिकारों का वर्णन करें।
उत्तर-

  • जनता को मताधिकार प्राप्त होता है, जिससे वह बिना किसी डर, भय एवं प्रलोभन के अपनी इच्छानुसार वोट डालता है।
  • लोगों को मत प्रयोग के लिए अपना विचार रखने व विचारों की अभिव्यक्ति का अधिकार होता है।
  • लोग राजनीतिक संस्थाओं के लिए चुनावों में भाग ले सकते हैं तथा स्वयं चुनाव में भाग भी ले सकते हैं।
  • हर नागरिक को चुनाव लड़ने का अधिकार होता है।

प्रश्न 9.
क्या सेना के हाथों में शासन देना उचित होगा? तर्कपूर्ण उत्तर दें।
उत्तर-
यद्यपि सेना देश का सबसे अनुशासित और भ्रष्टाचार मुक्त संगठन है तथापि देश का शासन सेना को सौंपना लोकतंत्र के विरुद्ध है। सेना के अधिकार निर्वाचित नहीं होते। अत: वे जो कार्य करेंगे अपने हितों के लिए ही करेंगे। जनता के हितों पर उचित ध्यान नहीं देंगे । उनका शासन अधिकतर निरंकुश होता है। सैन्य विरोधियों को आसानी से कुचल डालते हैं।

प्रश्न 10.
मानवाधिकार क्या है ? संक्षेप में लिखें।
उत्तर-
व्यक्ति एवं समाज को राज्य द्वारा विभिन्न प्रकार के अधिकार प्रदान किए जाते हैं। इसके अतिरिक्त प्रकृति ने भी हमें कुछ अधिकार प्रदान किए हैं। इन अधिकारों का उपयोग कर व्यक्ति अपने व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास कर सकता है। जैसे—स्वतंत्रता का अधिकार, समानता का अधिकार, जीवन जीने का अधिकार आदि । ये सब अधिकार मानवाधिकार कहलाते हैं। इन अधिकारों की प्राप्ति केवल लोकतंत्र में ही नागरिकों को प्रदान किए जाते हैं।

प्रश्न 11.
लोकतांत्रिक चुनाव किस तरह के होते हैं ?
उत्तर-
लोकसभा और विधानसभा चुनाव विभिन्न तरह के झंडे एवं बैनर लेकर लोग चुनाव प्रचार करते हैं। ये विभिन्न तरह के झंडे विभिन्न दलों के होते हैं। जैसे-पंजा छाप काँग्रेस पार्टी का, कमल छाप भारतीय जनता पार्टी का, लालटेन छाप राष्ट्रीय जनता दल का, तीर छाप जनता दल यूनाइटेड का आदि । ये सभी दल मतदाता को अपनी ओर लामबंद करने और अपने पक्ष में मतदान करने के लिए लोगों को आकर्षित करते हैं । विभिन्न दलों के नेता अपने-अपने चुनावी कार्यक्रमों एवं भाषणों के माध्यम से अपनी-अपनी नीतियों को लोगों के सामने रखते हैं। देश के लोग उनके भाषण एवं विचारों को सुनकर अपनी इच्छानुसार मतदान करते हैं। उस समय मतदाता के समक्ष विभिन्न दलों का विकल्प होता है । जहाँ कहीं भी बहुदलीय व्यवस्था नहीं है वहाँ लोकतंत्र नहीं हो सकता। इस प्रकार लोकतंत्र सरकार का ऐसा रूप है जिसमें शासकों का चुनाव लोग करते हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लोकतंत्र का शासक कौन होता है, शासकों का चुनाव कैसे होता है? शासकों के चुनाव में कौन लोग भाग लेते हैं ? किस तरह की सरकार को हम लोकतांत्रिक सरकार कहेंगे? या, लोकतंत्र की विशेषताओं का वर्णन करें।
उत्तर-

(i) शासक कौन-लोकतंत्रीय व्यवस्थायें जो वयस्क हैं वोट डालने जाते हैं। ये लोग अपने-अपने वोट के माध्यम से अपने प्रतिनिधि का चुनाव करते हैं । ये चुने हुए प्रतिनिधि शासन का संचालन करते हैं। इस प्रकार अन्तिम शक्ति जनता के हाथों में निवास करती है। अतः लोकतंत्र में जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि देश का शासक होता है। निर्वाचित सरकार जनता के लिए फैसले लेती है और कानून का निर्माण करती है।
इस प्रकार लोकतंत्र में अन्तिम शक्ति जनता में निवास करती है जो लोकतंत्र की एक विशेषता है।

(ii) शासकों का चुनाव कैसे होता है ?-लोकतंत्र में बिना किसी डर, भय एवं प्रलोभन के अपनी इच्छानुसार वोट डाला जाता है। अतः हम कह सकते हैं कि लोकतंत्र में चुनाव निष्पक्ष एवं स्वतंत्र होता है जो इसकी प्रमुख विशेषता है।

(iii) शासकों के चुनाव में कौन लोग भाग लेते हैं- शासकों के चुनाव में सभी वयस्क लोग अपना-अपना वोट डालने जाते हैं । लोकतंत्र का सीधा संबंध मताधिकार से जुड़ा हुआ है। लोकतंत्र के लिए आवश्यक है कि सभी वयस्क लोगों को समान रूप से वोट देने का अधिकार मिले तथा सभी लोगों के वोट का महत्व बराबर हो । यह भी लोकतंत्र की एक महत्वपूर्ण विशेषता है।

(iv) किस तरह की सरकार को हम लोकतांत्रिक सरकार कहेंगे?लोकतंत्र में संविधान के अनुसार देश का शासन चलता है न कि किसी खास व्यक्ति या संस्था के अनुसार ।
लोकतंत्र में लोगों की बुनियादी अधिकारों की गारंटी होती है। लोगों को सोचने का, अपना विचार देने का, संगठन बनाने का, विरोध करने का, राजनैतिक गतिविधियों में स्वतंत्र रूप से भाग लेने आदि की स्वतंत्रता होती है। कानून की नजर में सभी समान होते हैं। लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए न्यायपालिका होती है।

इस प्रकार लोकतंत्र की एक विशेषता यह भी है कि लोकतंत्र में शासन कानून के अनुसार चलता है।
लोकतंत्र की मुख्य विशेषताओं का संक्षिप्त रूप इस प्रकार है –

  • लोकतंत्र की अन्तिम शक्ति जनता में निवास करती है।
  • लोकतंत्र में चुनाव निष्पक्ष एवं स्वतंत्र होते हैं ।
  • सभी वयस्क लाग को समान रूप से वोट देने का अधिकार प्राप्त है।
  • लोकतंत्र में शासन “कानून के अनुसार चलता है।
  • लोगों के अधिकारों की गारंटी होती है।

प्रश्न 2.
लोकतंत्र के पक्ष में तर्क प्रस्तुत करें।
अथवा, लोकतंत्र शासन अन्य शासनों से बेहतर क्यों है ?
अथवा, लोकतंत्र के कौन-कौन से गुण हैं ?
अथवा, लोकतंत्र शासन सर्वोत्तम शासन प्रणाली है। कैसे?
उत्तर-
(i) शासन के प्रति जवाबदेही-लोकतंत्र का पहला गुण है कि लोकतंत्र में शासन अधिक जवाबदेही वाला होता है। ऐसा देखा जाता है कि लोकतांत्रिक देशों में सरकार लोगों की जरूरत के अनुसार अपना आचरण करती है। चीन में 1958-61 ई. के दौरान भयंकर अकाल पड़ा। इसमें करोड़ों लोग भूख से मर गए । ठीक ऐसी ही तरह की भयावह स्थिति वर्ष 2008 ई. के अगस्त-सितम्बर महीने में उत्तरी बिहार में बाढ़ से उत्पन्ना प्रलय की थी जिसमें करोड़ों-अरबों की संपत्ति का नुकसान हुआ लाखों लोग बेघर एवं तबाह हो गए। भारत में लोकतांत्रिक व्यवस्था होने के कारण बिहार ने उससे जल्द ही निजात पा लिया; जबकि चीन को उस अकाल से निजात पाने में काफी समय लगा। इस संबंध में अर्थशास्त्रियों का कहना है कि किसी भी स्वतंत्र और लोकतांत्रिक देश में कभी भी बड़ी त्रासदी नहीं हुई क्योंकि लोकतांत्रिक देशों में बहुदलीय चुनावी व्यवस्था है वहाँ मजबूत विपक्षी दल होते हैं और सरकार की आलोचना के लिए स्वतंत्र मीडिया होती है।

(ii) लोकतंत्र में सरकार लोक कल्याण के लिए कार्य करती हैगैर-लोकतांत्रिक सरकारों की तुलना में लोकतांत्रिक सरकार लोककल्याण के लिए सबसे उत्तम शासन-व्यवस्था है। लोकतंत्र में जनता अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से शासन करती है। प्रतिनिधि जनता की इच्छाओं, भावनाओं और आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर शासन करते हैं। जैसे- चीन में गैर-लोकतांत्रिक शासन के कारण शासन व्यवस्था में लोक कल्याण की भावना की कमी थी फलस्वरूप भयानक त्रासदी हो गयी।

(iii) लोकतंत्र में न्यायपालिका निरंतर व्यवस्थापिका एवं कार्यपालिका पर नजर रखे रहती है-मानव को प्रकृति प्रदत्त कुछ अधिकार प्राप्त हैं, जैसे-स्वतंत्रता का अधिकार, समानता का अधिकार, जीवन जीने का अधिकार आदि। जिसे मानवाधिकार भी कहा जाता है। इन अधिकारों का उपयोग कर व्यक्ति अपने व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास कर सकता है। इस तरह के अधिकार केवल लोकतंत्र में ही नागरिकों को प्रदान किए जाते हैं। गैर-लोकतांत्रिक प्रशासन में नहीं। मानवाधिकारों की रक्षा हेतु ही न्यायपालिका की व्यवस्था होती है।

(iv) लोकतंत्र में सरकार को अपनी गलती सुधारने का मौका मिलता है-यदि सरकार जल्दीबाजी में कोई फैसला कर लेती है तो जनता भी उसे गलत कहकर पद से हटा देती है । जैसे- वर्ष 1975 ई. में श्रीमती इंदिरा गाँधी ने भारत में आपातकाल लागू की थी, जो लोगों के विचार में गलत फैसला था। इस फैसले के कारण श्रीमती इंदिरा गाँधी को 1977 ई० के चुनाव में लोगों ने मतदान नहीं किया और श्रीमती गाँधी को सत्ता से हटना पड़ा । इस तरह की व्यवस्था गैर-लोकतांत्रिक सरकारों में संभव नहीं है। अत: लोकतंत्र में सरकार को अपनी गलती सुधारने का मौका रहता है।

(v) लोकतंत्र में लोगों की गरिमा एवं इच्छाओं को सम्मान मिलता है-लोकतंत्र न ही सभी समस्याओं का समाधान कर सकता है और न ही सभी चीजों को उपलब्ध कर सकता है जो जीवन के लिए आवश्यक है। फिर भी यह कहा जा सकता है कि लोकतंत्र उन सभी दूसरी शासन व्यवस्था से बेहतर है जिन्हें हम जानते हैं और दुनिया के लोगों को जिनका अनुभव है। यह अच्छे फैसलों के लिए बेहतर सेवा उपलब्ध कराता है। इससे लोगों की गरिमा बनी रहती है। इसी कारण से लोकतंत्र को सबसे अच्छा शासन व्यवस्था मानी जाती है।

प्रश्न 3.
लोकतंत्र के विपक्ष में तर्क प्रस्तुत करें।
अथवा, लोकतंत्र के अवगुणों की चर्चा करें।
अथवा, लोकतंत्र को मूरों का शासन कहा जाता है । क्यों ?
उत्तर-
यद्यपि लोकतंत्र शासन की सर्वाधिक सर्वोत्तम प्रणाली है तथापि इस प्रणाली में कई दोष हैं। इनके दोष निम्नलिखित हैं-

  • मूल् का शासन-लोकतंत्र के विरोधी यह तर्क देते हैं कि लोकतांत्रिक देशों में अनपढ़ एवं गैर जिम्मेदार लोगों की संख्या ज्यादा होती है । अत: चुने हुए प्रतिनिधि अनपढ़ और मूर्ख होते हैं । इसलिए इसे मूरों का शासन कहा जाता है।
  • नैतिकता की कोई जगह नहीं लोकतंत्र में सत्ता की लड़ाई और सत्ता का खेल चलता है। इसमें नैतिकता की कोई जगह नहीं रह जाती है और इसके अन्तर्गत सिर्फ सत्ता हथियाने का प्रयास किया जाता है। इससे लोगों के साथ-साथ देश को काफी क्षति पहुँचती है।
  • फैसला की प्रक्रिया में विलंब-लोकतंत्र में फैसला लेने की प्रक्रिया बड़ी कठिन होती है । फैसला लेने के पहले काफी वाद-विवाद, बहस एवं चर्चा होती है जिससे किसी भी निर्णय पर पहुँचने में दिक्कत होती है। .
  • यह काफी खर्चीला शासन है-क्योंकि इसमें होने वाले चुनावों – में काफी खर्च आता है। देश की बहुत बड़ी राशि चुनावों में पानी की तरह बहता है।
  • लोकतंत्र भ्रष्ट नेताओं के हाथ का खिलौना है ऐसा भी कहा जाता है कि लोकतंत्र घोटालों की सरकार होती है। जैसे बिहार में चारा घोटाला 600 करोड़ का तथा झारखंड में 400 करोड़ का घोटाला हुआ । ये सभी भ्रष्ट नेताओं के ही करतूत हैं।
  • लोकतंत्र न तो आशंका समाप्त कर पाया और न गरीबी मिटाई है-लोकतंत्र अभी तक समस्याओं को समाप्त करने संबंधी कोई तौर-तरीका विकसित नहीं कर पाया है। लोकतंत्र में लोगों की भागीदारी होती है पर फैसला लेने में काफी देर होती है। इसलिए जनता में असंतोष की भावना बढ़ती जाती है।

प्रश्न 4.
लोकतांत्रिक और गैर-लोकतांत्रिक सरकार में अन्तर स्पष्ट करें।
उत्तर-
शासन व्यवस्था के स्वरूप कई तरह के हो सकते हैंलोकतांत्रिक और गैर-लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था । इन दोनों में निम्नलिखित अन्तर है

(क) लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था-(i) एक ऐसी शासन व्यवस्था होती है जो लोगों द्वारा चुनी जाती है और लोगों के हित में शासन करती है। (ii) इसमें लोगों की भागीदारी होती है। (iii) चुनाव के द्वारा प्रतिनिधि चुने जाते हैं । चुनाव में देश के वयस्क लोग अर्थात् जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है, वोट डालते हैं और योग्य व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि चुनकर शासन का संचालन करते हैं । (iv) इस शासन में संप्रभुता जनता के हाथों में रहती है । (v) लोकतंत्र में चुनाव निष्पक्ष एवं स्वतंत्र होते हैं । (vi) यहाँ हर व्यक्ति के वोट का एक समान महत्व होता है। (vii) लोकतंत्र में लोगों के बुनियादी अधिकारों की गारंटी होती है। (viii) कानून की नजर में सभी लोगों की समानता होनी चाहिए । (ix) लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए न्यायपालिका होती है। (x) लोकतंत्र में बहुमत प्राप्त दल का ही शासन होता है। (xi) सरकार संविधान द्वारा निर्धारित तौर-तरीकों व नियमों के अंदर ही कार्य करती है। (xii) चुनाव में अनेक दलों की भागीदारी होती है जिसके कारण लोगों के पास शासकों को बदलने का विकल्प और अवसर उपलब्ध होते हैं । चुनाव एक नियत समय पर होती है। (xiii) इस प्रकार के शासन की कुछ बुराइयाँ हैं जैसे—मूखों का शासन, काफी खर्चीला शासन, नैतिकता का अभाव आदि । बावजूद इसके आज दुनियाँ भर के देशों में लोकतंत्रीय शासन अपनाने की होड़ मची हुई है। यह विश्व स्तर पर सर्वश्रेष्ठ शासन प्रतीत होता है।

(ख) गैर-लोकतांत्रिक शासन-(i) कुछ ऐसी सरकारें भी हैं जो लोगों द्वारा निर्वाचित न होकर अन्य माध्यमों जैसे तख्तापलट, पारिवारिक . परम्परा आदि द्वारा स्थापित होती हैं। ऐसी सरकारों के अधिकारी अपने हित में शासन करते हैं। ऐसी शासन-व्यवस्था को गैर-लोकतांत्रिक शासन कहा जाता है । (ii) गैर-लोकतांत्रिक सरकार में अधिकारी अपनी भलाई के अनसार काम करते हैं। (ii) चनाव होने पर भी व्यापक पैमाने पर धोखाधड़ी व गड़बड़ियाँ की जाती हैं । (iv) सरकार जनता द्वारा वैधानिक ढंग से चनी हई नहीं होती । (v) चनाव नियत समय पर नहीं होते । (vi) स्वतंत्र एवं निष्पक्ष न्यायपालिका का अभाव होता है । (vii) अंतिम निर्णय लेने की शक्ति जनता के पास नहीं होती है। (viii) शासन संचालन में आम लोगों की भागीदारी नहीं होती। (ix) लोगों के अधिकारों की गारंटी नहीं होती है। (x) सरकार किसी संवैधानिक कानन के अन्दर काम नहीं करती। सच माने में उनका कोई संविधान ही नहीं होता। (xi) गैर-लोकतांत्रिक शासन प्रणाली एक आलोचित शासन प्रणाली है, जिससे जनता दूर भागती है।

प्रश्न 5.
सामान्य लोकतंत्र और एक बेहतर लोकतंत्र कौन है ? क्या सरकार
की परिधि से बाहर भी लोकतंत्र है ?
उत्तर-
लोकतंत्र सबसे अच्छी शासन व्यवस्था है। सामान्य और बेहतर लोकतंत्र कौन है ? क्या सरकार की परिधि से बाहर भी लोकतंत्र है ? आदि कई ऐसे प्रश्न हैं, जिनका ज्ञान हमें होना चाहिए।

किसी समस्या के समाधान के लिए घर के सभी सदस्य एक जगह पर मिल-जुल कर विचार-विमर्श के द्वारा फैसला करते हैं। अन्त में . फैसला सभी लोगों के विचार के अनुसार होता है।

मिल-जुल कर किया गया फैसला बुनियादी तौर-तरीके को उजागर करता है । इससे स्पष्ट होता है कि लोकतंत्र केवल सरकार तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसकी पहुँच संगठन, गाँव एवं परिवार तक है । इस प्रकार लोकतंत्र एक ऐसी व्यवस्था है जिसका प्रयोम जीवन के किसी भी क्षेत्र में हो सकता है।

एक बेहतर लोकतंत्र तभी होगा जब वहाँ का लोकतंत्र आदर्श लोकतंत्र के रूप में जाना जाए। जिसे पाने के लिए सभी देश प्रयासरत हैं। एक आदर्श के रूप में लोकतंत्र तभी आयेगा जब देश का कोई भी व्यक्ति भूखे पेट नहीं सोयेगा, सभी को वोट का समान अधिकार मिलेगा, सभी को समान रूप से सूचनाएँ उपलब्ध होगी, बुनियादी शिक्षा सभी को समान रूप से मिलेगा। अगर हम इस आदर्श पर लोकतंत्र को परखेंगे तो लगेगा कि दुनिया में कहीं भी लोकतंत्र नहीं आ पायेगा । लोकतंत्र में इन्हीं बुनियादी समस्याओं का समाधान करने का प्रयास किया जाता है, जो लोकतंत्र का आदर्श है । अतः जहाँ निष्ठा से इन बुनियादी समस्याओं के समाधान का प्रयास किया जाता है वहाँ अच्छा लोकतंत्र है।

अतः लोकतंत्र मात्र राजनीतिक व्यवस्था है जो सामान्य रूप से जनहित में लगा है तथा काम चलाऊ है पर व्यापक अर्थ में लोकतंत्र एक राजनीतिक व्यवस्था ही नहीं वरन एक नैतिक धारणा तथा सामाजिक परिस्थिति भी है । लोकतंत्र एक सामान्य मनुष्य में निष्ठा पैदा करती है। यह जीवन जीने का एक ढंग प्रस्तुत करती है।