BSEB 12 GEO PT 2 CH 10

BSEB Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 10 परिवहन तथा संचार

Bihar Board Class 12 Geography परिवहन तथा संचार Textbook Questions and Answers

(क) नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर चुनिए

प्रश्न 1.
भारतीय रेल प्रणाली को कितने मंडलों में विभाजित किया गया है?
(क) 9
(ख) 12
(ग) 16
(घ) 14
उत्तर:
(ग) 16

प्रश्न 2.
निम्नलिखित में से कौन-सा भारत का सबसे लंबा राष्ट्रीय महामार्ग है?
(क) एन.एच.-1
(ख) एन.एच.-6
(ग) एन.एच.-7
(घ) एन.एच.-8
उत्तर:
(ग) एन.एच.-7

प्रश्न 3.
राष्ट्रीय जल मार्ग संख्या-1 किस नदी पर तथा किन दो स्थानों के बीच पड़ता है?
(क) ब्रह्मपुत्र-सादिया-घुबरी
(ख) गंगा-हल्दिया-इलाहाबाद
(घ) पश्चिमी तट
(ग) नहर-कोट्टा पुरम से कोल्लाम
उत्तर:
(ख) गंगा-हल्दिया-इलाहाबाद

प्रश्न 4.
निम्नलिखित में से किस वर्ष पहला रेडियो कार्यक्रम प्रसारित हुआ था?
(क) 1911
(ख) 1936
(ग) 1927
(घ) 1923
उत्तर:
(घ) 1923

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों का उत्तर लगभग 30 शब्दों में दें

प्रश्न 1.
परिवहन किन क्रियाकलापों को अभिव्यक्त करता है? परिवहन के तीन प्रमुख प्रकारों के नाम बताए।
उत्तर:
परिवहन के माध्यम से हम यात्रियों को अपने विचारों, दर्शन, संदेशों और वस्तुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान तक, अथवा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुँचा सकते हैं।
परिवहन के प्रमुख प्रकार हैं:

  1. स्थल परिवहन
  2. वायु परिवहन
  3. जल परिवहन
  4. पाइप लाइन परिवहन आदि

प्रश्न 2.
पाइप लाइन परिवहन से लाभ एवं हानि की विवेचना करें।
उत्तर:
पाइप लाइनों गैसों एवं तरल पदार्थों के लंबी दूरी तक परिवहन हेतु अत्यधिक सुविधाजनक एवं सक्षम परिवहन प्रणाली है। यहाँ तक की इनके द्वारा ठोस पदार्थों को भी घोल या गारा में बदल कर परिवहित किया जा सकता है।

  1. पाइप लाइन परिवहन की हानि ये है कि इनको बनाने में बहुत अधिक समय और लागत की जरूरत पड़ती है।
  2. पाइप लाइन परिवहन के द्वारा हम केवल कुछ वस्तुओं (तेल एवं गैस आदि) का ही परिवहन कर सकते हैं।
  3. पाइप लाईनों के क्षतिग्रस्त होने का हमेशा खतरा बना रहता है।

प्रश्न 3.
‘संचार’ से आपका क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
आरंभ में संचार के साधन ही परिवहन के साधन होते थे। डाकघर, तार, प्रिंटिंग प्रेस, इन्टरनेट, फैक्से, ई-मेल, दूरभाष तथा उपग्रहों की खोज ने संचार को बहुत त्वरित एवं आसान बना दिया। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास ने संचार के क्षेत्र में क्रांति लाने में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है।

प्रश्न 4.
भारत में वायु परिवहन के क्षेत्र में “एयर इंडिया’ तथा ‘इंडियन’ के योगदान की विवेचना करें।
उत्तर:
एयर इंडिया यात्रियों तथा नौभार यातायात, दोनों के लिए, अंतर्राष्ट्रीय वायु सेवाएँ उपलब्ध कराता है। यह अपनी सेवाओं द्वारा विश्व के सभी महाद्वीपों को जोड़ता है। वर्ष 2005 में इसने 1.22 करोड़ यात्रियों तथा 4.8 लाख टन नौभार का वहन किया। 8 दिसंबर 2005 से इंडियन एयर लाइंस को ‘इंडियन’ के नाम से जाना जाता है। वर्ष 2005 में घरेलू प्रचालन के अंतर्गत 24.3 मिलियन यात्री तथा 20 लाख टन नौभार शामिल था।

(ग) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 150 शब्दों में दें।

प्रश्न 1.
भारत में परिवहन के प्रमुख साधन कौन-कौन से हैं? इनके विकास को प्रभावित करने वाले कारकों की विवेचना करें।
उत्तर:
भारत में परिवहन के प्रमुख साधन हैं:

  1. स्थल परिवहन: जिसके अंतर्गत सड़क परिवहन, रेल परिवहन और पाइप लाइन परिवहन आता है।
  2. जल परिवहन: जिसके अंतर्गत सागरीय व अंत स्थलीय परिवहन आता है। जो कि नौकाओं और जहाजों द्वारा किया जाता है।
  3. वायु परिवहन: जो कि राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वायुयानों के माध्यम से किया जाता है।

भारतीय परिवहन के साधनों के विकास को प्रभावित करने वाले कारक इस प्रकार रहे हैं औद्योगिक क्रांति, कृषि क्रांति दुग्ध क्रांति, तकनीकी क्रांति, सामरिक दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्र, पर्यटन, संचार क्रांति, परिवहन क्रांति और शिक्षा के बढ़ते स्तर, रोजगार आदि कारकों ने भारतीय परिवहन के साधनों के विकास को प्रभावित किया है।

लाखों लोग एक स्थान से दूसरे स्थान पर अपनी नौकरियों को करने सड़क परिवहन द्वारा जाते हैं। लेकिन भू-भाग की प्रकृति तथा आर्थिक विकास का स्तर सड़कों के घनत्व के प्रमुख निर्धारक हैं। मैदानी क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण आसान एवं सस्ता होता है जबकि पहाड़ी एवं पठारी क्षेत्रों में कठिन एवं महंगा होता है। अंतर्राष्ट्रीय महामार्गों का उद्देश्य पड़ोसी देशों के बीच व्यापार, और रिश्तों को सद्भावपूर्ण बनाना होता है।

प्रश्न 2.
पाइप लाइन परिवहन से लाभ एवं हानि की विवेचना करें।
उत्तर:
पाइप लाइन परिवहन की विशेषताएँ: (लाभ)

  1. पाइप लाइनों को कठिन, ऊबड़-खाबड़ भू-भागों तथा पानी के नीचे भी बिछाया जा सकता है।
  2. प्रारंभ में इनके निर्माण में अधिक धन व्यय होता है। परन्तु बाद में इन्हें चालू रखने में कम लागत आती है।
  3. पाइप लाइन पदार्थों की निरन्तर आपूर्ति सुनिश्चित करती है।
  4. इनके द्वारा परिवहन में न तो समय नष्ट होता है और न ही किसी प्रकार की बरबादी होती है।
  5. इसमें ऊर्जा का बहुत कम खर्च होता है।

पाइप लाइन परिवहन की सीमाएँ (हानि) –

  1. इसमें कोई लोच नहीं है।
  2. समयानुसार इसकी क्षमता को न तो बढ़ाया जा सकता है और न ही घटाया जा सकता है।
  3. इनकी सुरक्षा करना कठिन कार्य है।
  4. कहीं पर पाइप लाइन के फट जाने पर उसकी मरम्मत करना भी कठिन है।
  5. पाइप लाइन में रिसाव का पता लगाना भी एक समस्या है।

भारत में पाइप लाइन परिवहन:
खनिज तेल को ले जाने वाली पाइप लाइनों अधिकांशत खनिज तेल उत्पादक राज्यों में बिछाई गई हैं। असम के तेल क्षेत्रों में पाइप लाइन असम तथा बिहार स्थित तेल शोधक कारखानों तथा बाजार केन्द्रों तक बिछायी गई हैं। खनिज तेल ले जाने के लिए एक पाइप लाइन कांडला से मथुरा तेल शोधक कारखाने तक बिछायी गई है। खनिज तेज ले जाने वाली यह भारत की सबसे लम्बी पाइप लाइन है। इसकी कुल लम्बाई 1220 कि.मी. है।

हजीरा बीजापुर जगदीशपुर (एच.बी.जे.) गैस पाइप लाइन भारत की सबसे लम्बी (1730 कि.मी.) पाइप लाइन है। यह पाइप लाइन छ: रासायनिक उर्वरक कारखानों तथा दो तापविद्युत केन्द्रों को गैस की आपूर्ति करती है। पाइप लाइन परिवहन ने रेलों पर भाग ढोने के बढ़ते दबाव को बहुत कम कर दिया है। पाइप लाइन परिवहन के महत्त्व को देखते हुए अब देश में गैस व तेल की आपूर्ति को निरन्तर बनाए रखने के लिए अधिक पाइप लाइन बिछाने की योजना है। पाइप लाइन परिवहन के विकास से गैस पर आधारित तापविद्युत संयंत्रों की स्थापना दूर दराज के क्षेत्रों में की जा रही है, जिससे उन भागों में उद्योगों का विकास हो सके।

प्रश्न 3.
भारत के आर्थिक विकास में सड़कों की भूमिका का वर्णन करें।
उत्तर:
सड़क परिवहन का प्राचीन साधन है तथा रेल परिवहन की अपेक्षा विस्तृत एवं सुलभ है। यह देश के विभिन्न भागों में महत्त्वपूर्ण आर्थिक योगदान देता है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था तो मुख्यतः सड़क परिवहन पर निर्भर है। सड़कें ग्राहक के दरवाजे तक सेवा देती है। सड़क परिवहन, लचीला, विश्वसनीय तथा तीव्रगामी है। देश के पर्यटन को प्रोत्साहित करने के लिए सड़क परिवहन आदर्श साधन है।

सड़क परिवहन द्वारा लाखों टन सामान देश के एक कोने से देश के दूसरे कोने तक प्रतिदिन पहुँचाया जाता है। जिस से प्रतिदिन करोड़ों रुपये सरकार टैक्स के रूप में वसूलती है। राज्य सरकारों की परिवहन बसें प्रतिदिन करोड़ों लोगों को एक जगह से दूसरी जगह लाती-ले जाती हैं। जिससे प्रतिदिन करोड़ों रुपये की कमाई राज्य सरकारें करती है। सड़क परिवहन ने पर्यटन को प्रोत्साहित किया है। करोड़ों रुपये पर्यटन उद्योग से लाखों लोग कमा रहे हैं। करोड़ों लोगों को सीधे या अप्रत्यक्ष रूप से सड़क परिवहन द्वारा रोजगार प्राप्त है।

दूध, फल, सब्जी, फैक्ट्रियों के लिए कच्चा माल, उत्पादों को बाजार, लोगों के घरों तक सड़क परिवहन द्वारा ही पहुँचाया जाता है। किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में सड़क परिवहन का एक ही महत्त्वपूर्ण योगदान है। सड़क परिवहन ऐसे दुर्गम पहाड़ी स्थानों तक अपनी सेवाएँ देती है जहाँ तक और किसी परिवहन का पहुँचाना नामुमकिन है।

Bihar Board Class 12 Geography परिवहन तथा संचार Additional Important Questions and Answers

अति लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
भारतीय रेलमार्ग कितने प्रकार के हैं?
उत्तर:

  1. ब्राड गेज या बड़ी लाइन (दो पटरियों के बीच की दूरी 1.679मी.)।
  2. मीटर गेज (1 मीटर की दूरी)।
  3. नैरो गेज (0.762 मीटर की दूरी)।

प्रश्न 2.
रेले उपकरणों के निर्माण के लिए कौन-कौन से कारखाने हैं?
उत्तर:

  1. चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स
  2. डीजल लोकोमोटिव वर्क्स वाराणसी
  3. इंटीग्रल कोच फैक्ट्री, पेराम्बूर
  4. रेल कोच फैक्ट्री, कपूरथला
  5. व्हील एंड एक्सेल प्लांट, बंगलौर
  6. डीजल कंपोनेंट वर्क्स, पटियाला।

प्रश्न 3.
परिवहन के कितने प्रकार हैं?
उत्तर:
परिवहन के चार प्रकार हैं-सड़कें, रेलमार्ग, जलमार्ग और वायुमार्ग।

प्रश्न 4.
परिवहन में कौन-से चार तत्त्व शामिल हैं?
उत्तर:
परिवहन तंत्र में चार तत्त्व शामिल हैं – उदगम, गंतव्य, मार्ग तथा वाहक।

प्रश्न 5.
सड़कों को कितने वर्गों में विभाजित किया जा सकता है?
उत्तर:

  1. स्वर्ण चतुष्कोण परम राजमार्ग
  2. राष्ट्रीय महामार्ग
  3. राज्य महामार्ग
  4. सीमावर्ती सड़कें
  5. जिले की प्रमुख सड़कें
  6. ग्रामीण सड़कें।

प्रश्न 6.
राष्ट्रीयकरण के बाद भारत में वायु परिवहन का प्रबंधन कौन करता है?
उत्तर:
भारत में वायु परिवहन का प्रबंधन दो निगम-एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइन द्वारा किया जाता है।

प्रश्न 7.
भारत में रेडियो का प्रसारण सबसे पहले कहाँ शुरू किया गया था?
उत्तर:
भारत में रेडियो का प्रसारण सन् 1923 में रेडियो क्लब ऑफ बाम्बे द्वारा शुरू किया गया था।

प्रश्न 8.
उपग्रह से प्राप्त चित्रों का कहाँ उपयोग किया जा सकता है?
उत्तर:
उपग्रह से प्राप्त चित्रों का मौसम के पूर्वानुमान, प्राकृतिक आपदाओं की निगरानी, सीमा क्षेत्रों की चौकसी आदि के लिए उपयोग किया जा सकता है।

प्रश्न 9.
तीन राष्ट्रीय जलमार्गों के नाम बताओ।
उत्तर:
राष्ट्रीय जलमार्ग-1-गंगा भागीरथी-हुगली नदी तंत्र का इलाहाबाद।

प्रश्न 10.
प्रमुख वायुमार्गों के नाम बताओ।
उत्तर:
दिल्ली-रोम-फ्रैंकफुर्ट, दिल्ली-मास्को, कोलकाता-टोकियो, कोलकाता-पर्थ, मुंबई-लंदन-न्यूयार्क।

प्रश्न 11.
संचार के साधनों को कितने वर्गों में विभाजित किया जा सकता है?
उत्तर:
संचार के साधनों को दो वर्गों में विभाजित किया जा सकता है –

  1. व्यक्तिगत संचार तंत्र,
  2. जनसंचार तंत्र।

प्रश्न 12.
भारत में रेडियो प्रसारण सर्वप्रथम कहाँ और कब हुआ?
उत्तर:
भारत में सन् 1927 में रेडियो प्रसारण का आरम्भ हुआ। इसके लिए मुंबई और कोलकाता में दो निजी ट्रांसमीटर लगाए गए थे।

प्रश्न 13.
भारत में उपग्रह प्रणाली का प्रारम्भ कब हुआ?
उत्तर:
भारत में उपग्रह प्रणाली का प्रारम्भ मार्च 1988 में हुआ जब पहला आई. आर. एस. ए. अंतरिक्ष में छोड़ा गया।

प्रश्न 14.
एशिया की पहली 1157 कि.मी. लंबी देशपारीय पाइप लाइन का निर्माण किसने किया था? तथा यह पाइप लाइन कहाँ तक बिछी है?
उत्तर:
एशिया एवं देश की प्रथम पाइप लाइन का निर्माण आई.ओ.एल. (आयल इंडिया लिमिटेड) ने किया था। यह पाइप लाइन असम के नहर करिटया तेल क्षेत्र से बरौनी के तेल शोधन कारखाने तक बिछी है।

प्रश्न 15.
नेशनल रिमोट सेंसिग एजेंसी (NRSA) कहाँ स्थित हैं?
उत्तर:
हैदराबाद

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
भारतीय सड़क मार्गों को विभिन्न प्रकारों में बाँटो।
उत्तर:
भारत में चार प्रकार के सड़क मार्ग हैं –

  1. राष्ट्रीय महामार्ग जो देश के प्रमुख नगरों को मिलाते हैं। इनका निर्माण केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग करता है। इनकी कुल लम्बाई 33,689 कि.मी. है।
  2. राजकीय मार्ग जो राजधानियों को उच्च नगरों से मिलाते हैं। इनकी लम्बाई 4 लाख कि. मी. है।
  3. ग्रामीण सड़कें जो ग्रामीण केन्द्रों को नगरों से मिलाती हैं।

प्रश्न 2.
उत्पादन तथा उपभोग को जोड़ने में परिवहन तंत्र का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। व्याख्या करो।
उत्तर:
किसी देश के विकास के लिए परिवहन तंत्र की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। परिवहन सेवाएं कृषि उत्पाद, खनिज कच्चे माल को निर्माण केन्द्रों तक पहुंचाते हैं। निर्मित वस्तुओं को फिर उपभोक्ता तक परिवहन साधनों द्वारा ही पहुँचाया जाता है। परिवहन तंत्र की सहायता से स्थानीय, राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय बाजारों तक माल व सेवाओं को पहुँचाया जा सकता है। इस प्रकार परिवहन तंत्र उत्पादन एवं उपभोग को एक-दूसरे से जोड़ता है।

प्रश्न 3.
हिमालय पर्वत के विभिन्न क्षेत्रों में रेलमार्गों का विकास कम क्यों है?
उत्तर:
हिमालय प्रदेश में धरातलीय बाधाओं के कारण रेलमार्गों का विकास नहीं किया जा सका। कई प्रदेशों में सुरंगों बनाना तथा तेज धारा वाली नदियों पर पुल बनाना कठिन कार्य है। रेलमार्गों को केवल पद स्थली पर स्थित नगरों तक ले जाकर छोड़ देना पड़ा। जेसे पहले रेलमार्ग पठानकोट तक, परन्तु अब इसका विस्तार जम्मू तक है। जम्मू से उधमपुर, जवाहर सुरंग तथा काजी गुण्ड से होकर कश्मीर घाटी तक रेल बनाने की योजना बनाई गई है। संकरे गेज द्वारा शिमला-रेलमार्ग तथा सिलीगुड़ी-दार्जिलिंग रेलमार्ग बनाए गए हैं। इसलिए हिमालय क्षेत्र में कटे-फटे भू-भाग पिछड़ी अर्थव्यवस्था तथा विरल जनसंख्या के कारण रेलमार्ग कम हैं।

प्रश्न 4.
भारत में वायु परिवहन सेवाओं के प्रकार बताओ।
उत्तर:
भारत में वायु परिवहन के दो खण्ड हैं –
आंतरिक सेवाएँ तथा अन्तर्देशीय सेवाएँ। एयर इण्डिया संगठन विदेशी उड़ानों का प्रबन्ध करती है। मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, एयर इण्डिया के केन्द्र बिन्दु हैं। इण्डियन एयर लाइन्स देश के भीतर भागों तथा पड़ोसी देशों के साथ वायु सेवाओं का प्रबन्ध करती है। सन् 1981 से देश के भीतर दुर्गम भागों में वायुदूत एयर लाइन्स सेवाओं का भी प्रारम्भ किया गया है। 1985 में पवन हंस लिमिटेड की स्थापना दूरस्थ क्षेत्रों, वनाच्छादित तथा पहाड़ी क्षेत्रों को जोड़ने हेतु हेलीकाप्टर सेवाएँ उत्पन्न करवाने के लिए करवाई गईं।

प्रश्न 5.
सड़क परिवहन के कौन से गुण एवं अवगुण हैं?
उत्तर:
छोटी दूरियों के लिए माल तथा यात्रियों के ढोने में सड़क परिवहन लाभदायक है। यह एक प्रकार से पूरक तंत्र है जो ग्रामीण क्षेत्रों को नगरों से जोड़ता है। सड़क परिवहन से सामान ग्राहक के घर तक भेजा जा सकता है। यह एक विश्वसनीय परिवहन साधन है। कई दुर्गम क्षेत्रों में धरातलीय बाधाओं के कारण सड़कें बनाना कठिन है। सड़क परिवहन द्वारा अधिक भारी माल नहीं ढोया जा सकता है। वर्षा ऋतु में सड़क परिवहन में कई दुर्घटनाएं हो सकती हैं।

प्रश्न 6.
सड़क मार्ग का घनत्व किसे कहते हैं? किन राज्यों में सड़क घनत्व अधिक तथा किन राज्यों में कम है?
उत्तर:
प्रति 100 वर्ग किलोमीटर सड़क मार्ग की लम्बाई को सड़क मार्ग का घनत्व कहते हैं। देश में उत्तरी मैदान तथा दक्षिण भारत में सड़क घनत्व अधिक है। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, नागालैण्ड, मिजोरम में सड़क घनत्व बहुत कम है। देश में सबसे अधिक सड़क घनत्व चण्डीगढ़ में है तथा सबसे कम अरुणाचल प्रदेश में 12 कि.मी. प्रति 100 वर्ग कि.मी. है।

प्रश्न 7.
सीमान्त प्रदेशों में सड़क निर्माण की प्रगति का वर्णन करो।
उत्तर:
सीमान्त प्रदेशों के सामरिक महत्त्व को देखते हुए सन् 1950 में ‘सीमा सड़क संगठन’ की स्थापना की गई। इसका उद्देश्य सीमान्त प्रदेशों में सुरक्षा प्रदान करने तथा आर्थिक विकास तेज करने के लिए सड़कों का निर्माण करना था। इस संगठन ने मनाली से लेह तक संसार की सबसे ऊँची सड़क का निर्माण किया है। यह सड़क औसत रूप से 4.210 मीटर समुद्र तल से ऊँची है। इस संगठन ने भारत-चीन सीमा पर हिन्दुस्तान तिब्बत सीमा सड़क का भी निर्माण किया है। इस संगठन ने राजस्थान, उत्तर प्रदेश, सिक्किम, असम, मेघालय, नागालैण्ड सीमान्त प्रदेशों में लगभग 22,800 कि.मी. लम्बी सड़कों का निर्माण किया है तथा 16,400 कि.मी. सड़कों की देखभाल का कार्य किया है।

प्रश्न 8.
राष्ट्रीय महामार्ग पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखें।
उत्तर:
यह देश का प्रमुख सड़क तंत्र है। इसके निर्माण और मरम्मत की जिम्मेदारी केन्द्रीय सार्वजनिक निर्माण विभाग की है। 1950-51 राष्ट्रीय महामार्गों की कुल लम्बाई 19,800 कि.मी. थी, जो बढ़कर सन् 1999-2000 में 57,700 कि. मी. हो गई। राष्ट्रीय महामार्गों की लंबाई देश की सड़कों की कुल लंबाई का केवल दो प्रतिशत ही है, लेकिन यातायात में इसकी भागीदारी 40 प्रतिशत की है।

राष्ट्रीय महामार्ग देश के एक छोर को दूसरे छोर से जोड़ते हैं। अनेक प्रमुख महामार्ग उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम दिशाओं में विस्तृत है। ऐतिहासिक शेरशाह सूरी मार्ग को राष्ट्रीय महामार्ग-1 कहते हैं। यह दिल्ली और अमृतसर के मध्य है। राष्ट्रीय महामार्ग-2 दिल्ली और कोलकाता के बीच है। राष्ट्रीय महामार्ग-3 ग्वालियर इंदौर, नासिक होकर आगरा को मुंबई से जोड़ता है। राष्ट्रीय महामार्ग-4 चेन्नई को ठाणे (मुंबई के निकट) से जोड़ता है।

राष्ट्रीय महामार्ग:
5 पूर्वी तट के साथ बहाराघोरा और चेन्नई के बीच है। राष्ट्रीय महामार्ग-6 देश का दूसरा सबसे लंबा (1949 कि.मी.) महामार्ग है और यह संबलपुर, रायपुर, नागपुर से होता हुआ कोलकाता से धुले तक जाता है। राष्ट्रीय महामार्ग-7 सबसे लंबा (2367 कि.मी.) है। यह जबलपुर, नागपुर, हैदराबाद, बंगलौर और मदुरै होता हुआ वाराणसी से कन्याकुमारी तक जाता है। राष्ट्रीय महामार्ग-8 दिल्ली और मुंबई को जोड़ता है। राष्ट्रीय महामार्ग-15 राजस्थान के मरुस्थल, से होकर गुजरता है।

प्रश्न 9.
अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों के नाम बताओ।
उत्तर:
भारत में निम्नलिखित अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे हैं –

  1. इन्दिरा गाँधी हवाई अड्डा-देहली (पालम)।
  2. नेताजी सुभाष चन्द्र बोस हवाई अड्डा-कोलकाता (डम-डम)।
  3. साहार हवाई अड्डा-मुंबई (सान्ता क्रुज)।
  4. मीनामबकम हवाई अड्डा-चेन्नई।
  5. राजा सांसी हवाई अड्डा-अमृतसर।
  6. तिरुवनन्तपुरम हवाई अड्डा-तिरुवनन्तपुरम्।

प्रश्न 10.
पाइप लाइन परिवहन में गुणों की तुलना में अवगुण अधिक हैं? क्यों?
उत्तर:
प्राकृतिक गैस तथा खनिज तेल के परिवहन का पाइप लाइन एक सुगम साधन है। यह एक सस्ता साधन है जो दुर्गम क्षेत्रों, घने वनों, मरुस्थलों तथा पर्वतों पर से गुजरता है। परन्तु इसके गुणों की तुलना में अवगुण अधिक हैं।

  1. इस. साधन में लोच का न होना एक प्रमुख अवगुण है।
  2. एक बार पाइप लाइन बिछा देने के बाद इसकी क्षमता में वृद्धि नहीं की जा सकती।
  3. पाइप लाइन को सुरक्षा करना भी कठिन कार्य है।
  4. भूमिगत पाइप लाइन की मरम्मत में कठिनाई होती है तथा रिसाव का पता लगाना कठिन होता है।

प्रश्न 11.
आधुनिक जीवन में उपग्रहों और कम्प्यूटर के उपयोगों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
उपग्रहों का उपयोग:
इनसैट, दूरसंचार, मौसम विज्ञान संबंधी प्रेक्षण और अन्य विविध आँकड़ों तथा कार्यक्रमों के लिए एक बहु-उद्देश्यी उपग्रही प्रणाली है। उपग्रहों द्वारा व्यक्तिगत और जनसंचार दोनों में ही क्रान्ति आ गई है। भारतीय सुदूर संवेदन एजेंसी हैरदराबाद में स्थित है। यह आँकड़ों के अर्जन और इसके प्रसंस्करण की सुविधाएँ प्रदान करती है। उपग्रह प्रकृति के संसाधनों के प्रबंधन में उपयोगी सिद्ध हुए हैं।
कम्प्यूटर:

  1. ये निवेश के रूप में आँकड़ों को स्वीकार करते हैं।
  2. यह आँकड़ों का भंडारण करता है, स्मृति में संरक्षित रखता है और आवश्यकता पड़ने पर प्रत्यावर्तन करता है।
  3. यह अभीष्ट सूचना के लिए निर्देशानुसार आँकड़ों का प्रसंस्करण करता है।
  4. यह सूचना को निर्गम के रूप में संचारित करता है।

प्रश्न 12.
भारत में सड़कों के घनत्व में प्रादेशिक भिन्नता का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
देश में सड़कों का वितरण समान नहीं है। सड़कों के घनत्व में प्रादेशिक अंतर बहुत है। सड़कों के घनत्व का अर्थ है-प्रति वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में सड़कों की लम्बाई जम्मू और कश्मीर से सड़कों का घनत्व 10 कि.मी. है, जबकि केरल में 375 कि. मी.। सड़कों का राष्ट्रीय घनत्व 75 कि.मी. (1996-97) है। लगभग सभी उत्तरी राज्यों और प्रमुख दक्षिणी राज्यों में सड़कों का घनत्व अधिक है। हिमाचल प्रदेश, उत्तरी-पूर्वी राज्यों, मध्य प्रदेश और राजस्थान में कम है। भूमि को स्वरूप और आर्थिक विकास का स्तर, सड़कों के घनत्व के मुख्य निर्धारक है। पक्की सड़कों के घनत्व में और भी अंतर पाया जाता है। जम्मू-कश्मीर में सबसे कम और अरुणाचल प्रदेश में पक्की सड़कों का घनत्व कुछ अधिक अर्थात् 4.8 कि.मी. है।

प्रश्न 13.
जनसंचार में रेडियो और टेलीविजन के महत्त्व की विवेचना कीजिए।
उत्तर:
जन संचार तंत्र सूचना और शिक्षा प्रदान करके लोगों में राष्ट्रीय नीति और कार्यक्रमों के विषय में जागरूकता पैदा करके महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय देश में सूचना और प्रसारण के विकास तथा नियमन के लिए जिम्मेदार है। प्रसार भारती, भारत का स्वायत्त प्रसारण निगम है। इसका गठन 1971 में किया गया था। आकाशवाणी तथा टेलीविजन जनसंचार का सशक्त माध्यम है। आकाशवाणी सूचना, शिक्षा, और मनोरंजन से संबंधित विविध प्रकार के कार्यक्रम प्रसारित करता है। आकाशवाणी ने व्यावसायिक कार्यक्रम भी प्रारम्भ किए हैं।

दूरदर्शन भारत का राष्ट्रीय टेलीविजन है। यह संचार के सबसे बड़े क्षेत्रीय प्रसारण संगठनों में से एक है। इससे लोगों का सामाजिक एवं सांस्कृतिक जीवन ही बदल गया है। दूरदर्शन से समाचार, सामयिक विषय, विज्ञान, सांस्कृतिक पत्रिकाएँ, वृत्तचित्र, संगीत, नृत्य नाटक, सीरियल और फीचर फिल्में प्रसारित होती हैं।

प्रश्न 14.
संचार तंत्र का मानव के लिए क्यों महत्त्व है? इसको कितने वर्गों में विभाजित किया गया है?
उत्तर:
संचार तंत्र का महत्त्व-देखें प्रश्न उत्तर 2
1. अभ्यास। इसको दो वर्गों में विभाजित किया जाता है। व्यक्तिगत संचार तथा जनसंचार तंत्र।

2. व्यक्तिगत संचार तंत्र-यह तंत्र डाक सेवा द्वारा तथा कम्प्यूटर समर्थित दूरसंचार द्वारा सम्पन्न होता है। यह आधुनिक संचार प्रौद्योगिकी भारतीय अर्थव्यवस्था और समाज के तीव्र विकास के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है। इस तंत्र के द्वारा इंटरनेट और ‘ई-मेल’ के माध्यम से सारे संसार से अपेक्षाकृत कम लागत पर सूचनाएँ प्राप्त की जा सकती हैं। कम्प्यूटर द्वारा दस्तावेजों को तीव्रगति और सस्ते में भेजा और प्राप्त किया जा सकता है।

3. जनसंचार तंत्र-जनसंचार के लिए मुद्रण माध्यम तथा इलैक्ट्रोनिक माध्यम का उपयोग किया जाता है। भारत जैसे राष्ट्र में जनसंचार तंत्र सूचना और शिक्षा प्रदान करके लोगों में राष्ट्रीय नीति और कार्यक्रमों के विषय में जागरूकता पैदा करके महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सूचना और प्रसार मंत्रालय देश में सूचना-प्रसारण के नियमन के लिए जिम्मेदार है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
अन्तर स्पष्ट कीजिए –

  1. परिवहन और संचार।
  2. राष्ट्रीय महामार्ग और राज्य महामार्ग।
  3. व्यक्तिगत संचार और जनसंचार।

उत्तर:
1. परिवहन और संचार

2. राष्टीय महामार्ग और राज्य महामार्ग राष्ट्रीय महामार्ग

3. व्यक्तिगत संचार और जनसंचार

प्रश्न 2.
भारत में रेलों के वितरण प्रतिरूप का विवरण कीजिए।
उत्तर:
परिवहन के साधनों में रेलों का महत्त्व सबसे अधिक है। 1853 ई० में भारत में प्रथम रेल लाइन 34 कि.मी. लम्बी बम्बई से थाना स्टेशेन तक बनाई गई। भारतीय रेलवे की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित हैं –

  1. भारतीय रेल मार्ग 62,725 कि.मी. लम्बा है।
  2. यह एशिया में सबसे लम्बा रेल मार्ग है।
  3. विश्व में भारत का चौथा स्थान है।
  4. भारतीय रेलो में 18 लाख कर्मचारी काम करते हैं।
  5. प्रतिदिन 12,670 रेलगाड़ियों लगभग 13 लाख कि.मी. दूरी चलती है तथा 7,100 रेलवे स्टेशन हैं। प्रतिदिन लगभग 105 लाख यात्री यात्रा करते हैं तथा 10 लाख टन भार ढोया जाता है।
  6. भारतीय रेलों में 8,000 करोड़ रुपये की पूँजी लगी हुई है तथा प्रतिवर्ष 21,000 करोड़ रुपये की आय होती है।
  7. भारतीय रेलों में 11,000 रेल इंजन, 38,000 सवारी डिब्बे तथा 4 लाख भार ढोने वाले डिब्बे हैं।
  8. भारत में 80 प्रतिशत सामान तथा 70 प्रतिशत यात्री रेलों द्वारा ही ले जाए जाते हैं।
  9. भारतीय रेलों का अधिक विस्तार उत्तरी भारत के समतल मैदान में है।
  10. भारत में जम्मू-कश्मीर, पूर्वी पर्वतीय क्षेत्र, पश्चिमी घाट, छोटा नागपुर का पठार तथा थार के मरुस्थल में रेलमार्ग कम हैं।
  11. दक्षिण भारत में पथरीली, नीची भूमि के कारण, छोटी-छोटी नदियों पर जगह-जगह पुल बनाने की असुविधा है।
  12. अब भारतीय रेलों पर 4,259 डीजल इंजन, 2,302 बिजली के इंजन तथा 347 भाप इंजन चलते हैं।
  13. लगभग 13,517 कि.मी. लम्बे रेल मार्ग पर विद्युत गाड़ियां दौड़ती हैं। भारत में रेल-मार्ग तीन प्रकार के हैं –
    • चौड़ी पटड़ी-1.68 मीटर चौड़ाई।
    • छोटी पटड़ी-1 मीटर चौड़ाई।
    • तंग पहाड़ी-0.76 मीटर चौड़ाई

रेल क्षेत्र:
भारत में 9 रेल क्षेत्र हैं। ये रेल क्षेत्र तथा प्रमुख कार्यालय इस प्रकार हैं –

प्रश्न 3.
निम्नलिखित के संक्षेप में उत्तर दीजिए –

  1. परिवहन भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए क्यों महत्त्वपूर्ण है?
  2. भारत में परिवहन के प्रमुख साधन कौन-से हैं?
  3. सड़क परिवहन के क्या लाभ हैं?
  4. सड़क परिवहन की क्या सुविधाएँ हैं?
  5. स्वर्ण चतुष्कोण (चतुर्भुज) किसे कहते हैं?
  6. चार राष्ट्रीय माहमार्गों के नाम उनके टर्मिनल सहित बताइए।
  7. भारतीय रेल के विभिन्न गेजों के नाम बताइए।
  8. दो राष्ट्रीय जलमार्गों के नाम बताइए।
  9. पाइप लाइन परिवहन के दो लाभ बताइए।

उत्तर:
1. परिवहन क्यों महत्त्वपूर्ण है –
लोगों के आवागमन और सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने, मनुष्यों और उनके लिए आवश्यक और उपयोगी वस्तुओं को लाने ले जाने के लिए परिवहन महत्त्वपूर्ण है।

2. परिवहन के साधन-भारत में परिवनह के मुख्य साधन हैं –

  • सड़कें
  • रेल
  • जलयान
  • वायुयाना पाइप लाइनों का उपयोग तरल पदार्थ और गैस के परिवहन के लिए किया जाता है।

3. सड़क परिवहन के लाभ –

  • सड़क परिवहन सस्ता पड़ता है।
  • सड़कें उबड़-खाबड़ और ढलुवाँ भूमि पर बनाई जा सकती हैं।
  • द्वार से द्वार तक सेवा प्रदान करने के कारण सड़क परिवहन में माल चढ़ाने-उतारने में भी कम लागत आती है।
  • सड़क परिवहन अन्य प्रकार के परिवहन का पूरक है।

4. स्वर्ण चतुष्कोण:
सड़कों के विकास की परियोजना द्वारा कोलकाता, चेन्नई, मुंबई और दिल्ली को छ: गलियों वाले परम राजमार्गों द्वारा जोड़ा जा रहा है, इसे स्वर्ण चतुष्कोण (चतुर्भुज) कहते हैं।

5. चार राष्ट्रीय महामार्गों के नाम और टर्मिनल –

  • ऐतिहासिक शेरशाह सूरी मार्ग को राष्ट्रीय महामार्ग-1 कहते हैं। यह दिल्ली और अमृतसर के मध्य है।
  • राष्ट्रीय महामार्ग-2 दिल्ली और कोलकाता के बीच है।
  • राष्ट्रीय महामार्ग-3 ग्वालियर, इन्दौर, नासिक होकर आगरा को मुंबई से जोड़ता है।
  • राष्ट्रीय महामार्ग-4 चेन्नई को ठाणे से जोड़ता है।

6. भारतीय रेलों के गेजों के नाम –

  • ब्राड गेज या बड़ी लाइन (दो पटरियों के बीच की दूरी 1.676 मीटर)।
  • मीटर गेज या छोटी लाइन (1 मीटर)।
  • नैरो गेज या संकरी लाइन (0.762 मीटर और 0.610 मीटर)।

7. राष्ट्रीय जलमार्ग –

  • राष्ट्रीय जलमार्ग-1: गंगा-भागीरथी-हुगली नदी तंत्र का इलाहाबाद और हल्दिया के बीच का मार्ग (1,620 कि.मी.)।
  • राष्ट्रीय जलमार्ग: 2 ब्रह्मपुत्र नदी का सदिया-घबूरी भाग (891 कि.मी.)।

8. पाइप लाइन परिवहन के लाभ –

  • तरल पदार्थों और गैस की लम्बी दूरियों के परिवहन के लिए पाइप लाइन परिवहन सबसे सुविधाजनक है।
  • जल परिवहन के लिए पाइप लाइन परिवहन लाभदायक है।
  • पैट्रोलियम उत्पादों तथा गैस का लंबी दूरियों तक परिवहन करती है।
  • ठोस पदार्थों का भी गाद के रूप में पाइप लाइनों द्वारा परिवहन होता है।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
मनुष्य तथा वस्तुओं के आवागमन के साधन को क्या कहते हैं?
(A) संचार
(B) परिवहन
(C) दोनों (A) और (B)
(D) कोई नहीं
उत्तर:
(B) परिवहन

प्रश्न 2.
भारत में सड़कों की कुल लम्बाई कितनी है?
(A) 39 लाख कि.मी.
(B) 33 लाख कि.मी.
(C) 30 लाख कि.मी.
(D) 35 लाख कि.मी.
उत्तर:
(B) 33 लाख कि.मी.

प्रश्न 3.
कोलकाता, चेन्नई, मुंबई और दिल्ली को जोड़ने वाले गलियों वाले मार्ग को क्या कहा जाता है?
(A) स्वर्ण चतुष्कोण परम राजमार्ग
(B) सीमावर्ती मार्ग
(C) राष्ट्रीय महामार्ग
(D) राजकीय महामार्ग
उत्तर:
(A) स्वर्ण चतुष्कोण परम राजमार्ग

प्रश्न 4.
दिल्ली और अमृतसर के मध्य महामार्ग को क्या कहते हैं?
(A) राष्ट्रीय महामार्ग-2
(B) राष्ट्रीय महामार्ग-1
(C) राष्ट्रीय महामार्ग-3
(D) राष्ट्रीय महामार्ग-4
उत्तर:
(B) राष्ट्रीय महामार्ग-1

प्रश्न 4.
दिल्ली और मुंबई को कौन-सा राष्ट्रीय महामार्ग जोड़ता है?
(A) राष्ट्रीय महामार्ग-1
(B) राष्ट्रीय महामार्ग-6
(C) राष्ट्रीय महामार्ग-4
(D) राष्ट्रीय महामार्ग-8
उत्तर:
(D) राष्ट्रीय महामार्ग-8

प्रश्न 5.
सीमा सड़क संगठन कब बनाया गया?
(A) 1950
(B) 1960
(C) 1962
(D) 1956
उत्तर:
(B) 1960

प्रश्न 6.
भारत में प्रतिदिन कितनी रेलगाड़ियाँ चलती हैं?
(A) 12,670
(B) 12,680
(C) 10,500
(D) 11,670
उत्तर:
(A) 12,670

प्रश्न 8.
नैरो गेज में दो पटरियों के बीच की दूरी कितनी होती है?
(A) 1.676 मी.
(B) 0.610 मी.
(C) 1 मी
(D) 1.5 मी.
उत्तर:
(A) 1.676 मी.

प्रश्न 9.
भारत में पहली रेल गाड़ी कब चलाई गई?
(A) 1853
(B) 1856
(C) 1840
(D) 1836
उत्तर:
(A) 1853

प्रश्न 10.
सबसे पहले बनी पाइप लाइन की लम्बाई कितनी थी?
(A) 1.152 कि.मी.
(B) 1.252 कि.मी
(C) 4,200 कि.मी.
(D) 1.260 कि.मी.
उत्तर:
(A) 1.152 कि.मी.

प्रश्न 11.
भारत के सड़क-जाल की 2005 में कुल लंबाई कितनी थी?
(A) 23.1 लाख कि.मी.
(B) 33.1 लाख कि.मी.
(C) 43.1 कि.मी.
(D) 53.1 कि.मी.
उत्तर:
(B) 33.1 लाख कि.मी.

प्रश्न 12.
भारत में राष्ट्रीय महामार्गों की लंबाई 2005 में कितनी थी?
(A) 65,769
(B) 55,769
(C) 43,500
(D) 75,700
उत्तर:
(A) 65,769

प्रश्न 13.
सीमा सड़क संगठन (बी.आर.ओ.) की स्थापना कब की गई थी?
(A) मई 1960
(B) जून 1961
(C) अगस्त 1963
(D) जुलाई 1965
उत्तर:
(A) मई 1960

प्रश्न 14.
भारत में वायु परिवहन की शुरुआत कब हुई थी?
(A) 1811
(B) 1911
(C) 1951
(D) 1951
उत्तर:
(B) 1911

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *