गुप्त राजवंश

गुप्त राजवंश का उद्भव और उत्कर्ष The emergence and rise of the Gupta Dynasty

श्री गुप्त (240-280 ई.)- गुप्तों के कुल और उद्भव भूमि के साथ ही यह प्रश्न भी विवादास्पद है कि गुप्त राजवंश का संस्थापक कौन था। गुप्त अभिलेखों में जो वंश-वृहन दिए गए हैं, उनमें सर्वप्रथम नाम श्री गुप्त का आता है। इससे यह प्रमाणित होता है कि गुप्तों के आदि पुरुष का नाम श्री गुप्त था। विद्वानों में इस प्रश्न पर मतभेद है कि श्री सम्मानार्थक प्रयुक्त किया गया है अथवा वह नाम के साथ जुड़ा है। एलन तथा जायसवाल महोदय के अनुसार गुप्तों के आदि पुरुष का नाम केवल गुप्त था, श्री सम्मानार्थ जोड़ दिया गया है। इस प्रसंग में यदि प्रयाग प्रशस्ति का उल्लेख करें तो देखेंगे कि समुद्रगुप्त ने अपने को महाराज श्री गुप्त का प्रपौत्र बतलाया है। सभी राजाओं के नाम के पूर्व श्री जोड़ दिया गया है और जहाँ किसी का नाम वास्तव में श्री से प्रारम्भ होता है, वहाँ दो श्री का भी प्रयोग किया गया है। श्री गुप्त का राज्य-क्षेत्र सीमित था। उसके बाद उसका उत्तराधिकारी घटोत्कच हुआ।

घटोत्कच- प्रभावती गुप्त के पूना एवं ऋद्धपुर ताम्रपत्र अभिलेखों में घटोत्कच को प्रथम गुप्त नरेश कहा गया है। उसका शासन-काल 280-319 ई. माना जाता है। किन्तु एलन महोदय के अनुसार उसका राज्य-काल 300 से 320 ई. था। कुछ अन्य विद्वानों के अनुसार घटोत्कच ने 300-319 ई. तक शासन किया। रीवा जिले में स्थित सुपिया से प्राप्त लेख (गुप्त संवत 151-471 ई.) में गुप्त वंश को घटोत्कच-वंश कहा गया है। प्रिंसेस और टामस के अनुसार यह मुद्राएँ घटोत्कच की हैं। किन्तु यह मत मान्य नहीं है क्योंकि इन मुद्राओं के पृष्ठ भाग पर सम्राट की उपाधि सर्वराजोच्छेता (सम्पूर्ण नरेशों का उन्मूलनकर्ता) उत्कीर्ण है। यह अपने समय के सर्वशक्तिशाली सम्राट की उपाधि रही होगी। घटोत्कच की महाराज उपाधि सूचित करती है कि वह एक साधारण शासक था। वह स्वतंत्र शासक न रह कर किसी राजवंश का मांडलिक अथवा सामन्त रहा होगा।

चन्द्रगुप्त प्रथम (319-335 ई.)- चन्द्रगुप्त प्रथम घटोत्कच का पुत्र और उत्तराधिकारी था। प्रयोग प्रशस्ति में गुप्तवंश के तृतीय शासक चन्द्रगुप्त को महाराजाधिराज की पदवी प्राप्त है जबकि प्रथम दो शासकों को केवल महाराजा का विरद प्राप्त है। इससे यह ज्ञात होता है कि प्रथम दो राजाओं गुप्त तथा घटोत्कच और चन्द्रगुप्त के राजनैतिक अधिकारों में अन्तर था। परन्तु चन्द्रगुप्त स्वतंत्र राजा रहा होगा तभी उसे महाराजा की पदवी प्राप्त थी जो उसके बाद के अन्य गुप्त राजाओं को भी प्राप्त है। चन्द्रगुप्त प्रथम ने लिच्छवि राजकुमारी कुमार देवी से विवाह किया। इस विवाह से उसकी शक्ति और प्रतिष्ठा में विशेष वृद्धि हुई। डॉ. मजूमदार के अनुसार संभावत: गुप्त और लिच्छवि राज्य पड़ोसी थे। इस विवाह ने उन्हें संयुक्त कर दिया जिससे नए राज्य की शक्ति और प्रतिष्ठा में वृद्धि हुई। डॉ. फ्रीट के अनुसार चन्द्रगुप्त प्रथम ही 319-20 ई. में प्रारम्भ होने वाले गुप्त संवत् का प्रवर्त्तक था। गुप्त अभिलेखों से इस संवत् की प्रारम्भिक तिथि के निर्धारण में सहायता मिलती है। चन्द्रगुप्त प्रथम 319 ई. में सिंहासनासीन हुआ और उसी वर्ष उसने एक नए संवत् का प्रवर्त्तन किया, इसकी पुष्टि अनेक अभिलेखों से हो जाती है। इस प्रकार अधिकांश इतिहासकार दिसम्बर, 319 ई. को चन्द्रगुप्त प्रथम द्वारा प्रवर्तित संवत् की तिथि मानते हैं। कुछ इतिहासकारों के अनुसार यह तिथि 26 फरवरी, 320 ई. होती है।

चन्द्रगुप्त प्रथम ने अपने साम्राज्य का विस्तार और उसका सुगठन किया। स्मिथ महोदय के अनुसार उसके साम्राज्य के अन्तर्गत तिरहुत, दक्षिणी बिहार, अवध तथा इसके सभी पर्वतीय प्रदेश थे। अधिकांश इतिहासकारों के अनुसार बिहार, बंगाल का कुछ भाग, कौशल, कोशाम्बी या इलाहाबाद तक का क्षेत्र उसके साम्राज्य के अंतर्गत आता था। गुप्त साम्राज्य के विस्तार और उसके संगठन के आधार पर उसने महाराजाधिराज की उपाधि धारण की।

गुप्तकाल Gupta period

मौर्यकाल के बाद की शताब्दियों में अनेक राज्यों के उत्थान-पतन के बावजूद साम्राज्यवादी महत्त्वकांक्षा का अंत नहीं हुआ। कुषाण साम्राज्य के पतन के उपरान्त भारतवर्ष में पुन: केन्द्रीय सत्ता का अभाव हो जाता है। शक्तिशाली केन्द्रीय सत्ता के अभाव में भारत छोटे-बड़े अनेक राज्यों में विभक्त हो जाता है। आन्तरिक अव्यवस्था और राजनैतिक विश्रृंखलन के इस परिदृश्य में उत्तरी भारत के राजनैतिक क्षितिज पर एक नए राजवंश का उदय होता है। यह राजवंश इतिहास में गुप्त राजवंश के नाम से प्रसिद्ध है।

गुप्तकाल के इतिहास को जानने के लिए कई साक्ष्य मौजूद हैं। गुप्तकालीन अभिलेख, सिक्के व साहित्य प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। साहित्यिक स्रोतों में हरिषेण व वत्सभटिट् के लेख, कालीदास की रचनाएँ (ऋतुसंहार, कुमारसम्भव, मेघदूत, रघुवंश, अभिज्ञानशाकुन्तलम्, मालविकाग्निमित्रम्, विक्रमोर्वशियम्) पुराण, देवीचन्द्रगुप्तम्, मुद्राराक्षस, मृच्छकटिकम्, कामसूत्र, मंजूश्रीमूलकल्प तथा फाह्यान व ह्वेनसांग के विवरण उल्लेखनीय हैं। इनसे गुप्तकाल के विभिन्न पक्षों पर प्रकाश पड़ता है। गुप्तकालीन अभिलेखों से वंशावली, ऐतिहासिक घटनाओं एवं नरेशों की उपलब्धियों की जानकारी मिलती है। अभिलेखों की भाषा संस्कृत है। इन्हें तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है- स्तम्भलेख, शिलाफलक लेख व् ताम्रलेख। समुद्रगुप्त का प्रयाग स्तम्भ लेख अत्यंत महत्वपूर्ण है।इसमें उसके जीवन चरितएवं दिग्विजय का वर्णन है। चन्द्रगुप्त द्वितीय से सम्बंधित जानकारी महरौली के स्तम्भ लेख व् उदयगिरी के शैव गुहालेख से मिलती है। जूनागढ़ व मंदसौर अभिलेख भी महत्त्वपूर्ण हैं। गुप्तकालीन मुद्राएँ जो सोने, चाँदी व ताँबे की बनी हैं, गुप्तकाल की महत्त्वपूर्ण सूचनाएँ देती हैं। गुप्तकालीन सिक्के काफी मात्रा में प्राप्त हुए हैं। समुद्रगुप्त की मुद्राओं से उसके द्वारा अश्वमेध यज्ञ करने की जानकारी मिलती है। समुद्रगुप्त की एक मुद्रा के ऊपर अश्वमेध के घोड़े का चित्र अंकित है। जो अश्वमेध यज्ञ का संकेत देता है।

मौर्यकाल के बाद की अराजकता के बावजूद कोई भी उस तरह के साम्राज्य के निर्माण में सफल नहीं हुआ। मौर्यों के समकक्ष पहुँचने के अनेक प्रयत्न किये गये परन्तु किसी को उतनी सफलता नहीं मिली। मौयों के हास के साथ देश  अनेक राजतान्त्रिक एवं जनतान्त्रिक गण एवं नगर राज्यों के रूप में विघटित हो गया। जैसा पूर्व में उल्लेख किया गया है कुछ काल के लिए मध्य देश में शुंग, दक्षिण में सातवाहन, पंजाब में विदेशी प्रजातियों यथा यवन, पह्लव, शक और उनके बाद कुषाणों ने साम्राज्य स्थापना में सफलता प्राप्त की। किन्तु कुषाण साम्राज्य एक सदी से अधिक स्थायित्व नहीं रह पाया।

उत्तर भारत के एक बड़े भू-भाग में नागों का राज्य फैला हुआ था। चौथी एवं पाँचवीं शताब्दी में नागवंश के एक शासक ने दस अश्वमेध यज्ञ किए थे। उस शासक का नाम भारशिव था। इसी के नाम पर आगे बनारस में दशमेधाघाट बना। कुषाण साम्राज्य के विघटन के बाद मध्य भारत में मुरूडों का शासन स्थापित हुआ। तत्पश्चात् गुप्तों ने अपने शासन की स्थापना की। गुप्तों की उत्पति के विषय में मतभेद हैं। के.पी. जायसवाल का मानना है कि गुप्त मुख्यत: जाट थे और पंजाब के निवासी थे। दशरथ ओझा का मानना है कि गुप्त क्षत्रिय थे। ए.आर. चौधरी के अनुसार वे ब्राह्मण थे। डॉ. काशी प्रसाद जायसवाल ने उन्हें शूद्रवंशीय कहा है। उनका कहना है कि यदि गुप्त उच्च कुल के होते तो मौरवरी नरेशों के हरहा अभिलेख की भाँति वे भी अपने अभिलेखों में उसी प्रकार से स्पष्ट उल्लेख करते। किन्तु गुप्त सम्राटों ने किसी भी अभिलेख में अपने कुल का उल्लेख नहीं किया है। पूना ताम्रलेख और नेपाल का इतिहास भी गुप्तों को निम्नवंशीय बताता है। किन्तु आधुनिक शोधों के आधार पर डॉ. जायसवाल का मत असंगत ठहरता है। एल उल्तकेर एवं कृष्ण स्वामी आयंगर ने गुप्तों को वैश्य बतलाया है। गौरीशंकर हीराचन्द ओझा, सुधाकर चट्टोपाध्याय एवं डॉ. वासुदेव उपाध्याय ने गुप्त सम्राटों को क्षत्रिय बतलाया है। डॉ. हेमचन्द्र राय चौधरी ने चंन्द्रगुप्त द्वितीय का सम्बन्ध शुंगवंशीय नरेश अग्निमित्र की पत्नी धारिणी से बतलाकर उसे ब्राहमणवंशीय कहा है। किन्तु डॉ. परमेश्वरी लाल गुप्त ने इसे असंगत बताया है। समुद्रगुप्त की प्रयाग प्रशस्ति, कुमारगुप्त के विलसंड अभिलख, स्कदगुप्त के भीतरी अभिलेख से ज्ञात होता है कि गुप्तों का प्रथम ऐतिहासिक पुरुष श्रीगुप्त था। उसका उत्तराधिकारी घटोत्कच गुप्त हुआ। 319-20 ई. में चन्द्रगुप्त प्रथम शासक हुआ। इसी वर्ष से गुप्त संवत की शुरूआत मानी जाती है। चन्द्रगुप्त प्रथम ने लिच्छवि राजकुमारी कुमारदेवी से विवाह किया। इसने महाराजाधिराज की उपाधि ली और सोने के सिक्के चलाये। अपने सिक्के पर उसने कुमारदेवी का नाम भी खुदवाया। लिच्छवि से गुप्तों के सम्बन्धों को इतना महत्त्व दिया गया कि समुद्रगुप्त को लिच्छवि-दौहित्र कहा जाता था। इस प्रकार गुप्त किस जाती के थे, इस सम्बन्ध में अभी तक कोई सर्वमान्य विचार सामने नहीं आया है।

गुप्तों की जाति की भाँति उनके आदि स्थान के विषय में भी अभी तक सर्वसम्मत विचार सामने नहीं आया है। डॉ. दिनेशचन्द्र गांगुली ने गुप्तों का आदि स्थान पश्चिम बंगाल में आधुनिक मुर्शिदाबाद बताया है। उनका यह निष्कर्ष चीनी इत्सिंग के यात्रा-विवरण पर आधारित है। सुधाकर चट्टोपाध्याय ने गुप्तों का आदि स्थान आधुनिक मालदा जिला बताया है। समुद्र तट प्रो. जगन्नाथ का कथन है कि गुप्तवंश का संस्थापक श्री गुप्त उत्तर प्रदेश में वाराणसी जिले में शासन करता था। गुप्तों के अधिकांश अभिलेख उत्तर प्रदेश में मिले हैं। पुराणों में गुप्तों का आदि स्थान साकेत, प्रयाग एवं मगध बताया गया है। एलन, आयंगर, मुकर्जी आदि विद्वानों ने मगध को गुप्तों का आदि स्थान स्वीकार किया है।

इस युग में भारशिव, वाकाटक और गुप्त तीनों ही देशों की उभरती हुई शक्तियाँ थीं, किन्तु आश्चर्य की बात है कि उनमें परस्पर प्रभुत्व की स्पर्धा के कोई चिह्न दिखाई नहीं देते। इस प्रकार आन्तरिक शान्तिमय वातावरण के बीच गुप्तों ने अपने विशाल साम्राज्य की स्थापना की और दो शताब्दियों से अधिक काल तक भारत पर अपना प्रभुत्व बनाए रखा।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *