हाइड्रोकार्बन

कार्बन एवं हाइड्रोजन के संयोग से बनने वाले कार्बनिक यौगिकों को हाइड्रोकार्बन कहा जाता है। पेट्रोलियम, हाइड्रोकार्बन का प्रमुख प्राकृतिक स्रोत है। हाइड्रोकार्बन को दो वर्गों में विभाजित किया गया है-

  1. ऐलिफैटिक हाइड्रोकार्बन (Aliphatic Hydrocarbons)
  2. एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन (Aromatic Hydrocarbons)

खुली श्रृंखला वाले हाइड्रोकार्बन को ऐलिफैटिक हाइड्रोकार्बन तथा बन्द श्रृंखला वाले हाइड्रोकार्बन को एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन कहते हैं। एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन में विशेष प्रकार का गंध पाया जाता है, जबकि ऐलिफैटिक हाइड्रोकार्बन गंधहीन होता है।

ऐलिफैटिक हाइड्रोकार्बन को पुनः दो वर्गों में विभाजित किया गया है-

  1. संतृप्त हाइड्रोकार्बन या ऐल्केन या पैराफिन (saturated Hydrocarbons or Alkane or Paraffin)- संतृप्त हाइड्रोकार्बन को ऐल्केन या पैराफिन भी कहा जाता है। पैराफिन एक लैटिन शब्द है, जिसका अर्थ है- अल्प क्रियाशील चूंकि संतृप्त हाइड्रोकार्बन की क्रियाशीलता बहुत कम होती है, इसलिए उन्हें पैराफिन कहा जाता है। संतृप्त हाइड्रोकार्बन श्रेणी के सदस्य सामान्य सूत्र (CnH2n+2) द्वारा सूचित किये जाते हैं, जहाँ n कार्बन की संख्या सूचित करता है। n का मान 1 से लेकर अनंत तक कुछ भी हो सकता है। मिथेन, इथेन, प्रोपेन, ब्यूटेन, पेन्टेन, हेक्सेन, हेप्टेन, ऑक्टेन, नोनेन, डीकेन प्रथम 10 संतृप्त हाइड्रोकार्बन हैं। संतृप्त हाइड्रोकार्बन में उपस्थित सभी कार्बन परमाणु एक-दूसरे के साथ एकल बंधन (single Bond) द्वारा जुड़े रहते हैं तथा कार्बन परमाणु की शेष संयोजकताएँ हाइड्रोजन परमाणुओं द्वारा संतृप्त होती है।
  2. असंतृप्त हाइड्रोकार्बन (Unsaturated Hydrocarbons)- वैसे ऐलिफैटिक हाइड्रोकार्बन जिनके दो कार्बन परमाणुओं क बीच द्विबंधन (Double Bond), अथवा त्रिबंधन (Triple Bond) होता है, उन्हें असंतृप्त हाइड्रोकार्बन कहते हैं। असंतृप्त हाइड्रोकार्बन भी दो प्रकार के होते ऐल्कीन या ओलिफिन (Alkene or Olefin) तथा ऐल्काइन (Alkyne)

(a) ऐल्कीन या ओलिफिन (Alkene or Olefin): वैसे असंतृप्त ऐलिफैटिक हाइड्रोकार्बन जिनके दो कार्बन परमाणुओं के बीच द्विबंधन (Double Bond) होता है, उन्हें एथिलीन श्रेणी का हाइड्रोकार्बन (Ethylinic Hydrocarbons) या ओलिफिन अथवा ऐल्कीन कहते है।

इनका सामान्य सूत्र CnH2n होता है, जहाँ n का मन कम से कम 2 होता है। जैसे—एथिलन C2H4

(b) एसीटिलीन श्रेणी के हाइड्रोकार्बन अथवा ऐल्काइन (Acetylenic Hydrocarbons or Alkynes): वैसे असंतृप्त हाइड्रोकार्बन जिनमें दो कार्बन परमाणुओं के बीच त्रि-बंधन होता है, ऐसीटिलीन श्रेणी के हाइड्रोकार्बन या ऐल्काइन कहलाते हैं। इन्हें सामान्य सूत्र CnH2n-2 द्वारा दर्शाया जाता है। सबसे सरल ऐल्काइन ऐसीटिलीन या एथाइन (C2H2) है।

(c) ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन (Aromatic Hydrocarbons): कार्बन एवं हाइड्रोजन के संयोग से बने वैसे हाइड्रोकार्बन जिसमें बेंजीन के समान श्रृंखला पायी जाती है, ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन कहलाते हैं। इसका सामान्य सूत्र CnH2n-6 होता है। बेंजीन सबसे सरलतम ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन है। टॉल्वीन (Toluene), नैप्थलीन (Napthalene), एंथ्रासिन (Anthracene) आदि अन्य ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन हैं। ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन में विशेष प्रकार की गंध होती है एवं बेंजीन के समान वलय संरचना पायी जाती है। ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन को एरीन (Arenes) भी कहा जाता है।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *