पेशी तंत्र

Muscular System

पेशियाँ त्वचा के नीचे का माँस होती है। यह अंगों में गति उत्पन्न करता है एवं शरीर को सुदृढ़ बनाती है। संपूर्ण शरीर में 500 से अधिक पेशियाँ हैं। पेशियाँ प्रेरक उपकरण का सक्रिय भाग है। इनके संकुचन के फलस्वरूप विभिन्न गतिविधियाँ होती हैं। लम्बे समय तक कठोर कार्य के पश्चात् मांसपेशियों में थकान का अनुभव लैक्टिक अम्ल (Lactic acid) के संचय के कारण होता है। कार्य के आधार पर पेशियों को दो वर्गों में विभाजित किया गया है। ये हैं-

  1. ऐच्छिक पेशियाँ (voluntary muscles): यह रेखित पेशी ऊतक से बनी होती है तथा मनुष्य के इच्छानुसार संकुचित हो जाती है। यह सिर, कांड तथा अग्रांगों में पायी जाती है। यह शरीर के कुछ आन्तरिक अंगों जैसे जिह्वा, कण्ठ आदि में भी पायी जाती है।
  2. अनैच्छिक पेशियाँ (Involuntary muscles): यह अरेखित (चिकनी) पेशियाँ ऊतक की बनी होती हैं। इन पेशियों का संकुचन मनुष्य के इच्छानुसार नियंत्रित नहीं होता है। ये आन्तरिक अंगों, रुधिर वाहिकाओं तथा त्वचा की दीवारों में पायी जाती हैं।
Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *