अब्बास अली

अब्बास अली
Abbas Ali
जन्म03 जनवरी 1920
बुलंदशहरउत्तर प्रदेशभारत
देहांत11 अक्टूबर 2014 (उम्र 94)
अलीगढ़उत्तर प्रदेशभारत
निष्ठाBritish Raj Red Ensign.svg ब्रिटिश राजFlag of the Indian Legion.svg आज़ाद हिन्द फ़ौज
सेवा/शाखाब्रिटिश राजभारतीय राष्ट्रीय सेना
सेवा वर्ष1939–1947
उपाधिकैप्टन
युद्ध/झड़पेंद्वितीय विश्व युद्ध

अब्बास अली या कैप्टन अब्बास अली (3 जनवरी 1920 – 11 अक्टूबर 2014) एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता थे, जो सुभाषचंद्र बोस के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय सेना में कप्तान थे। बाद में वह समाजवादी आंदोलन में शामिल हो गए और राम मनोहर लोहिया के करीबी सहयोगी थे।[1][2]

अनुक्रम

व्यक्तिगत जीवन

अब्बास अली का जन्म 3 जनवरी 1920 को उत्तर प्रदेश के खुंदजा, बुलंदशहर जिले में एक मुस्लिम राजपूत परिवार में हुआ था। अपने शुरुआती दिनों से वह भगत सिंह के क्रांतिकारी विचारों से प्रेरित थे और खुर्जा में हाई स्कूल के छात्र थे, जबकि सिंह और उनके सहयोगियों द्वारा स्थापित एक संगठन नौजवान भारत सभा में शामिल हो गए थे। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में अपनी पढ़ाई करते हुए वह कुंवर मोहम्मद अशरफ के संपर्क में आए और अखिल भारतीय छात्र संघ के सदस्य बने। सेना में विद्रोह करने की उनकी प्रेरणा पर वह 1939 में ब्रिटिश भारतीय सेना में शामिल हो गए। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश भारतीय सेना में उनकी सेवा के दौरान उन्हें भारत के विभिन्न अधिकारी प्रशिक्षण स्कूलों जैसे बैंगलोर, आर॰आई॰ए॰एस॰सी॰ डिपो फिरोजपुर (पंजाब) में तैनात किया गया था। , वजीरिस्तान (एनडब्ल्यूएफपी), नौशेरा (एनडब्ल्यूएफपी) खानपुर शिविर (दिल्ली), बरेली कैंट (संयुक्त प्रांत), भिवंडी सेना प्रशिक्षण शिविर (महाराष्ट्र), सिंगापुर, इपो, पेनांग, कुआलालंपुर (मलाया), अराकान और रंगून (अब यांगून)।

1945 में जब सुभाष चंद्र बोस ने विद्रोह के लिए बुलाया तो उन्होंने ब्रिटिश सेना छोड़ दी और भारतीय राष्ट्रीय सेना (आई॰एन॰ए॰) या “आज़ाद हिंद फौज” में शामिल हो गए लेकिन बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया, अदालत-मार्शल और मौत की सजा सुनाई गई। जब भारत ने 1947 में आजादी हासिल की तो उन्हें भारत सरकार द्वारा रिहा कर दिया गया था। वह पूरे जीवन में 50 से अधिक बार जेल गए थे और जब इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगाया था तब वे 19 महीनों तक जेल में रहे थे।

राजनितिक जीवन

1948 में अब्बास अली, नरेंद्र देव, जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया की अगुवाई में सोशलिस्ट पार्टी में शामिल हो गए और जनता पार्टी के साथ विलय होने तक समाजवादी पार्टी, प्रजा समाजवादी पार्टी, साम्युक समाजवादी पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी की सभी समाजवादी धाराओं से जुड़े रहे। 1977. वह 1966-67 में समयुक्ता सोशलिस्ट पार्टी (एसएसपी) की उत्तर प्रदेश इकाई और 1973-74 में सोशलिस्ट पार्टी के महासचिव थे और सोशलिस्ट पार्टी और उसके संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य थे।

1967 में इन्होंने उत्तर प्रदेश में पहली गैर-कांग्रेस सम्यक्ता विद्यालय दल (एस॰वी॰डी॰) सरकार के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो 1979 में चरण सिंह भारत के प्रधान मंत्री बने। समाजवादी आंदोलन के दौरान (1948-74) इन्हें विभिन्न नागरिक अवज्ञा आंदोलनों में कई बार गिरफ्तार किया गया था।

आपातकाल के दौरान (1975-77) इन्हें भारतीय रक्षा अधिनियम (डी॰आई॰आर॰) और आंतरिक सुरक्षा अधिनियम (एम॰आई॰एस॰ए॰) के रखरखाव के तहत 19 महीने के लिए कैद किया गया था और जब आपातकाल 1977 में उठाया गया था और जनता पार्टी सत्ता में आई तो वह पहले जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष बने। 1978 में वह छह साल तक यू॰पी॰ विधान परिषद के लिए चुने गए थे। वह छह साल तक यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के सदस्य रहे थे। इन्होंने अपनी आत्मकथा ना रहून किसी का दस्तीनीगर लिखा – 2008 में मेरा सफरनामा, जिसे 3 जनवरी 2009 को श्री सुरेंद्र मोहन, मुलायम सिंह यादवराम विलास पासवान, रामजीलाल सुमन, साघिर अहमद और कई अन्य मित्रों और सहयोगियों ने नई दिल्ली में अपने उन्नीसवीं जन्मदिन पर जारी किया था। 11 अक्टूबर 2014 को अली की एक बीमारी के कारण जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, अलीगढ़ में अली की मृत्यु हो गई।[3]

Posted in Aik
Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *