मुनशा सिंह दुखी

मुनशा सिंह दुखी
जन्म1 जुलाई 1890
जंडियाला मंजकी, जालंधर जिला, पंजाब
मृत्यु26 जनवरी 1971 (उम्र 80)
भारत

मुनशा सिंह दुखी (1 जुलाई 1890 – 26 जनवरी 1971) ब्रिटिश साम्राज्य से भारत की आजादी के लिए लड़ाई में एक राष्ट्रीय क्रांतिकारी और कवि थे। बह प्रसिद्ध गदर पार्टी में थे और तीसरे लाहौर षड्यंत्र केस के तहत उन्हें उम्रकैद की सज़ा दी गई थी।[1]

जीवन

मुनशा सिंह का जन्म ब्रिटिश पंजाब के जालंधर जिले के, जंडियाला मंजकी में1 जुलाई 1890 को हुआ था। उन्होंने अनौपचारिक शिक्षा प्राप्त की, और अंग्रेजीहिन्दीउर्दूबांग्ला का एक अच्छा ज्ञान प्राप्त कर लिया था।[2]

Posted in Aik