पोनका कनकम्मा

पोनका कनकम्मा (१८९१-१९६३) एक सामाजिक कार्यकर्ता, कार्यकर्ता और स्वतंत्रता सेनानी थे।[1][2] भारत में महात्मा गांधी के एक शिष्य के रूप में एक वर्ष में जेल में भी रहे कर आए थे। उन्होंने नेल्लोर में लड़कियों के लिए एक बड़े स्कूल श्री कस्तुरिदेवी विद्यालय की स्थापना की। पोनाक कनकम्मा का जन्म १० जून १८९२ को मिनागल्लू में नेल्लोर जिले में हुआ था। वह एक बहुत ही अमीर परिवार से थी। उनकी शादी बचपण में ही कर दी थी। हालांकि उनकी कोई औपचारिक शिक्षा नहीं थी, उन्होंने तेलुगू, हिंदी और संस्कृत में अपने प्रयासों से दक्षता अर्जित की। १९१३ में, नेल्लोरे के पास पोटालापुड़ी गांव में, समाज की सेवा करने के लिए, उन्होंने ‘सुजाना रंजानी समजम’ की शुरुआत की। उन्होंने हरिजनों और गरीबों के उत्थान के लिए काम किया।

उनके दोस्तों ने ‘विवेकानंद पुस्तकालय’ की स्थापना की नेल्लोर राम नायडू की मदद से १९१३ में कोट्टूर में।

उन्होंने असहयोग आंदोलन और नमक सत्याग्रह में भाग लिया। उन्होंने १९०७ में नेल्लोर की यात्रा के दौरान बिप्पीन चंद्र पाल की मेजबानी की। १९२३ में, उन्होंने गांधी के रचनात्मक कार्यक्रम, नेल्लोर में लड़कियों के लिए एक स्कूल के रूप में श्री कस्तुरिदेवी विद्यालय की स्थापना की, और गांधीजी ने १९२९ में स्थायी इमारत के लिए नींव रखी। अपने जीवन के दौरान, उन्होंने पोतुलपुड़ी में उनके निवास पर कई प्रतिष्ठित स्वतंत्रता सेनानियों और कवियों की मेजबानी की।

१५ सितंबर १९६३ को पोंका कनकम्मा नेल्लोर में मृत्यु हो गई।

२०११ में, तेलुगू में उनकी “जीवनी” नामक ‘कन्नड़ कश्यप’ के नाम से लिखी डॉ. के. फारुषोथम।

सन्दर्भ

Posted in Aik