रहमतुल्लाह कैरानवी

रहमतुल्लाह कैरानवी
धर्मइस्लाम
व्यक्तिगत विशिष्ठियाँ
राष्ट्रीयताMughal Indian
British Indian
Saudi Arabian
जन्मरहमतुल्लाह
1818
कैरानामुगल इंडिया
निधनजून एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित < ऑपरेटर।, 1891 (उम्र एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित < ऑपरेटर।) (22 रमज़ान 1308 AH)
मक्का
शांतचित्त स्थानजन्नत अल-मुअल्ला
पद तैनाती
उपदिकैरानवी

रहमतुल्लाह कैरानवी (1818-1891;अंग्रेज़ी:Rahmatullah Kairanawi) मुस्लिम विद्वान, स्कॉलर और भारतीय स्वतन्त्रता सेनानी थे। पादरी कार्ल गोटलीब फंडर से आगरा में वाद-विवाद और फिर उसकी बहस और इसाइयत पर पुस्तक इज़हार उल-हक[2]से प्रसिद्ध हैं। मक्का,अरब में  मदरसा सौलतिया के संस्थापक थे।

परिचय

मुख्य लेख: कैराना

1818 में कैराना,ज़िला शामली, उत्तर प्रदेश में जन्म लिया। स्वतंत्रता के लिए बिर्टिश इंडिया सरकार से लड़ रहे कैराना क्षेत्र के सेनानियों के लीडर थे। उन्होंने उस समय के धर्म प्रचार को सरकारी सहायता से होने वाला प्रचार समझा और इस्लाम धर्म के ज़िम्मेदारों की खामोशी देख कर स्वयं ही तलवार के बाद क़लम से जंग लड़ी अर्थात कार्यक्रम में भाग लिया और पुस्तकें लिखीं। [3]

अहमद दीदात प्रेरक शिष्य हैं।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *