प्राचीन वंशावली

भारतीय इतिहास अति प्राचीन है। पौराणिक वंशावली अधस्तात् दी गयी है। यह वंशावली कृत युग से द्वापर के अन्त तक की है। नीचे लिखी सूचियां मनु (प्रथम मानव) से आरम्भ होती हैं और भगवान कृष्ण की पीढी पर समाप्त होती हैं। पूरी वंशावली जो पुराणों मे उपलब्ध है, नन्द वंश तक की है।[1]

यह देखिये कि राम की पीढी ६५ है जबकि कृष्ण की ९४। इससे उनके बीच की अवधि का अनुमान बताया जा सकता है। इन पीढियों का जितना सम्भव था उतना समक्रमण किया गया है। भारत के प्राचीन सप्तर्षि पंचांग के अनुसार यह कालक्रम ६६७६ ईपू से आरम्भ होता है।[1]

उस काल के विभिन्न आर्य राजाओं के बारे में इन वंशावलीयों से बहुत ज्ञान मिलता है।

[छुपाएँ]देवासंभारतीय पौराणिक वंशावली
यादवकुलमनुइलापुरुरवस्आयुनहुषययातियदुक्रोष्टुवृजिनिवन्त्स्वाहिरुशद्गुचित्ररथशशबिन्दुपृथुश्रवस्अन्तरसुयज्ञउशनस्शिनेयुमरुत्तकम्बलबर्हिस्रुक्मकवचपरावृत्ज्यामघविदर्भक्रथभीमकुन्तिधृष्टनिर्वृतिविदूरथदशार्ह
व्योमन्जीमूतविकृतिभीमरथरथवरदशरथएकादशरथशकुनिकरम्भदेवरातदेवक्षत्रदेवनमधुपुरुवशपुरुद्वन्तजन्तुसत्वन्त्भीमअन्धककुकुरवृष्णिकपोतरोमनविलोमन्नलअभिजित्पुनर्वसुउग्रसेनकंसकृष्णसाम्ब
पौरवकुलमनुइलापुरुरवस्आयुनहुषययातिपूरुजनमेजयप्राचीन्वन्त्प्रवीरमनस्युअभयदसुधन्वन्बहुगवसंयतिअहंयातिरौद्राश्वऋचेयुमतिनारतंसुदुष्यन्तभरतभारद्वाजवितथभुवमन्युबृहत्क्षत्रसुहोत्रहस्तिन्अजमीढनीलसुशान्तिपुरुजानुऋक्षभृम्यश्वमुद्गलब्रह्मिष्ठवध्र्यश्वदिवोदासमित्रयुमैत्रेयसृञ्जयच्यवनसुदाससंवरणसोमककुरुपरीक्षित १जनमेजयभीमसेनविदूरथसार्वभौमजयत्सेनअराधिनमहाभौमअयुतायुस्अक्रोधनदेवातिथिऋक्ष २भीमसेनदिलीपप्रतीपशन्तनुभीष्मविचित्रवीर्यधृतराष्ट्रपाण्डवअभिमन्युपरीक्षितजनमेजय
अयोध्याकुलमनुइक्ष्वाकुविकुक्षि-शशादकुकुत्स्थअनेनस्पृथुविष्टराश्वआर्द्रयुवनाश्वश्रावस्तबृहदश्वकुवलाश्वदृढाश्वप्रमोदहरयश्वनिकुम्भसंहताश्वअकृशाश्वप्रसेनजित्युवनाश्व २मान्धातृपुरुकुत्सत्रसदस्युसम्भूतअनरण्यत्रसदश्वहरयाश्व २वसुमतत्रिधनवन्त्रय्यारुणसत्यव्रतहरिश्चन्द्ररोहितहरितविजयरुरुकवृकबाहुसगरअसमञ्जस्अंशुमन्तदिलीप १भगीरथश्रुतनाभागअम्बरीशसिन्धुद्वीपअयुतायुस्ऋतुपर्णसर्वकामसुदासमित्रसहअश्मकमूलकशतरथऐडविडविश्वसह १दिलीप २दीर्घबाहुरघुअजदशरथरामकुशअतिथिनिषधनलनभस्पुण्डरीकक्षेमधन्वन्देवानीकअहीनगुपारिपात्रबलउक्थवज्रनाभशङ्खन्व्युषिताश्वविश्वसह २हिरण्याभपुष्यध्रुवसन्धिसुदर्शनअग्निवर्णशीघ्रमरुप्रसुश्रुतसुसन्धिअमर्षविश्रुतवन्त्बृहद्बलबृहत्क्षय
अन्य राजादिवोदास (काशी)दुर्दम (हैहय)केकय (आनव)गाधी (कान्यकुब्ज)अर्जुन (हैहय)विश्वामित्र (कान्यकुब्ज)तालजङ्घ (हैहय)प्रचेतस् (द्रुह्यु)सुचेतस् (द्रुह्यु)सुदेव (काशी)दिवोदास २ (काशी)बलि (आनव)
कलियुगमहाभारत के आगे के काल के लिये देखियेः कलियुग वंशावली

स्रोत

  1. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ  सुभाष काकदि एस्ट्रोनोमिकल कोड ऑफ दि ऋग्वेद (ऋग्वेद का कूट-ज्योतिष), मुंशीराम मनोहारलाल, नई दिल्ली, २०००।

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *