फ्रांसीसी भारत

Établissements français de l’Inde
(फ्रेंच भाषा)
फ्रांसीसी भारत
उपनिवेश
 
1769–1954 
फ्रांसीसी भारत 1815 के बाद
राजधानीपॉन्डिचेरी
भाषाएँफ़्रान्सीसीइसके अलावा बोली; तमिलतेलुगूमलयालम
Political structureउपनिवेश
ऐतिहासिक युगसाम्राज्यवाद
 – फ्रांसीसी ईस्ट इंडिया कंपनी का अंत1769
 – अंतनवंबर 1 1954
क्षेत्रफल
 – 1948508.03 किमी ² (196 वर्ग मील)
जनसंख्या
 – 1929 est.2,88,546 
 – 1948 est.3,32,045 
मुद्राफ्रांसीसी भारतीय रुपया
WarningValue specified for “continent” does not comply

नक्शा पहले (हरा) और दूसरे (नीला) फ्रांसीसी औपनिवेशिक साम्राज्य।

फ्रांसीसी भारत 17 वीं सदी के दूसरे आधे में भारत में फ्रांसीसी ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा स्थापित फ्रांसीसी प्रतिष्ठानों के लिए एक आम नाम है और आधिकारिक तौर पर एस्तब्लिसेमेन्त फ्रन्से द्दे इन्द्दए (फ़्रान्सीसी:Établissements français de l’Inde) रूप में जाना जाता, सीधा फ्रेंच शासन 1816 शुरू हुआ और 1954 तक जारी रहा जब प्रदेशों नए स्वतंत्र भारत में शामिल कर लिया गया।[1] उनके शासक क्षेत्रों पॉन्डिचेरीकराईकलयानममाहे और चन्दननगर थे। फ्रांसीसी भारत मे भारतीय शहरों में बनाए रखा कई सहायक व्यापार स्टेशन (लॉज) शामिल थे।

कुल क्षेत्र 510 km2 (200 वर्ग मील) था, जिनमें से 293 km2 (113 वर्ग मील) पॉन्डिचेरी का क्षेत्र था। 1936 में, उपनिवेश की आबादी कुल 2,98,851 निवासिया थी, जिनमें से 63% (1,87,870) पॉन्डिचेरी के क्षेत्र में निवास करती थी।[2]

अनुक्रम

प्रारंभिक इतिहास

फ्रांस एक महत्वपूर्ण रास्ते में ईस्ट इंडिया व्यापार में प्रवेश के लिए 17 वीं सदी का प्रमुख अंतिम यूरोपीय समुद्री शक्तियों था। छह दशकों, अंग्रेजी और डच ईस्ट इंडिया कंपनियों की स्थापना के बाद (1600 और 1602 क्रमश:) और ऐसे जब समय दोनों कंपनियों भारत के तट पर कारखानों गुणा कर रहे थे, यह फ्रांस के लिए बड़ा झटका था।

फ्रांस मैदान में प्रवेश करने में इतनी देर हो चुकी थी क्यों, इतिहासकारों ने कारणों पर विचार किया। वे हवाला देते है की भू राजनीतिक हालात जैसे फ्रांस की राजधानी के अंतर्देशीय स्थिति, देश का आकार, व्यापारी समुदाय के बीच एकता की कमी और एक बड़े पैमाने पर कंपनी में काफी निवेश करने के लिए अनिच्छुक विशेष रूप से बहुत दूर देश के साथ व्यापार के लिए।[3][4]

फ्रांसीसी ईस्ट इंडिया कंपनी (फ़्रान्सीसी:La Compagnie française des Indes orientales) कार्डिनल रिछेलिएउ (1642) के तत्वावधान में गठित हुइ और जीन बैप्टिस्ट कोलबर्ट (1664) के तहत खंगाला की गयी थी, उनका पहला अभियान मेडागास्कर के लिए गया था। 1667 में फ्रेंच इंडिया कंपनी एक अन्य अभियान बाहर भेजी, जो 1668 में सूरत पहुंच गया और भारत में पहली बार फ्रांसीसी कारखाने की स्थापना की।[5][6]

1669 में, वे मछलीपट्टनम में एक और फ्रेंच कारखाना स्थापित करने में सफल रहे। चन्दननगर 1692 में स्थापित किया गया था, नवाब शाइस्ता खान बंगाल के मुगल राज्यपाल की अनुमति के साथ। 1673 में, फ्रेंच बीजापुर के सुल्तान के तहत वलिकोन्दपुरम की क़िलदर से पॉन्डिचेरी क्षेत्र का अधिग्रहण किया और इस तरह पॉन्डिचेरी की नींव रखी गई थी। 1720 तक्, फ्रेंच सूरत और मछलीपट्टनम में अपने कारखाने ब्रिटिश को खो दिया था।

1674 में फ़्राँस्वा मार्टिन, पहले राज्यपाल, पॉन्डिचेरी का निर्माण शुरू कर दिया और एक छोटी मछली पकड़ने गांव से इसे एक समृद्ध बंदरगाह शहर में बदल दिया। फ्रांसीसी, डच और अंग्रेजी के साथ, भारत में, निरंतर संघर्ष में थे। 1693 में डच पॉन्डिचेरी पदभार संभाल लिया। फ्रेंच र्य्स्विच्क की संधि के माध्यम से 1699 में शहर वापस पा लिया।

अपने चरम पर

शुरुआत से 1741 तक, फ्रेंच के उद्देश्यों, ब्रिटिश, जैसे विशुद्ध वाणिज्यिक थे। उस अवधि के दौरान, फ्रेंच ईस्ट इंडिया कंपनी ने शांति से 1723 में यानम, 1739 में कराईकल और 1725 में माहे हासिल कर लिये। जल्दी 18 वीं सदी में, पॉन्डिचेरी का शहर एक ग्रिड पैटर्न पर रखा गया और काफी बड़ा हो गया था। पियरे क्रिस्टोफ़ ले नोयर (1726-1735) और पियरे बेनोइट दुमस (1735-41) की तरह सक्षम राज्यपालों पॉन्डिचेरी क्षेत्र का विस्तार किया और यह एक बड़ा और धनी शहर बना दिया।फ्रांस के नियंत्रण और प्रभाव के विस्तार के अधिकतमवादी दृश्य (1741-1754)

जल्द ही 1741 में उनके आगमन के बाद, फ्रेंच भारत के सबसे प्रसिद्ध राज्यपाल, जोसफ फ़्राँस्वा दुप्लेइक्ष भारत में फ्रांस के एक क्षेत्रीय साम्राज्य की महत्वाकांक्षा पोषण करने के लिए शुरू किया और वोह भी दूर स्थित फ्रांस की सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के विरोध के बावजूद और फ्रांस की सरकार के वरिष्ठ अधिकारिया ब्रिटिश को भड़काने नहीं चाहते थे। दुप्लेइक्ष की महत्वाकांक्षा के कारण भारत में फ्रांसीसी का ब्रिटिश के साथ टकराव और सैन्य झड़पों और राजनीतिक षड्यंत्रों की अवधि शुरू की, फ्रांस और ग्रेट ब्रिटेन के बीच शांति के समय भी यह शत्रुता जारी रही। जोसफ फ़्राँस्वा दुप्लेइक्ष की सेना सफलतापूर्वक हैदराबाद और केप कोमोरिन के बीच के क्षेत्र को नियंत्रित किया। लेकिन तब रॉबर्ट क्लाइव जो एक ब्रिटिश अधिकारी थे, 1744 में भारत आए और जोसफ फ़्राँस्वा दुप्लेइक्ष का एक भारत मे फ्रांसीसी साम्राज्य बनाने की उम्मीदो को धराशायी कर दिया। कर्नाटक युद्धे में हार और विफल शांति वार्ता के बाद, जोसफ फ़्राँस्वा दुप्लेइक्ष को सरसरी तौर पर 1754 में बर्खास्त कर दिया और फ्रांस के लिए वापस बुलाया गया था।जोसफ फ़्राँस्वा दुप्लेइक्ष की डेक्कन के सूबेदार के साथ बैठक।

ब्रिटिश और फ्रांसीसी स्थानीय राजनीति में न दखल देने की एक संधि के बावजूद, षड्यंत्रों जारी थी। उदाहरण के लिए, इस अवधि में फ्रांसीसी ने बंगाल के नवाब के राज-दरबार में अपने प्रभाव का विस्तार किया और बंगाल में अपने व्यापार की मात्रा का विस्तार किया। 1756 में, फ्रेंच कलकत्ता में ब्रिटिश फोर्ट विलियम हमला करने के लिए नवाब को प्रोत्साहित किया। 1757 में प्लासी की लड़ाई में, ब्रिटिश, नवाब और उनकी फ्रांसीसी सहयोगी दलों को हराया और बंगाल के पूरे प्रांत में ब्रिटिश सत्ता बढ़ाया।

इसके बाद फ्रांस, फ्रांसीसी नुकसान पुनः प्राप्त करने और भारत से अंग्रेजो को बाहर करने के लिये लल्ली-तोल्लेन्दल को भेजा। लल्ली 1758 में पॉन्डिचेरी में पहुंचे, उन्होंने कुछ प्रारंभिक सफलता मिली और 1758 में कडलूर जिले में फोर्ट सेंट डेविड को ध्वस्त कर दिया, लेकिन लल्ली द्वारा किए गए रणनीतिक गलतियों 1760 में पॉन्डिचेरी की घेराबंदी का कारण बनी। 1761 में पॉन्डिचेरी, बदला लेने में अंग्रेजों द्वारा नष्ट कर दिया गया था और चार साल के लिए खंडहर बने रहा। और बहुत जल्द ही फ्रांसीसी दक्षिण भारत पर अपनी पकड़ को खो दिया।

1765 में पॉन्डिचेरी यूरोप में ब्रिटेन के साथ एक शांति संधि के बाद फ्रांस को लौटादी गयी। तुरंत फ्रेंच ने बर्बाद कर दिया शहर के पुनर्निर्माण शुरू कर दिया। 1769 में, फ्रेंच ईस्ट इंडिया कंपनी, आर्थिक रूप से खुद को समर्थन करने में असमर्थ थी और फ्रेंच क्राउन, द्वारा समाप्त कर दिया गया था और तुरंत फ्रेंच क्राउन ने भारत में फ्रांसीसी कालोनियों के प्रशासन की जिम्मेदारी ले ली।

बाद के वर्षों

“विशाल ब्रिटिश इलाके के बीच में खोये, ये बंदरगाहों कोइ लाभ के नही। बल्कि, वे फ्रांस के लिए भावनात्मक मूल्य के हैं।”फ्रांसीसी भारत के डाक टिकटें

1816 में, नपालियान युद्धों के समापन के बाद, पॉन्डिचेरीचन्दननगरकराईकलमाहे और यानम के पांच प्रतिष्ठानों और मछलीपट्टनमकोष़िक्कोड और सूरत में लॉज फ्रांस को लौटा दिये गये। पॉन्डिचेरी अपने पूर्व गौरव को खो दिया था और चन्दननगर कलकत्ता के तेजी से विस्तार होते ब्रिटिश प्रतिष्ठान के उत्तर में एक तुच्छ चौकी घट कर रेह गई। उत्तरोत्तर राज्यपालों अगले 138 वर्षों से अधिक बुनियादी सुविधाओं, उद्योग, कानून और शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए, मिश्रित परिणाम के साथ की कोशिश की।

25 जनवरी 1871 के फरमान से, फ्रांसीसी भारत एक निर्वाचित सामान्य परिषद (Conseil général) और निर्वाचित स्थानीय परिषदों (Conseil local) प्रदान किये गये। इस उपाय के परिणाम बहुत संतोषजनक नहीं थे और जल्दी ही मताधिकार योग्यता के लिए और मताधिकार की कक्षाओं में संशोधित किया गया। राज्यपाल पांडिचेरी में रहते थे और एक परिषद द्वारा उन्हे सहायता प्रदान की जती थी। वे दो निचली अदालतों (Tribunaux d’instance) संचालित करते थे, पॉन्डिचेरी में एक और कराईकल में दूसरी और सात ही एक उच्च अदालत (Cour d’appel) पॉन्डिचेरी में, अलग से वे हर पाँच कॉलोनी के लिए एक समुदाय अदालतों (Justices de paix) संचालित करते थे। कृषि उपज चावलमूंगफलीतंबाकूसुपारी और सब्जियों शामिल थे।

भारत के साथ पुनर्मिलन

अगस्त 1947 में भारत की आजादी के स्वतंत्र भारत के साथ फ्रांस की भारतीय संपत्ति का संघ को प्रोत्साहन मिला। तत्काल ही मछलीपट्टनमकोष़िक्कोड और सूरत में के लॉज अक्टूबर 1947 में स्वतंत्र भारत को सौंप दिये गये। 1948 में फ्रांस और भारत के बीच एक समझौते हुआ जिसके अनुसार फ्रांसीसी भारत के नागरिक उनके राजनीतिक भविष्य चुनने के लिए फ्रांस के शेष भारतीय संपत्ति में एक चुनाव के लिए सहमत हुई। चन्दननगर के शासन मई 1950 2 पर भारत को सौंप दिया गया था, उसके बाद यह 2 अक्टूबर 1955 को पश्चिम बंगाल राज्य के साथ विलय कर दिया गया था। 1 नवम्बर 1954 को, पॉन्डिचेरीयानममाहे और कराईकल के चार परिक्षेत्रों वास्तविक स्वतंत्र भारत के साथ एकीकृत कर दिये गये और यह पुदुच्चेरी के संघ शासित प्रदेश बन गया। भारत के साथ फ्रेंच भारत के विधि सम्मत संघ, 1962 तक नहीं हुई, लेकिन 1962 मे पेरिस में फ्रांसीसी संसद ने भारत के साथ संधि की पुष्टि की उसके बाद यह आधिकारिक तौर पर किया गया था। इस के साथ भारतीय मिट्टी पर 185 वर्ष पुराना फ्रांसीसी शासन खत्म हो गया।

भारत में फ्रांसीसी प्रतिष्ठानों के राज्यपालों की सूची

दक्षिण एशिया तथाभारतीय उपमहाद्वीप का इतिहास
पाषाण युग (७०००–३००० ई.पू.)[दिखाएँ]
कांस्य युग (३०००–१३०० ई.पू.)[दिखाएँ]
लौह युग (१२००–२६ ई.पू.)[दिखाएँ]
मध्य साम्राज्य (२३० ई.पू.–१२०६ ईसवी)[दिखाएँ]
देर मध्ययुगीन युग (१२०६–१५९६ ईसवी)[दिखाएँ]
प्रारंभिक आधुनिक काल (१५२६–१८५८ ईसवी)[दिखाएँ]
औपनिवेशिक काल (१५०५–१९६१ ईसवी)[दिखाएँ]
श्रीलंका के राज्य[दिखाएँ]
राष्ट्र इतिहास[दिखाएँ]
क्षेत्रीय इतिहास[दिखाएँ]
विशेष इतिहास[दिखाएँ]
देवासं

आयुक्त (कमिश्नर)

गवर्नर जनरल

औपनिवेशिक यानमऔपनिवेशिक कराईकल १९२० मेंऔपनिवेशिक माहे १७२६ में

फ्रांसीसी भारत 1946 में फ्रांस का एक प्रवासी क्षेत्र (Territoire d’outre-mer) बन गया’

आयुक्त (कमिश्नर)

भारत के साथ पुनर्मिलन

उच्चायुक्त

  • केवल सिंह नवंबर 1, 1954–57
  • एम.के. कृपलानी 1957–58
  • एल.आर.एस. सिंह 1958–58
  • ए.एस. बैम 1960
  • शरत कुमार दत्ता 1961–61

सन्दर्भ

  1.  In France, the official name Établissements français dans l’Inde was mostly found in official documents. The expression Inde française was not often used as it was found too grandiose since the territory of French India was minuscule, particularly compared to British India. Among the population and in the press, the expression Comptoirs de l’Inde was (and is still) universally used. However, a comptoir is a trading post and therefore not a very appropriate word to denote the French possessions in India, which were colonial possessions rather than mere trading posts.
  2.  Jacques Weber, Pondichéry et les comptoirs de l’Inde après Dupleix, Éditions Denoël, Paris, 1996, p. 347.
  3.  Holden Furber, Rival Empires of Trade in the Orient, 1600-1800, University of Minnesota Press, 1976, p. 201.
  4.  Philippe Haudrère, Les Compagnies des Indes Orientales, Paris, 2006, p 70.
  5.  Asia in the making of Europe, पृ॰ 747, मूल से 2 जून 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 नवंबर 2013.
  6.  The Cambridge history of the British Empire, पृ॰ 66, मूल से 30 मई 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 8 नवंबर 2013.

ग्रंथ सूची

  • Sudipta Das (1992)। Myths and realities of French imperialism in India, 1763–1783. New York: P. Lang. ISBN 0820416762. 459p.

बाहरी कड़ियाँ

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *