भारतीय-इस्लामी वास्तुकला

भारतीय-इस्लामिक वास्तुकला : ७वीं शताब्दी में भारत उपखंड में इस्लाम प्रवेश करने के बाद वास्तुकला की कई शैलियाँ अपनाई गयी.

ममलूक सल्तनत

मामलुक सल्तनत की वास्तु कला मैं निम्न निर्माण कुछ प्रमुख हैं ( 1206 से 1210)

  1. कुव्वत-उल- इस्लाम मस्जिद
  2. कुतुब मीनार
  3. आढाई दिन का झोंपडा
  4. सुल्तान गाढ़ी
  5. अल्तमश का मकबरा
  6. जामा मस्जिद (नई दिल्ली)
  7. अतारकिन का दरवाजा
  8. बलबन का मकबरा

सन्दर्भ

{

बाहरी कड़ियाँ

[छुपाएँ]देवासंइस्लामी वास्तुकला
श्रेणियांअरबी वास्तुकलाबेरबर वास्तुकलाईरानी वास्तुकलाइस्लामी वास्तुकलामुगल वास्तुकलाउस्मानिया वास्तुकला
शैलियाँअब्बासीअनातोलिया बेलिक्सअय्यूबीअज़ेरीबंगालीचीनीफ़ातिमीइंडो-इस्लामिक वास्तुकलाइण्डोनेशियाई / मलेशियाईइसफ़हानीखोरासानीममलूकआधुनिकमूरिशीमराक़शीमुदेजारमुग़लउस्मानियाराज़ीसेल्जुकसोमालीसूडानो-सहेलीतातारतैमूरीउमय्यदफ़ारसीयमनी
तत्त्वसंरचनात्मकअबलकचहारताक़छज्जाहश्त-बिहिश्तहैपोशिलीईवानझरोखाकूचालिवानमशराबियामराक़शी रियदक़दादरिवाक़सह्ननिस्फ़-गुम्बदशबिस्तानस्किंचतादेलक्तसुतूनवोसोइरपवन पकड़
बैत अल-मुकद्दस यरूशलमकमान
शैलियाँमेहराब का निर्वहनचार कमानअस्प्नाली कमानबहुकमानी आर्चओगी आर्चनोकीली आर्चछत
शैलियांगुम्बद (अरबी गुंबद / प्याज आकार गुंबद / फारसी गुंबद / दक्षिण एशिया गुंबद)गुलदस्ताताजुगधार्मिक
वस्तुबेदुगदिक्कागुम्बदहुसैनियाइमामजादेकिस्वहलाउडस्पीकरमकसूरामिहराबमीनारमिम्बरमुआज्ज़िंन महफ़िलीकिब्लाज़रीहसजावटेंअलफीज़अरबस्कबन्नाईगिरीहगिरि टाइलेंइस्लामी अक्षरांकनइस्लामी ज्यामितीय पैटर्नइस्लामी जिल्द पैटर्नजालीमोकारेबेमस्जिद का चराग़मुक़रनासनागेश पेंटिंगक़शानीशबकासोक़ार्रतयेसेरियाज़िल्लिगेकक्षअंदरूनीहरमक़ाअज़नानाबागीचाबाग़चारबाग़इस्लामिक बाग़मुग़ल बाग़उस्मानिया बाग़जन्नत बाग़फ़ारसी बाग़अक्स हौज़बाहरी
वस्तुछत्रीईदगाहहौज़छाँव की छत्रियांमेचोआरसबीलशादिर्वन
प्रकारधार्मिकदरगाहगोंग्बेजामा मस्जिदजमाअत खानाखानकाहकुल्लियेमदरसामक़ाममक़बरामज़ारमस्जिदमुसल्लाक़ुब्बारौज़ासुराऊतकियेतूरबेज़ावियानगरबारादरीबाज़ारकारवाँ सराईदार अल-शिफ़ागोफ़्राकस्बाहमहलMedina quarterसौक़तुर्की स्नानकुंवा घरसैन्यअलबर्राना बुरूजअल-काज़बाअल-काज़रअमसारबाबक़स्बाक़स्रकलतरिबत
संसाधनवास्तुकला के लिए आगा खान पुरस्कारकमानी जाली
प्रभावइंडो-सरसेनिक रिवाइवलपश्चिमी वास्तुकला पर प्रभावमुरीश रिवाइवल
इस्लामी कला का भाग

श्रेणी

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *