भारत का विभाजन

दक्षिण एशिया तथाभारतीय उपमहाद्वीप का इतिहास
पाषाण युग (७०००–३००० ई.पू.)[छुपाएँ]निम्न पुरापाषाण (२० लाख वर्ष पूर्व)मध्य पुरापाषाण (८० हजार वर्ष पूर्व)मध्य पाषाण (१२ हजार वर्ष पूर्व)(नवपाषाण) – मेहरगढ़ संस्कृति (७०००–३३०० ई.पू.)ताम्रपाषाण (६००० ई.पू.)
कांस्य युग (३०००–१३०० ई.पू.)[छुपाएँ]सिन्धु घाटी सभ्यता (३३००–१३०० ई.पू.) – प्रारंभिक हड़प्पा संस्कृति (३३००–२६०० ई.पू.) – परिपक्व हड़प्पा संस्कृति (२६००–१९०० ई.पू.) – गत हड़प्पा संस्कृति (१७००–१३०० ई.पू.)गेरूए रंग के मिट्टी के बर्तनों संस्कृति (२००० ई.पू. से)गांधार कब्र संस्कृति (१६००–५०० ई.पू.)
लौह युग (१२००–२६ ई.पू.)[छुपाएँ]वैदिक सभ्यता (२०००–५०० ई.पू.) – जनपद (१५००-६०० ई.पू.) – काले और लाल बर्तन की संस्कृति (१३००–१००० ई.पू.) – धूसर रंग के बर्तन की संस्कृति (१२००–६०० ई.पू.) – उत्तरी काले रंग के तराशे बर्तन (७००–२०० ई.पू.) – मगध महाजनपद (५००–३२१ ई.पू.)प्रद्योत वंश (७९९–६८४ ई.पू.)हर्यक राज्य (६८४–४२४ ई.पू.)तीन अभिषिक्त साम्राज्य (६०० ई.पू.-१६०० ई.)महाजनपद (६००–३०० ई.पू.)रोर राज्य (४५० ई.पू.–४८९ ईसवी)शिशुनागा राज्य (४१३–३४५ ई.पू.)नंद साम्राज्य (४२४–३२१ ई.पू.)मौर्य साम्राज्य (३२१–१८४ ई.पू.)पाण्ड्य साम्राज्य (३०० ई.पू.–१३४५ ईसवी)चेर राज्य (३०० ई.पू.–११०२ ईसवी)चोल साम्राज्य (३०० ई.पू.–१२७९ ईसवी)पल्लव साम्राज्य (२५० ई.पू.–८०० ईसवी)महा-मेघा-वाहन राजवंश (२५० ई.पू.–४०० ईसवी)
मध्य साम्राज्य (२३० ई.पू.–१२०६ ईसवी)[छुपाएँ]सातवाहन साम्राज्य (२३० ई.पू.–२२० ईसवी)कूनिंदा राज्य (२०० ई.पू.–३०० ईसवी)मित्रा राजवंश (१५० ई.पू.-५० ई.पू.)शुंग साम्राज्य (१८५–७३ ई.पू.)हिन्द-यवन राज्य (१८० ई.पू.–१० ईसवी)कानवा राजवंश (७५–२६ ई.पू.)हिन्द-स्क्य्थिंस राज्य (२०० ई.पू.–४०० ईसवी)हिंद-पार्थियन राज्य (२१–१३० ईसवी)पश्चिमी क्षत्रप साम्राज्य (३५–४०५ ईसवी)कुषाण साम्राज्य (६०–२४० ईसवी)भारशिव राजवंश (१७०-३५० ईसवी)पद्मावती के नागवंश (२१०-३४० ईसवी)हिंद-सासनिद् राज्य (२३०–३६० ईसवी)वाकाटक साम्राज्य (२५०–५०० ईसवी)कालाब्रा राज्य (२५०–६०० ईसवी)गुप्त साम्राज्य (२८०–५५० ईसवी)कदंब राज्य (३४५–५२५ ईसवी)पश्चिम गंग राज्य (३५०–१००० ईसवी)कामरूप राज्य (३५०–११०० ईसवी)विष्णुकुंड राज्य (४२०–६२४ ईसवी)मैत्रक राजवंश (४७५–७६७ ईसवी)हुन राज्य (४७५–५७६ ईसवी)राय राज्य (४८९–६३२ ईसवी)चालुक्य साम्राज्य (५४३–७५३ ईसवी)शाही साम्राज्य (५००–१०२६ ईसवी)मौखरी राज्य (५५०–७०० ईसवी)हर्षवर्धन साम्राज्य (५९०–६४७ ईसवी)तिब्बती साम्राज्य (६१८-८४१ ईसवी)पूर्वी चालुक्यों राज्य (६२४–१०७५ ईसवी)गुर्जर प्रतिहार राज्य (६५०–१०३६ ईसवी)पाल साम्राज्य (७५०–११७४ ईसवी)राष्ट्रकूट साम्राज्य (७५३–९८२ ईसवी)परमार राज्य (८००–१३२७ ईसवी)यादवों राज्य (८५०–१३३४ ईसवी)सोलंकी राज्य (९४२–१२४४ ईसवी)प्रतीच्य चालुक्य राज्य (९७३–११८९ ईसवी)लोहारा राज्य (१००३-१३२० ईसवी)होयसल राज्य (१०४०–१३४६ ईसवी)सेन राज्य (१०७०–१२३० ईसवी)पूर्वी गंगा राज्य (१०७८–१४३४ ईसवी)काकतीय राज्य (१०८३–१३२३ ईसवी)ज़मोरीन राज्य (११०२-१७६६ ईसवी)कलचुरी राज्य (११३०–११८४ ईसवी)शुतीया राजवंश (११८७-१६७३ ईसवी)देव राजवंश (१२००-१३०० ईसवी)
देर मध्ययुगीन युग (१२०६–१५९६ ईसवी)[छुपाएँ]दिल्ली सल्तनत (१२०६–१५२६ ईसवी) – ग़ुलाम सल्तनत (१२०६–१२९० ईसवी) – ख़िलजी सल्तनत (१२९०–१३२० ईसवी) – तुग़लक़ सल्तनत (१३२०–१४१४ ईसवी) – सय्यद सल्तनत (१४१४–१४५१ ईसवी) – लोदी सल्तनत (१४५१–१५२६ ईसवी)आहोम राज्य (१२२८–१८२६ ईसवी)चित्रदुर्ग राज्य (१३००-१७७९ ईसवी)रेड्डी राज्य (१३२५–१४४८ ईसवी)विजयनगर साम्राज्य (१३३६–१६४६ ईसवी)बंगाल सल्तनत (१३५२-१५७६ ईसवी)गढ़वाल राज्य (१३५८-१८०३ ईसवी)मैसूर राज्य (१३९९–१९४७ ईसवी)गजपति राज्य (१४३४–१५४१ ईसवी)दक्खिन के सल्तनत (१४९०–१५९६ ईसवी) – अहमदनगर सल्तनत (१४९०-१६३६ ईसवी) – बेरार सल्तनत (१४९०-१५७४ ईसवी) – बीदर सल्तनत (१४९२-१६९९ ईसवी) – बीजापुर सल्तनत (१४९२-१६८६ ईसवी) – गोलकुंडा सल्तनत (१५१८-१६८७ ईसवी)केलाड़ी राज्य (१४९९–१७६३)कोच राजवंश (१५१५–१९४७ ईसवी)
प्रारंभिक आधुनिक काल (१५२६–१८५८ ईसवी)[छुपाएँ]मुग़ल साम्राज्य (१५२६–१८५८ ईसवी)सूरी साम्राज्य (१५४०–१५५६ ईसवी)मदुरै नायक राजवंश (१५५९–१७३६ ईसवी)तंजावुर राज्य (१५७२–१९१८ ईसवी)बंगाल सूबा (१५७६-१७५७ ईसवी)मारवा राज्य (१६००-१७५० ईसवी)तोंडाइमन राज्य (१६५०-१९४८ ईसवी)मराठा साम्राज्य (१६७४–१८१८ ईसवी)सिक्खों की मिसलें (१७०७-१७९९ ईसवी)दुर्रानी साम्राज्य (१७४७–१८२३ ईसवी)त्रवनकोर राज्य (१७२९–१९४७ ईसवी)सिख साम्राज्य (१७९९–१८४९ ईसवी)
औपनिवेशिक काल (१५०५–१९६१ ईसवी)[छुपाएँ]पुर्तगाली भारत (१५१०–१९६१ ईसवी)डच भारत (१६०५–१८२५ ईसवी)डेनिश भारत (१६२०–१८६९ ईसवी)फ्रांसीसी भारत (१७५९–१९५४ ईसवी)कंपनी राज (१७५७–१८५८ ईसवी)ब्रिटिश राज (१८५८–१९४७ ईसवी)भारत का विभाजन (१९४७ ईसवी)
श्रीलंका के राज्य[छुपाएँ]टैमबापन्नी के राज्य (५४३–५०५ ई.पू.)उपाटिस्सा नुवारा का साम्राज्य (५०५–३७७ ई.पू.)अनुराधापुरा के राज्य (३७७ ई.पू.–१०१७ ईसवी)रोहुन के राज्य (२०० ईसवी)पोलोनारोहवा राज्य (३००–१३१० ईसवी)दम्बदेनिय के राज्य (१२२०–१२७२ ईसवी)यपहुव के राज्य (१२७२–१२९३ ईसवी)कुरुनेगाल के राज्य (१२९३–१३४१ ईसवी)गामपोला के राज्य (१३४१–१३४७ ईसवी)रायगामा के राज्य (१३४७–१४१२ ईसवी)कोटि के राज्य (१४१२–१५९७ ईसवी)सीतावाखा के राज्य (१५२१–१५९४ ईसवी)कैंडी के राज्य (१४६९–१८१५ ईसवी)पुर्तगाली सीलोन (१५०५–१६५८ ईसवी)डच सीलोन (१६५६–१७९६ ईसवी)ब्रिटिश सीलोन (१८१५–१९४८ ईसवी)
राष्ट्र इतिहास[छुपाएँ]अफ़्गानिस्तानबांग्लादेशभूटानभारतमालदीवनेपालपाकिस्तानश्रीलंका
क्षेत्रीय इतिहास[छुपाएँ]असमबिहारबलूचिस्तानबंगालहिमाचल प्रदेशमहाराष्ट्रमध्य भारतउत्तर प्रदेशपंजाबओड़िशासिंधदक्षिण भारततिब्बत
विशेष इतिहास[छुपाएँ]सिक्काराजवंशोंआर्थिकइंडोलॉजीभाषाईसाहित्यसेनाविज्ञान तथा प्रौद्योगिकीसमयचक्र
देवासं

भारत का विभाजन माउंटबेटन योजना के आधार पर निर्मित भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम १९४७ के आधार पर किया गया। इस अधिनियम में काहा गया कि 15 अगस्त 1947 को भारत व पाकिस्तान अधिराज्य नामक दो स्वायत्त्योपनिवेश बना दिए जाएंगें और उनको ब्रिटिश सरकार सत्ता सौंप देगी।[1] स्वतंत्रता के साथ ही 14 अगस्त को पाकिस्तान अधिराज्य (बाद में जम्हूरिया ए पाकिस्तान) और 15 अगस्त को भारतीय संघ (बाद में भारत गणराज्य) की संस्थापना की गई। इस घटनाक्रम में मुख्यतः ब्रिटिश भारत के बंगाल प्रांत को पूर्वी पाकिस्तान और भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में बाँट दिया गया और इसी तरह ब्रिटिश भारत के पंजाब प्रांत को पश्चिमी पाकिस्तान के पंजाब प्रांत और भारत के पंजाब राज्य में बाँट दिया गया। इसी दौरान ब्रिटिश भारत में से सीलोन (अब श्रीलंका) और बर्मा (अब म्यांमार) को भी अलग किया गया, लेकिन इसे भारत के विभाजन में नहीं शामिल किया जाता है। इसी तरह 1971 में पाकिस्तान के विभाजन और बांग्लादेश की स्थापना को भी इस घटनाक्रम में नहीं गिना जाता है। (नेपाल और भूटान इस दौरान भी स्वतंत्र राज्य थे और इस बंटवारे से प्रभावित नहीं हुए।)

15 अगस्त 1947 की आधी रात को भारत और पाकिस्तान कानूनी तौर पर दो स्वतंत्र राष्ट्र बने।[2] लेकिन पाकिस्तान की सत्ता परिवर्तन की रस्में 14 अगस्त को कराची में की गईं ताकि आखिरी ब्रिटिश वाइसराॅय लुइस माउंटबैटनकरांची और नई दिल्ली दोनों जगह की रस्मों में हिस्सा ले सके। इसलिए पाकिस्तान में स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त और भारत में 15 अगस्त को मनाया जाता है।

भारत के विभाजन से करोड़ों लोग प्रभावित हुए। विभाजन के दौरान हुई हिंसा में करीब 10 लाख[3] लोग मारे गए और करीब 1.45 करोड़ शरणार्थियों ने अपना घर-बार छोड़कर बहुमत संप्रदाय वाले देश में शरण ली।[तथ्य वांछित]

अनुक्रम

पृष्ठभूमि

भारत के ब्रिटिश शासकों ने हमेशा ही भारत में “फूट डालो और राज्य करो” की नीति का अनुसरण किया। उन्होंने भारत के नागरिकों को संप्रदाय के अनुसार अलग-अलग समूहों में बाँट कर रखा। उनकी कुछ नीतियाँ हिन्दुओं के प्रति भेदभाव करती थीं तो कुछ मुसलमानों के प्रति। 20वीं सदी आते-आते मुसलमान हिन्दुओं के बहुमत से डरने लगे और हिन्दुओं को लगने लगा कि ब्रिटिश सरकार और भारतीय नेता मुसलमानों को विशेषाधिकार देने और हिन्दुओं के प्रति भेदभाव करने में लगे हैं। इसलिए भारत में जब आज़ादी की भावना उभरने लगी तो आज़ादी की लड़ाई को नियंत्रित करने में दोनों संप्रदायों के नेताओं में होड़ रहने लगी।

सन् 1906 में ढाका में बहुत से मुसलमान नेताओं ने मिलकर मुस्लिम लीग की स्थापना की। इन नेताओं का विचार था कि मुसलमानों को बहुसंख्यक हिन्दुओं से कम अधिकार उपलब्ध थे तथा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस हिन्दुओं का प्रतिनिधित्व करती थी। मुस्लिम लीग ने अलग-अलग समय पर अलग-अलग मांगें रखीं। 1930 में मुस्लिम लीग के सम्मेलन में प्रसिद्ध उर्दू कवि मुहम्मद इक़बाल ने एक भाषण में पहली बार मुसलमानों के लिए एक अलग राज्य की माँग उठाई।[तथ्य वांछित] 1935 में सिंध प्रांत की विधान सभा ने भी यही मांग उठाई। इक़बाल और मौलाना मुहम्मद अली जौहर ने मुहम्मद अली जिन्ना को इस मांग का समर्थन करने को कहा।[तथ्य वांछित] इस समय तक जिन्ना हिन्दू-मुस्लिम एकता के पक्ष में लगते थे, लेकिन धीरे-धीरे उन्होने आरोप लगाना शुरू कर दिया कि कांग्रेसी नेता मुसलमानों के हितों पर ध्यान नहीं दे रहे। लाहौर में 1940 के मुस्लिम लीग सम्मेलन में जिन्ना ने साफ़ तौर पर कहा कि वह दो अलग-अलग राष्ट्र चाहते हैं”हिन्दुओं और मुसलमानों के धर्म, विचारधाराएँ, रीति-रिवाज़ और साहित्य बिलकुल अलग-अलग हैं।.. एक राष्ट्र बहुमत में और दूसरा अल्पमत में, ऐसे दो राष्ट्रों को साथ बाँध कर रखने से असंतोष बढ़ कर रहेगा और अंत में ऐसे राज्य की बनावट का विनाश हो कर रहेगा।”[तथ्य वांछित]

हिन्दू महासभा जैसे हिन्दू संगठन भारत के बंटवारे के प्रबल विरोधी थे, लेकिन मानते थे कि हिन्दुओं और मुसलमानों में मतभेद हैं। 1937 में इलाहाबाद में हिन्दू महासभा के सम्मेलन में एक भाषण में विनायक दामोदर सावरकर ने कहा था – आज के दिन भारत एक राष्ट्र नहीं है, यहाँ पर दो राष्ट्र हैं-हिन्दू और मुसलमान।[4] कांग्रेस के अधिकतर नेता पंथ-निरपेक्ष थे और संप्रदाय के आधार पर भारत का विभाजन करने के विरुद्ध थे। महात्मा गांधी का विश्वास था कि हिन्दू और मुसलमान साथ रह सकते हैं और उन्हें साथ रहना चाहिये। उन्होंने विभाजन का घोर विरोध किया: “मेरी पूरी आत्मा इस विचार के विरुद्ध विद्रोह करती है कि हिन्दू और मुसलमान दो विरोधी मत और संस्कृतियाँ हैं। ऐसे सिद्धांत का अनुमोदन करना मेरे लिए ईश्वर को नकारने के समान है।”[तथ्य वांछित] बहुत सालों तक गांधी और उनके अनुयायियों ने कोशिश की कि मुसलमान कांग्रेस को छोड़ कर न जाएं और इस प्रक्रिया में हिन्दू और मुसलमान गरम दलों के नेता उनसे बहुत चिढ़ गए।

अंग्रेजों ने योजनाबद्ध रूप से हिन्दू और मुसलमान दोनों संप्रदायों के प्रति शक को बढ़ावा दिया। मुस्लिम लीग ने अगस्त 1946 में सिधी कार्यवाही दिवस मनाया और कलकत्ता में भीषण दंगे किये जिसमें करीब 5000 लोग मारे गये और बहुत से घायल हुए। ऐसे माहौल में सभी नेताओं पर दबाव पड़ने लगा कि वे विभाजन को स्वीकार करें ताकि देश पूरी तरह युद्ध की स्थिति में न आ जाए।

विभाजन की प्रक्रिया

Partition of India 1947-hi.svg

भारत के विभाजन के ढांचे को ‘3 जून प्लान’ या माउण्टबैटन योजना का नाम दिया गया। भारत और पाकिस्तान के बीच की सीमारेखा लंदन के वकील सर सिरिल रैडक्लिफ ने तय की। हिन्दू बहुमत वाले इलाके भारत में और मुस्लिम बहुमत वाले इलाके पाकिस्तान में शामिल किए गए। 18 जुलाई 1947 को ब्रिटिश संसद ने भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम पारित किया जिसमें विभाजन की प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया गया। इस समय ब्रिटिश भारत में बहुत से राज्य थे जिनके राजाओं के साथ ब्रिटिश सरकार ने तरह-तरह के समझौते कर रखे थे। इन 565 राज्यों को आज़ादी दी गयी कि वे चुनें कि वे भारत या पाकिस्तान किस में शामिल होना चाहेंगे। अधिकतर राज्यों ने बहुमत धर्म के आधार पर देश चुना। जिन राज्यों के शासकों ने बहुमत धर्म के अनुकूल देश चुना उनके एकीकरण में काफ़ी विवाद हुआ (देखें भारत का राजनैतिक एकीकरण)। विभाजन के बाद पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र में नए सदस्य के रूप में शामिल किया गया और भारत ने ब्रिटिश भारत की कुर्सी संभाली।[5]

संपत्ति का बंटवारा

ब्रिटिश भारत की संपत्ति को दोनों देशों के बीच बाँटा गया लेकिन यह प्रक्रिया बहुत लंबी खिंचने लगी। गांधीजी ने भारत सरकार पर दबाव डाला कि वह पाकिस्तान को धन जल्दी भेजे जबकि इस समय तक भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध शुरु हो चुका था और दबाव बढ़ाने के लिए अनशन शुरु कर दिया। भारत सरकार को इस दबाव के आगे झुकना पड़ा और पाकिस्तान को धन भेजना पड़ा।२२ अक्टूबर १९४७ को पाकिस्तान ने कश्मीर पर आक्रमण कर दिया, उससे पूर्व माउण्टबैटन ने भारत सरकार से पाकिस्तान सरकार को ५५ करोड़ रुपये की राशि देने का परामर्श दिया था। केन्द्रीय मन्त्रिमण्डल ने आक्रमण के दृष्टिगत यह राशि देने को टालने का निर्णय लिया किन्तु गांधी जी ने उसी समय यह राशि तुरन्त दिलवाने के लिए आमरण अनशन शुरू कर दिया जिसके परिणामस्वरूप यह राशि पाकिस्तान को भारत के हितों के विपरीत दे दी गयी। नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी के इस काम को उनकी हत्या करने का एक कारण बताया।[तथ्य वांछित]

दंगा फ़साद

बहुत से विद्वानों का मत है कि ब्रिटिश सरकार ने विभाजन की प्रक्रिया को ठीक से नहीं संभाला। क्योंकि स्वतंत्रता की घोषणा पहले और विभाजन की घोषणा बाद में की गयी, देश में शांति कायम रखने की जिम्मेवारी भारत और पाकिस्तान की नयी सरकारों के सर पर आई। किसी ने यह नहीं सोचा था कि बहुत से लोग इधर से उधर जाएंगे। लोगों का विचार था कि दोनों देशों में अल्पमत संप्रदाय के लोगों के लिए सुरक्षा का इंतज़ाम किया जाएगा। लेकिन दोनों देशों की नयी सरकारों के पास हिंसा और अपराध से निपटने के लिए आवश्यक इंतज़ाम नहीं था। फलस्वरूप दंगा फ़साद हुआ और बहुत से लोगों की जाने गईं और बहुत से लोगों को घर छोड़कर भागना पड़ा। अंदाज़ा लगाया जाता है कि इस दौरान लगभग 5 लाख से 30 लाख लोग मारे गये[तथ्य वांछित], कुछ दंगों में, तो कुछ यात्रा की मुश्किलों से।

आलोचकों का मत है कि आजादी के समय हुए नरसंहार व अशांति के लिये अंग्रेजों द्वारा समय पूर्व सत्ता हस्तान्तरण करने की शीघ्रता व तात्कालिक नेतृत्व की अदूरदर्शिता उत्तरदायी थी।[6]

जन स्थानान्तरण

विभाजन के दौरान पंजाब में एक ट्रेन पर शरणार्थी

विभाजन के बाद के महीनों में दोनों नये देशों के बीच विशाल जन स्थानांतरण हुआ। पाकिस्तान में बहुत से हिन्दुओं और सिखों को बलात् बेघर कर दिया गया। लेकिन भारत में गांधीजी ने कांग्रेस पर दबाव डाला और सुनिश्चित किया कि मुसलमान अगर चाहें तो भारत में रह सकें। सीमा रेखाएं तय होने के बाद लगभग 1.45 करोड़ लोगों ने हिंसा के डर से सीमा पार करके बहुमत संप्रदाय के देश में शरण ली। भारत की जनगणना 1951 के अनुसार विभाजन के एकदम बाद 72,26,000 मुसलमान भारत छोड़कर पाकिस्तान गये और 72,49,000 हिन्दू और सिख पाकिस्तान छोड़कर भारत आए।[तथ्य वांछित] इसमें से 78 प्रतिशत स्थानांतरण पश्चिम में, मुख्यतया पंजाब में हुआ।

अन्तरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में विभाजन

अगस्त, 1947 में भारत और पाकिस्तान में सत्ता का हस्तांतरण ब्रिटेन द्वारा उपनिवेशवादी शासन् को खत्म करने की दिशा में पहला महत्त्वपूर्ण कदम था, जिसके साथ उसकी अंतरराष्ट्रीय शक्ति के दूरगामी परिणाम जुड़े थे।

भारत का यह विभाजन अठारहवीं सदी में यूरोप, एशिया, अफ्रीका और मध्य पूर्व में किए गए अनेक विभाजनों में से एक है। प्रायः अधिकांश विभाजनों में जिस तरह विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच जितनी हिंसा हुई, उससे कहीं अधिक हिंसा इस विभाजन में हुई। साम्राज्यशाही ब्रिटेन द्वारा किया गया भारत का यह विभाजन उसके द्वारा किए गए चार विभाजनों में से एक है। उसने आयरलैंडफिलिस्तीन और साइप्रस के भी विभाजन कराए। उसने इन विभाजनों का कारण यह बताया कि अलग-अलग समुदायों के लोग एक साथ मिलकर नहीं रह सकते। जबकि इन विभाजनों के पीछे केवल धार्मिक और नस्ली कारण नहीं थे, बल्कि ब्रिटेन के सामरिक और राजनीतिक हित भी शामिल थे, जिनके आधार पर समझौतों के समय उसने अपनी रणनीति बनाई और चालें चलकर विभाजन कराए। वस्तुतः, ब्रिटेन की इन्हीं चालों की वजह से ये चारों विभाजन हुए।

साहित्य और सिनेमा में भारत का विभाजन

भारत के विभाजन और उसके साथ हुए दंगे-फ़साद पर कई लेखकों ने उपन्यास और कहानियाँ लिखी हैं, जिनमें से मुख्य हैं,

कितने पाकिस्तान (कमलेश्वर) पिंजर को फिल्म और तमस को प्रसिद्ध दूरदर्शन धारावाहिक के रूप में रूपांतरित किया गया है। इसके अलावा गरम हवादीपा महता की अर्थ (ज़मीन), कमल हसन की हे राम भी भारत के विभाजन पर आधारित हैं।

इन्हें भी देखे

सन्दर्भ

  1.  सुभाष कश्यप-भारत का संविधान पृ-22
  2.  “भारत विभाजन के लिए मुसलमान दोषी नहीं, तो फिर कौन?”. मूल से 27 दिसंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 दिसंबर 2018.
  3.  “TIME Essay HURRYING MIDNIGHT”. मूल से 17 अगस्त 2000 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 जुलाई 2007.
  4.  V.D. Savarkar, Samagra Savarkar Wangmaya Hindu Rasthra Darshan (Collected works of V.D.Savarkar) Vol VI, Maharashtra Prantik Hindusabha, Poona, 1963, पृष्ठ 296
  5.  टॉमस आरगीसी, Nations, States, and Secession: Lessons from the Former Yugoslavia, मेडटरेनियन क्वॉटरली, Volume 5 Number 4 Fall 1994, पृ. 40–65, ड्यूक यूनिवर्सिटी प्रेस
  6.  “अंग्रेजों द्वारा समय पूर्व सत्ता हस्तांतरण करने की शीघ्रता व तात्कालिक नेतृत्व की अदूरदर्शिता आजादी के समय हुए नरसंहार व अशांति के लिये उत्तरदायी थी”मूल से 19 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 अगस्त 2018.

टीका-टिप्पणी

ग्रन्थ और निबंधसूची

बाहरी कड़ियाँ

[छुपाएँ]देवासंभारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन
इतिहासउपनिवेशपोर्टो ग्रांडे दे बंगालडच बंगालईस्ट इण्डिया कम्पनीब्रिटिश राजफ्रांसीसी भारतपुर्तगाली भारतप्लासी का युद्धबक्सर का युद्धआंग्ल-मैसूर युद्ध पहलादूसरातीसराचौथाआंग्ल-मराठा युद्ध पहलादूसरातीसरापॉलीगर का युद्धवेल्लोर विद्रोहप्रथम आंग्ल-सिख युद्धद्वितीय आंग्ल-सिख युद्धसन्यासी विद्रोह1857 की क्रांतिरैडक्लिफ़ रेखाऔर
दर्शनशास्र
और विचारधारा
भारतीय राष्ट्रवादहिंदू राष्ट्रवादआंबेडकरवादगांधीवादखिलाफत आन्दोलनभारतीय मुस्लिम राष्ट्रवादसत्याग्रहसमाजवादस्वदेशी आन्दोलनस्वराज
घटनाक्रम और
आंदोलन
बंगाल का विभाजन (1905)बंगाल का विभाजन (1947)क्रांतिकारी आन्दोलनकलकत्ता दंगादिल्ली-लाहौर षडयंत्रद इंडियन सोसियोलोजिस्टसिंगापुर विद्रोहहिंदु-जर्मन षडयंत्रचम्पारण सत्याग्रहखेड़ा सत्याग्रहरॉलेट कमेटीरॉलेट एक्टजालियाँवाला बाग हत्याकांडनोआखाली नरसंहारअसहयोग आन्दोलनक्रिसमस दिवस षडयंत्रकुली-बेगार आन्दोलनचौरीचौरा काण्ड, 1922काकोरी काण्डकिस्सा-ख्वानी बाजार नरसंहारझण्डा सत्याग्रहबारडोली सत्याग्रहसाइमन कमीशननेहरु रिपोर्टजिन्ना के चौदह तर्कपूर्ण स्वराजदांडी मार्चधारासना सत्याग्रहवेदारायणम मार्चचटगांव शस्त्रागार कांडगांधी-इरविन समझौतागोलमेज सम्मेलन1935 का अधिनियमऔंध प्रयोगहिन्द सेनाक्रिप्स मिशनभारत छोड़ोबॉम्बे विद्रोहयानौन का विद्रोहभारत की अंतःकालीन सरकारस्वतंत्रता दिवसप्रजामंडल आन्दोलन
संस्थायेंअखिल भारतीय किसान सभाअखिल भारतीय मुस्लिम लीगअनुशीलन समितिआर्यसमाजआज़ाद हिन्दबर्लिन समितिग़दर पार्टीहिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशनभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इण्डिया हाउसहोम रूल आन्दोलनभारतीय स्वतंत्रता लीगआज़ाद हिन्द फ़ौजयुगान्तरखाकसार आंदोलनलाल कुर्ती आन्दोलनस्वराज पार्टीऔर देखे
समाज
सुधारक
ए वैद्यनाथ अय्यरअय्या वैकुंदरअय्यंकलीबी आर अम्बेडकरबाबा आमटेबाल गंगाधर तिलकदयानंद सरस्वतीधोंडो केशव कर्वेजी. सुब्रमण्य अय्यरगाज़ुलू लक्ष्मीनरसू चेट्टीगोपाल गणेश आगरकरगोपाल हरि देशमुखगोपालदास अंबादास देसाईईश्वर चंद्र विद्यासागरजे॰ बी॰ कृपलानीज्योतिराव फुलेकंदुकूरि वीरेशलिंगम्महादेव गोविंद रानडेमहात्मा गांधीमुत्तुलक्ष्मी रेड्डीनारायण गुरुनिरालम्ब स्वामीपंडिता रमाबाईपेरियार ई वी रामसामीराम मोहन रायआर. श्रीनिवासनसहजानंद सरस्वतीसावित्रीबाई फुलेशाहूभगिनी निवेदिताअरविन्द घोषसैयद अहमद खानवक्कम मौलवीविनायक दामोदर सावरकरविनोबा भावेविट्ठल रामजी शिंदेविवेकानंद
स्वतंत्रता
सेनानी
अबुल कलाम आजादअक्कम्मा चेरियनअच्युत पटवर्धनए.के. फजलुल हकअल्लूरी सीताराम राजूअन्नपूर्णा महाराणाएनी बेसेंटअशफ़ाक़ुल्लाह ख़ाँबाबू कुंवर सिंहबाघा यतीनबहादुर शाह द्वितीयबख़्त खानबाल गंगाधर तिलकबसावन सिंहबेगम हजरत महलभगत सिंहभारतीदासनभवभूषण मित्रभीखाजी कामाभूपेन्द्र कुमार दत्तबिधान चंद्र रॉयविपिनचंद्र पालसी. राजगोपालचारीचंद्रशेखर आजादचितरंजन दासदादाभाई नौरोजीदयानंद सरस्वतीधन सिंह गुर्जरगोपाल कृष्ण गोखलेगोविंद बल्लभ पंतलाला हरदयालहेमू कालाणीइनायतुल्ला खान माश़रिकीयतीन्द्र मोहन सेनगुप्तयतीन्द्रनाथ दासजवाहर लाल नेहरूके. कामराजकन्हैयालाल माणिकलाल मुंशीकर्तार सिंह सराभाख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ानखुदीराम बोसश्री कृष्ण सिंहलाला लाजपत रायएम. भक्तवत्सलमएम एन रायमहादजी शिंदेमहात्मा गांधीमदनमोहन मालवीयमंगल पांडेमीर कासिममिथुबेन पेटिटमुहम्मद अली जौहरमुहम्मद अली जिन्नामुहम्मद मियां मंसूर अंसारीनागनाथ नायकवाडीनाना फडणवीसनाना साहिबपी. कक्कनप्रफुल्ल चाकीप्रीतिलता वादेदारपुरुषोत्तम दास टंडनरामस्वामी वेंकटरमणराहुल सांकृत्यायनराजेन्द्र प्रसादराम प्रसाद बिस्मिलरानी लक्ष्मीबाईरासबिहारी बोससहजानंद सरस्वतीसंगोली रायण्णासरोजिनी नायडूसत्यपाल डांगशुजाउद्दौलाश्यामजी कृष्ण वर्मासिराजुद्दौलासुभाष चंद्र बोससुब्रमण्य भारतीसूर्य सेनश्यामाप्रसाद मुखर्जीतारकनाथ दासतात्या टोपेतिरुपुर कुमारनउबैदुल्लाह सिंधीवी० ओ० चिदम्बरम पिल्लैवी के कृष्ण मेननवल्लभभाई पटेलवंचिनाथनविनायक दामोदर सावरकरवीरेन्द्रनाथ चट्टोपाध्याययशवंतराव होलकरऔर देखे
ब्रिटिश नेतावेवेलकैनिंगकॉर्नवालिसइर्विनचेम्सफोर्डकर्जनरिपनमिंटोडलहौजीबैन्टिकमाउंटबेटनवैलेस्लीलिटनक्लाइवआउट्रमक्रिप्सलिनलिथगोहेस्टिंग्स
स्वतंत्रताकैबिनेट मिशनभारत में फ्रेंच उपनिवेशों का अधिग्रहणसंविधानभारतीय गणराज्यगोवा मुक्ति संग्रामभारतीय स्वतंत्रता अधिनियमभारत का विभाजनराजनीतिक एकीकरणशिमला सम्मेलन
[छुपाएँ]देवासं भारत-पाक सम्बन्ध 
कूटनीतिपाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्तभारत में पाकिस्तानी उच्चायोग भारत में पाकिस्तानी उच्चायुक्त
संधियाँ, समझौते और शिखर सम्मेलनजिन्ना–माउंटबैटन वार्ता| (1947)कराची समझौता (1949)नेहरु-लियाक़त समझौता (1950)सिंधु जल समझौता (1960)ताशकन्द समझौता (1965)शिमला समझौता (1972)दिल्ली समझौता (1974)इस्लामाबाद समझौता (1988)लाहौर घोषणा (1999)आगरा शिखर वार्ता (2001)
घटनाएँ और युद्धविभाजनकश्मीर विवादजूनागढ़ का भारत में विलय1947–1948 युद्धसिर क्रिक खाडी विवादऑपरेशन जिब्राल्टर1965 युद्ध1971 युद्धबांग्लादेश मुक्ति युद्धमुस्कुराते बुद्ध (पोखरण–I)किराना -Iपरमाणु स्पर्धानियंत्रण रेखा (एलओसी)समुद्री घुसपैठसियाचिन विवादऑपरेशन ब्रैस्टैक्सपोखरण-2 (ऑपरेशन शक्ति) / चागई-१ / चागई-२भारत में मुसलमानों का उत्पीड़नपाकिस्तान में हिन्दुओं का उत्पीड़नजम्मू और कश्मीर में मानवाधिकार हननजम्मू और कश्मीर में विद्रोहपाक अधिकृत कश्मीर में मानवाधिकारों का उल्लंघनबलूचिस्तान संघर्षकारगिल युद्धअटलांटिक घटनाईरान-पाकिस्तान-भारत गैस पाइपलाइन२००१ संसद भवन हमला2001–02 का भारत-पाक सैन्य गतिरोधसमझौता एक्सप्रेस विस्फोट (2007)२००८ के मुंबई हमले2008 का भारत-पाक सैन्य गतिरोध2011 में सीमा पर संघर्ष2013 में सीमा पर संघर्षसरबजीत/सनाउल्लाह हत्याकांड2013 में पाकिस्तान उच्चायोग पर हमला2014-15 में सीमा पर संघर्षकुलभूषण जाधव2016 कश्मीर अशांति2016 उड़ी हमला२०१६ सर्जिकल स्ट्राइक2016–2018 में सीमा पर संघर्ष2019 बालाकोट हवाई हमलाभारत-पाकिस्तान गतिरोध-२०१९ ( मीडिया कवरेज)
पहलअमन की आशाहॉटलाइनपरिवहनसमझौता एक्सप्रेसदिल्ली-लाहौर बस सेवा (सदा-ए-सरहद)श्रीनगर मुज़फ़्फ़राबाद बस सेवाथार एक्सप्रेसभारत-पाक महासंघभारत-पाक संयुक्त न्यायिक समितिजम्मू-कश्मीर में शांति स्थापना
खेल सम्बंधभारत पाकिस्तान क्रिकेट प्रतिद्वंद्विताभारत – पाकिस्तान हॉकी प्रतिद्वंद्विता
प्रवासी समुदायभारत में पाकिस्तानीपाकिस्तान में भारतीय
सम्बंधित साँचेभारत के विदेशी सम्बन्धपाकिस्तान के विदेशी सम्बन्ध
Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *