वन्दे मातरम का इतिहास

वन्दे मातरम् का संक्षिप्त इतिहास इस प्रकार है-

  • ७ नवम्वर १८७६ बंगाल के कांतल पाडा गांव में बंकिम चन्द्र चटर्जी ने ‘वंदे मातरम’ की रचना की।
  • १८८२ वंदे मातरम बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय के प्रसिद्ध उपन्यास ‘आनंद मठ’ में सम्मिलित।
  • भारत का राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम् सर्वप्रथम 1896 में गाया गया ।
  • मूलरूप से ‘वंदे मातरम’ के प्रारंभिक दो पद संस्कृत में थे, जबकि शेष गीत बांग्ला भाषा में।
  • वंदे मातरम् का अंग्रेजी अनुवाद सबसे पहले अरविंद घोष ने किया।
  • दिसम्बर १९०५ में कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक में गीत को राष्ट्रगीत का दर्जा प्रदान किया गया, बंग भंग आंदोलन में ‘वंदे मातरम्’ राष्ट्रीय नारा बना।
  • १९०६ में ‘वंदे मातरम’ देव नागरी लिपि में प्रस्तुत किया गया, कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गुरुदेव रविन्द्र नाथ टैगोर ने इसका संशोधित रूप प्रस्तुत किया।
  • १९२३ कांग्रेस अधिवेशन में वंदे मातरम् के विरोध में स्वर उठे।
  • पं॰ नेहरू, मौलाना अब्दुल कलाम अजाद, सुभाष चंद्र बोस और आचार्य नरेन्द्र देव की समिति ने २८ अक्टूबर १९३७ को कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में पेश अपनी रिपोर्ट में इस राष्ट्रगीत के गायन को अनिवार्य बाध्यता से मुक्त रखते हुए कहा था कि इस गीत के शुरुआती दो पैरे ही प्रासंगिक है, इस समिति का मार्गदर्शन रवीन्द्र नाथ टैगोर ने किया।
  • १४ अगस्त १९४७ की रात्रि में संविधान सभा की पहली बैठक का प्रारंभ ‘वंदे मातरम’ के साथ और समापन ‘जन गण मन..’ के साथ..।
  • १९५० ‘वंदे मातरम’ राष्ट्रीय गीत और ‘जन गण मन’ राष्ट्रीय गान बना।
  • २००२ बी.बी.सी. के एक सर्वेक्षण के अनुसार ‘वंदे मातरम्’ विश्व का दूसरा सर्वाधिक लोकप्रिय गीत।

वन्दे मातरम् पर कुछ मुसलमानों द्वारा आपत्ति

संविधान विशेषज्ञ ए-जी- नूरानी व कवींद्र शुक्ला ने 17 नवम्बर 1998 को घोषणा की कि वंदे मातरम्‌ के गायन को अनिवार्य बनाए जाने का आदेश है और उसे लागू भी किया जाएगा। तब नूरानी ने फ्रंट लाइन पत्रिका के जनवरी 02-15, 1999 के अंक में इसे असंवैधानिक कदम बताया। उन्होंने इसे संविधान के अनुच्छेद 28 (1) एवं 3 का उल्लंन बताया। ये अनुच्छेद इस प्रकार हैं- 1 राज्य कोष से संपूर्णत: संधारित होने वाली किसी भी शैक्षणिक संस्था में धार्मिक शिक्षा नह दी जाएगी तथा(3) राज्य के द्वारा मान्यता प्राप्त या राजकोष से सहायता प्राप्त किसी शिक्षण संस्था में उसकी या यदि वह नाबालिग है तो उसके अभिभावक द्वारा सहमति के बिना कोई धार्मिक शिक्षण नह होगा। उन्होंने अपने लेख में इस गीत को धार्मिक मानते हु इसके लिए नीरद सी- चौधरी की ‘एक अज्ञात भारतीय की जीवनी तथा आर-सी- मजूमदार को उद्धृत किया जहाँ इस गीत के रचयिता महान देश भक्त बंकिमचंद्र को मुस्लिम विरोधी बताया गया है।

उन्होंने आनंदमठ में इस गीत के योग के एम-आर-ए- बेग द्वारा किए गए विलेषण अप्रैल-जून 1969, द इंडियन जर्नल ऑफ पॉलिटिकल साइंस, -2, पृ-120-122 को उद्धृत किया जिसके अनुसार उपन्यास में न कि इस गीत का सन्दर्भ मुस्लिम विरोधी है बल्कि पूरा उपन्यास ही मुस्लिम विरोधी है।

उन्होंने 30 दिसम्बर 1908 को अखिल भारतीय मुस्लिम लीग अधिवेशन के द्वितीय सत्र में सैयद अली इमाम के अध्यक्षीय उद्‌बोधन को उद्धृत किया जिसमें वंदे मातरम्‌ को एक सांप्रदायिक आव्हान बताया गया था। इमाम के महान शब्द जो उन्होंने उद्धृत करने लायक समझे वे ये हैं- ‘क्या अकबर और औरंगजेब द्वारा किया गया योग असफल हो गया?

सभी भावनाओं और संवेदनाओं, जरूरतों और आवश्यकताओं के प्रति आदर सच्चे भारतीय राष्ट्रवाद का आधार है। मैं भारतीय राष्ट्रवाद के शिल्पियों से, चाहे वे कलकत्ता में हों या पूना में, पूछता हूँ कि क्या वे भारत के मुसलमानों से ‘वंदे मातरम्‌ और शिवाजी उत्सव स्वीकार करने की उम्मीद करते हैं? मुसलमान हर मामले में कमजोर हो सकते हैं लेकिन अपने स्वरणिम अतीत की परंपराओं का अस्वाद लेने में कमजोर नहीं हैं।

नूरानी भारतीय नागरिक के संविधान -उल्लिखित मूल कर्त्तव्य का भी ध्यान नहीं करते प्रतीत होते, जिसके अनुसार-आजादी के राष्ट्रीय संग्राम में हमें प्रेरणा देने वाले ‘महान आदशो का अनुकरण करना और उन्हें संजोना नागरिक का मूल कर्तव्य है। क्या स्वतंत्रता संग्राम में वन्दे मातरम्‌ के आदर्श से ज्यादा प्रेरक और कुछ रहा है?

इस देश में असंख्य अल्पसंख्यक वन्दे मातरम्‌ के प्रति श्रद्धा रखते हैं। यह उनकी श्रद्धा का अपमान ही था जब आगरा में 10 मार्च 2004 को 54 मुसलमानों को जाति बाहर कर दिया गया और उनकी शादिया शून्य घोषित कर दी गई क्योंकि उन्होंने यह कहीं दिया था कि वन्दे मातरम्‌ गाना गैर इस्लामी नहीं है।

मुफ्ती अब्दुल कुदूस रूमी ने फतवा जारी करते हुए कहा कि राष्ट्रगान का गायन उन्हें मुस्लिमों को नरक पहुँचाएगा। बहिष्त लोगों में लोहा मण्डी और शहीद नगर मस्जिदों के मुतवल्ली भी थे। इनमें से 13 ने माफी मांग ली। आश्चर्य की बात है कि अपराधिक गतिविधियों में शामिल होना, आतंकवादी कार्रवाईयों में भाग लेना, झूठ, धोखा, हिंसा, हत्या, असहिष्णुता, शराब, जुआ, राष्ट्र द्रोह और तस्करी जैसे कृत्य से कोई नरक में नहीं जाता मगर देश भक्ति का ज़ज़बा पैदा करने वाले राष्ट्र गान को गाने मात्र से एक इंसान नरक का अधिकारी हो जाता है।

पायोनियर ने 20 नवम्बर 1998 को पार्थक्य की इस मानसिकता को उजागर किया जब मुस्लिम विद्यार्थियों ने कहा कि वे वन्दे मातरम्‌ नहीं गाएगे क्योंकि भारत माता की तस्वीर के सामने हाथ जोड़कर प्रार्थना करने से मुस्लिम, मुस्लिम नह रह जाता, क्योंकि यह मूर्ति पूजा है, क्योंकि यह स्वतंत्रता संघर्ष में ‘‘हिडन हिन्दुत्व लाने का टैगौर और गँधीजी का षड़यंत्र था, हमारे बच्चे स्कूल छोड देंगे लेकिन वन्दे मातरम्‌ नहीं गाएगे, ‘‘ हम मरने को तैयार हैं, पर वन्दे मातरम्‌ स्वीकार नह कर सकते।

शम्सुल इस्लाम ‘मिल्ली गजट में प्रकाशित अपने लेख ‘द हिस्ट्री एण्ड पॉलिटिक्स ऑफ वन्दे मातरम्‌ में आगरा के उस मुफ्ती के समर्थन में लिख कर (देखें 1-15 मई 2004) मात्र यही सिद्ध करते हैं कि उनकी बुद्धिजीविता कठमुल्लेपन को जस्टीफाई करने मात्र के लिए है।

वन्दे मातरम्‌ का इतिहास इनके शब्दों में – ‘‘ 1875 में बंगदर्शन में सबसे पहले प्रकाशन के बाद ही वन्दे मातरम्‌ एक या दूसरे से घिरा रहा। यह एक विचित्र रचना है जो दो भाषाओं में लिखी गई। चार में से दो छंद संस्कृत में और दो बंगाली में हैं।

कवि नवीनचन् सेन ने इस गीत को पढ़ने के बाद कहा कि वैसे तो यह सब अच्छा है लेकिन आधी बंगाली और आधी संस्कृत मिलाकर सब गुड़ गोबर कर दिया है। यह मुझे गोविन्द अधिकारी के जात्रा गीतों की याद दिलाता है। मजाक उड़ाना बहुत आसान है, शम्सुलजी मजाक बनाना चाहें तो किसी भी राष्ट्रगीत का बनाया जा सकता है।

ब्रिटेन के राष्टर गान में रानी को हर तरह से बचाने की प्रार्थना भगवान से की गई है अब ब्रिटेन के नागरिकों को यह सवाल उठाना चाहिए कि कि भगवान रानी को ही क्यो बचाए, किसी कैंसर के मरीज को क्यों नहीं? बांग्लादेश से पूछा जा सकता है कि उसके राष्ट्रगीत में यह आम जैसे फल का विशेषोल्लेख क्यों है? सउदी अरब का राष्ट्रगीत ‘‘सारे मुस्लिमों के उत्कर्ष की ही क्यों बात करता है और राष्ट्रगीत में राजा की चाटुकारिता की क्या जरूरत है?

सीरिया के राष्ट्रगीत में सिर्फ ‘अरबवाद की चर्चा क्या इसे रेसिस्ट नह बनाती? ईरान के राष्ट्रगीत में यह इमाम का संदेश क्या कर रहा है? लीबिया का राष्ट्रगीत अल्लाहो अकबर की पुकारें लगाता है तो क्या वो धार्मिक हुआ या राष्ट्रीय? अल्जीरिया का राष्ट्रगीत क्यों गन पाउडर की आवाज को ‘हमारी लय और मशीनगन की ध्वनि को ‘हमारी रागिनी कहता है? अमेरिका के राष्ट्रगीत में भी ‘हवा में फूटते हुए बम क्यों हैं?

चीन के राष्ट्रगीत में खतरे की यह भय ग्रन्थि क्या है? किसी भी देश के राष्ट्रगीत पर ऐसी कोई भी कैसे भी टिप्पणी की जा सकती है लेकिन ये गीत सदियों से इन देशों के करोडों लोगों के प्रेररणा स्रोत हैं और बने रहेंगे। उनका उपहास हमारी असभ्यता है। शम्सु इस्लाम हमें यह भी जताने की कोशिश करते हैं कि वन्दे मातरम्‌ गीत कोई बड़ा सिद्ध नहीं था और यह भी कोई राष्ट्रगीत न होकर मात्र बंगाल गीत था। वह यह नहीं बताते कि कनाडा का राष्ट्रगीत 1880 में पहली बार बजने के सौ साल बाद राष्ट्रगीत बना। 1906 तक उसका कहीं उल्लेख भी नहीं हुआ था। आस्ट्रेलिया का राष्ट्रगीत 1878 में सिडनी में पहली बार बजा और 19 अप्रैल 1984 को राष्ट्रगीत का दर्जा प्राप्त हुआ।

वन्दे मातरम्‌ गीत आनन्दमठ में 1882 में आया लेकिन उसको एक एकीकृत करने वाले गीत के रूप में देखने से सबसे पहले इंकार 1923 में काकीनाड कांग्रेस अधिवेशन में तत्कालीन कांग्रेसाध्यक्ष मौलाना अहमद अली ने किया जब उन्होंने हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के हिमालय पं॰ विष्णु दिगम्बर पलुस्कर को वन्दे मातरम्‌ गाने के बीच में टोका। लेकिन पं॰ पलुस्कर ने बीच में रुकर कर इस महान गीत का अपमान नहीं होने दिया, पं- पलुस्कर पूरा गाना गाकर ही रुके।

सवाल यह है कि इतने वषो तक क्यों वन्दे मातरम्‌ गैर इस्लामी नह था? क्यों खिलाफत आंदोलन के अधिवेशनों की शुरुआत वन्दे मातरम्‌ से होती थी और ये अहमद अली, शौकत अली, जफर अली जैसे वरिष्ठ मुस्लिम नेता इसके सम्मान में उठकर खड़े होते थे। बेरिस्टर जिन्ना पहले तो इसके सम्मान में खडे न होने वालों को फटकार लगाते थे। रफीक जकारिया ने हाल में लिखे अपने निबन्ध में इस बात की ओर इशारा किया है। उनके अनुसार मुस्लिमों द्वारा वन्दे मातरम्‌ के गायन पर विवाद निरर्थक है। यह गीत स्वतंत्रता संग्राम के दौरान काँग्रेस के सभी मुस्लिम नेताओं द्वारा गाया जाता था। जो मुस्लिम इसे गाना नहीं चाहते, न गाए लेकिन गीत के सम्मान में उठकर तो खड़े हो जाए क्योंकि इसका एक संघर्ष का इतिहास रहा है और यह संविधान में राष्ट्रगान घोषित किया गया है।

बंगाल के विभाजन के समय हिन्दू और मुसलमान दोनों ही इसके पूरा गाते थे, न कि प्रथम दो छंदों को। 1896 में भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के अधिवेशन में इसका पूर्ण- असंक्षिप्त वर्शन गया गया था। इसके प्रथम स्टेज परफॉर्मर और कम्पोजर स्वयं रवींद्रनाथ टैगोर थे।

1901 के कांग्रेस अधिवेशन में फिर इसे गाया गया। इस बार दक्षणरंजन सेन इसके कम्पोजर थे। इसके बाद कांग्रेस अधिवेशन वन्दे मातरम्‌ से शुरू करने की एक प्रथा चल पडी। 7 अगस्त 1905 को बंग-भंग का विरोध करने जुटी भीड़ के बीच किसी ने कहा : वन्दे मातरम्‌ और चमत्कार घट गया। सहस्रों कंठों ने समवेत स्वर में इसे दोहराया तो पूरा आसमान वंदे मातरम के घोष से गूंज उठा। इस तरह अचानक ही वन्दे मातरम्‌ और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को उसका प्रयाण-गीत मिल गया। अरविन्द घोष ने इस अवसर का बडा रोमांचक चित्र खींचा है। 1906 में अंग्रेज सरकार ने वन्दे मातरम्‌ को किसी अधिवेशन, जुलूस या सार्वजनिक स्थल पर गाने से प्रतिबंधित कर दिया गया।

प्रसिद्ध नेता सुरेंद्रनाथ बनर्जी और अमृत बाजार पत्रिका के सम्पादक मोतीलाल घोष ने बारीसाल में एकत्र हुए युवा कांग्रेस अधिवेशन के प्रतिनिधियों से चर्चा की। 14 अप्रैल 1906 को अंग्रेज सरकार के प्रतिबंधात्मक आदेशों की अवज्ञा करके एक पूरा जुलूस वन्दे मातरम्‌ के बैज लगाए हुए निकाला गया और पुलिस ने भयंकर लाठी चार्ज कर वंदे मातरम के इन दीवानों पर हमला कर दिया। मोतीलाल घोष और सुरेंद्र नाथ बनर्जी जैसे लोग रक्त रजित होकर सड़को पर गिर पड़े, उनके साथ सैकड़ों लोगों ने पुलिस की लाठियाँ खाई और लाठियाँ खाते खाते वंदे मातरम् का घोष करते रहे।।

अगले दिन अधिवेशन फिर वन्दे मातरम्‌ गीत से शुरू हुआ। 6 अगस्त 1906 को अरविन्द कलकत्ता आ गए और वन्दे मातरम्‌ के नाम से एक अंग्रेजी दैनिक ही निकालना शुरू किया। सिस्टर निवेदिता ने प्रतिबंध के बावजूद निवेदिता गर्ल्स स्कूलों में वन्दे मातरम्‌ को दैनिक प्रार्थनाओं में शामिल किया।

लेकिन नूरानी अकेले नहीं हैं जिनको देवी या माता जैसे शब्द भी सांप्रदायिक लगते हैं, 13 मार्च 2003 को कर्नाटक के प्राथमिक एवं सेकेण्डरी शिक्षा के तत्कालीन राज्य मंत्री बी-के-चंद्रशेखर ने ‘प्रकृति‘ शब्द के साथ ‘देवी लगाने को ‘‘हिन्दू एवं साम्दायिक मानकर एक सदस्य के भाषण पर आपत्ति की थी। तब उस आहत सदस्य ने पूछा था कि क्या ‘भारत माता, ‘कन्नड़ भुवनेश्वरी और ‘कन्नड़ अम्बे जैसे शब्द भी साम्दायिक और हिन्दू हैं?

1905 में गाँधीजी ने लिखा- आज लाखों लोग एक बात के लिए एकत्र होकर वन्दे मातरम्‌ गाते हैं। मेरे विचार से इसने हमारे राष्ट्रीय गीत का दर्जा हासिल कर लिया है। मुझे यह पवित्र, भक्तिपरक और भावनात्मक गीत लगता है। कई अन्य राष्ट्रगीतों के विपरीत यह किसी अन्य राष्ट्र-राज्य की नकारात्मकताओं के बारे में शोर-शराबा नह करता। 1936 में गाँधीजी ने लिखा – ‘‘ कवि ने हमारी मातृभूमि के लिए जो अनके सार्थक विशेषण प्रयुक्त किए हैं, वे एकदम अनुकूल हैं, इनका कोई सानी नहीं है।

अब हमारी जिम्मेदारी है कि हम इन विशेषणों को यथार्थ में बदलें। इसका स्रोत कुछ भी हो, कैसे भी और कभी भी इसका सृजन हुआ हो, यह बंगाल के विभाजन के दौरान हिन्दुओं और मुसलमानों की सबसे शक्तिशाली रणभेरी थी। एक बच्चे के रूप में जब मुझे आनन्दमठ के बारे में कुछ नहीं मालूम था और न इसके अमर लेखक बंकिम के बारे में, तब भी वन्दे मातरम्‌ मेरे ह्रदय पर छा गया। जब मैंने इसे पहली बार सुना, गाया, इसने मुझे रोमांचित कर दिया। मैं इसमें शुद्धतम राष्ट्रीय भावना देखता। मुझे कभी ख्याल नह आया कि हिन्दू गीत है या सिर्फ हिन्दुओं के लिए रचा गया है।

देश के बाहर 1907 में जर्मनी के स्टुटगार्ट में अंतर्राष्टीय सोशलिस्ट कांग्रेस का अधिवेशन शुरू होने का था जिसमें पं- श्यामजी वर्मा, मैडम कामा, विनायक सावरकर आदि भाग ले रहे थे। भारत की स्वतंत्रता पर संकल्प पारित करने के लिए उठ मैडम कामा ने भाषण शुरू किया, आधुनिक भारत के पहले राष्ट्रीय झण्डे को फहराकर। इस झण्डे के मध्य में देवनागरी में अंकित था वंदे मातरम्‌। 1906 से यह गीत भारतीयों की एकता की आवाज बन गया। मंत्र की विशेषता होती है- उसकी अखण्डता यानी इंटीग्रिटी। मंत्र अपनी संपूर्णता में ही सुनने मात्र से से भाव पैदा करता है। जब

1906 से 1911 तक यह वंदे मातरम्‌ गीत पूरा गाया जाता था तो इस मंत्र में यह ताकत थी कि बंगाल का विभाजन ब्रितानी हुकूमत को वापस लेना पडा, लेकिन, 1947 तक जबकि इस मंत्र गीत को खण्डित करने पर तथाकथित ‘राजनीतिक सहमति बन गई तब तक भारत भी इतना कमजोर हो गया कि अपना खण्डन नहीं रोक सका यदि इस गीत मंत्र के टुकड़े पहले हुए तो उसकी परिणति देश के टुकडे होने में हुई।

मदनलाल ढींगरा, फुल्ल चाकी, खुदीराम बोस, सूर्यसेन, रामप्रसाद बिस्मिल और अन्य बहुत से क्रांतिकारियों ने वंदे मातरम कही कर फासी के फंदे को चूमा। भगत सिंह अपने पिता को पत्र वंदे मातरम्‌ से अभिवादन कर लिखते थे। सुभाषचं बोस की आजाद हिन्द फौज ने इस गीत को अंगीकार किया और सिंगापुर रेडियो स्टेशन से इसका सारण होता था।

1938 में स्वयं नेहरूजी ने लिखा-‘ तीस साल से ज्यादा समय से यह गीत भारतीय राष्ट्रवाद से प्रत्यक्ष रूप से जुड़ा रहा है। ‘ऐसे जन गीत टेलर मेड नहीं होते और न ही वे लोगों के दिमाग पर थोपे जा सकते हैं। वे स्वयं अपनी ऊँचाईया हासिल करते हैं। यह बात अलग है कि रविन्नाथ टेगौर, पं॰ पलुस्कर, दक्षिणरंजन सेन, दिलीप कुमार राय, पं- ओंकारनाथ ठाकुर, केशवराव भोले, विष्णुपंथ पागनिस, मास्टर कृष्णावराव, वीडी अंभाईकर, तिमिर बरन भाचार्य, हेमंत कुमार, एम एस सुब्बा लक्ष्मी, लता मंगेशकर आदि ने इसे अलग अलग रागों, काफी मिश्र खंभावती, बिलावल, बागेश्वरी, झिंझौटी, कर्नाटक शैली आदि रागों में गाकर इसे हर तरह से समृध्द किया है। बडी भीड भी इसे गा सकती है, यह मास्टर कृष्णाराव ने पुणे में पचास हजार लोगों से इस गीत को गवाया और सभी ने एक स्वर में बगैर किसी गलती के इसको गाकर इस गीत की सरलता को सिध्द किया। फिर उन्होंने पुलिसवालों के साथ इसे मार्च सांग बनाकर दिखाया। विदेशी बैण्डों पर बजाने लायक सिद्ध करने के लिए उन्होंने ब्रिटिश नेवल बैण्ड चीफ स्टेनलेबिल्स की मदद से इसका संगीत तैयार करवाया।

26 अक्टूबर 1937 को पं- जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में कलकत्ता में कांग्रेस की कार्यसमिति ने इस विषय पर एक प्रस्ताव स्वीकृत किया। इसके अनुसार ‘‘ यह गीत और इसके शब्द विशेषत: बंगाल में और सामान्यत: सारे देश में ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ राष्ट्रीयय तिरोध के प्रतीक बन गए। ‘वन्दे मातरम्‌ ये शब्द शक्ति का ऐसा पस्त्रोत बन गए जिसने हमारी जनता को प्रेरित किया और ऐसे अभिवादन हो गए जो राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम की हमें हमेशा याद दिलाता रहेगा।

गीत के प्रथम दो छंद सुकोमल भाषा में मातृभूमि और उसके उपहारों की प्रचुरता के बारे में देश में बताते हैं। उनमें ऐसा कुछ भी नहीं है जिस पर धार्मिक या किसी अन्य दृष्टि से आपत्ति उठाई जाए।

सन्दर्भ व बाहरी कड़ियाँ

[छुपाएँ]देवासंभारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन
इतिहासउपनिवेशपोर्टो ग्रांडे दे बंगालडच बंगालईस्ट इण्डिया कम्पनीब्रिटिश राजफ्रांसीसी भारतपुर्तगाली भारतप्लासी का युद्धबक्सर का युद्धआंग्ल-मैसूर युद्ध पहलादूसरातीसराचौथाआंग्ल-मराठा युद्ध पहलादूसरातीसरापॉलीगर का युद्धवेल्लोर विद्रोहप्रथम आंग्ल-सिख युद्धद्वितीय आंग्ल-सिख युद्धसन्यासी विद्रोह1857 की क्रांतिरैडक्लिफ़ रेखाऔर
दर्शनशास्र
और विचारधारा
भारतीय राष्ट्रवादहिंदू राष्ट्रवादआंबेडकरवादगांधीवादखिलाफत आन्दोलनभारतीय मुस्लिम राष्ट्रवादसत्याग्रहसमाजवादस्वदेशी आन्दोलनस्वराज
घटनाक्रम और
आंदोलन
बंगाल का विभाजन (1905)बंगाल का विभाजन (1947)क्रांतिकारी आन्दोलनकलकत्ता दंगादिल्ली-लाहौर षडयंत्रद इंडियन सोसियोलोजिस्टसिंगापुर विद्रोहहिंदु-जर्मन षडयंत्रचम्पारण सत्याग्रहखेड़ा सत्याग्रहरॉलेट कमेटीरॉलेट एक्टजालियाँवाला बाग हत्याकांडनोआखाली नरसंहारअसहयोग आन्दोलनक्रिसमस दिवस षडयंत्रकुली-बेगार आन्दोलनचौरीचौरा काण्ड, 1922काकोरी काण्डकिस्सा-ख्वानी बाजार नरसंहारझण्डा सत्याग्रहबारडोली सत्याग्रहसाइमन कमीशननेहरु रिपोर्टजिन्ना के चौदह तर्कपूर्ण स्वराजदांडी मार्चधारासना सत्याग्रहवेदारायणम मार्चचटगांव शस्त्रागार कांडगांधी-इरविन समझौतागोलमेज सम्मेलन1935 का अधिनियमऔंध प्रयोगहिन्द सेनाक्रिप्स मिशनभारत छोड़ोबॉम्बे विद्रोहयानौन का विद्रोहभारत की अंतःकालीन सरकारस्वतंत्रता दिवसप्रजामंडल आन्दोलन
संस्थायेंअखिल भारतीय किसान सभाअखिल भारतीय मुस्लिम लीगअनुशीलन समितिआर्यसमाजआज़ाद हिन्दबर्लिन समितिग़दर पार्टीहिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशनभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इण्डिया हाउसहोम रूल आन्दोलनभारतीय स्वतंत्रता लीगआज़ाद हिन्द फ़ौजयुगान्तरखाकसार आंदोलनलाल कुर्ती आन्दोलनस्वराज पार्टीऔर देखे
समाज
सुधारक
ए वैद्यनाथ अय्यरअय्या वैकुंदरअय्यंकलीबी आर अम्बेडकरबाबा आमटेबाल गंगाधर तिलकदयानंद सरस्वतीधोंडो केशव कर्वेजी. सुब्रमण्य अय्यरगाज़ुलू लक्ष्मीनरसू चेट्टीगोपाल गणेश आगरकरगोपाल हरि देशमुखगोपालदास अंबादास देसाईईश्वर चंद्र विद्यासागरजे॰ बी॰ कृपलानीज्योतिराव फुलेकंदुकूरि वीरेशलिंगम्महादेव गोविंद रानडेमहात्मा गांधीमुत्तुलक्ष्मी रेड्डीनारायण गुरुनिरालम्ब स्वामीपंडिता रमाबाईपेरियार ई वी रामसामीराम मोहन रायआर. श्रीनिवासनसहजानंद सरस्वतीसावित्रीबाई फुलेशाहूभगिनी निवेदिताअरविन्द घोषसैयद अहमद खानवक्कम मौलवीविनायक दामोदर सावरकरविनोबा भावेविट्ठल रामजी शिंदेविवेकानंद
स्वतंत्रता
सेनानी
अबुल कलाम आजादअक्कम्मा चेरियनअच्युत पटवर्धनए.के. फजलुल हकअल्लूरी सीताराम राजूअन्नपूर्णा महाराणाएनी बेसेंटअशफ़ाक़ुल्लाह ख़ाँबाबू कुंवर सिंहबाघा यतीनबहादुर शाह द्वितीयबख़्त खानबाल गंगाधर तिलकबसावन सिंहबेगम हजरत महलभगत सिंहभारतीदासनभवभूषण मित्रभीखाजी कामाभूपेन्द्र कुमार दत्तबिधान चंद्र रॉयविपिनचंद्र पालसी. राजगोपालचारीचंद्रशेखर आजादचितरंजन दासदादाभाई नौरोजीदयानंद सरस्वतीधन सिंह गुर्जरगोपाल कृष्ण गोखलेगोविंद बल्लभ पंतलाला हरदयालहेमू कालाणीइनायतुल्ला खान माश़रिकीयतीन्द्र मोहन सेनगुप्तयतीन्द्रनाथ दासजवाहर लाल नेहरूके. कामराजकन्हैयालाल माणिकलाल मुंशीकर्तार सिंह सराभाख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ानखुदीराम बोसश्री कृष्ण सिंहलाला लाजपत रायएम. भक्तवत्सलमएम एन रायमहादजी शिंदेमहात्मा गांधीमदनमोहन मालवीयमंगल पांडेमीर कासिममिथुबेन पेटिटमुहम्मद अली जौहरमुहम्मद अली जिन्नामुहम्मद मियां मंसूर अंसारीनागनाथ नायकवाडीनाना फडणवीसनाना साहिबपी. कक्कनप्रफुल्ल चाकीप्रीतिलता वादेदारपुरुषोत्तम दास टंडनरामस्वामी वेंकटरमणराहुल सांकृत्यायनराजेन्द्र प्रसादराम प्रसाद बिस्मिलरानी लक्ष्मीबाईरासबिहारी बोससहजानंद सरस्वतीसंगोली रायण्णासरोजिनी नायडूसत्यपाल डांगशुजाउद्दौलाश्यामजी कृष्ण वर्मासिराजुद्दौलासुभाष चंद्र बोससुब्रमण्य भारतीसूर्य सेनश्यामाप्रसाद मुखर्जीतारकनाथ दासतात्या टोपेतिरुपुर कुमारनउबैदुल्लाह सिंधीवी० ओ० चिदम्बरम पिल्लैवी के कृष्ण मेननवल्लभभाई पटेलवंचिनाथनविनायक दामोदर सावरकरवीरेन्द्रनाथ चट्टोपाध्याययशवंतराव होलकरऔर देखे
ब्रिटिश नेतावेवेलकैनिंगकॉर्नवालिसइर्विनचेम्सफोर्डकर्जनरिपनमिंटोडलहौजीबैन्टिकमाउंटबेटनवैलेस्लीलिटनक्लाइवआउट्रमक्रिप्सलिनलिथगोहेस्टिंग्स
स्वतंत्रताकैबिनेट मिशनभारत में फ्रेंच उपनिवेशों का अधिग्रहणसंविधानभारतीय गणराज्यगोवा मुक्ति संग्रामभारतीय स्वतंत्रता अधिनियमभारत का विभाजनराजनीतिक एकीकरणशिमला सम्मेलन
Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *