शाहजी

शाहजी
शाहजी का एक चित्र
बीजापुर सल्तनत में पुणे के जागीरदार
पूर्ववर्तीमालोजी
उत्तरवर्तीशिवाजी
बीजापुर सल्तनत में बंगलुरु के जागीरदार
उत्तरवर्तीएकोजी
जन्म1602 ई. [1]
निधन1664
Hodigere near Channagiri, Davanagere district[कृपया उद्धरण जोड़ें]
जीवनसंगीजीजाबाई
तुकाबाई
Narsabai[कृपया उद्धरण जोड़ें]
संतानसम्भाजी (शम्भूजी)
शिवाजी
एकोजी
कोयाजी
सन्ताजी[कृपया उद्धरण जोड़ें]
घरानाभोंसले
पितामालेजी
धर्महिन्दू
पेशासैना नायक

शाहजीराजे भोसले (१५९४-१६६४) १७वीं शताब्दी के एक सेनानायक तथा छत्रपति शिवाजी महाराज के पिता थे। उन्होने मराठा साम्राज्य की स्थापना की। शाहजी ने अलग-अलग समय पर अहमदनगर सल्तनतबीजापुर सल्तनत, और मुगल साम्राज्य में सैन्य सेवाएँ की।

शाहजी छापामार युद्ध के आरम्भिक प्रतिपादकों में से हैं। उन्होंने भोंसले परिवार को विशिष्टता प्रदान की। तंजोर, कोल्हापुर, सतारा के देशी राज्य भी भोंसले परिवार की देन हैं।

परिचय

मालोजीराजे भोसले के पुत्र शाहजीराजे का जन्म 18 मार्च १५९४ ई॰ को हुआ था। जो कि मूलत: कुर्मी जाति से थे। ये प्रकृति से साहसी चतुर, साधन सम्पन्न तथा दृढ़निश्चयी थे। व्यक्तिगत स्वार्थ से प्रेरित होते हुए भी, पृष्ठभूमि के रूप में, इन्हें महाराष्ट्र के राजनीतिक अभ्युत्थान का प्रथम चरण माना जा सकता है। इनकी प्रथम पत्नी जिजाबाई से महाराष्ट्र के निर्माता शिवाजीराजे का जन्म हुआ तथा दूसरी पत्नी तुकाबाई से तंजोर राज्य के संस्थापक एकोजी का।

शाहजी का वास्तविक उत्कर्ष निजामशाही वज़ीर फतहखाँ के समय से प्रारम्भ हुआ। निजामशाह की हत्या के बाद, राज्य की संकटाकीर्ण परिस्थिति में, मुगलों की नौकरी छोड़ शाहजी ने दस वर्षीय बालक मुर्तजाशाह द्वितीय को सिंहासनासीन कर (१६३२) मुगलों से तीव्र संघर्ष किया। निजामशाही राज्य की समाप्ति पर इन्होंने बीजापुर राज्य का आश्रय लिया (१६३६)। १६३८ में हिंदू राजाओं का दमन करने के लिए शाहजी भी कर्नाटक भेजे गए; किन्तु १६४८ में उनसे संपर्क स्थापित करने के संदेह में सेनानायक मुस्तफाखाँ ने इन्हें बंदी बना लिया। १६४९ में आदिलशाह ने इन्हें विमुक्त कर पुनः कर्नाटक भेजा जहाँ इन्होंने गोलकुंडा के सेनानायक मीरजुमला को परास्त किया (१६५१)। शिवाजी की बढ़ती शक्ति से आतंकित हो, बीजापुर पर शिवजी के आक्रमणों को शाहजी द्वारा स्थगित कराने का प्रयत्न किया गया (१६६२)। तभी, प्रायः बारह वर्ष बाद, पिता-पुत्र की भेंट हुई; तथा शाहजी और जीजाबाई के टूटे सम्पर्क पुनः स्थापित हुए। २३ जनवरी १६६४, को शिकार खेलते समय घोड़े पर से गिरने से शाहजी की मृत्यु हो गई।

सन्दर्भ

  1.  बाल कृष्ण 1932, पृ॰ 58.

इन्हें भी देखें

[छुपाएँ]देवासंमराठा साम्राज्य का इतिहास
राज्यकर्ताछत्रपति शिवाजी · संभाजी · राजाराम · ताराबाई · शाहु
पेशवामोरोपंत पिंगले · बालाजी विश्वनाथ · बाजीराव प्रथम  · नानासाहेब · माधवराव · नारायणराव · रघुनाथराव · सवाई माधवराव · बाजीराव द्वितीय · नाना साहब
अष्टप्रधानमंडळशिवकालीन अष्टप्रधानमंडळ · रामचंद्रपंत अमात्य  · राम शास्त्री
प्रमुख स्त्रियाँजिजाबाई  · सईबाई  · सोयराबाई  · येसूबाई  · ताराबाई  · अहिल्याबाई होल्कर  · राधाबाई · काशीबाई  · मस्तानी
सेनापतिमाणकोजी दहातोंडे · नेताजी पालकर · हंबीरराव मोहिते · प्रतापराव गुजर · संताजी घोड़पड़े · धनाजी जाधव · चंद्रसेन जाधव · कान्होजी आंग्रे
प्रमुख सरदार/सूबेदारदादाजी कोंडदेव · तानाजी मालुसरे · बाजी पासलकर · बाजीप्रभु देशपाण्डे · मल्हारराव होलकर · महादजी शिंदे
प्रमुख वीर/दुर्गपतिमुरारबाजी देशपांडे · मानाजी पायगुडे · मायनाक भंडारी · बाजी पासलकर · जिवा महाला
प्रमुख अभियानसूरत की पहली लूट
युद्धआष्टी की लढाई · कोल्हापुर की लढाई · पानीपत का तृतीय युद्ध  · पावनखिंड की लड़ाई · प्रतापगड की लड़ाई · राक्षसभुवन की लड़ाई · वडगाँव की लड़ाई · वसई का युद्ध · सिंहगढ़ की लड़ाई · खर्ड्य की लढाई · हडपसर की लड़ाई · पालखेड़ की लड़ाई · प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध  · द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध · तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध  · मराठा-दुर्राणी युद्ध
प्रमुख संधियाँपुरंदर की संधि · सालबाई की संधि · वसई की संधि
शत्रुपक्षआदिलशाही · मुगल साम्राज्य  · दुर्रानी साम्राज्य  · ब्रिटिश साम्राज्य · पुर्तगाली साम्राज्य · हैदराबाद संस्थान · मैसूर राज्य
शत्रुऔरंगजेब · मिर्जा राजा जयसिंह · अफजल खान · शाइस्ता खान · सिद्दी जौहर · खवासखान
प्रमुख दुर्गरायरेश्वर  · पन्हाळा · अजिंक्यतारा · तोरण · पुरंदर दुर्ग · प्रतापगढ़ · राजगढ़ · लोहगढ़ · विजयदुर्ग · विशालगढ़ · शिवनेरी · सज्जनगढ़ · सिंहगढ़ · हरिश्चंद्रगढ़ · रायगढ़
अन्यशिवराज्याभिषेक · मराठे गारदी  · हुजूर दफ्तर · जेम्स वेल्स (चित्रकार)  · तंजावर का मराठा राज्य  · कालरेषा

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *