सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य

सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य
शाक्यवंशी क्षत्रिय मौर्य राजवंश
बिरला मंदिर, दिल्ली में एक शैल-चित्र
चन्द्रगुप्त मौर्य
शासनावधि491 ईसा पूर्व-302 ईसा पूर्व
राज्याभिषेक491 ईसा पूर्व
पूर्ववर्तीमौर्य साम्राज्य
उत्तरवर्तीसम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य
जन्म460 ईसा पूर्व
पिप्पलिवन (अब बिहार में)
निधन302 ईसा पूर्व (उम्र 42)
पिप्पलिवन [1]
जीवनसंगीधम्म मोरिया
संतानचन्द्रगुप्त मौर्य और विष्णुगुप्त मौर्य (चाणक्य)
पूरा नामचक्रवर्ती सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य

[2]सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य के माता-पिता के बारे में लोग बहुत ज्यादा भ्रमित है,जानिए असली इतिहास-


एक पुस्तक उत्तरविहारकथांय सम्राट अशोक के पुत्र महेंद्र ने श्रीलंका में लिखी थी। उसका हिंदी अनुवाद चल रहा है। उसके अनुसार चन्द्रगुप्त मौर्य इनकी माता का नाम धम्म मोरिय पिता का नाम सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य था। आपको बता दे येे नाम प्रमाणित चुके है। बौद्ध धर्म ग्रंथ त्रिपिटक के अनुुुसार सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य ही सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य के पिता है। दुनिया के सबसे महान और शक्तिशाली अशोक महान का जन्म मौर्यवंश मे ही हुआ था।

चंनद्रगुप्त गुप्त मौर्य के पिता सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य , मोरिय नामक गणराज्य के सम्राट थे। इनके गणराज्य के ऊपर महापदमनंद ने रात मे धोखे से आक्रमण करके कब्जा कर लिया । ,अचानक हुए हमले मे सम्राट चंद्रवर्धन मौर्य् की मृत्यु हो गयी। इनकी मृत्यु के पश्चात इनकी माता धम्म मोरिया को उनके भाइयो द्वारा पुरुषपुर (वर्तमान पेशावर) में पहुँचा दी गयी। सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य की मृत्यु के पश्चात ही नन्दो के अत्याचार प्रजा पर बढ गये।

अनुक्रम

इन्हें भी देखें

सम्राज्य विस्तार

बाहरी कड़ियाँ

यह भी देखिये

[3]

सन्दर्भ

  1.  Mookerji 1966, पृ॰प॰ 40–41.
  2.  [* “भारतवर्ष The story of Maurya part 3” जाँचें |url= मान (मदद).
  3.  Rise of Magadh

[1]

सारांश

सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य के माता-पिता के बारे में लोग बहुत ज्यादा भ्रमित है,जानिए असली इतिहास-

चन्द्रगुप्त मौर्य के पिता चन्द्रवर्धन मौर्य पिप्पलिवन के शाषक थे, इनका जन्म क्षत्रिय परिवार मे हुआ था। आपको सभी जानते है महापद्मनंद शुद्र थे और उन्होंने सभी क्षत्रिय का विनाश करने की सौगंध ली थी, इसलिए उन्हे परशुराम भी कहा जाता है। महापद्मनंद ने आसपास के सभी क्षत्रिय राजाओ को हराकर उनके राज्यो को मगध मे मिला लिया लेकिन लाख कोशिश के बाद भी वो पिप्पलिवन कोशिश जीतने मे असफल रहा। इसलिए उसने रात्रि के अन्धेरे मे अचानक पिप्पलिवन पर हमला कर दिया और इस युद्ध मे चन्द्रवर्धन मौर्य वीरगति कोशिश प्राप्त हुए।

चन्द्रवर्धन मौर्य की मृत्यु के पश्चात पिप्पलिवन के मौर्य बिखर गये और वो छुपकर रहने लगे। चन्द्रगुप्त मौर्य और उनकी माता भी मगध मे छुपकर रहने लगी, चन्द्रगुप्त मौर्य बाल्य-अवस्था मे ही भेङ चराने लगे।

एक पुस्तक उत्तरविहारकथांय सम्राट अशोक के पुत्र महेंद्र ने श्रीलंका में लिखी थी। उसका हिंदी अनुवाद चल रहा है। उसके अनुसार चन्द्रगुप्त मौर्य इनकी माता का नाम धम्म मोरिय पिता का नाम सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य था। आपको बता दे येे नाम प्रमाणित चुके है। बौद्ध धर्म ग्रंथ त्रिपिटक के अनुुुसार सम्राट चन्द्रवर्धन मौर्य ही सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य के पिता है। दुनिया के सबसे महान और शक्तिशाली अशोक महान का जन्म मौर्यवंश मे ही हुआ था।

चन्द्रवर्धन मौर्य के उत्तराधिकारी

सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य


मेगस्थनीज ने चार साल तक चन्द्रगुप्त की सभा में एक यूनानी राजदूत के रूप में सेवाएँ दी। ग्रीक और लैटिन लेखों में , चंद्रगुप्त को क्रमशः सैंड्रोकोट्स और एंडोकॉटस के नाम से जाना जाता है।


चंद्रगुप्त मौर्य प्राचीन भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण राजा हैं। चन्द्रगुप्त के सिहासन संभालने से पहले, सिकंदर ने उत्तर पश्चिमी भारतीय उपमहाद्वीप पर आक्रमण किया था, और 324 ईसा पूर्व में उसकी सेना में विद्रोह की वजह से आगे का प्रचार छोड़ दिया, जिससे भारत-ग्रीक और स्थानीय शासकों द्वारा शासित भारतीय उपमहाद्वीप वाले क्षेत्रों की विरासत सीधे तौर पर चन्द्रगुप्त ने संभाली। चंद्रगुप्त ने अपने गुरु चाणक्य (जिसे कौटिल्य और विष्णु गुप्त के नाम से भी जाना जाता है,जो चन्द्र गुप्त के प्रधानमंत्री भी थे) के साथ, एक नया साम्राज्य बनाया, राज्यचक्र के सिद्धांतों को लागू किया, एक बड़ी सेना का निर्माण किया और अपने साम्राज्य की सीमाओं का विस्तार करना जारी रखा।[4]


सिकंदर के आक्रमण के समय लगभग समस्त उत्तर भारत धनानंद द्वारा शासित था। चाणक्य तथा चंद्रगुप्त ने नंद वंशको उच्छिन्न करने का निश्चय किया अपनी उद्देश्यसिद्धि के निमित्त चाणक्य और चंद्रगुप्त ने एक विशाल विजयवाहिनी का प्रबंध किया। ब्राह्मण ग्रंथों में ‘नंदोन्मूलन’ का श्रेय चाणक्य को दिया गया है। अर्थशास्त्र में कहा है कि सैनिकों की भरती चोरों, म्लेच्छों, आटविकों तथा शस्त्रोपजीवी श्रेणियों से करनी चाहिए। मुद्राराक्षस से ज्ञात होता है कि चंद्रगुप्त ने हिमालय प्रदेश के राजा पर्वतक से संधि की। चंद्रगुप्त की सेना में शक, यवन, किरात, कंबोज, पारसीक तथा वह्लीक भी रहे होंगे। प्लूटार्क के अनुसार सांद्रोकोत्तस ने संपूर्ण भारत को 6,00,000 सैनिकों की विशाल वाहिनी द्वारा जीतकर अपने अधीन कर लिया। जस्टिन के मत से भारत चंद्रगुप्त के अधिकार में था।


चंद्रगुप्त ने सर्वप्रथम अपनी स्थिति पंजाब में सदृढ़ की। उसका यवनों विरुद्ध स्वातंत्यय युद्ध संभवतः सिकंदर की मृत्यु के कुछ ही समय बाद आरम्भ हो गया था। जस्टिन के अनुसार सिकन्दर की मृत्यु के उपरान्त भारत ने सांद्रोकोत्तस के नेतृत्व में दासता के बन्धन को तोड़ फेंका तथा यवन राज्यपालों को मार डाला। चंद्रगुप्त ने यवनों के विरुद्ध अभियन लगभग 323 ई.पू. में आरम्भ किया होगा, किन्तु उन्हें इस अभियान में पूर्ण सफलता 317 ई.पू. या उसके बाद मिली होगी, क्योंकि इसी वर्ष पश्चिम पंजाब के शासक क्षत्रप यूदेमस (Eudemus) ने अपनी सेनाओं सहित, भारत छोड़ा। चंद्रगुप्त के यवनयुद्ध के बारे में विस्तारपूर्वक कुछ नहीं कहा जा सकता। इस सफलता से उन्हें पंजाब और सिंध के प्रांत मिल गए।


चंद्रगुप्त मौर्य का महत्वपूर्ण युद्ध धनानन्द के साथ उत्तराधिकार के लिए हुआ। जस्टिन एवं प्लूटार्क के वृत्तों में स्पष्ट है कि सिकंदर के भारत अभियान के समय चंद्रगुप्त ने उसे नंदों के विरुद्ध युद्ध के लिये भड़काया था, किंतु किशोर चंद्रगुप्त के व्यवहार ने यवनविजेता को क्रुद्ध कर दिया। भारतीय साहित्यिक परंपराओं से लगता है कि चंद्रगुप्त और चाणक्य के प्रति भी नंदराजा अत्यन्त असहिष्णु रह चुके थे। महावंश टीका के एक उल्लेख से लगता है कि चंद्रगुप्त ने आरम्भ में नंदसाम्राज्य के मध्य भाग पर आक्रमण किया, किन्तु उन्हें शीघ्र ही अपनी त्रुटि का पता चल गया और नए आक्रमण सीमान्त प्रदेशों से आरम्भ हुए। अन्ततः उन्होंने पाटलिपुत्र घेर लिया और धनानंद को मार डाला।


इसके बाद, ऐसा प्रतीत होता है कि चंद्रगुप्त ने अपने साम्राज्य का विस्तार दक्षिण में भी किया। मामुलनार नामक प्राचीन तमिल लेखक ने तिनेवेल्लि जिले की पोदियिल पहाड़ियों तक हुए मौर्य आक्रमणों का उल्लेख किया है। इसकी पुष्टि अन्य प्राचीन तमिल लेखकों एवं ग्रंथों से होती है। आक्रामक सेना में युद्धप्रिय कोशर लोग सम्मिलित थे। आक्रामक कोंकण से एलिलमलै पहाड़ियों से होते हुए कोंगु (कोयंबटूर) जिले में आए और यहाँ से पोदियिल पहाड़ियों तक पहुँचे। दुर्भाग्यवश उपर्युक्त उल्लेखों में इस मौर्यवाहिनी के नायक का नाम प्राप्त नहीं होता। किन्तु, ‘वंब मोरियर’ से प्रथम मौर्य सम्राट् चंद्रगुप्त का ही अनुमान अधिक संगत लगता है।


मैसूर से उपलब्ध कुछ अभिलेखों से चंद्रगुप्त द्वारा शिकारपुर तालुक के अंतर्गत नागरखंड की रक्षा करने का उल्लेख मिलता है। उक्त अभिलेख 14वीं शताब्दी का है किंतु ग्रीक, तमिल लेखकों आदि के सक्ष्य के आधार पर इसकी ऐतिहासिकता एकदम अस्वीकृत नहीं की जा सकती।


चंद्रगुप्त ने सौराष्टर की विजय भी की थी। महाक्षत्रप रुद्रदामन्‌ के जूनागढ़ अभिलेख से प्रमाणित है कि वैश्य पुष्यगुप्त यहाँ के राज्यपाल थे।


चद्रंगुप्त का अंतिम युद्ध सिकंदर के पूर्वसेनापति तथा उनके समकालीन सीरिया के ग्रीक सम्राट् सेल्यूकस के साथ हुआ।


विष्णुगुप्त मौर्य (चाणक्य )


चाणक्य (अनुमानतः ईसापूर्व 376 – ईसापूर्व 283) चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। वे ‘कौटिल्य’ नाम से भी विख्यात हैं। वे तक्षशिला विश्वविद्यालय के आचार्य थे , उन्होंने मुख्यत: भील और किरात राजकुमारों को प्रशिक्षण दिया । उन्होंने नंदवंश का नाश करके चन्द्रगुप्त मौर्य को राजा बनाया। उनके द्वारा रचित अर्थशास्त्र नामक ग्रन्थ राजनीतिअर्थनीतिकृषिसमाजनीति आदि का महान ग्रंन्थ है। अर्थशास्त्र मौर्यकालीन भारतीय समाज का दर्पण माना जाता है। चाणक्य की मृत्यु को लेकर दो कहानियां संदर्भ में आती है लेकिन दोनों में से कौन सी सच है इसका अभी कोई सार नहीं निकला है।

  1.  Sinha, Bindeshwari (1977). Dynastic History Of Magadh. Abhinav Publication Delhi.

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *