सिख साम्राज्य

सरकार’ए खाल्सा
امپراطوری سیک
ਸਿੱਖ ਸਲਤਨਤ
सिख साम्राज्य
 
 
 
 
 
 
 
१७९९–१८४९ 
Flagकुलांक
राष्ट्रगान
देगो तेगो फ़तह
महाराज रणजीत सिंह का साम्राज्य अपने शिखर पर
राजधानीलाहौर
भाषाएँफ़रसी (दरबारी भाषा/राजभाषा)[1] पंजाबी
धार्मिक समूहसिख धर्मसनातन धर्मइस्लामबौद्ध धर्म
शासनसंघिय राजतंत्र
महाराजा
 – 1801–1839रणजीत सिंह
 – 1839खड़क सिंह
 – 1839–1840नौनिहाल सिंह
 – 1840–1841चंद कौर
 – 1841–1843शेर सिंह
 – 1843–1849दलीप सिंह
वज़ीर
 – 1799–1818जमादार खुशल सिंह[2]
 – 1818–1843धियान सिंह डोगरा
 – 1843–1844हीरा सिंह डोगरा
 – 1844–1845जवाहर सिंह औलाख
ऐतिहासिक युगप्रारंभिक आधूनिक काल
 – रणजीत सिंह द्वारा लाहौर पर विजय7 जुलाई १७९९
 – द्वितीय आंग्ल-सिख युद्ध का अन्त29 मार्च १८४९
मुद्रानानकशाही रुपय
आज इन देशों का हिस्सा है:Flag of Afghanistan.svg अफ़ग़ानिस्तान
Flag of the People's Republic of China.svg चीनी जनवादी गणराज्य
Flag of India.svg भारत
Flag of Pakistan.svg पाकिस्तान
WarningValue specified for “continent” does not comply

महाराजा रणजीत सिंह

सिख साम्राज्य (पंजाबीਸਿੱਖ ਸਲਤਨਤसिख सल्तनत; साधारण नाम: खालसा राज) का उदय, उन्नीसवीं सदी की पहली अर्धशताब्दी में भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिमोत्तर में एक ताकतवर महाशक्ती के रूप में हुआ था। महाराज रणजीत सिंह के नेत्रित्व में उसने, स्वयं को पश्चिमोत्तर के सर्वश्रेष्ठ रणनायक के रूप में स्थापित किया था, जन्होंने खाल्सा के सिद्धांतों पर एक मज़बूत, धर्मनिर्पेक्ष हुक़ूमत की स्थापना की थी जिस की आधारभूमि पंजाब थी। सिख साम्राज्य की नींव, सन् १७९९ में रणजीत सिंह द्वारा, लाहौर-विजय पर पड़ी थी। उन्होंने छोटे सिख मिस्लों को एकत्रित कर एक ऐसे विशाल साम्राज्य के रूप में गठित किया था जो अपने चर्मोत्कर्ष पर पश्चिम में ख़ैबर दर्रे से लेकर पूर्व में पश्चिमी तिब्बत तक, तथा उत्तर में कश्मीर से लेकर दक्षिण में मिथान कोट तक फैला हुआ था। यह १७९९ से १८४९ तक अस्तित्व में रहा था।

सन्दर्भ

  1.  “संग्रहीत प्रति” (PDF). मूल (PDF) से 15 सितंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 नवंबर 2015.
  2.  Grewal, J.S. (1990). The Sikhs of the Punjab. Cambridge University Press. पृ॰ 107. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0 521 63764 3. मूल से 24 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 April 2014.

इन्हें भी देखें

[छुपाएँ]देवासंसिख साम्राज्य 
शासकरणजीत सिंहखड़क सिंहनौ निहाल सिंहचाँद कौरशेर सिंहदलीप सिंह
सैन्य
संघर्ष
अफ़ग़ान-सिख युद्धअटकमुल्तानशोपियांनौशेराजमरूदप्रथम आंग्ल-सिख युद्धमुदकीफिरोज़शाहअलीवालसोबरायद्वितीय आंग्ल-सिख युद्धरामनगरचिलियानवालामुल्तानगुजरातअन्यसिख मिस्लों में आपसी लड़ाइयाँ
शत्रुमुग़ल साम्राज्यअफगानिस्तान की अमीरातब्रिटिश साम्राज्य
क़िलेदल्लेवाल क़िलाजमरूद किलामुल्तान क़िलाहरकिशनगढ़ क़िलासुमेरगढ़ क़िलाउड़ी का क़िलालाहौर का किला

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *