सुलुव राजवंश

विजयनगर साम्राज्य
संगम राजवंशहरिहर राय प्रथम1336-1356बुक्क राय प्रथम1356-1377हरिहर राय द्वितीय1377-1404विरुपाक्ष राय1404-1405बुक्क राय द्वितीय1405-1406देव राय प्रथम1406-1422रामचन्द्र राय1422वीर विजय बुक्क राय1422-1424देव राय द्वितीय1424-1446मल्लिकार्जुन राय1446-1465विरुपाक्ष राय द्वितीय1465-1485प्रौढ़ राय1485शाल्व राजवंशशाल्व नृसिंह देव राय1485-1491थिम्म भूपाल1491नृसिंह राय द्वितीय1491-1505तुलुव राजवंशतुलुव नरस नायक1491-1503वीरनृसिंह राय1503-1509कृष्ण देव राय1509-1529अच्युत देव राय1529-1542सदाशिव राय1542-1570अराविदु राजवंशआलिया राम राय1542-1565तिरुमल देव राय1565-1572श्रीरंग प्रथम1572-1586वेंकट द्वितीय1586-1614श्रीरंग द्वितीय1614-1614रामदेव अरविदु1617-1632वेंकट तृतीय1632-1642श्रीरंग तृतीय1642-1646

सुलुव राजवंश इस राजवंश के निर्माता “सुलुवास” है इस राजवंश के राजाओं ने भारत के कर्नाटक राज्य के कल्याणी क्षेत्र में राज किया था। [1] सुलुव (“Saluva”) शब्द का प्रयोग बाज का शिकार करने में किया जाता है वे बाद में शायद प्रवास से या 14 वीं सदी के दौरान विजयनगर साम्राज्य में फैल गए थे [1] सलुवा नरसिंह सुलुव राजवंश के पहले राजा थे जिन्होंने १४८६ से १४९१ तक शासन किया। ये  वंश के सत्तारूढ़ राजा थे। नरसिंह राय ने उड़ीसा के राजा के अतिक्रमण को रोकने का प्रयास किया था। [2]

सन्दर्भ

  1. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ  Durga Prasad , p219
  2.  Sen, Sailendra (2013). A Textbook of Medieval Indian History. Primus Books. पृ॰ 108. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-9-38060-734-4.

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *