होयसल राजवंश

दक्षिण एशिया तथाभारतीय उपमहाद्वीप का इतिहास
पाषाण युग (७०००–३००० ई.पू.)[छुपाएँ]निम्न पुरापाषाण (२० लाख वर्ष पूर्व)मध्य पुरापाषाण (८० हजार वर्ष पूर्व)मध्य पाषाण (१२ हजार वर्ष पूर्व)(नवपाषाण) – मेहरगढ़ संस्कृति (७०००–३३०० ई.पू.)ताम्रपाषाण (६००० ई.पू.)
कांस्य युग (३०००–१३०० ई.पू.)[छुपाएँ]सिन्धु घाटी सभ्यता (३३००–१३०० ई.पू.) – प्रारंभिक हड़प्पा संस्कृति (३३००–२६०० ई.पू.) – परिपक्व हड़प्पा संस्कृति (२६००–१९०० ई.पू.) – गत हड़प्पा संस्कृति (१७००–१३०० ई.पू.)गेरूए रंग के मिट्टी के बर्तनों संस्कृति (२००० ई.पू. से)गांधार कब्र संस्कृति (१६००–५०० ई.पू.)
लौह युग (१२००–२६ ई.पू.)[छुपाएँ]वैदिक सभ्यता (२०००–५०० ई.पू.) – जनपद (१५००-६०० ई.पू.) – काले और लाल बर्तन की संस्कृति (१३००–१००० ई.पू.) – धूसर रंग के बर्तन की संस्कृति (१२००–६०० ई.पू.) – उत्तरी काले रंग के तराशे बर्तन (७००–२०० ई.पू.) – मगध महाजनपद (५००–३२१ ई.पू.)प्रद्योत वंश (७९९–६८४ ई.पू.)हर्यक राज्य (६८४–४२४ ई.पू.)तीन अभिषिक्त साम्राज्य (६०० ई.पू.-१६०० ई.)महाजनपद (६००–३०० ई.पू.)रोर राज्य (४५० ई.पू.–४८९ ईसवी)शिशुनागा राज्य (४१३–३४५ ई.पू.)नंद साम्राज्य (४२४–३२१ ई.पू.)मौर्य साम्राज्य (३२१–१८४ ई.पू.)पाण्ड्य साम्राज्य (३०० ई.पू.–१३४५ ईसवी)चेर राज्य (३०० ई.पू.–११०२ ईसवी)चोल साम्राज्य (३०० ई.पू.–१२७९ ईसवी)पल्लव साम्राज्य (२५० ई.पू.–८०० ईसवी)महा-मेघा-वाहन राजवंश (२५० ई.पू.–४०० ईसवी)
मध्य साम्राज्य (२३० ई.पू.–१२०६ ईसवी)[छुपाएँ]सातवाहन साम्राज्य (२३० ई.पू.–२२० ईसवी)कूनिंदा राज्य (२०० ई.पू.–३०० ईसवी)मित्रा राजवंश (१५० ई.पू.-५० ई.पू.)शुंग साम्राज्य (१८५–७३ ई.पू.)हिन्द-यवन राज्य (१८० ई.पू.–१० ईसवी)कानवा राजवंश (७५–२६ ई.पू.)हिन्द-स्क्य्थिंस राज्य (२०० ई.पू.–४०० ईसवी)हिंद-पार्थियन राज्य (२१–१३० ईसवी)पश्चिमी क्षत्रप साम्राज्य (३५–४०५ ईसवी)कुषाण साम्राज्य (६०–२४० ईसवी)भारशिव राजवंश (१७०-३५० ईसवी)पद्मावती के नागवंश (२१०-३४० ईसवी)हिंद-सासनिद् राज्य (२३०–३६० ईसवी)वाकाटक साम्राज्य (२५०–५०० ईसवी)कालाब्रा राज्य (२५०–६०० ईसवी)गुप्त साम्राज्य (२८०–५५० ईसवी)कदंब राज्य (३४५–५२५ ईसवी)पश्चिम गंग राज्य (३५०–१००० ईसवी)कामरूप राज्य (३५०–११०० ईसवी)विष्णुकुंड राज्य (४२०–६२४ ईसवी)मैत्रक राजवंश (४७५–७६७ ईसवी)हुन राज्य (४७५–५७६ ईसवी)राय राज्य (४८९–६३२ ईसवी)चालुक्य साम्राज्य (५४३–७५३ ईसवी)शाही साम्राज्य (५००–१०२६ ईसवी)मौखरी राज्य (५५०–७०० ईसवी)हर्षवर्धन साम्राज्य (५९०–६४७ ईसवी)तिब्बती साम्राज्य (६१८-८४१ ईसवी)पूर्वी चालुक्यों राज्य (६२४–१०७५ ईसवी)गुर्जर प्रतिहार राज्य (६५०–१०३६ ईसवी)पाल साम्राज्य (७५०–११७४ ईसवी)राष्ट्रकूट साम्राज्य (७५३–९८२ ईसवी)परमार राज्य (८००–१३२७ ईसवी)यादवों राज्य (८५०–१३३४ ईसवी)सोलंकी राज्य (९४२–१२४४ ईसवी)प्रतीच्य चालुक्य राज्य (९७३–११८९ ईसवी)लोहारा राज्य (१००३-१३२० ईसवी)होयसल राज्य (१०४०–१३४६ ईसवी)सेन राज्य (१०७०–१२३० ईसवी)पूर्वी गंगा राज्य (१०७८–१४३४ ईसवी)काकतीय राज्य (१०८३–१३२३ ईसवी)ज़मोरीन राज्य (११०२-१७६६ ईसवी)कलचुरी राज्य (११३०–११८४ ईसवी)शुतीया राजवंश (११८७-१६७३ ईसवी)देव राजवंश (१२००-१३०० ईसवी)
देर मध्ययुगीन युग (१२०६–१५९६ ईसवी)[छुपाएँ]दिल्ली सल्तनत (१२०६–१५२६ ईसवी) – ग़ुलाम सल्तनत (१२०६–१२९० ईसवी) – ख़िलजी सल्तनत (१२९०–१३२० ईसवी) – तुग़लक़ सल्तनत (१३२०–१४१४ ईसवी) – सय्यद सल्तनत (१४१४–१४५१ ईसवी) – लोदी सल्तनत (१४५१–१५२६ ईसवी)आहोम राज्य (१२२८–१८२६ ईसवी)चित्रदुर्ग राज्य (१३००-१७७९ ईसवी)रेड्डी राज्य (१३२५–१४४८ ईसवी)विजयनगर साम्राज्य (१३३६–१६४६ ईसवी)बंगाल सल्तनत (१३५२-१५७६ ईसवी)गढ़वाल राज्य (१३५८-१८०३ ईसवी)मैसूर राज्य (१३९९–१९४७ ईसवी)गजपति राज्य (१४३४–१५४१ ईसवी)दक्खिन के सल्तनत (१४९०–१५९६ ईसवी) – अहमदनगर सल्तनत (१४९०-१६३६ ईसवी) – बेरार सल्तनत (१४९०-१५७४ ईसवी) – बीदर सल्तनत (१४९२-१६९९ ईसवी) – बीजापुर सल्तनत (१४९२-१६८६ ईसवी) – गोलकुंडा सल्तनत (१५१८-१६८७ ईसवी)केलाड़ी राज्य (१४९९–१७६३)कोच राजवंश (१५१५–१९४७ ईसवी)
प्रारंभिक आधुनिक काल (१५२६–१८५८ ईसवी)[छुपाएँ]मुग़ल साम्राज्य (१५२६–१८५८ ईसवी)सूरी साम्राज्य (१५४०–१५५६ ईसवी)मदुरै नायक राजवंश (१५५९–१७३६ ईसवी)तंजावुर राज्य (१५७२–१९१८ ईसवी)बंगाल सूबा (१५७६-१७५७ ईसवी)मारवा राज्य (१६००-१७५० ईसवी)तोंडाइमन राज्य (१६५०-१९४८ ईसवी)मराठा साम्राज्य (१६७४–१८१८ ईसवी)सिक्खों की मिसलें (१७०७-१७९९ ईसवी)दुर्रानी साम्राज्य (१७४७–१८२३ ईसवी)त्रवनकोर राज्य (१७२९–१९४७ ईसवी)सिख साम्राज्य (१७९९–१८४९ ईसवी)
औपनिवेशिक काल (१५०५–१९६१ ईसवी)[छुपाएँ]पुर्तगाली भारत (१५१०–१९६१ ईसवी)डच भारत (१६०५–१८२५ ईसवी)डेनिश भारत (१६२०–१८६९ ईसवी)फ्रांसीसी भारत (१७५९–१९५४ ईसवी)कंपनी राज (१७५७–१८५८ ईसवी)ब्रिटिश राज (१८५८–१९४७ ईसवी)भारत का विभाजन (१९४७ ईसवी)
श्रीलंका के राज्य[छुपाएँ]टैमबापन्नी के राज्य (५४३–५०५ ई.पू.)उपाटिस्सा नुवारा का साम्राज्य (५०५–३७७ ई.पू.)अनुराधापुरा के राज्य (३७७ ई.पू.–१०१७ ईसवी)रोहुन के राज्य (२०० ईसवी)पोलोनारोहवा राज्य (३००–१३१० ईसवी)दम्बदेनिय के राज्य (१२२०–१२७२ ईसवी)यपहुव के राज्य (१२७२–१२९३ ईसवी)कुरुनेगाल के राज्य (१२९३–१३४१ ईसवी)गामपोला के राज्य (१३४१–१३४७ ईसवी)रायगामा के राज्य (१३४७–१४१२ ईसवी)कोटि के राज्य (१४१२–१५९७ ईसवी)सीतावाखा के राज्य (१५२१–१५९४ ईसवी)कैंडी के राज्य (१४६९–१८१५ ईसवी)पुर्तगाली सीलोन (१५०५–१६५८ ईसवी)डच सीलोन (१६५६–१७९६ ईसवी)ब्रिटिश सीलोन (१८१५–१९४८ ईसवी)
राष्ट्र इतिहास[छुपाएँ]अफ़्गानिस्तानबांग्लादेशभूटानभारतमालदीवनेपालपाकिस्तानश्रीलंका
क्षेत्रीय इतिहास[छुपाएँ]असमबिहारबलूचिस्तानबंगालहिमाचल प्रदेशमहाराष्ट्रमध्य भारतउत्तर प्रदेशपंजाबओड़िशासिंधदक्षिण भारततिब्बत
विशेष इतिहास[छुपाएँ]सिक्काराजवंशोंआर्थिकइंडोलॉजीभाषाईसाहित्यसेनाविज्ञान तथा प्रौद्योगिकीसमयचक्र
देवासं

होयसल प्राचीन दक्षिण भारत का एक राजवंश था। इसने दसवीं से चौदहवीं शताब्दी तक राज किया। होयसल शासक पश्चिमी घाट के पर्वतीय क्षेत्र वाशिन्दे थे पर उस समय आस पास चल रहे आंतरिक संघर्ष का फायदा उठाकर उन्होने वर्तमान कर्नाटक के लगभग सम्पूर्ण भाग तथा तमिलनाडु के कावेरी नदी की उपजाऊ घाटी वाले हिस्से पर अपना अधिकार जमा लिया। इन्होंने ३१७ वर्ष राज किया। इनकी राजधानी पहले बेलूर थी पर बाद में स्थानांतरित होकर हालेबिदु हो गई।Siegessäule in चेन्नकेशव मंदिर, बेलूरShiva und Parvati, होयसलेश्वर मंदिर, हालेबिदु

शासक

हरिहर राय १ ने इसके पश्चात विजयनगर साम्राज्य स्थापित किया।

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *