बुर्ज़होम

बुर्ज़होम
—  पुरातत्व स्थल  —
 बुर्ज़होम 
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देशFlag of India.svg भारत
ज़िलाश्रीनगर

निर्देशांक34.09°N 74.79°E

बुर्ज़होमश्रीनगर का पुरातात्विक महत्‍व वाला कश्‍मीर का प्रमुख ऐतिहासिक स्‍थल है।[1] पुरातत्व खुदाई में 3000 ईसा पूर्व और 1000 ईसा पूर्व के बीच सांस्कृतिक महत्व के चार चरण सामने आए हैं।[2] अवधि I और II नवपाषाण युग का प्रतिनिधित्व करते हैं; अवधि ईएलआई मेगालिथिक युग (बड़े पैमाने पर पत्थर के मेन्शर और पहिया लाल मिट्टी के बर्तनों में बदल गया); और अवधि IV प्रारंभिक ऐतिहासिक अवधि (उत्तर-महापाषाण काल) से संबंधित है। कश्मीर में प्रागैतिहासिक मानव गतिविधि का प्रतिनिधित्व करते हुए स्तरीकृत सांस्कृतिक जमा में दर्ज किए गए निष्कर्ष, विस्तृत जांच पर आधारित हैं जो प्राचीन वनस्पतियों और जीवों सहित साइट के भौतिक सबूतों के सभी पहलुओं को कवर करते हैं।

यहां पर कई प्राचीन भूमिगत गड्डे पाएं जाते हैं। इन गड्ढों को छप्परों से ढंक कर उनमें रहते थे। यहां के घरों का निर्माण जमीनी स्‍तर से ऊपर ईंट और गारे से भी किया जाता था। यहां के लोग खेती भी कर रहे थे और प्रत्येक घर में कुता पाला हुआ था। बुर्जहोम में मालिक के मर जाने पर बकरी एवं अन्य जानवरों को साथ ही दफनाया जाता था। यहां से हड्डी के विशिष्ट औजार, आयताकार छिद्रित पत्थर के चाकू, बर्तन, पशु कंकाल और उपकरण भी प्राप्‍त हुए हैं। इसी तरह कश्मीर के गुफकराल में भी पशुपालन और कृषि करने के प्रमाण मिलते है। यह कश्मीर की घाटी में श्रीनगर से छः मील (लगभग 9.6 कि.मी.) उत्तर-पूर्व की ओर स्थित है।[3] यह शालीमार बाग़ के उत्तर-पश्चिम दिशा में पड़ता है। स्‍थानीय भाषा में बुर्ज़होम को ‘प्‍लेस ऑफ़ बिर्च’ कहा जाता है।

इतिहास

1936 में बुर्जहोम स्थल पर पहली खुदाई एक सीमित अभ्यास था। गुफक्राल, त्राल शहर के पास क्षेत्र में एक अन्य संबंधित साइट का प्रतिनिधित्व करता है।[4] गुफक्राल उप जिला मुख्यालय से 5 किलोमीटर दूर त्राल के हुरदुमिर क्षेत्र में बानमीर गांव में स्थित है। गाँव करवा (ऊंचा टेबल-भूमि) के एक व्यापक जमा पर दो नालों (धाराओं) के बीच में आता है, जहाँ लोग प्राचीन काल में रहा करते थे। इसके अलावा, हरिपरिगम, और अवंतीपुरा, एक ही क्षेत्र में, संबंधित हैं।

सन्दर्भ

  1.  “Kashmir Valley monuments cry for care”. मूल से 16 अप्रैल 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 अप्रैल 2017.
  2.  “ASI report says even Neolithic Kashmir had textile industry”. मूल से 6 जुलाई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 जुलाई 2017.
  3.  “ASI report says even Neolithic Kashmir had textile industry”. मूल से 6 जुलाई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 जुलाई 2017.
  4.  “Extending Kashmiriyat to Embrace Burzahom”. मूल से 26 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 जुलाई 2020.

बाहरी कड़ियाँ

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *