भीमबेटका शैलाश्रय

भीमबेटका शैलाश्रय
Rock Shelters of Bhimbetka
विश्व धरोहर सूची में अंकित नाम
भीमबैठका के शैलचित्र
देशFlag of India.svg भारत
प्रकारसांस्कृतिक
मानदंड(iii)(v)
सन्दर्भ925
युनेस्को क्षेत्रदक्षिण एशिया
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख2003 (27th सत्र)

भीमबेटका (भीमबैठका) भारत के मध्य प्रदेश प्रान्त के रायसेन जिले में स्थित एक पुरापाषाणिक आवासीय पुरास्थल है। यह आदि-मानव द्वारा बनाये गए शैलचित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। इन चित्रों को पुरापाषाण काल से मध्यपाषाण काल के समय का माना जाता है। ये चित्र भारतीय उपमहाद्वीप में मानव जीवन के प्राचीनतम चिह्न हैं। यह स्थल मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से ४५ किमी दक्षिणपूर्व में स्थित है। इनकी खोज वर्ष १९५७-१९५८ में डॉक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर द्वारा की गई थी।

भीमबेटका क्षेत्र को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षणभोपाल मंडल ने अगस्त १९९० में राष्ट्रीय महत्त्व का स्थल घोषित किया। इसके बाद जुलाई २००३ में यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर स्थल घोषित किया।

यहाँ पर अन्य पुरावशेष भी मिले हैं जिनमें प्राचीन किले की दीवार, लघुस्तूप, पाषाण निर्मित भवन, शुंग-गुप्त कालीन अभिलेख, शंख अभिलेख और परमार कालीन मंदिर के अवशेष सम्मिलित हैं।

ऐसा माना जाता है कि यह स्थान महाभारत के चरित्र भीम से संबन्धित है एवं इसी से इसका नाम भीमबैठका (कालांतर में भीमबेटका) पड़ा। ये गुफाएँ मध्य भारत के पठार के दक्षिणी किनारे पर स्थित विन्ध्याचल की पहाड़ियों के निचले छोर पर हैं।[1]; इसके दक्षिण में सतपुड़ा की पहाड़ियाँ आरम्भ हो जाती हैं।[2]

अनुक्रम

शैलकला एवं शैलचित्र

यहाँ 600 शैलाश्रय हैं जिनमें 275 शैलाश्रय चित्रों द्वारा सज्जित हैं। पूर्व पाषाण काल से मध्य ऐतिहासिक काल तक यह स्थान मानव गतिविधियों का केंद्र रहा।[1] यह बहुमूल्य धरोहर अब पुरातत्व विभाग के संरक्षण में है। भीमबेटका क्षेत्र में प्रवेश करते हुए शिलाओं पर लिखी कई जानकारियाँ मिलती हैं। यहाँ के शैल चित्रों के विषय मुख्यतया सामूहिक नृत्य, रेखांकित मानवाकृति, शिकार, पशु-पक्षी, युद्ध और प्राचीन मानव जीवन के दैनिक क्रियाकलापों से जुड़े हैं। चित्रों में प्रयोग किये गए खनिज रंगों में मुख्य रूप से गेरुआलाल और सफेद हैं और कहीं-कहीं पीला और हरा रंग भी प्रयोग हुआ है।[2]भीमबैठका शैलचित्र

शैलाश्रयों की अंदरूनी सतहों में उत्कीर्ण प्यालेनुमा निशान एक लाख वर्ष पुराने हैं। इन कृतियों में दैनिक जीवन की घटनाओं से लिए गए विषय चित्रित हैं। ये हज़ारों वर्ष पहले का जीवन दर्शाते हैं। यहाँ बनाए गए चित्र मुख्यतः नृत्य, संगीत, आखेट, घोड़ों और हाथियों की सवारी, आभूषणों को सजाने तथा शहद जमा करने के बारे में हैं। इनके अलावा बाघसिंहजंगली सुअरहाथियोंकुत्तों और घडियालों जैसे जानवरों को भी इन तस्वीरों में चित्रित किया गया है यहाँ की दीवारें धार्मिक संकेतों से सजी हुई है, जो पूर्व ऐतिहासिक कलाकारों के बीच लोकप्रिय थे।[2] इस प्रकार भीम बैठका के प्राचीन मानव के संज्ञानात्मक विकास का कालक्रम विश्व के अन्य प्राचीन समानांतर स्थलों से हजारों वर्ष पूर्व हुआ था। इस प्रकार से यह स्थल मानव विकास का आरंभिक स्थान भी माना जा सकता है।

निकटवर्ती पुरातात्विक स्थल

इस प्रकार के प्रागैतिहासिक शैलचित्र रायगढ़ जिले के सिंघनपुर के निकट कबरा पहाड़ की गुफाओं में[3]होशंगाबाद के निकट आदमगढ़ में, छतरपुर जिले के बिजावर के निकटस्थ पहाड़ियों पर तथा रायसेन जिले में बरेली तहसील के पाटनी गाँव में मृगेंद्रनाथ की गुफा के शैलचित्र एवं भोपाल-रायसेन मार्ग पर भोपाल के निकट पहाड़ियों पर (चिडिया टोल) में भी मिले हैं। हाल में ही होशंगाबाद के पास बुधनी की एक पत्थर खदान में भी शैल चित्र पाए गए हैं। भीमबेटका से ५ किलोमीटर की दूरी पर पेंगावन में ३५ शैलाश्रय पाए गए है ये शैल चित्र अति दुर्लभ माने गए हैं। इन सभी शैलचित्रों की प्राचीनता १०,००० से ३५,००० वर्ष की आंकी गयी है।[4]

चित्रदीर्घा

सन्दर्भ

  1. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ  “भीमबेटका की गुफाएँ”. इन्क्रेडिबल इण्डिया. पपृ॰ ०१. मूल (एचटीएम) से 13 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १८ जुलाई २००९.
  2. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ   “भीमबेटका की पहाड़ी गुफाएं” (पीएचपी). राष्ट्रीय पोर्टल विषयवस्तु प्रबंधन दल. भारत सरकार. पपृ॰ ०१. अभिगमन तिथि १८ जुलाई २००९.
  3.  “हुसैनाबाद में ढाई हजार साल पुरानी सभ्यता के अवशेष” (एचटीएमएल). याहू जागरण. पृ॰ ०१. अभिगमन तिथि १८ जुलाई २००९.[मृत कड़ियाँ]
  4.  सुब्रमणियन, पा.ना. “भोपाल के इर्दगिर्द आदि मानव के पद चिन्ह” (एचटीएम). मल्लार. वर्ल्ड प्रेस. पपृ॰ ०१. अभिगमन तिथि १८ जुलाई २००९.

इन्हें भी देखें

बाहरी कड़ियाँ

निर्देशांक22°55′40″N 77°35′00″E

[छुपाएँ]देवासंभारत के विश्व धरोहर स्थल
उत्तर भारतआगरा का किला  · चंडीगढ़ कैपिटल कॉम्प्लैक्स  · फ़तेहपुर सीकरी  · हुमायूँ का मकबरा  · खजुराहो स्मारक समूह  · केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान  · क़ुतुब मीनार  · लाल क़िला  · ताजमहल  · ग्रेट हिमालयन राष्ट्रीय उद्यान  · कालका शिमला रेलवे  · नण्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान एवं फूलों की घाटी  ·
पूर्व भारतकाज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान  · महाबोधि विहार  · मानस राष्ट्रीय उद्यान  · दार्जिलिंग हिमालयी रेल  · कोणार्क सूर्य मंदिर  · सुंदरवन राष्ट्रीय उद्यान  · नालन्दा महाविहार  · कंचनजंगा राष्ट्रीय उद्यान  ·
दक्षिण भारतमहान चोल मंदिर  · हम्पी  · महाबलिपुरम के तट मन्दिर  · पत्तदकल  · पश्चिमी घाट  · नीलगिरि पर्वतीय रेल  ·
पश्चिम भारतअजंता गुफाएँ  · छत्रपति शिवाजी टर्मिनस  · गोआ के गिरजाघर एवं कॉन्वेंट  · एलीफेंटा गुफाएं  · एलोरा गुफाएं  · साँची का स्तूप  · चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान  · भीमबेटका शैलाश्रय  · राजस्थान के पहाड़ी दुर्ग  · रानी की वाव  · पश्चिमी घाट  · अहमदाबाद का ऐतिहासिक शहर  · जन्तर मन्तर (जयपुर)  · मुंबई का विक्टोरियन और आर्ट डेको एनसेंबल  ·
[छुपाएँ]देवासंमध्य प्रदेश पर्यटन
ग्वालियरग्वालियर का किला • मानमंदिर महल • जयविलास महल • संग्रहालय • तानसेन स्मारक • रानी लक्ष्मीबाई स्मारक • विवस्वान सूर्य मन्दिर
त्रिकोणशिवपुरी • ओरछा:चतुरभुज मन्दिर, ओरछा • दतिया:बीरसिंह जी देव का महलपीताम्बरा पीठ
चन्देरीकोषाक महल • बादल महल गेट • जामा मस्जिद • शहजादी का रोजा • परमेश्वर ताल
खजुराहोकन्दारिया महादेव • चौंसठ योगिनी • विश्वनाथ मंदिर • लक्ष्मण मंदिर • पार्श्वनाथ मंदिर • वामन मंदिर • जावरी मंदिर • दुलादेव मन्दिर • चतुरभुज मन्दिर • निकटवर्ती: पन्ना नेशनल पार्क • चित्रकूट
मुरैनासबलगढ़ किला • सिहोनिया • एसाह •पहाड़गढ़ •राष्ट्रीय चंबल अभ्यारण्य •कुतवार •नोरार
इन्दौरलाल बाग महल , इन्दौर • खजराना मंदिर • पातालपानी झरना, इन्दौर • बिजासन माता मन्दिर • राजबाड़ा • अन्नपूर्णा देवी मन्दिर • कृष्णपुरा की छतरियाँ
माण्डूहिंडोला महल
जबलपुरकान्हा नेशनल पार्क • बांधवगढ नेशनल पार्क • धुआँधार जलप्रपात • तिगवा  • संगमरमर की चट्टानें, भेड़ाघाट  • बरगी बांध  • मदन महल  • रानी दुर्गावती संग्रहालय
उज्जैनमहाकालेश्वर मंदिर • बडे गणेशजी का मंदिर • चिन्तामन गणेश • पीर मत्स्येन्द्रनाथ • भर्तहरी की गुफाएं • कालियादेह महल • काल भैरव मंदिर • वेधशाला, उज्जैन • नवग्रह मन्दिर, उज्जैन • कालिदास अकादमी
भोपालताज उल मस्जिद • जामा मस्जिद • मोती मस्जिद • शौकत महल • सदर मंजिल • गौहर महल • भारत भवन • स्टेट म्यूजियम • गाँधी भवन • लक्ष्मी नारायण मन्दिर • अपर और लोअर लेक • मछली घर  • भोजेश्वर मन्दिर  • भीमबेटका शैलाश्रय
बुरहानपुरअसीरगढ़ • जामा मस्जिद, बुरहानपुर • शाही महल • अकबरी सराय • शाही हमाम • आहूखाना • गुल आरा महल • कुंडी भंडारा • बीबी की मस्जिद • शाहनवाज खां का मकबरा • मोती महल, बुरहानपुर • खरबूजा महल • दरगाह-ए-हकीमी • परकोटा • राम झरोखा • सीता गुफा • सीता नहानी • बालाजी मंदिर • गुरुद्वारा बड़ी संगत • शांतिनाथ श्वेतांबर जैन मंदिर • कबीर निर्णय मंदिर • इच्छादेवी मंदिर
विदिशालुह्याद्रि  • विदिशा का किला  • विजय मंदिर  • चरणतीर्थ  • बेसनगर  • भद्दिलपुर  • उदयगिरि की गुफाएँ  • लेटीरी  • उदयपुरा  • ग्यारसपुर • सांची  • भोजपुर  •
अन्यभीमबेटका • भोजपुर  • पचमढ़ी •
महेश्वर व मंडलेश्वरमण्डलेश्वर का राम मंदिर • दत्त मंदिर • गुप्तेश्वर मंदिर • राम घाट • छप्पन देव मंदिर

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *