Bharat is My Home

Summary in English

“Bharat is my Home” has been written by Dr Zakir Hussain. He was one of the greatest writers of his time. He wrote many novels, short stories, and essays. This is one of them.

According to Dr Zakir Hussain, India is a young state country. The ancient civilization, tradition, and customs are alive with us. There are two works, First is Individual work and Second is Social work. He loved his country very much.

He became the president of India in 1967. He delivered a speech in the constitution hall of Delhi in 1967. He delivered that whole Bharat is My Home and all the people of India are a member of the family. He delivered about Dr Radhakrishnan and Gandhiji deeds.

He wanted to make a prayerful and ideal country, where we live happily. Really it was a nice piece of prose by Dr Zakir Hussain.

Bharat is My Home Summary in Hindi(हिंदी में)

“भारत मेरा घर हैं”, डॉक्टर जाकिर हुसैन द्वारा दिया गया एक भाषण है।  वे अपने समय के महान लेखकों में से एक थे। उन्होंने बहुत सारी उपन्यासों, लघु कहानियाँ और लेखों को लिखा है। यह उनमें से एक हैं।

डॉक्टर जाकिर हुसैन के अनुसार, भारत एक विस्तार(विशाल)वाला देश है। प्राचीन संस्कृति, परंपरा और रीति-रिवाज आज भी हमारे साथ जीवित है। दो कार्य है— पहला व्यक्तिगत कार्य और दूसरा सामाजिक कार्य है। वे अपने देश से बहुत प्यार करते थे। 

वे भारत के तीसरे राष्ट्रपति सन् 1967 ईस्वी में बने। उन्होंने सन् 1967 ईस्वी में दिल्ली के विधानसभा में भाषण दिया | उन्होंने बताया कि पूरा भारत मेरा घर है और भारत के सारे लोग मेरे परिवार के सदस्य हैं। उन्होंने डाक्टर राधाकृष्ण तथा गांधीजी के कार्यों के बारे में भी बताया।

वह भारत को प्रार्थनाजनक और आदर्श देश बनाना चाहते थे, जहाँ हमलोग प्रसन्नता पूर्वक/आनंद पूर्वक रहे। सचमुच, डॉक्टर जाकिर हुसैन द्वारा प्रस्तुत यह गद्यखण्ड बहुत ही शानदार था।

Bharat is My Home Summary

In English

Bharat is My Home’’ is a remarkable speech delivered by Dr Zakir Hussain at the time of taking oath as a president. Here in this speech, he pledges himself to the service of the loyalty of India’s culture.

Dr Zakir Hussain is very grateful to the people of India for their faith in him to elect the head of the nation. He also remembers Dr Radhakrishnan on this occasion and praises him for bringing a lot of education and wealth of knowledge to the presidency.

In this speech, Dr Zakir Hussain Promises to maintain the past glory of the nation with all his power and capability. He further says that there should be no discrimination against anyone in the name of colourcastecreedreligion, and language.

He further says that the whole of ‘Bharat is My Home‘ and her people are my family members. In which they are like my brotherssisters and parents. He further says that our family (India) is large. So, I will have to labour hard for the member of our family.

He inspires the people to cultivate moral values with sincere work for its social economic and moral development. He always considersBharat is My Home and pledges to make it a strong and beautiful home. In which the people can lead a prosperous and happy life.

Dr Zakir Hussain regards education is a prime instrument of nation-building. He asks to work hard to make the future of his nation bright and beautiful.

He fully understands the liabilities as well as the responsibilities of the head of the family. At last, he assures the people to serve the nation with the core of his heart.

भारत मेरा घर हैं सारांश

हिंदी में

भारत मेरा घर है ”डॉ जाकिर हुसैन द्वारा राष्ट्रपति शपथ लेते समय दिया गया एक उल्लेखनीय भाषण है। इस भाषण में वे भारत की संस्कृति की वफादारी की सेवा करने का संकल्प लेते हैं।

लोगों द्वारा उनपर विश्वास कर, उन्हें राष्ट्र के प्रमुख के रूप में चुनने के लिए डॉ जाकिर हुसैन भारत के लोगों के प्रति बहुत आभारी हैं। वह इस अवसर पर डॉ राधाकृष्णन को भी याद करते हैं और शिक्षाऔरज्ञान का खजाना लाने के लिए उनकी प्रशंसा करते हैं।

इस भाषण में, डॉ जाकिर हुसैन अपनी पूरी शक्ति और क्षमता के साथ राष्ट्र के पिछले (पुराने) गौरव को बनाए रखने का वादा करते हैं। वह आगे कहते हैं कि रंगजातिपंथधर्म और भाषा के नाम पर किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए।

वह आगे कहते है कि ‘पूरा भारत मेरा घर है‘ और इसके लोग मेरे परिवार के सदस्य हैं। जिसमें वे मेरे भाईबहन और माता-पिता की तरह हैं। वह आगे कहते हैं कि हमारा परिवार (भारत) बहुत बड़ा है। इसलिए, मुझे अपने परिवार के सदस्य के लिए कठिन परिश्रम करना होगा।

वें लोगों को अपने सामाजिकआर्थिक और नैतिक विकास के लिए ईमानदारी से काम करने के साथ नैतिक मूल्यों की खेती करने (बढ़ावा देने) के लिए प्रेरित करते हैं। वें हमेशा भारत को अपना घर मानते है इसे मजबूत और सुंदर घर बनाने का संकल्प लेते हैं। जिसमें लोग समृद्ध और खुशहाल जीवन जी सकते हैं।

डॉ ज़ाकिर हुसैन का मानना है कि शिक्षा राष्ट्र निर्माण का एक प्रमुख साधन है। वह अपने राष्ट्र के भविष्य को उज्ज्वल और सुंदर बनाने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए कहते है।

वें परिवार के मुखिया होने की जिम्मेदारियों के साथ-साथ अपने दायित्वों को भी पूरी तरह से समझते है। अंत में, वह लोगों को पुरे दिल से राष्ट्र की सेवा करने का आश्वासन दिलाते है।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *