फरक्का परियोजना

फ़रक्का बांध (बैराज)
Pawan Kumar Bansal inspecting the damaged gate number 16 at the Farakka Barrage
फरक्का परियोजनापश्चिम बंगाल में फ़रक्का बांध (बैराज) की स्थिति
स्थानमुर्शिदाबाद, पश्चिम बंगालIndia
निर्देशांक24°48′16″N 87°55′59″Eनिर्देशांक24°48′16″N 87°55′59″E
निर्माण आरम्भ1961
आरम्भ तिथि1972
निर्माण लागतIndian Rupee symbol.svg156.49 crore
बाँध एवं उत्प्लव मार्ग
घेरावGanges River
लम्बाई2,240 मीटर (7,350 फीट)

यह भारत की एक प्रमुख नदी घाटी परियोजना हैं।चित्र:Farakka map.jpgगंगा के चरम उत्कर्ष रूप; फरक्का बैराज, जहां से एक धारा कोलकाता को हुगली बन कर जाती है।

फ़रक्का बांध (बैराज) भारत के पश्चिम बंगाल प्रान्त में स्थित गंगा नदी पर बना एक बांध है। यह बांध बांगलादेश की सीमा से मात्र १० किलो मीटर की दूरी पर स्थित है।[1] इस बांध को १९७४-७५ में हिन्दुस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी ने बनाया था। इस बांध का निर्माण कोलकाता बंदरगाह को गाद (silt) से मुक्त कराने के लिये किया गया था जो की १९५० से १९६० तक इस बंदरगाह की प्रमुख समस्या थी। कोलकाता हुगली नदी पर स्थित एक प्रमुख बंदरगाह है। ग्रीष्म ऋतु में हुगली नदी के बहाव को निरंतर बनाये रखने के लिये गंगा नदी की के पानी के एक बड़े हिस्से को फ़रक्का बांध के द्वारा हुगली नदी में मोड़ दिया जाता है। इस पानी के वितरण के कारण बांगलादेश एवम भारत में लंबा विवाद चला। गंगा नदी के प्रवाह की कमी के कारण बांगलादेश जाने वाले पानी की लवणता बड़ जाती थी और मछ्ली पालन, पेयजल, स्वास्थ और नौकायान प्रभावित हो जाता था।[2] मिट्टी में नमी की कमी के चलते बांगलादेश के एक बड़े क्षेत्र की भूमी बंजर हो गयी थी।[3] इस विवाद को सुलझाने के लिये दोनो सरकारो ने आपस में समझौता करते हुए फ़रक्का जल संधि की रूप रेखा रखी।[4] गंगा नदी एक बारहमाशी नदी है जिसके जलस्तर मेंं जनवरी से जुलाई तक कमी देखी जाती है और अगस्त से सिप्तबर जल की मात्रा में वृदि दिखी जाती है इसकी वृदि 55,000 क्यूसेब व कमी 1300,कमी देखी गयी गंगा नदी का उदगम उत्तराखंड के गंगोत्री हिमनद से होता है जिसकी कुल लंबाई 2525 किलोमीटर है

वर्ष 1996 में भारत व बांग्लादेश के बीच गंगाजल समझौता हुआ जिसमें यह प्रावधान किया गया कि यदि फरक्का से पानी की आपूर्ति 70,000 क्यूसेक या उससे कम हो तब दोनों देश को उपलब्ध पानी का पचास-पचास प्रतिशत मिलेगा। यदि जल का प्रवाह 70,000 से 75,000 क्यूसेक होगा तो बांग्लादेश को 35,000 क्यूसेक और शेष पानी भारत के पास रहेगा। यदि फरक्का से पानी का प्रवाह 75,000 क्यूसेक से अधिक होगा तो भारत 40,000 क्यूसेक अपने लिए रखकर शेष बांग्लादेश को दे देगा।

[छुपाएँ]देवासंहुगली नदी
सहायक नदियाँअजय नदी  • दामोदर  • रूपनारायण  • हल्दी नदी  • आदि गंगा
महत्वपूर्ण नगरफ़रक्का  • पाकुर  • रामकान्तपुर  • मुर्शिदाबाद  • बेहरामपुर  • प्लासी  • कटवा  • मायापुर  • नवद्वीप  • कल्याणी  • बण्डेल  • चन्दननगर  • बैरकपुर  • कोलकाता  • हावड़ा  • डायमण्ड हार्बर  • हल्दिया
संबंधित भौगोलिक/कृत्रिम संरचनाएँफरक्का बैराज/फ़रक्का बांध  • पद्मा नदी  • गङ्गा नदी  • सुन्दरवन  • गंगा-सागर-संगम  • बंगाल की खाड़ी  • खिदिरपुर बंदरगाह  • हल्दिया बंदरगाह
हुगली नदी के सेतुफ़रक्का बांध  • अनूपपुर पुल  • धूलियान-पाकुर रोड ब्रिज  • आहिरण पुल  • जंगीपुर भागीरथी ब्रिज  • नसीपुर रेलवे ब्रिज  • रामेन्द्र सुन्दर त्रिवेणी सेतु  • श्री गौरांग सेतु  • ईश्वर गुप्ता सेतु  • जुबली ब्रिज  • सम्प्रीति सेतु  • विवेकानन्द सेतु  • निवेदिता सेतु  • रविन्द्र सेतु(हावड़ा ब्रिज)  • विद्यासागर सेतु
उद्योग और वाणिज्यहुगली नदी में मत्स्यिकी  • कोलकाता-हावड़ा-हुगली नदी औद्योगिक पट्टी  • हुगली पटसन उद्योग  • कोलकाता बंदरगाह न्यास
इतिहासहुगली नदी का इतिहास  • आदिगंगा  • सरस्वती  • जमुना  • त्रिबेनी  • सप्ताग्राम  • ताम्रलिप्त
अन्य विषयहुगली नदी का इतिहास  • विलियम टॉली  • जीव-जन्तु और वनस्पति
[छुपाएँ]देवासंभारत की नदी घाटी परियोजनाएं
मयूराक्षी परियोजना  • इडुक्की परियोजना  • उकाई परियोजना  • ऊपरी क्रष्णा परियोजना  • कांगसावती परियोजना  • काकरापारा परियोजना  • कुण्डा परियोजना  • कोयना परियोजना  • कोलडैम परियोजना  • कोसी परियोजना  • गण्डक परियोजना  • घाटप्रभा परियोजना  • चम्बल परियोजना  • जाखम परियोजना  • जायकवाड़ी परियोजना  • टिहरी पन बिजली परियोजना  • टिहरी बाँध परियोजना  • तवा परियोजना  • तुंगभद्रा परियोजना  • थानम परियोजना  • थीन डैम परियोजना  • दामोदर घाटी परियोजना  • दुर्गापुर परियोजना  • नर्मदा घाटी परियोजना  • नागपुर शक्ति गृह परियोजना  • नागार्जुन सागर परियोजना  • नाथपा-झाकरी परियोजना  • पराम्बिकुलम-अलियार परियोजना  • पूचमपाद परियोजना  • फरक्का परियोजना  • भाखड़ा नांगल परियोजना  • भीमा परियोजना  • महानदी डेल्टा परियोजना  • माताटीला बहूद्देशीय परियोजना  • मालप्रभा परियोजना  • माही परियोजना  • रामगंगा बहूद्देशीय परियोजना  • रिहन्द परियोजना  • व्यास परियोजना  • सलाल परियोजना  • हिडकल परियोजना  • हीराकुण्ड परियोजना
[छुपाएँ]देवासंगंगा नदी
सहायक नदियाँअलकनंदा  • कोसी  • गंडक  • मन्दाकिनी  • नंदाकिनी  • भागीरथी  • विष्णु गंगा  • धौलीगंगा  • यमुना • रामगंगा  • घाघरा  • सोन  • ब्रह्मपुत्र  • हुगली  • पद्मा  • मेघना  • सरस्वती नदी
आरंभिक पड़ावगोमुख  • गंगोत्री  • विष्णु प्रयाग  • कर्णप्रयाग  • देवप्रयाग  • रुद्रप्रयाग  • नंदप्रयाग • ऋषिकेश  • हरिद्वार
मैदानी क्षेत्रगंगा के मैदान  • गढ़मुक्तेश्वर  • फैजाबाद  • बिठूर  • कन्नौज  • फ़र्रूख़ाबाद  • कानपुर  • इलाहाबाद  •  • राजेसुल्तानपुर वाराणसी  • मीरजापुर  • पटना  • भागलपुर  • पाकुर
अंत्य क्षेत्रफरक्का बैराज  • पाकुर  • कोलकाता  • हावड़ा  • सुन्दरवन  • गंगा-सागर-संगम  • बांग्लादेश  • बंगाल की खाड़ी
धार्मिक महत्वपौराणिक प्रसंग  • गंगा दशहरा  • कुम्भ मेला  • मकर संक्रांति  • गंगा स्नान  • सगर  • भगीरथ
पंच प्रयागविष्णु प्रयाग  • कर्णप्रयाग  • देवप्रयाग  • रुद्रप्रयाग  • नंदप्रयाग
यह भी देखेंनंदा देवी  • कामत पर्वत  • त्रिशूल पर्वत  • जीव-जन्तु और वनस्पति • आर्थिक महत्त्व  • फरक्का बांध • टिहरी बाँध • बैक्टीरियोफेज
Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *