संथाल परगना

संथाल परगना भारत के झारखंड राज्य की प्रशासनिक इकाइयों में से एक है। यह झारखंड की एक कमीशनरी है जिसका मुख्यालय दुमका में है। इस इकाई में झारखंड के छह जिले – गोड्डादेवघरदुमकाजामताड़ासाहिबगंजजिला और पाकुड़ शामिल हैं। ब्रिटिश राजमें पहले संथाल परगना नाम से ही संयुक्त बिहार में एक जिला हुआ करता था जिसे 1855 में ब्रिटिशों ने जिला घोषित किया था और यह बंगाल प्रेसिडेंसी का हिस्सा हुआ करता था। संथाल परगना दो शब्दों संथाल (जिसे कुछ लोग संताल एवं सांथाल भी कहते हैं) – जो एक आदिवासी समुदाय है और परगना (उर्दू) – जिसका अर्थ प्रांता या राज्य होता है – से बना है। संथाल परगना के सभी छह जिलों में सांथाल आदिवासियों की बहुतायत है जो आस्ट्रो एशियाटिक भाषा परिवार की सांथाली] और भारतीय आर्य भाषा परिवार की अंगिका भाषा का प्रयोग करते हैं। ब्रिटिश राज के दौरान आदिवासियों द्वारा यहाँ कई विद्रोह हुए थे जिसमें तिलका मांझीबिरसा मुंडाकान्हू मुर्मू और सिद्धू मुर्मू इत्यादि जैसे आदिवासियों ने काफी प्रमुख भूमिका निभाई थी।

सन्दर्भ


[छुपाएँ]देवासंभारत के पारंपरिक क्षेत्र
उत्तर भारतलद्दाख  • कश्मीर  • ज़ांस्कर  • अक्साई चिन • लाहौल-स्पीति  • किन्नौर  • माझा  • मालवा (पंजाब)  • दोआबा  • पंजाब (ऐतिहासिक-सम्पूर्ण पंजाब)  • मुलतान  • झंग  • गढ़वाल  • कुमाऊँ  • तराई  • मेवात  • ब्रज  • शेखावाटी  • राजपूताना  • रोहिलखंड  • गंगा-जमुनी दोआब  • अजमेर  • दिल्ली  • धूंधार  • गिर्द  • गोदवार  • हड़ौती  • जांग्लादेश  • मेवाड़  • निमाड़  • रोहिलखंड  • सीतामढ़ी  • वागड
पूर्वी भारतअवध  • संथाल परगना  • कामरूप  • झारखंड  • बंगाल  • पूर्वांचल  • उत्कल  • मिथिला  • कोशल • मगध  • महाकोशल  • नेफा
मध्य भारतबुन्देलखण्ड  • बघेलखण्ड  • मालवा  • विंध्य क्षेत्र  • विदर्भ  • रायलसीमा
पश्चिमी भारतगांधार  • सिंध  • जैसलमेर  • मारवाड़  • काठियावाड़  • कच्छ  • कोंकण  • मराठवाड़ा  • सौराष्ट्र
दक्षिण भारततेलंगाना  • रायलसीमा  • सीमान्ध्र  • कोरोमंडल  • मालाबार

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *