मिशन शक्ति

27 मार्च 2019 को, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के पहले उपग्रह रोधी हथियार के सफल प्रक्षेपण की घोषणा की।[1] इंटरसेप्टर ने पृथ्वी की निचली कक्षा (LEO) में 300 किलोमीटर (186 मील) की ऊँचाई पर एक परीक्षण उपग्रह को मार गिराया। इस प्रकार उपग्रह रोधी हथियार मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण हुआ। इंटरसेप्टर को ओडिशा के चांदीपुर में इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज (आईटीआर) में लगभग 05:40 यूटीसी पर प्रक्षेपित किया गया[2] और 168 सेकंड के बाद इसने अपने लक्ष्य माइक्रोसैट-आर को हिट किया।[3][4] इस ऑपरेशन को मिशन शक्ति नाम दिया गया था। मिसाइल प्रणाली को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (भारतीय रक्षा सेवाओं के अनुसंधान विंग) द्वारा विकसित किया गया था।[5] इस परीक्षण के साथ, भारत उपग्रह रोधी मिसाइल क्षमताओं वाला चौथा राष्ट्र बन गया। भारत ने कहा कि यह क्षमता एक निवारक है और किसी भी राष्ट्र के खिलाफ निर्देशित नहीं है।[6][7]

परीक्षण के बाद जारी एक बयान में, भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि परीक्षण को पृथ्वी की निचली कक्षा में किया गया हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि परीक्षण से उत्पन्न मलबा कुछ ही हफ़्ते में पृथ्वी पर वापिस आ जाए।[8][9]

परीक्षण के बाद, संयुक्त राज्य ने दोहराया कि भारत के साथ अंतरिक्ष सुरक्षा सहित अंतरिक्ष में साझा हितों को आगे बढ़ाने का इरादा रखता हैं।[10]

इन्हें भी देखें

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *