सय्यद अली अख्तर रिजवी

सय्यद अली अख्तर रिजवी
जन्म१९ सितम्बर१९४८
गोपालपुर, जिला सिवान, बिहारभारत
मृत्यु१० फ़रवरी२००२
गोपालपुर, जिला सिवान, बिहारभारत


सय्यद अली अख्तर रिजवी (जन्म-१९ सितम्बर१९४८: मृत्यु-१० फ़रवरी२००२) बीसवी सदी के एक पर्मुख विद्वान, वक्ता, लेखक, इतिहासकार और कवि थे।

जीवनी

प्रारम्भिक जीवन

सय्यद अली अख्तर रिजवी का १९ सप्टेम्बर १९४८ में गोपालपुर जिला सिवान बिहार में पैदा हुए आपके पिता का नाम सय्यद मज़हर हुसैन रिज़वी था। आप जब ३ वर्ष के थे तो आपके पिता का देहांत हो गया। पिता की मृत्यु के बाद उनकी माँ ने बड़ी कठिन परिस्थितियों में भी न केवल परिवार को चलाया अपितु बच्चों को श्रेष्ठ संस्कार भी दिये।[1]

शीर्षक

ईरान के परसिद्ध आयतुल्लाह हज़रत नासीर मकारिम शिराज़ी द्वारा इनको “अदीबे असर” नमी खिताब से सम्मानित किया गया। अली अख्तर रिजवी की काव्यात्मक शीर्षक “शऊर गोपालपुरी ” था।

अंतिम संस्कार

सैयद अली अख्तर रिजवी का १० फ़रवरी२००२ को निधन हो गया। उनके अंतिम संस्कार में कई विद्वानों और प्रचारकों ने भाग लिया और गोपालपुर, जिला सिवान, बिहारभारत में लोगों की भारी भीड़ के द्वारा किया गया।

इन्हें भी देखें

सन्दर्भ

 “संग्रहीत प्रति”मूल से 1 फ़रवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 फ़रवरी 2014.

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *