उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारा

International North South Transport Corridor (INSTC)
अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा (आईएनएसटीसी)

भारतईरानअज़रबैजान और रूस के माध्यम से जाने वाला उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा मार्ग
मार्ग की जानकारी
लंबाई:4,500 mi (7,200 km)
प्रमुख जंक्शन
उत्तर अन्त:आस्त्राख़ानमॉस्कोबाकू
 बंदर-ए-अब्बासतेहरानबंदर-ए-अंज़ली
दक्षिण अन्त:मुंबई


अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा (International North South Transport Corridor) भारत, ईरान, अफगानिस्तान, आर्मेनिया, अज़रबैजान, रूस, मध्य एशिया और यूरोप के बीच माल ढुलाई के लिए जहाज, रेल और सड़क मार्ग का 7,200 किलोमीटर लंबी बहु-मोड नेटवर्क है। मार्ग मुख्य रूप से जहाज, रेल और सड़क के माध्यम से भारत, ईरान, अज़रबैजान और रूस से माल ढुलाई बढ़ाना शामिल है।[1] गलियारा का उद्देश्य प्रमुख शहरों जैसे कि मुंबई, मॉस्को, तेहरान, बाकू, बंदर-ए-अब्बास, आस्त्राख़ान, बंदर-ए-अंज़ली आदि के बीच व्यापार संपर्क को बढ़ाने का है।[2] 2014 में दो मार्गों का संचालन किया गया था, पहला मुंबई से बाकू तक बंदर-ए-अब्बास से होते हुए था और दूसरा मुंबई से आस्ट्रांखन तक बंदर-ए-अब्बासतेहरान और बंदर-ए-अंज़ली से होते हुए था। इस अध्ययन का उद्देश्य मुख्य बाधाओं की पहचान करना और पता करना था।[3][4] इस अध्ययन के परिणाम दिखाते हैं कि “1500 टन कार्गो के लिए $2500” परिवहन लागत में कमी आई है। अन्य मार्गों में कजाकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान के बीच शामिल मार्ग विचाराधीन हैं।

यह मध्य एशिया और फारस की खाड़ी के बीच माल के परिवहन को सुविधाजनक बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय परिवहन और पारगमन गलियार बनाने के लिए भारत, पाकिस्तान, ओमान, ईरान, तुर्कमेनिस्तान, उजबेकिस्तान और कजाखस्तान द्वारा बहुआयामी परिवहन अश्गाबात समझौते पर किए हस्ताक्षर के साथ भी सिंक्रनाइज़ करेगा।[5]

उद्देश्य

मुंबई दक्षिणी हब हैबंदर-ए-अब्बास कॉरिडोर में एक प्रमुख बंदरगाह हैमॉस्को उत्तरी हब है

अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा परियोजना का प्राथमिक उद्देश्य वर्तमान में इस्तेमाल होने वाले पारंपरिक मार्गों पर समय और धन के संदर्भ में लागत को कम करना है।[1][6][7][8] विश्लेषकों का अनुमान है कि रूस, मध्य एशिया, ईरान और भारत के बीच परिवहन संपर्क में सुधार होने से उनके संबंधित द्विपक्षीय व्यापार की मात्रा में वृद्धि होगी।[1][6][7][8] ‘फेडरेशन ऑफ फ्रेट फॉरवर्डर्स’ एसोसिएशन इन इंडिया (एफएफएफएआई) www.fffai.org द्वारा आयोजित एक अध्ययन में पाया गया कि अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा “वर्तमान पारंपरिक मार्ग से 30% सस्ता और 40% कम है”।[8][9] विश्लेषकों का अनुमान है कि कॉरीडोर से मुंबई, मॉस्को, तेहरान, बाकू, बंदर-ए-अब्बास, आस्त्राख़ान, बंदर-ए-अंज़ली जैसे प्रमुख शहरों के बीच व्यापार संपर्क बढ़ने की संभावना है।[2]

इतिहास

रूस, ईरान और भारत ने 16 मई 2002 को अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा परियोजना के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए।[6][10] सभी तीन देश परियोजना पर स्थापना सदस्य देश हैं। अन्य महत्वपूर्ण सदस्य देशों में आज़रबैजान, आर्मेनिया, कजाखस्तान और बेलारूस शामिल हैं।[6] अज़रबैजान अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारा में टूटे लिंक को पूरा करने के लिए वर्तमान में नई ट्रेन लाइनों और सड़कों का निर्माण करने में काफी शामिल है।[11] तुर्कमेनिस्तान वर्तमान में एक औपचारिक सदस्य नहीं है, लेकिन कॉरिडोर में सड़क कनेक्टिविटी में शामिल होने की संभावना है।[12] प्रधान मंत्री मोदी ने तुर्कमेनिस्तान की एक राजकीय यात्रा के दौरान औपचारिक रूप से इस परियोजना में तुर्कमेनिस्तान को सदस्य देश बनने के लिए आमंत्रित किया, “मैंने यह भी प्रस्तावित किया था कि तुर्कमेनिस्तान अंतर्राष्ट्रीय उत्तर दक्षिण परिवहन कॉरिडोर का सदस्य देश बने।”[12]

सदस्य देश

निम्नलिखित उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारा परियोजना में सदस्य देश हैं: Flag of India.svg भारतFlag of Iran.svg ईरानFlag of Russia.svg रूसFlag of Turkey.svg तुर्कीFlag of Azerbaijan.svg अज़रबैजानFlag of Kazakhstan.svg कज़ाख़िस्तानFlag of Armenia.svg आर्मीनियाFlag of Belarus.svg बेलारूसFlag of Tajikistan.svg ताजिकिस्तानFlag of Kyrgyzstan.svg किर्गिज़स्तानFlag of Oman.svg ओमानFlag of Ukraine.svg युक्रेनसीरिया. पर्यवेक्षक सदस्य – Flag of Bulgaria.svg बुल्गारिया[13]

वर्तमान स्थिति

2017 में ईरान के रास्ते रूस और यूरोप को भारत से जोड़ने वाले गलियारा का परीक्षण और सत्यापन ग्रीन गलियारा के द्वारा किया जाएगा।

इन्हें भी देखें

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *