भारत और यूरोप के सांस्कृतिक सम्पर्क

वैज्ञानिक समाज अब भारतीय तथा यूरोपीय संस्कृतियों के बहुत से समान या समरूप अवयवों को स्वीकार करने लगा है। इसकी शुरुआत वैयाकरणों ने की जब उन्हें भारतीय एवं यूरोपीय भाषाओं में बहुत कुछ साम्य के दर्शन हुए। इसके उपरान्त भारतविद्या के अध्येताओं (इण्डोलोजिस्ट) ने पाया कि यह साम्य दर्शनमिथक और विज्ञान सहित अनेकानेक क्षेत्रों में है। इसके पूर्व यह माना जाता था कि भारत और यूरोप के बीच सम्पर्क बहुत नया (भारत के उपनिवेशीकरण से शुरू होकर) है। किन्तु पुरातत्व और मानविकी में नये अनुसंधानों ने यह साबित कर दिया है कि भारत और यूरोप के सम्पर्क अनादिकाल से आरम्भ होकर मध्ययुग होते हुए आधुनिक युग में भी रहा है।

वैज्ञानिकों के विचार

प्राचीन काल

पाइथागोरस और सांख्य

कला

ईसा मसीह और हिन्दू धर्म

त्रिमूर्ति से ट्रिनिटी

अटलांटिस

भोजन

महाभारत, इलियड और ओडिसी

मध्ययुग से पुनर्जागरण-युग तक

रामकथा (‘प्रिंस चार्मिंग)

ऋष्यमृग और यूनिकॉर्न

मध्यकालीन यूरोपीय साहित्य पर पंचतंत्र का प्रभाव

आधुनिक युग

विक्टर ह्यूगो

स्टीफेन मलार्मी (Stephane Mallarme)[

बाहरी कड़ियाँ

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *