भारत में अधर्म

अनीश्वरवाद और अज्ञेयवाद का भारत में लम्बा इतिहास है। बौधजैन तथा हिन्दू धर्म के कुछ वर्ग अनीश्वरवाद को अपनी स्वीकृति प्रदान कर चुके हैं। [1] भारत ने कई उल्लेखनीय नास्तिक राजनेता और समाज-सेवक पैदा किए हैं। [2]

2012 के डब्ल्यू-आई-एन गैलल धर्म और अनीश्वरवाद रिपोर्ट के अनुसार, 81% धार्मिक हैं, 13% धार्मिक नहीं हैं। 3% आश्वस्त रूप से नास्तिक हैं जबकि 3% ने उत्तर नहीं दिया।[3]

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *