भारत की सम्मान प्रणाली

भारत की सम्मान प्रणालीभारतीय गणराज्य द्वारा दिए जाने वाले सम्मानों हेतु प्रयोग की जाने वाली प्रणाली है। निन्मलिखित अनेक प्रकार के पुरस्कार/ सम्मान हैं जो अलग-अलग भिन्न कारणों व परिस्थितियों के अनुसार दिए जाते हैं। भारत रत्नपरम वीर चक्र, पद्म सम्‍मान, शौर्य चक्रअशोक चक्र इनमें से प्रमुख हैं।

अनुक्रम

नागरिक पुरस्कार

भारत रत्‍न

भारत रत्न देश का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार हैं। इसे 1954 में स्थापित किया गया था।[1] जाति, व्यवसाय, पद, लिंग या धर्म के भेद के बिना कोई भी व्यक्ति इस पुरस्कार के लिए पात्र है। यह मानव सेवा के किसी भी क्षेत्र में असाधारण सेवा या उच्चतम क्रम के प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया जाता है। पुरस्कार प्रदान करने पर, प्राप्तकर्ता को राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित एक सनद (प्रमाणपत्र) और एक पदक मिलता है।

पद्म पुरस्कार

पद्म पुरस्कार वर्ष 1954 में स्थापित किए गए थे। 1977 से 1980 और 1993 से 1997 के दौरान संक्षिप्त व्यवधानों को छोड़कर, हर साल गणतंत्र दिवस पर इन पुरस्कारों की घोषणा की गई है। पुरस्कार तीन श्रेणियों में दिया जाता है, अर्थात: महत्व के घटते क्रम में पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री।

  • पद्म विभूषण “असाधारण और विशिष्ट सेवा” के लिए प्रदान किया जाता है। पद्म विभूषण भारत में दूसरा सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार है।
  • पद्म भूषण “एक उच्च क्रम की विशिष्ट सेवा” के लिए प्रदान किया जाता है। पद्म भूषण भारत में तीसरा सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार है।
  • पद्म श्री “प्रतिष्ठित सेवा” के लिए प्रदान किया जाता है। पद्म श्री भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार है।

सैन्य पुरस्कार

मुख्य लेख: भारतीय सेना के युद्ध सम्मान

11 जुलाई 2019 से, भारतीय सेना शहीद सैन्यकर्मियों के करीबी रिश्तेदारों को युद्ध स्मारक और अंतिम संस्कार में श्रद्धांजलि समारोह में भाग लेने के दौरान छाती के दाईं ओर अपने पदक पहनने की अनुमति देती है।[2]

युद्धकालीन वीरता पुरस्कार

  • परमवीर चक्र भारत का सर्वोच्च-सैन्य पुरस्कार हैं। यह पुरस्कार दुश्मन की उपस्थिति में वीरता का प्रदर्शन करने के लिए दिया जाता है।
  • महावीर चक्र भारत का दूसरा सबसे बड़ा सैन्य पुरस्कार है और इसे दुश्मन की उपस्थिति में, चाहे वह जमीन पर हो, समुद्र में या हवा में, वीरता के कार्यों के लिए सम्मानित किया जाता है।
  • वीर चक्र युद्धकालीन वीरता के पुरस्कारों में पूर्वता में तीसरा सर्वोच्च-सैन्य पुरस्कार हैं।

शांति के दौरान के पुरस्कार

युद्ध/शांति के दौरान सेवा और पराक्रम के पुरस्कार

  1. सेना मैडल
  2. नौ सेना पदक
  3. वायु सेना पदक

युद्ध के दौरान विशिष्ठ सेवा

  1. सर्वोत्तम युद्ध सेवा पदक
  2. उत्तम युद्ध सेवा पदक
  3. युद्ध सेवा पदक

शांति के दौरान विशिष्ठ सेवा

  1. परम विशिष्ट सेवा पदक
  2. अति विशिष्ट सेवा पदक
  3. विशिष्ट सेवा पदक

चिकित्सा पुरस्कार

नेतृत्व पुरस्कार

साहित्य पुरस्कार

खेल और साहसिक पुरस्कार

सिनेमा और कला

विशेष पुरस्कार

पुलिस पुरस्कार

  • पराक्रम हेतु राष्ट्रपति पुलिस मैडल
  • राष्ट्रपति तटरक्षक पदक

वीरता पुरस्कार

अन्य राष्ट्रीय पुरस्कार

महिला पुरस्कार

बाल पुरस्कार

सन्दर्भ

  1.  Ministry of Home Affairs, Govt of India, Samarth Ratna Archived नवम्बर 26, 2011 at the वेबैक मशीन.
  2.  Indian Army allows next of kin to wear medals of late ex-servicemen during homage ceremonies, India Today, 23 July 2019.
  3.  https://nationalunityawards.mha.gov.in/

बाहरी कड़ियाँ

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *