हिन्दी सेवी सम्मान योजना

हिंदी सेवी सम्‍मान योजना का आरम्भ 1989 में आगरा स्थित केंद्रीय हिंदी संस्‍थान द्वारा की गई थी। प्रतिवर्ष हिंदी भाषा और साहित्‍य के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सात विभिन्‍न श्रेणियों में 14 विद्वानों को ये सम्‍मान दिया जाता है। सम्‍मानस्‍वरूप एक लाख रुपया और प्रमाणपत्र भेंट किया जाता है।

पुरस्कारक्षेत्रसंख्या
गंगाशरण सिंह पुरस्कारहिंदी प्रचार-प्रसार एवं हिंदी प्रशिक्षण4
गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कारहिंदी पत्रकारिता तथा रचनात्मक साहित्य2
आत्माराम पुरस्कारवैज्ञानिक एवं तकनीकी साहित्य तथा उपकरण विकास के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए2
सुब्रह्मण्यम भारती पुरस्कारहिंदी के विकास से संबधित सर्जनात्मक / आलोचनात्मक क्षेत्रों में उल्लेखनीय सेवाओं के लिए2
महापंडित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कारहिंदी में खोज और अनुसंधान करने तथा यात्रा आदि के लिए2
डॉ॰ जॉर्ज ग्रियर्सन पुरस्कारविदेशों में हिंदी के प्रचार-प्रसार में उल्लेखनीय कार्य के लिए1
पद्मभूषण डॉ॰ मोटूरि सत्यनारायण पुरस्कारभारतीय मूल के विद्वानों को विदेशों में हिंदी प्रचार-प्रसार में उल्लेखनीय कार्य के लिए1

पुरस्कृत विद्वानों को संस्थान की ओर से भारत के राष्ट्रपति द्वारा एक लाख रुपए, शॉल तथा प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया जाता है। सन् 1989 से 2011 तक इस योजना के अंतर्गत कुल 332 विद्वानों को सम्मानित किया जा चुका है।[1]

सन्दर्भ

  1.  “हिंदी सेवी सम्मान योजना”मूल से 4 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 अप्रैल 2016.

बाहरी कड़ियाँ

श्रेणी

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *