फॉरेंसिक कीटविज्ञान

फॉरेंसिक कीटविज्ञान (अंग्रेज़ी भाषा: Forensic entomology) विज्ञान का क्षेत्र है जिसमें हम कीट और अन्य संधिपाद प्राणियों के जीवन के बारे में आपराधिक मामलों की जाँच की जाती है। इस शेत्र में कीट, संधिपाद प्राणी, अर्चिंडगोजरसहस्त्रपादक्रस्टेशिया के भी जीवन के विज्ञान को शामिल किया गया है। आपराधिक मामलों को सुलझाने के लिए यह क्षेत्र मुख्य रूप से मौत की जाँच से जुड़े मामले सुलझाने के लिए है परंतु इसके द्वारा हम कई और मामलों की जाँच भी कर सकते हैं जैसे- ज़ेहर और दवाइयों की जाँच, किसी घटना के होने की जगह और किसी भी घाव के होने के समय का भी जाँच भी की जा सकती है। फॉरेंसिक कीटविज्ञान ३ उप-क्षेत्रों में बाँटा गया है: शहरी, संग्रीहित उत्पाद और मेडिकोलेगल (चिकित्या एवं न्याय प्रणाली)[1]

फॉरेंसिक कीटविज्ञान के उप-क्षेत्र

  1. शहरी फॉरेंसिक कीटविज्ञान: शहरी फॉरेंसिक कीटविज्ञान आम तोर पर घरों में, बगीचों में, किसी भी अर्थ या निजी जगहों में कीट के प्रकोप को रोकता है।
  2. संग्रीहित उत्पाद: संग्रीहित उत्पाद फॉरेंसिक कीटविज्ञान व्यावसायिक रूप से मिलने वाले भोजन पर कीट के प्रकोप के मुकदम्मे के लिए किया जाता है|[2]
  3. मेडिकोलेगल (चिकित्या एवं न्याय प्रणाली से जुड़ा) फॉरेंसिक कीटविज्ञान: यह मेडिकोलेगल कीटविज्ञान सबूत एकृत करने में मदद करता है। इसकी आवश्यकता कभी-कभी हत्या की जगह से, बलत्कार की जगह से, दुर्घटना होने पर या आत्महत्या होने पर संधिपाद प्राणियों के जीवन का अध्ययन करके पुखता सबूत तय्यार करने के लिए हो सकती है। हत्या के मामले में यह कीट अपने अन्डो द्वारा हत्या का समय तय करने में सहायक हो सकते हैं तथा इन कीटों के अध्ययन से हत्या की जगह बताने में भी मदद मिल सकती है।[3]

अकशेरुकी के प्रकार

  1. बिच्छू-मक्खियाँ (अंग्रेज़ी: Mecoptera)
  2. मक्खियाँ
  3. वर्मपंखी गण
  4. कण
  5. पतंगे
  6. ततैयाचींटियाँ और मधुमक्खियाँ

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *