जीव (हिन्दू धर्म)

जीव शब्द का प्रयोग जीवित प्राणियों के लिए किया जाता है। जीव शब्द का प्रयोग जीव विज्ञान में सभी जीवन-सन्निहित प्राणियों के लिए किया जाता हैं। जैन ग्रंथों, हिन्दू धर्म ग्रंथो [वैदिक (औपनिषदिक)], बौद्धधर्म एवं सूफी धर्म ग्रंथो में इस शब्द का प्रयोग किया गया हैं।

जीव विज्ञान

मुख्य लेख: सजीव

सजीव शब्द जीवविज्ञान में सभी जीवन-सन्निहित प्राणियों के लिए प्रयुक्त होता है, जैसे: कशेरुकी जन्तुकीटपादप अथवा जीवाणु[1] एक जीव में एक या एक से अधिक कोशिकाएँ होते हैं। जिनमें एक कोशिका पाया जाता है उसे एक कोशिकीय जीव है; एक से अधिक कोशिका होने पर उस जीव को बहुकोशिकीय जीव कहा जाता है। मनुष्य का शरीर विशेष ऊतकों और अंगों में बांटा होता है, जिसमें कोशिकाओं के कई अरबों की रचना में बहुकोशिकीय जीव होते हैं।

धार्मिक परिपेक्ष

हिन्दू धर्म

ब्रह्म एक ऐसी लोकोत्तर शक्ति है जो संपूर्ण ब्रह्मांड के कण-कण, क्षण-क्षण में व्याप्त है। यही लोकोत्तर शक्ति जब संसार की रचना करती है; सृष्टि का प्रवर्तन करती है; प्राणियों का संरक्षण करती है; उनका संहार करती है तो इसे ईश्वर की संज्ञा प्राप्त हो जाती है। ब्रह्म शब्द शक्तिपरकएवं सत्तापरकलोकोत्तर तत्त्‍‌व का बोधक है। ईश्वर और भगवान जैसे शब्द ऐसे लोकोत्तर तत्त्‍‌व की सृष्टि विषयक भूमिका का बोध कराते हैं। ईश्वर सर्वशक्तिमान एवं सर्वव्यापक है। वह असीम है, पूर्णत:स्वतंत्र है। जीव की स्थिति ईश्वर से भिन्न होती है। जीव असंख्य है।

ईश्वर और जीव विषयक ऐसी अवधारणा विश्व के अन्य धर्मों में भी मिलती है। यहूदी धर्म में याहवे (जहोवा) सर्वशक्तिमान सत्ता के रूप में माना जाता है। जहोवासंसार की रचना करता है; प्राणियों का पालन एवं अनुसंरक्षणकरता है। ईसाई धर्म में सर्वशक्तिमान सत्ता इलोई (गॉड) है। इलोईसंपूर्ण जगत् की रचना करता है। ईसाई धर्मानुयायी अपने सर्वशक्तिमान ईश्वर का भजन-पूजन करते हैं। इस्लाम में अल्लाह को सर्वशक्तिमान माना जाता है। पारसी धर्मानुयायी अहुरामज्दाको सर्वशक्तिमान मानकर उसकी पूजा करते हैं।

कबीर भी लगभग ऐसी ही बात करते हैं-

जल में कुंभ कुंभ में जल है बाहर भीतर पानी। फूट घडा जल जलहिंसमाना यह तत कथौंगियानी।।

अर्थात् कुएं में मिट्टी का घडा है। घडे में जल है। जब तक घडे की सत्ता है, तब तक वह जल से भिन्न अवश्य है पर जब घडे की पृथक सत्ता समाप्त हो जाती है, तब वह संपूर्ण जल का एक अविभाज्य अंग बन जाता है। यही स्थिति जीव और ब्रह्म की है। अज्ञान की जंजीर से जकडे जीव को ही ब्रह्म से पृथक अपनी सत्ता की भ्रांति होती है। जब अज्ञान का पर्दा हट जाता है, तब जीव को यह प्रकाश मिलता है कि वह तो स्वयं ब्रह्म है। उपनिषदों में ऐसी सूक्तियांयथा सोऽहमस्मि (मैं वही हूं), शिवोऽहम् (मैं शिव हूं), अहं ब्रह्मास्मि (मैं ब्रह्म हूं), अयमात्माब्रह्म (यह आत्मा ही ब्रह्म है), तत्त्‍‌वमसि (तुम वही हो) जीव और ब्रह्म की अनन्यताका उद्घोष करती है।

बौद्ध धर्म

बौद्धधर्म में नित्य सत्ता का निषेध किया जाता है। इस धर्म में यह माना जाता है कि सब कुछ चलनशीलहै, गतिशील है। चलनशीलताऔर गतिशीलता की ही सत्ता नित्य है। नित्य सत्ता का निषेध करके ईश्वरीय सत्ता को मान्यता नहीं दी जा सकती क्योंकि दोनों में तात्विकविसंगति है। इसी विसंगति के कारण बौद्धधर्म में ईश्वर जैसी किसी नित्य सत्ता का निषेध किया जाता है। वैसे, बौद्धधर्म परलोक में विश्वास करता है। इस धर्म में जीव की सत्ता तो है पर ईश्वर जैसे किसी नित्य तत्त्‍‌व के अभाव में दोनों के बीच भेद का प्रश्न ही नहीं उठता। इस धर्म में तथागत बुद्ध एवं ऐसे बोधिसत्त्‍‌वोंकी पूजा होती है जो निर्वाण की स्थिति में आ जाते हैं। जैन धर्म की मूल मान्यता है कि जगत्प्रवाहअनादि और अनंत हैं। इस धर्म में जगन्नियंता, जगत्स्त्र्रष्टाजैसी किसी लोकोत्तर सत्ता में विश्वास नहीं किया जाता है। जैन धर्म की मूल मान्यता है कि जीव यदि क्रमिक आध्यात्मिक उन्नयन करता रहे तो वह स्वयं अर्हत् हो जाता है; ईश्वरत्वको प्राप्त हो जाता है। इस धर्म में चौबीस तीर्थंकरोंको अर्हत् माना जाता है। ईश्वर के रूप में इनकी पूजा होती है। जैनधर्ममें भी ईश्वर और जीव के बीच भेद का प्रश्न नहीं उठता क्योंकि यहां जीव की सत्ता तो है पर लोकोत्तर ईश्वर की सत्ता का अभाव है।

सूफी धर्म में भी ईश्वर और जीव में अभेद है। एक सूफी था मंसूर। उसने अनलहक का उद्घोष किया। अनलहकका अर्थ होता है, मैं ब्रह्म हूं (अहं ब्रह्मास्मि)। स्पष्टत:सूफी दृष्टि भी औपनिषदिक दृष्टि के समान है। यहां भी ब्रह्म और जीव (खुदा और बंदा) के बीच अनन्यतामानी जाती है। यहां भी ईश्वर और जीव के बीच भेद का प्रश्न नहीं उठता।

अद्वैतवादी औपनिषदिक परंपरा, श्रमण परंपरा (बौद्ध-जैन) एवं सूफी परंपरा के अनुयायी ज्ञान मार्ग का अनुसरण करते हैं। ज्ञातव्य है कि भक्तिमार्ग का पथिक सेवक-सेव्य भाव अपनाकर परम लक्ष्य की ओर अग्रसर होता है। इस मार्ग का पथिक स्वयं को सेवक और ईश्वर को सेव्य मानता है। इसी प्रकार ज्ञानमार्गका पथिक अपनी साधना के बल पर परम लक्ष्य (मोक्ष, निर्वाण, कैवल्य) की सिद्धि करता है; आत्मसाक्षातकरता है; परमसत्यका दर्शन करता है। अद्वैतमार्गानुगामीसाधक की दृष्टि में ईश्वर एवं जीव का भेद ही समाप्त हो जाता है। जीव ही ईश्वर का रूप धारण कर लेता है।

सन्दर्भ सूची

इन्हें भी देखें

[छुपाएँ]देवासंहिन्दू धर्म
   हिन्दू धर्म       • हिन्दू त्यौहार •       हिन्दू पंचांग •       हिन्दू संस्कार   
धर्म ग्रंथवेद · उपनिषद् · श्रुति · इतिहास (रामायणमहाभारतश्रीमद्भगवद्गीता) · पुराण · सूत्र · आगम (तन्त्रयन्त्र) · वेदान्त · भारतीय महाकाव्य · हिन्दू कथा
विचारअवतार · आत्मा · ब्रह्मन् · देवता (हिन्दू देवी देवताओं की सूची) · इष्ट-देव · धर्म · कर्म · मोक्ष · माया · मूर्ति · पुनर्जन्म · संसार · तत्त्व · त्रिमूर्ति · कृतार्थ · गुरु
दर्शनमान्यता · सांख्य · न्याय · वैशेषिक · योग · मीमांसा · वेदान्त · तन्त्र · भक्ति · हिन्दू दर्शन
परम्पराज्योतिष · आयुर्वेद · आरती · भजन · दर्शन · दीक्षा · मन्त्र · पूजा · सत्संग · स्तोत्र · विवाह · यज्ञ · श्राद्ध · हिन्दू संस्कार . पितृ विसर्जन अमावस्या
गुरुशंकर · रामानुज · माध्वाचार्य · रामकृष्ण · शारदा देवी · स्वामी विवेकानन्द · नारायण गुरु · श्री अरविन्द · रामन् महर्षि · शिवानन्द · स्वामी चिन्मयानंद · स्वामिनारायण · प्रभुपाद · लोकनाथ
युगसत्य युग · त्रेता युग · द्वापर युग · कलि युग
वर्णब्राह्मण · क्षत्रिय · वैश्य · शूद्र · वर्णाश्रम धर्म
मापनहिन्दू मापन प्रणाली · हिन्दू लम्बाई गणना · हिन्दू काल गणना · हिन्दू भार गणना
भागवैष्णव · शैव · शक्ति · स्मृति · हिन्दू पुनरुत्थान
हिन्दू तीर्थचार धाम · सप्त पुरियां · द्वादश ज्योतिर्लिंग · इक्यावन शक्ति पीठ
अन्य विषयइतिहास · आलोचना
       हिन्दू धर्म         हिन्दू पृथ्वी       हिन्दू धर्म सूचना मंजूषा        वैदिक साहित्य       हिन्दू देवी देवता एवं लेख        हिन्दू पवित्र नगर
[छुपाएँ]देवासंवेदपुराण एवं उपनिषद्
परिचयसाहित्य • काल • धर्म • संस्कृति • कला • संस्कृत • वेद व्यास
वेदवेद संहिताएंऋग्वेद • यजुर्वेद • सामवेद • अथर्ववेदखण्डसंहिता • ब्राह्मण • अरण्यक • उपनिषदउपवेदआयुर्वेद • धनुर्वेद • गंधर्ववेद • स्थापत्यवेदवेदांगशिक्षा • छंद · व्याकरण • निरुक्त · कल्प · ज्योतिष
पुराणवैष्णवविष्णु पुराण • मत्स्य पुराण • भागवत पुराण • गरुड़ पुराण • कूर्म पुराण • वाराह पुराण  • कल्कि पुराणशैवस्कन्द पुराण • वायु पुराण • अग्नि पुराण • लिङ्ग पुराण • नारद पुराण • पद्म पुराणब्रह्माब्रह्म पुराण • ब्रह्माण्ड पुराण • ब्रह्म वैवर्त पुराण • मार्कण्डेय पुराण • भविष्य पुराण • वामन पुराण
उपनिषदॠग्वेदीयअक्षमालिक  • आत्मबोध  • ऐत्तरेय  • कौषीतकी  • नादबिन्दुप  • निर्वाण  • बहवृच  • मृदगल • राधा  • सौभाग्यलक्ष्मीशुक्ल यजु.अद्वैतार  • अध्यात्म • ईशवास्य  • जाबालि • तुरीयातीत  • त्रिशिखिब्राह्मण  • निरालंब  • परमहंस  • पैंगल • बृहदारण्यक • भिक्षुक • मंत्रिक  • याज्ञवल्क्य • शाट्यायनीय  • शिवसंकल्प • सुबाल • हंसकृष्ण यजु.अक्षि • अमृतनाद  • कठ • कठरुद्र  • कलिसंतरण  • कैवल्य  • कालाग्निरुद्र  • चाक्षुष  • क्षुरीक  • तैत्तिरीय • दक्षिणामूर्ति • ध्यानबिन्दु • नारायण  • रूद्रहृदय  • शारीरिक  • शुकरहस्य  • श्वेताश्वतरसामवेदीयआरूणक  • केन • कुण्डिक  • छान्दोग्य  • जाबालि • जाबालदर्शन  • महा  • मैत्रेय्युग • योगचूडा  • रूद्राक्षजाबाल  • वज्रसूचिक  • सन्यास • सावित्रीअथर्ववेदीयअथर्वशिर  • गणपति • गोपालपूर्वतापनीय  • नृसिंहोत्तरतापनीय  • नारदपरिव्राजक  • परब्रह्म  • प्रश्न • महावाक्य  • माण्डूक्य  • मुण्डक  • श्रीरामपूर्वतापनीय • शाण्डिल्य  • सीता • सूर्य
अन्यइतिहासरामायण • महाभारत      अन्यभगवद गीता • मनुस्मृति  • अर्थशास्त्र • आगम तंत्र • पंचरात्र  • सूत्र • स्तोत्र • धर्मशास्त्र • रामचरितमानस • योग वशिष्ठ
       हिन्दू पृथ्वी       {{हिन्दू धर्म}}      प्रवेशद्वार       भारतीय महाकाव्य        हिन्दू धर्म ग्रंथ        हिन्दू धर्म सूचना मंजूषा

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *