अमीनो अम्ल

अमीनो अम्ल, वे अणु हैं जिनमें अमाइन तथा कार्बोक्सिल दोनों ही ग्रुप पाएं जाते हैं। इनका साधारण सुत्र H2NCHROOH है। इसमें R एक पार्श्व कड़ी है। जो परिवर्तनशील विभिन्न अणुओं का ग्रूप होता है। कार्बोक्सिल (-COOH) तथा अमाइन (-NH2) ग्रूप कार्बन परमाणु से लगा रहता है। अमीनो अम्ल प्रोभूजिन के गठनकर्ता अणु हैं। बहुत सारे अमीनो अम्ल पेप्टाइड बंधन द्वारा युक्त होकर प्रोभूजिन बनाते हैं। प्रोभूजिन बनाने में 20 अमीनो अम्ल भाग लेते हैं।

यह प्रोभूजिन निर्माण के कर्णधार होते हैं। प्रकृति में लगभग बीस अमीनों अम्लों का अस्तित्व है। प्रोभूजिन अणुओं में सैंकड़ों या हजारों अमीनो अम्ल एक दूसरे से जुड़े रहते हैं। प्रत्येक प्रोभूजिन में प्रायः सभी अमीनो अम्ल एक विशेष अनुक्रम से जुड़े रहते हैं। विभिन्न अमीनो अम्लों का यही अनुक्रम प्रत्येक प्रोभूजिन को उसकी विशेषताएं प्रदान करता है। अमीनो अम्लों का यही विशिष्ट अनुक्रम डी एन ए के न्यूक्लोटाइडस के क्रम से निर्धारित होता है।

[छुपाएँ]देवासंजीवविज्ञान के मुख्य उप-क्षेत्र
शरीर संरचना विज्ञान · अंतरिक्षजैविकी · जैवरासायनिकी · जैवसूचना विज्ञान · जैवसांख्यिकी · पादप विज्ञान · कोशिका विज्ञान · क्रोनोबायोलॉजी · विकासशील जीव विज्ञान · पारिस्थितिकी · महामारी विज्ञान · जैवविकास विज्ञान · अनुवांशिकी · जीनोमिक्स · मानव विज्ञान · इम्म्युनोलॉजी · सागरीय विज्ञान · सूक्ष्मजैविकी · आण्विक जैविकी · न्यूरोसाइंस · पोषण विज्ञान · जीवन का उद्गम · जीवाश्मविज्ञान · परजीवविज्ञान · विकृति विज्ञान · शरीर क्रिया विज्ञान · सिस्टम्स बायोलॉजी · टैक्सोनॉमी · प्राणी विज्ञान · जैवप्रौद्योगिकी

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *