नागरहोल अभयारण्य

नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान/अभयारण्य
आईयूसीएन श्रेणी द्वितीय (II) (राष्ट्रीय उद्यान)
नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान/अभयारण्य की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
अवस्थितिमैसूर जिलाभारत
निकटतम शहरमैसूरभारत
क्षेत्रफल643 km²
स्थापित1988

कर्नाटक में स्थित नागरहोल अपने वन्य जीव अभयारण्य के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। यह उन कुछ जगहों में से एक है जहां एशियाई हाथी पाए जाते हैं। हाथियों के बड़े-बड़े झुंड यहां देखे जा सकते हैं। मानसून से पहले की बारिश में यहां बड़ी संख्या में रंगबिरंगे पक्षी दिखाई देते हैं। उस समय पूरा वातावरण उनकी चहचहाट से गूंज उठता है। पशुप्रेमियों के लिए यहां देखने और जानने के लिए बहुत कुछ है।

एक जमाने में यह जगह मैसूर के राजाओं के शिकार का स्‍थल था। लेकिन बाद में इसे अभयारण्य बना दिया गया। अब यह राजीव गांधी अभयारण्य के नाम से जाना जाता है। यह पार्क दक्कन के पठार का हिस्सा है। जंगल के बीच में नागरहोल नदी बहती है, जो कबीनी नदी में मिल जाती है। कबीनी नदी पर बने बांध के कारण पार्क के दक्षिण में एक झील बन गई है जो इस उद्यान को बांदीपुर टाइगर रिजर्व से अलग करती है।

मुख्य आकर्षण

सफारी का मजा

640 वर्ग किलोमीटर में फैले नागरहोल अभयारण्य में अनेक जानवर पाए जाते हैं। इसलिए जंगल की सफारी से इनको करीब से देखना रोमांचक अनुभव होता है। यद्यपि यहां बहुत सारे शेर और चीते हैं, फिर भी इन्हें ढूंढ़ और देख पाना इतना आसान नहीं हैं। शेर और चीतों के अलावा हिरन, चार सींग वाला हिरन, कलगी वाला साही और काली गर्दन वाले खरगोश भी यहां देखे जा सकते हैं। पर्यटक अभयारण्य में केवल 30 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में ही घूम सकते हैं। यहां जीप और बस की सफारी उपलब्ध है। समय: सुबह 6 बजे-शाम 6 बजे तक

निकटवर्ती दर्शनीय स्थल

ब्रह्मगिरी अभयारण्य

मुख्य लेख: ब्रह्मगिरि

181 वर्ग किलोमीटर में फैला ब्रह्मगिरी वन्यजीव अभयारण्य कुट्टा से माकुट्टा के बीच बना हुआ है। यह अभयारण्य केरल के अरलम वन्यजीव अभयारण्य के नजदीक है। ये जंगल गौर, भालू, हाथी, हिरन, चीते, जंगली बिल्ली, शेर जैसी पूंछ वाला बंदर और नीलगिरी लंगूर का घर है। ब्रह्मगिरी पक्षियों से रुबरु होने वाले के उचित जगह है। इस अभयारण्य में आने का सही समय अक्टूबर से मई है। यहां आने से पहले अनुमति लेना आवश्यक है।

इपरू फॉल्स और ईश्वर मंदिर

यह झरना ब्रह्मगिरी पर्वत श्रृंखला की तराई में स्थित है। इपरू फॉल्स इन पर्वतों के प्रवेश द्वार की भूमिका निभाता है। यह कूर्ग का प्रमुख पर्यटक केंद्र है। नागरहोल से इर्पू कुट्टा के रास्ते यहां आया जा सकता हैं। बारिश के बाद यहां की खूबसूरती और भी बढ़ जाती है। तब यहां चारों तरफ हरियाली ही दिखाई देती है। यहां पास ही ईश्वर मंदिर है जिसके बारे में माना जाता है कि यहां पर प्रभु राम ने स्वयं शिवलिंग की पूजा की थी। यहां परंपरा है कि लक्ष्मण तीर्थ में डुबकी लगाने से पहले इस मंदिर का दर्शन करना जरूरी है। शिवरात्रि के दौरान बड़ी संख्या में भक्त यहां दर्शनों के लिए आते हैं।

कुट्टा

नागरहोल के दक्षिण में 7 किलोमीटर दूर कुट्टा नामक नगर है। इसके बारे में माना जाता है कि यहां पर देवी काली ने निम जाति के कुरुबस से विवाह किया। उनके पुत्र का नाम कुट्टा था। उन्हीं के नाम पर इस जगह का नाम पड़ा। उनकी याद में यहां प्रतिवर्ष अप्रैल के मध्य से मई तक उत्सव मनाया जाता है।

आवागमन

वायु मार्ग

नजदीकी हवाई अड्डा मैसूर है। इसके अलावा बैंगलोर हवाई अड्डा भी है जो देश के सभी प्रमुख शहरों और कुछ विदेशी शहरों से जुड़ा हुआ है।सड़क मार्ग

यहां से सबसे पास कुट्टा (7 किलोमीटर) नामक शहर है। इसके अलावा मदिकेर (93 किलोमीटर), मैसूर (96 किलोमीटर) और बैंगलोर (256 किलोमीटर) से यह सडक मार्ग से जुडा हुआ है।

सन्दर्भ

बाहरी कड़ियाँ

Wildlife Times: Article on Predators of Nagarahole

[छुपाएँ]देवासं भारत के राष्ट्रीय उद्यान
उत्तर भारतजम्मू कश्मीरदाचीगाम  • हेमिस • किश्तवार • सलीम अलीहिमाचल प्रदेशग्रेट हिमालयन राष्ट्रीय उद्यान • पिन घाटीउत्तराखंडकार्बेट • गंगोत्री • गोविंद • नंदा देवी • राजाजी • फूलों की घाटीहरियाणाकलेसर • सुल्तानपुरउत्तर प्रदेशनवाबगंज • दुधवाराजस्थानदर्राह • मरुभूमि • केवलादेव • रणथंबोर • सरिस्का • माउंट आबू
दक्षिण भारतआंध्र प्रदेशकासु ब्रह्मानन्द रेड्डी • महावीर हरिण वनस्थली • मृगवनी • श्री वेंकटेश्वरकर्नाटकअंशी • बांदीपुर • बनेरघाट • कुदरेमुख • नागरहोलतमिलनाडुगुइंडी • मन्नार की खाड़ी • इंदिरा गांधी • पलानी पर्वत • मुदुमलाइ • मुकुर्थीकेरलएराविकुलम • मथिकेत्तन शोला • पेरियार • साइलेंट वैली
पूर्वी भारतबिहारवाल्मीकिझारखंडबेतला • हज़ारीबागपश्चिम बंगालबुक्सा • गोरुमारा • न्योरा घाटी • सिंगालीला • सुंदरवन • जलदापाड़ाउड़ीसाभीतरकनिका • सिमलीपाल
पश्चिम भारतगुजरातकृष्ण मृग • गिर • कच्छ की खाड़ी • वंस्दामहाराष्ट्रचांदोली • गुगामल • नवेगाँव • संजय गांधी • ताडोबागोआमोल्लेम
मध्य भारतमध्य प्रदेशबांधवगढ • जीवाश्म • कान्हा • कूनो • माधव • पन्ना • पेंच • संजय • सतपुरा • वन विहार • डायनासोरछत्तीसगढइंद्रावती • कांगेर घाटी
पूर्वोत्तर भारतअरुणाचल प्रदेशमोलिंग • नमदाफासिक्किमकंचनजंगाअसमदिबरू-साइखोवा • काज़ीरंगा • मानस • नमेरी • ओरांगनागालैंडन्टङ्कीमेघालयबलफकरम • नोकरेक  • नोंगखाइलेममणिपुरकेयबुल लामजाओ • सिरोईमिजोरममुर्लेन • फौंगपुइ
द्वीपअंडमान एवं निकोबारकैम्पबॅल बे • गैलेथिआ • महात्मा गांधी • माउन्ट हैरियट • मिडल बटन द्वीप • नौर्थ बटन द्वीप • रानी झांसी • सैडल पीक • साउथ बटन द्वीप
राष्ट्रीय उद्यान • भारत के अभयारण्य • वन एवं पर्यावरण मंत्रालय (भारत)
[छुपाएँ]देवासं कर्नाटक के विषय
सिंहावलोकनचलचित्र · जलवायु · खानपान · जनसांख्यिकी · अर्थव्यवस्था · शिक्षा · भूगोल · इतिहास · कर्नाटक में मीडिया · कर्नाटक के लोग · क्रीड़ा · परिवहन ·
इतिहासऐहोल · बादामी · बनवसी · चालुक्य · गंग · हल्मिदी · हम्पी · होयसाल साम्राज्य · कदंब वंश · कित्तूर चेन्नम्मा · मान्यखेत · पत्तदकल · पुलकेशी II · राष्ट्रकूट वंश · श्रीरंगपट्टनम · टीपू सुल्तान · विजयनगर साम्राज्य · पश्चिमी चालुक्य · मैसूर राज्य
भूगोलशहर एवं कस्बे · जिले · नदियां · तालुक · ग्राम · बयालुसीमि · मेलनाडु · करावली · पश्चिमी घाट
संस्कृतिभरतनाट्य · भूत कोला · बिद्रीवारे · चित्रकला परिषत · इल्कल साड़ी · कमसाले · कन्नड़ · कर्नाटक संगीत · कसूटी · खेड्डा · मैसूर का दशहरा · टोगालु गोबेयाट्ट · उडुपी का खाना · यक्षगण ·
साहित्यहरिदास · होयसाल · कन्नड़ साहित्य · कन्नड़ कविता · कन्नड़ साहित्य परिषत · कन्नड़ साहित्य सम्मेलन · कर्नाटक · राष्ट्रकूट · वचन · विजयनगर साम्राज्य · पश्चिमी चालुक्य · पश्चिमी गंग · मैसूर साम्राज्य
समाजबियरी · बंट · हव्यक · हब्बर अयंगार · होयसाल कर्नाटक · कन्नड़िग · कोडव · कोंकणि · कोट · लिंगायत · मोगवीर · संकेती · टुलुव · वोक्कलिग
लोगअक्का महादेवी · आलुरु वेंकट राव · यू आर अनंतमूर्ति · अनिल कुंबले · बसवन्ना · भीमसेन जोशी · के एम करियप्पा · एच डी देवेगौड़ा · गुब्बी वीरन्ना · जकनाचारी · कुवेम्पु · एच नरिंहय्या · एन आर नारायणमूर्ति · एस नीजलिंगप्पा · पंपा · प्रकाश पादुकोन · पुरंदर दास · राजकुमार · श्री श्री शिवकुमार स्वामिजी · मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया
पर्यटनसागरतट · बांध · दुर्ग · अभयारण्य · मंदिर · जलप्रपात
सम्मानकर्नाटक रत्न · बसव पुरस्कार · राज्योत्सव प्रशस्ति · जनकचारी सम्मान  · वर्णशिल्पी वेंकट पुरस्कार

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *