फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान

फूलों की घाटी (नन्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान) फूलों की घाटी का जन्म पिंडर से हुआ है जिसे पिंडर घाटी या(pindervalley) भी कहते हैं।पिंड+घाटी पिंड का अर्थ हिम और घाटी का अर्थ पहाड़ों का क्षेत्र जहां महादेव भगवान शिव का निवास होता है जो मुख्य रूप से चमोली जिले के पिंडर घाटी का ही क्षेत्र में स्थित है।और देवी देवताओं का निवास स्थान है आज भी पिंडर घाटी में भगवान शिव के गण और देवताओं के वंशज निवास है, और हर वर्ष माता पार्वती नंदा देवी को हिमालय तक भगवान शिव के तपावस्वी स्थान तक पहुंचाने आते हैं जिसे वर्तमान में नंदा देवी यात्रा या भगवती भैट से भी जाना जाता है Image = 
विश्व धरोहर सूची में अंकित नाम
देश भारत
प्रकारप्राकृतिक
मानदंडvii, x
सन्दर्भ335
युनेस्को क्षेत्रएशिया-प्रशांत
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख1988 (12वां सत्र)
विस्तार2005

फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान एक फूलों की घाटी का नाम है, जिसे अंग्रेजी में Valley of Flowers कहते हैं। यह भारतवर्ष के उत्तराखण्ड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र में है। यह फूलों की घाटी विश्व संगठन, यूनेस्को द्वारा सन् 1982 में घोषित विश्व धरोहर स्थल नन्दा देवी अभयारण्य नन्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान का एक भाग है। हिमालय क्षेत्र पिंडर घाटी अथवा पिंडर वैली के नाम से भी जाना जाता है,

भौगोलिक स्थिति

यह उद्यान 87.50  किमी² क्षेत्र में फैला हुआ है।

इतिहास

किंवदंती है कि रामायण काल में हनुमान संजीवनी बूटी की खोज में इसी घाटी में पधारे थे। इस घाटी का पता सबसे पहले ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक एस स्मिथ (अंग्रेजी: Frank S Smith) और उनके साथी आर एल होल्डसवर्थ (अंग्रेजी: R.L.Holdsworth) ने लगाया था, जो संंयोग से 1931 में अपने कामेट पर्वत के अभियान से लौट रहे थे। इसकी बेइंतहा खूबसूरती से प्रभावित होकर स्मिथ 1937 में इस घाटी में वापस आये और, 1938 में “वैली ऑफ फ्लॉवर्स” नाम से एक किताब प्रकाशित करवायी।[1] हिमाच्छादित पर्वतों से घिरा हुआ और फूलों की 500 से अधिक प्रजातियों से सजा हुआ यह क्षेत्र बागवानी विशेषज्ञों या फूल प्रेमियों के लिए एक विश्व प्रसिद्ध स्थल बन गया।[2]

भ्रमण का बेहतर माैसम

फूलों की घाटी भ्रमण के लिये जुलाई, अगस्त व सितंबर के महीनों को सर्वोत्तम माना जाता है। सितंबर में ब्रह्मकमल खिलते हैं।

आवागमन

फूलों की घाटी तक पहुँचने के लिए चमोली जिले का अन्तिम बस अड्डा गोविन्दघाट 275 किमी दूर है। जोशीमठ से गोविन्दघाट की दूरी 19 किमी है। यहाँ से प्रवेश स्थल की दूरी लगभग 13 किमी है जहाँ से पर्यटक 3 किमी लम्बी व आधा किमी चौड़ी फूलों की घाटी में घूम सकते हैं।

पायी जाने वाली पुष्प प्रजातियॉं

नवम्बर से मई माह के मध्य घाटी सामान्यतः हिमाच्छादित रहती है। जुलाई एवं अगस्त माह के दौरान एल्पाइन जड़ी की छाल की पंखुडियों में रंग छिपे रहते हैं। यहाँ सामान्यतः पाये जाने वाले फूलों के पौधों में एनीमोन, जर्मेनियम, मार्श, गेंदा, प्रिभुला, पोटेन्टिला, जिउम, तारक, लिलियम, हिमालयी नीला पोस्त, बछनाग, डेलफिनियम, रानुनकुलस, कोरिडालिस, इन्डुला, सौसुरिया, कम्पानुला, पेडिक्युलरिस, मोरिना, इम्पेटिनस, बिस्टोरटा, लिगुलारिया, अनाफलिस, सैक्सिफागा, लोबिलिया, थर्मोपसिस, ट्रौलियस, एक्युलेगिया, कोडोनोपसिस, डैक्टाइलोरहिज्म, साइप्रिपेडियम, स्ट्राबेरी एवं रोडोडियोड्रान इत्यादि प्रमुख हैं।

सन्दर्भ

  1.  फूलों की घाटी Archived 26 जून 2010 at the वेबैक मशीन.। रीडर्स कैफ़े-उत्तरांचल
  2.  पादप एवं पशु जगत[मृत कड़ियाँ]। चारधाम

बाहरी कड़ियाँ

[छुपाएँ]देवासंउत्तराखण्ड
राजधानी: देहरादून
इतिहासपौराणिक काल • राज्य आन्दोलन • मुज़्ज़फर नगर काण्ड • चमोली भूकम्प • उत्तरकाशी भूकम्प • ब्रिटिश काल • चन्द राजवंश • कत्यूरी राजवंश • गढ़वाल राजवंश • भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम • चिपको आन्दोलन • हरिद्वार नरसंहार • अधिक


भूगोलहिमालय • नदियाँ • जलवायु • गंगा • यमुना • काली • शारदा • बुग्याल • अधिक
सरकार और राजनीतिसरकार • विधानसभा • राज्यपाल • मुख्यमंत्री • उच्च न्यायालय • भाजपा • कांग्रेस • उक्राद • लोकसभा क्षेत्र • विधानसभा क्षेत्र • अधिक
प्रशासनिक प्रभागमण्डलकुमाऊँ • गढ़वाल • अधिकजिलेअल्मोड़ा • उत्तरकाशी • उधमसिंहनगर • चमोली • चम्पावत • टिहरी • देहरादून • नैनीताल • पिथौरागढ़ • पौड़ी • बागेश्वर • रूद्रप्रयाग • हरिद्वार • अधिकनगरदेहरादून • हरिद्वार • हल्द्वानी • रुड़की • रुद्रपुर • काशीपुर • ऋषिकेश • कोटद्वार • अधिक
पर्यटन और तीर्थाटनछोटा चारधाम • बद्रीनाथ • केदारनाथ • गंगोत्री • यमुनोत्री • हेमकुण्ड साहिब • पंच केदार • फूलों की घाटी • नंदा देवी उद्यान • जिम कॉर्बेट उद्यान • औली • कौसानी • नैनीताल • रानीखेत • मुनस्यारी • अधिक
संस्कृति और भाषाएँकुमाऊँनी • गढ़वाली • हिन्दी • भाषाएँ • पहाड़ी भाषाएँ • मेले • दिवाली • होली • उत्तरायणी • हरेला • कुम्भ मेला • महाकुम्भ २०१० • अधिक
लोगहेमवन्ती नन्दन बहुगुणा • नारायण दत्त तिवारी • हरीश रावत • सुमित्रा नन्दन पन्त • गोविन्द वल्लभ पन्त • रस्किन बॉण्ड • अधिक
शिक्षाभारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की • पन्तनगर विश्वविद्यालय • हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय • कुमाऊँ विश्वविद्यालय • पेट्रोलियम विश्वविद्यालय • भारतीय वानिकी संस्थान • गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय • उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय • उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय • कुमाऊँ अभियान्त्रिकी महाविद्यालय • दून विद्यालय • दून केंब्रिज स्कूल • देहरादून प्रौद्योगिकी संस्थान • अधिक
सम्बन्धित विषयउत्तराखण्ड प्रदेशद्वार • भारत प्रवेशद्वार • हिन्दू धर्म प्रवेशद्वार • उत्तराखण्ड
[छुपाएँ]देवासं भारत के राष्ट्रीय उद्यान
उत्तर भारतजम्मू कश्मीरदाचीगाम  • हेमिस • किश्तवार • सलीम अलीहिमाचल प्रदेशग्रेट हिमालयन राष्ट्रीय उद्यान • पिन घाटीउत्तराखंडकार्बेट • गंगोत्री • गोविंद • नंदा देवी • राजाजी • फूलों की घाटीहरियाणाकलेसर • सुल्तानपुरउत्तर प्रदेशनवाबगंज • दुधवाराजस्थानदर्राह • मरुभूमि • केवलादेव • रणथंबोर • सरिस्का • माउंट आबू
दक्षिण भारतआंध्र प्रदेशकासु ब्रह्मानन्द रेड्डी • महावीर हरिण वनस्थली • मृगवनी • श्री वेंकटेश्वरकर्नाटकअंशी • बांदीपुर • बनेरघाट • कुदरेमुख • नागरहोलतमिलनाडुगुइंडी • मन्नार की खाड़ी • इंदिरा गांधी • पलानी पर्वत • मुदुमलाइ • मुकुर्थीकेरलएराविकुलम • मथिकेत्तन शोला • पेरियार • साइलेंट वैली
पूर्वी भारतबिहारवाल्मीकिझारखंडबेतला • हज़ारीबागपश्चिम बंगालबुक्सा • गोरुमारा • न्योरा घाटी • सिंगालीला • सुंदरवन • जलदापाड़ाउड़ीसाभीतरकनिका • सिमलीपाल
पश्चिम भारतगुजरातकृष्ण मृग • गिर • कच्छ की खाड़ी • वंस्दामहाराष्ट्रचांदोली • गुगामल • नवेगाँव • संजय गांधी • ताडोबागोआमोल्लेम
मध्य भारतमध्य प्रदेशबांधवगढ • जीवाश्म • कान्हा • कूनो • माधव • पन्ना • पेंच • संजय • सतपुरा • वन विहार • डायनासोरछत्तीसगढइंद्रावती • कांगेर घाटी
पूर्वोत्तर भारतअरुणाचल प्रदेशमोलिंग • नमदाफासिक्किमकंचनजंगाअसमदिबरू-साइखोवा • काज़ीरंगा • मानस • नमेरी • ओरांगनागालैंडन्टङ्कीमेघालयबलफकरम • नोकरेक  • नोंगखाइलेममणिपुरकेयबुल लामजाओ • सिरोईमिजोरममुर्लेन • फौंगपुइ
द्वीपअंडमान एवं निकोबारकैम्पबॅल बे • गैलेथिआ • महात्मा गांधी • माउन्ट हैरियट • मिडल बटन द्वीप • नौर्थ बटन द्वीप • रानी झांसी • सैडल पीक • साउथ बटन द्वीप
राष्ट्रीय उद्यान • भारत के अभयारण्य • वन एवं पर्यावरण मंत्रालय (भारत)
[छुपाएँ]देवासंभारत के विश्व धरोहर स्थल
उत्तर भारतआगरा का किला  · चंडीगढ़ कैपिटल कॉम्प्लैक्स  · फ़तेहपुर सीकरी  · हुमायूँ का मकबरा  · खजुराहो स्मारक समूह  · केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान  · क़ुतुब मीनार  · लाल क़िला  · ताजमहल  · ग्रेट हिमालयन राष्ट्रीय उद्यान  · कालका शिमला रेलवे  · नण्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान एवं फूलों की घाटी  ·
पूर्व भारतकाज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान  · महाबोधि विहार  · मानस राष्ट्रीय उद्यान  · दार्जिलिंग हिमालयी रेल  · कोणार्क सूर्य मंदिर  · सुंदरवन राष्ट्रीय उद्यान  · नालन्दा महाविहार  · कंचनजंगा राष्ट्रीय उद्यान  ·
दक्षिण भारतमहान चोल मंदिर  · हम्पी  · महाबलिपुरम के तट मन्दिर  · पत्तदकल  · पश्चिमी घाट  · नीलगिरि पर्वतीय रेल  ·
पश्चिम भारतअजंता गुफाएँ  · छत्रपति शिवाजी टर्मिनस  · गोआ के गिरजाघर एवं कॉन्वेंट  · एलीफेंटा गुफाएं  · एलोरा गुफाएं  · साँची का स्तूप  · चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान  · भीमबेटका शैलाश्रय  · राजस्थान के पहाड़ी दुर्ग  · रानी की वाव  · पश्चिमी घाट  · अहमदाबाद का ऐतिहासिक शहर  · जन्तर मन्तर (जयपुर)  · मुंबई का विक्टोरियन और आर्ट डेको एनसेंबल  ·

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *