काराकाश नदी

काराकाश नदी
Karakash River
काराकाश नदीशिंजियांग
स्थान
देशभारत (दावेदार), चीन (कब्ज़ा)
प्रान्तलद्दाख़शिंजियांग
क्षेत्रअक्साई चिन
भौतिक लक्षण
नदीमुख 
 • स्थानख़ोतान नदी
 • निर्देशांक38.090°N 80.935417°Eनिर्देशांक38.090°N 80.935417°E
लम्बाई740 कि॰मी॰ (460 मील)
जलसम्भर लक्षण
स्थलचिह्नशायदुल्लाख़ोतान

काराकाश नदी भारत के अक्साई चिन क्षेत्र के कराकोरम पर्वतों में सुम्दे इलाक़े से उत्पन्न होकर चीन के शिंजियांग प्रांत की कुनलुन पहाड़ी क्षेत्र से गुज़रकर टकलामकान रेगिस्तान में जाने वाली एक नदी का नाम है। वर्तमान में अक्साई चिन पर चीन का क़ब्ज़ा है इसलिए वह इस पूरी नदी को अपना ही मानता है। इस नदी में हरे और सफ़ेद रंग के हरिताश्म (जेड) के मूल्यवान पत्थर मिलते हैं, जिस से इसका नाम भी पड़ा है। कुछ दूरी पर इसके साथ-साथ एक योरुंगकाश नाम की अन्य नदी भी चलती है। यह दोनों नदियाँ प्रसिद्ध ख़ोतान नगर के लिए मुख्य पानी का स्रोत हैं।[1]

अन्य भाषाओं में

  • उइग़ुर भाषा में ‘काराकाश नदी’ को ‘क़ाराकाश दारियासी’ (قاراقاش دەرياسى‎) लिखा जाता है। ध्यान दें कि पुरानी या देहाती हिंदी का ‘कारा’ शब्द (जो अब केवल ‘कारे, कारे नैन’ जैसे जुमलों में गीतों में मिलता है) और उइग़ुर जैसे तुर्की भाषाओँ का ‘कारा’ शब्द एक ही है और इनका अर्थ ‘काला रंग’ है। ‘काश’ शब्द हरिताश्म (जेड) के मूल्यवान पत्थर के लिए इस्तेमाल होता है।
  • चीनी भाषा में इस नदी को ‘हेइयु हे’ (黑玉河) कहा जाता है, जिसका अर्थ भी ‘काला हरिताश्म’ है।
  • अंग्रेज़ी में इस नदी का नाम ‘Karakash’ या ‘Karakax’ लिखा जाता है लेकिन दोनों रूपों का उच्चारण ‘काराकाश’ ही है। इसे कभी-कभी ‘ब्लैक जेड रिवर’ (Black Jade River) भी कहा जाता है।

व्यापार मार्ग

पुराने ज़माने में काराकाश नदी की वादी को शिंजियांग के यारकंद शहर और भारत के लेह शहर के बीच के उत्तर-दक्षिण दिशा में चलने वाले व्यापार के लिए इस्तेमाल किया जाता था।[2]

इन्हें भी देखें

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *