कोसी नदी

कोसी नदी या कोशी नदी नेपाल में हिमालय से निकलती है और बिहार में भीम नगर के रास्ते से भारत प्रज्वल में दाखिल होती है।[1][2] इसमें आने वाली बाढ से बिहार में बहुत तबाही होती है जिससे इस नदी को ‘बिहार का अभिशाप(बिहार क शोक)’कहा जाता है।

इसके भौगोलिक स्वरूप को देखें तो पता चलेगा कि पिछले 250 वर्षों में 120 किमी का विस्तार कर चुकी है। हिमालय की ऊँची पहाड़ियों से तरह तरह से अवसाद (बालू, कंकड़-पत्थर) अपने साथ लाती हुई ये नदी निरंतर अपने क्षेत्र फैलाती जा रही है। उत्तरी बिहार के मैदानी इलाकों को तरती ये नदी पूरा क्षेत्र उपजाऊ बनाती है। नेपाल और भारत दोनों ही देश इस नदी पर बाँध बना चुके हैं; हालाँकि कुछ पर्यावरणविदों ने इससे नुकसान की भी संभावना जतायी थी।

यह नदी उत्तर बिहार के मिथिला क्षेत्र की संस्कृति का पालना भी है। कोशी के आसपास के क्षेत्रों को इसी के नाम पर कोशी कहा जाता है। Koshi

नाम

हिन्दू ग्रंथों में इसे कौशिकी नाम से उद्धृत किया गया है। कहा जाता है कि विश्वामित्र ने इसी नदी के किनारे ऋषि का दर्ज़ा पाया था। वे कुशिक ऋषि के शिष्य थे और उन्हें ऋग्वेद में कौशिक भी कहा गया है। सात धाराओं से मिलकर सप्तकोशी नदी बनती है जिसे स्थानीय रूप से कोसी कहा जाता है। महाभारत में भी इसका ज़िक्र कौशिकी नाम से मिलता है।

मार्ग

काठमाण्डू से एवरेस्ट की चढ़ाई के लिए जाने वाले रास्ते में कोसी की चार सहायक नदियाँ मिलती हैं। तिब्बत की सीमा से लगा नामचे बाज़ार कोसी के पहाड़ी रास्ते का पर्यटन के हिसाब से सबसे आकर्षक स्थान है। अरुण, तमोर, लिखु, दूधकोशी, तामाकोशी, सुनकोशी, इन्द्रावती इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं।

नेपाल में यह कंचनजंघा के पश्चिम में पड़ती है। नेपाल के हरकपुर में कोसी की दो सहायक नदियाँ दूधकोसी तथा सनकोसी मिलती हैं। सनकोसी, अरुण,प्रज्वल तमर नदियों के साथ त्रिवेणी में मिलती हैं। इसके बाद नदी को सप्तकोशी कहा जाता है। बराहक्षेत्र में यह तराई क्षेत्र में प्रवेश करती है और इसके बाद से इसे कोशी (या कोसी) कहा जाता है। इसकी सहायक नदियाँ एवरेस्ट के चारों ओर से आकर मिलती हैं और यह विश्व के ऊँचाई पर स्थित ग्लेशियरों (हिमनदों) के जल लेती हैं। त्रिवेणी के पास नदी के वेग से एक खड्ड बनाती है जो कोई 10 किलोमीटर लम्बी है। भीमनगर के निकट यह भारतीय सीमा में दाख़िल होती है। इसके बाद दक्षिण की ओर 260 किमी चलकर कटरिया,कुर्सेला के पास गंगा के साथ संगम करती है।जो त्रिमोहिनी संगम के नाम से जानी जाती है।

कोसी बाँध

मुख्य लेख: कोसी बाँध

कोसी नदी पर सन 1958 एवं 1962 के बीच एक बाँध बनाया गया। यह बाँध भारत-नेपाल सीमा के पास नेपाल में स्थित है। इसमें पानी के बहाव के नियंत्रण के लिये 52 द्वार बने हैं जिन्हें नियंत्रित करने का कार्य भारत के अधिकारी करते हैं। इस बाँध के थोड़ा आगे (नीचे) भारतीय सीमा में भारत ने तटबन्ध बनाये हैं।

इन्हें भी देखें

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1.  “Kosi Basin”. Water Resources Information system of India. मूल से 1 June 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-04-07.
  2.  Nayak, J. (1996). Sediment management of the Kosi River basin in Nepal. In: Walling, D. E. and B. W. Webb (eds.) Erosion and Sediment Yield: Global and Regional Perspectives. Proceedings of the Exeter Symposium July 1996. IAHS Publishing no. 236. Pp. 583–586.

बाहरी कड़ियाँ

  • कोसी साहित्‍य(यहाँ कोसी अंचल में रचित साहित्‍य के बारे में पढ़ें)
  • कविता कोसी (हिन्दी ब्लॉग ; यहाँ कोसी नदी के बारे में बहुत विस्तृत जानकारी है।)
[छुपाएँ]देवासंगंगा नदी
सहायक नदियाँअलकनंदा  • कोसी  • गंडक  • मन्दाकिनी  • नंदाकिनी  • भागीरथी  • विष्णु गंगा  • धौलीगंगा  • यमुना • रामगंगा  • घाघरा  • सोन  • ब्रह्मपुत्र  • हुगली  • पद्मा  • मेघना  • सरस्वती नदी
आरंभिक पड़ावगोमुख  • गंगोत्री  • विष्णु प्रयाग  • कर्णप्रयाग  • देवप्रयाग  • रुद्रप्रयाग  • नंदप्रयाग • ऋषिकेश  • हरिद्वार
मैदानी क्षेत्रगंगा के मैदान  • गढ़मुक्तेश्वर  • फैजाबाद  • बिठूर  • कन्नौज  • फ़र्रूख़ाबाद  • कानपुर  • इलाहाबाद  •  • राजेसुल्तानपुर वाराणसी  • मीरजापुर  • पटना  • भागलपुर  • पाकुर
अंत्य क्षेत्रफरक्का बैराज  • पाकुर  • कोलकाता  • हावड़ा  • सुन्दरवन  • गंगा-सागर-संगम  • बांग्लादेश  • बंगाल की खाड़ी
धार्मिक महत्वपौराणिक प्रसंग  • गंगा दशहरा  • कुम्भ मेला  • मकर संक्रांति  • गंगा स्नान  • सगर  • भगीरथ
पंच प्रयागविष्णु प्रयाग  • कर्णप्रयाग  • देवप्रयाग  • रुद्रप्रयाग  • नंदप्रयाग
यह भी देखेंनंदा देवी  • कामत पर्वत  • त्रिशूल पर्वत  • जीव-जन्तु और वनस्पति • आर्थिक महत्त्व  • फरक्का बांध • टिहरी बाँध • बैक्टीरियोफेज
[छुपाएँ]देवासंभारत की नदियाँ
अलकनन्दा नदी  • इंद्रावती नदी  • कालिंदी नदी  • काली नदी  • कावेरी नदी  • कृष्णा नदी  • केन नदी  • कोशी नदी  • क्षिप्रा नदी  • खड़कई नदी  • गंगा नदी  • गंडक नदी  • गोदावरी नदी  • गोमती नदी  • घाघरा नदी  • चम्बल नदी  • झेलम नदी  • टोंस नदी  • तवा नदी  • चनाब नदी  • ताप्ती नदी  • ताम्रपर्णी नदी  • तुंगभद्रा नदी  • दामोदर नदी  • नर्मदा नदी  • पार्वती नदी  • पुनपुन नदी  • पेन्नार नदी  • फल्गू नदी  • बनास नदी  • बराकर नदी  • बागमती  • बाणगंगा नदी  • बेतवा नदी  • बैगाई नदी  • बैगुल नदी  • ब्यास नदी  • ब्रह्मपुत्र नदी  • बकुलाही नदी  • भागीरथी नदी  • भीमा नदी  • महानंदा नदी  • महानदी  • माही नदी  • मूठा नदी  • मुला नदी  • मूसी नदी  • यमुना नदी  • रामगंगा नदी  • रावी नदी  • लखनदेई नदी  • लाछुंग नदी  • लूनी नदी  • शारदा नदी  • शिप्रा नदी  • सतलुज नदी  • सरस्वती नदी  • साबरमती नदी  • सिन्धु नदी  • सुवर्णरेखा नदी  • सोन नदी  • हुगली नदी  • टिस्टा नदी  • सई नदी
[छुपाएँ]देवासंबिहार के जल निकाय
नदियाँउत्तर बिहारकंकईकमलाकोसीगंगागंडकघाघराबागमतीबूढ़ी गण्डकमहानंदामेची रतुवा खोलालखनदेईदक्षिण बिहारअजयकर्मनाशाकिऊलदुर्गावतीपुनपुनफल्गू मोहनलीलाजन / निरंजनासोन
झरनेककोलत
बांध एवं बराजइंद्रपुरी बराज
पुलकोईलवर पुलगंगा रेल सड़क पुलजवाहर सेतुनेहरू सेतुमहात्मा गांधी सेतुमुंगेर गंगा पुलराजेंद्र सेतुविक्रमशिला सेतु

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *