सकरी नदी

सकरी नदी छत्तीसगढ़ की शिवनाथ नदी की सहायक नदी है। नदी की ऊंचाई 2850 फीट (रिज एरिया) और सबसे कम 1200 फीट (निचले इलाके) में है। नदी की कुल लंबाई 90 किमी है, मूल से पहला गांव करिअमा, जिला कबीरधाम जिला है और यह हाफ नदी के साथ दारही ग्राम, जिला बेमेतरा जिले में शिवनाथ नदी की एक और सहायक नदी में विलय हो गया है। नदी के तट से लगे हुए दो प्रमुख स्थल भोरमदेव मंदिर और कवर्धा नगर हैं।[1][2]

सकरी नदी
स्थान
देशभारत
भौतिक लक्षण
लम्बाई90 km
जलसम्भर लक्षण
नगरकवर्धा

नदी का मार्ग

सकरी नदी मैकल पहाड़ियों से निकलती है और दूर स्थित दरही गाँव में हाफ नदी में मिलती है। जिले के उत्तर-पश्चिम से निकलने के बाद सकरी नदियाँ दक्षिण-पूर्व की ओर बहती हैं और अंत में शिवनाथ नदी में जिला दुर्ग में जाकर गिरती हैं।[3]

बाढ़

1998 में, बारिश के भारी बहाव के कारण बाढ़ पैदा हो गया और कवर्धा के पास के गाँवों के बसेरे नदी के बीच से गुजरने वाले पानी की वजह से पिघल गए, इन्हें बाद में कवर्धा शहर के मध्य विस्थापित किया गया था जिसका नाम गंगानगर हैं।

डाक्यूमेंट्री फिल्म

Bolti Nadi – Into the Sakri River Basin, 2019 में अमीर हाशमी द्वारा निर्देशित एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म है, जिसमें वाटर लेबल, पशु, कृषि प्रभाव और ऐतिहासिक पहलुओं के साथ-साथ नदी पर स्थित सभी संपर्क गांवों के नमूने लेकर एक विस्तृत शोध किया गया है। लगभग 90 कि.मी. पैदल चलकर नदी के उदगम स्थल के पहले गाँव करियामा, जिला कवर्धा से नदी के विसर्जन स्थल ग्राम दाढ़ी, जिला बेमेतरा तक यह फिल्म बनाई गयी हैं, ग्राम दाढ़ी में सकरी नदी हाफ नदी में विलय होती है.[4][5]

बाहरी कड़ियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *