रघुवरन

रघुवरन
जन्मKollengode, केरलभारत
व्यवसायFilm actor
जीवनसाथीRohini (divorced)
बच्चे1 son

रघुवरन (मलयालम: രഘുവരന്‍; तमिल: ரகுவரன்; कन्नड़: ರಘುವರನ್; तेलुगू రఘువరన్) (1958 – 19 मार्च 2008)[1] एक भारतीय अभिनेता थे जिन्होंने मुख्य रूप से दक्षिण भारत में बनी फिल्मों में काम किया। वे तमिल फिल्मों में खलनायक और चरित्र-भूमिकाएं करने के कारण प्रसिद्ध हो गये। उन्होंने 150 से अधिक मलयालमतमिलतेलुगूकन्नड़ और हिंदी फिल्मों में काम किया है। हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार, “इस अभिनेता ने अपनी विशेष शैली और आवाज़ के साथ अपने लिए एक खास स्थान बना लिया था।”[1]

एक तमिल धारावाहिक, ओरु मानिदानिन कदाई में वे नायक की भूमिका के लिए प्रसिद्ध हो गए थे, जिसमें एक भला आदमी शराबी बन जाता है। मलयालम फिल्म दैवातिन्टे विक्रितिकल में उनकी भूमिका के लिए उनकी बहुत प्रशंसा की गयी। इस फिल्म का निर्देशन लेनिन राजेंद्रन ने किया था और यह एम मुकुन्दन के इसी नाम के उपन्यास पर आधारित थी।

निजी जीवन

उनका जन्म 1958[1] में केरल के पलक्कड़ जिले में कोलेंगोड़े नामक स्थान में हुआ।[कृपया उद्धरण जोड़ें] वे श्री एन. राधा कृष्णा मेनन और सत्यवती अम्मा के पोते और श्री वेलायुद्धन और श्रीमती कस्तूरी के पुत्र थे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]


वे कोयंबटूर में (सरकारी आर्ट्स कॉलेज) से अपनी बैचलर ऑफ आर्ट्स की शिक्षा प्राप्त कर रहे थे, जिसे बीच में ही छोड़ कर उन्होंने अभिनय के कैरियर की शुरुआत की. शुरू में उन्होंने मलयालम फिल्म उद्योग में काम करने की कोशिश की, परन्तु तभी उन्होंने यह जाना कि इसमें उन्हें ज्यादा फायदा नहीं होगा और इस उद्योग में अपनी जगह बनाने के लिए पैसे की जरुरत है। उन्होंने कन्नड़ फिल्म स्वप्ना तिंगलगल में एक छोटी सी भूमिका के साथ शुरुआत की, जिसमें एक कन्नड़ अनुभवी कलाकार अम्ब्रारीश मुख्य भूमिका निभा रहे थे। उन्होंने तेलुगू और कन्नड़ फिल्मों में छोटी छोटी भूमिकाओं के साथ काम करना शुरू किया, इसमें उदय में दो मिनट का एक दृश्य भी शामिल है, जिसमें उन्होंने एक बलात्कारी की भूमिका निभाई थी। इस फिल्म में कन्नड़ अभिनेता विष्णुवर्धन ने मुख्य भूमिका निभाई थी।

1979 से 1983 तक उन्होंने चेन्नई में ड्रामा मंडली, चेन्नई किंग्स में काम किया, इसमें भी लोकप्रिय कन्नड़/तमिल अभिनेता नस्सर शामिल थे। उन्होंने एज़ावाथू मनिथन में एक भूमिका निभाई, यह उनकी अब तक की सबसे बड़ी भूमिका थी। उसके बाद वे सफलता पर सफलता प्राप्त करते चले गए।

उन्होंने मलयालम अभिनेत्री रोहिणी (मगलिर मट्टुम से प्रसिद्ध) से विवाह किया। उन्हें एक पुत्र है, जिसका नाम साईं ऋषिवरन है। बाद में यह दंपती अलग हो गया और उनके बीच तलाक हो गया।[1]

रघुवरन की कई बुरी आदतों ने उनके कैरियर को प्रभावित किया और उन्होंने बार बार अस्पतालों में रहना पडॉ॰[2]

कैरियर

मंच पर शुरुआत के बाद, 1982 में रघुवरन ने तमिल फिल्म एलावाथू मानिथम (सेवन्थ मेन) के साथ फिल्म जगत में प्रवेश किया।[2] तमिल, मलयालम और तेलुगू फिल्मों में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए उन्हें कई राज्य स्तरीय और फिल्मफेयर पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। उन्होंने तमिल में कई फिल्मों में एक सहायक अभिनेता के रूप में काम करते हुए अपने कैरियर की शुरुआत की थी। इसमें मणिरत्नम् की फिल्म अंजलि शामिल है, जिसमें उन्होंने एक स्वलीन बालक के पिता की भूमिका निभाई थी। एक सहायक अभिनेता के रूप में उनकी इस भूमिका को उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनों में से एक माना जाता है। हालांकि वह बाद में उन्होंने एक मंजे हुए खलनायक की यादगार भूमिकाएं निभायीं, जैसे बाशा में मार्क एंथोनी की भूमिका, मुधालवन में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री की भूमिका, शिवा और मुथु रजनीकांत के भतीजे इलेमरण की भूमिका. इसके बाद भी कभी कभी उन्होंने अलाई (सिम्बस का पिता), यारादी नी मोहिनी (धनुष का पिता), तिरुमलाई (विजय का मित्र और गुरु) और बाला (श्याम का गुरु) जैसी फिल्मों में पिता की या गुरु की सहायक भूमिकाएं निभाई.

उन्होंने कई हिंदी फिल्मों में भी अभिनय किया, जैसे कि लाल बादशाह .

रघुवरन की आवाज़ अद्वितीय है और कई बार इसकी नक़ल भी की गयी है। उन्होंने कई पुरस्कार भी जीते हैं।

रजनीकांत, जिन्होंने रघुवरन के साथ कई सफल फिल्मों में अभिनय किया है, उन्हें अपने लिए एक भाग्यशाली अभिनेता मानते है। रजनीकांत ने दावा किया कि फिल्म बाबा सफल नहीं हुई होती अगर रघुवरन ने इसमें काम नहीं किया होता.

बाद में फिल्म शिवाजी के लिए रजनीकांत ने निर्देशक एस. शंकर से कहा कि रघुवरन को भी इसमें कोई भूमिका दी जानी चाहिए; यह फिल्म बहुत अधिक सफल हुई.

मृत्यु

19 मार्च 2008 को सूर्य ग्रहण के दौरान सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर दिल का दौरा पड़ने से रघुवरन की मृत्यु हो गई। ऐसा कहा जाता है कि लम्बे समय से बहुत अधिक शराब पीने के कारण उन्हें जिगर की बीमारी हो गई थी।[1] नींद में ही उनकी मृत्यु हो गई।

उनके निधन के समय वे कई फिल्मों में काम कर रहे थे, इनमें उंचे बजट की तमिल फिल्म कांथास्वामी शामिल थी। इसमें रघुवरनने दिए हुए अभिनय का उपयोग नहीं किया गया, उनकी जगह आशीष विद्यार्थी ने काम किया, जिसके कारण फिल्म की रिलीज़ में देरी हुई. उनकी मृत्यु से दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग को बहुत बड़ा झटका लगा.

फिल्मों की सूची

वर्षफिल्मभूमिकानोट
2009कोडिस्वरनमरणोपरांत फिल्म
देरी से बनी
2009नलवरवुमरणोपरांत फिल्म
उनके दृश्यों को हटा दिया गया; दृश्य हटा दिए गए।
2009कंदास्वामीमरणोपरांत फिल्म
उनके दृश्यों को हटा दिया गया; दृश्य हटा दिए गए
2009मंजीरा
2008अडडा ऐना अलकूमरणोपरांत फिल्म
2008एल्लाम अवन सेयलमरणोपरांत फिल्म
2008यारडी नी मोहिनीवासु के पितामरणोपरांत फिल्म
2008सिला नेरंगलिलकृष्णन
2008तोडक्कम
2008पेल्लिकनी प्रसादगोपाल राव
2008अशोका
2008बीमापेरियावर
2007मरुदामलईसूर्या नारायणन
2007शिवाजी: द बॉसडॉ॰ चेज़ीयनअतिथि उपस्थिति
2007दीपावलीडॉक्टरअतिथि उपस्थिति
2007इवड़ते नकेंटी
2006सिवापदिहारमइलांगो
2005सचिनगोवथम (सचिन के पिता)अतिथि उपस्थिति
2004दुर्गी
2004माससत्या
2004जानाजाना के पिता
2003तिरुमलईकलाकार
2003आन्जनेयावेंकटेशवरन
2002बाला
2002अलाउदीनगंगाधर
2002रनमाधवन का बहनोई
2002रोजा कूट्टमश्रीकांत के पिता
2002दोस्त
2002दयामेजर रुद्राया
2002बॉबी
2002रेडविकटन संपादक
2001मजनूगजपति
2001ग्रहणवकील रघु सिन्हा
2000आज़ाद
2000मुगवरीशिवा
2000कंडुकुंडेन कंडुकुंडेनसौम्या का मालिक
2000पार्तेन रसितेनपन्नीर
1999निलावे वा
1999एन स्वासा काट्रेप्रकाश राज के पिता
1999अमरकलमतुलसी दास
1999लाल बादशाहविक्रम सिंह उर्फ विक्की बादशाह
1999मुदल्वनमुख्यमंत्री अरंगानाथान
1997अनगनगा ओका रोजू
1997अरुणाचलमविश्वनाथन
1997आहारघुराम
1997लव टुडेडॉ॰ चंद्रशेखर
1997नेर्रुक्कू नेर
1997रट्चगनईश्वर
1997उल्लासमजे के विक्रम के पिता
1997सुस्वागतमगणेश के पिता
1996रक्षक
1995तोट्टा चिनुन्गीगोपाल
1995बाशामार्क एंथनी
1995मुत्तुराजशेखर
1994कादलनमल्लिकार्जुन
1992दैवातिन्टे विक्रितिकल
1992सूर्या मानसमसंपत्ति प्रबंधक
1990अंजलिशेखर
1990पुरियादा पुदिर
1990इज्ज़तदार
1986सम्सारम अदु मिन्सारमचिदंबरम
1989राजा चिन्ना रोजाभास्कर
1989लंकेश्वरुदू
1989रुद्रनेत्रा
1989शिवाभवानी
1988एन बोम्मुकुट्टी अम्मावुक्कुएलेक्स
1988अन्नानगर मुदल तेरू
1987जेबू दोंगा
1987पूविली वासलिले
1987माइकल राज
1987कूटू पुलुक्कल
1987मक्कल एन पक्कम
1986मिस्टर भरत
1983ओड़ई नदियाकिरतु
1983रुगमा
1982पसिवादी प्रणामवेणु
1982एलावदु मनिदन

बाहरी कड़ियाँ

सन्दर्भ

  1. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ     “अभिनेता रघुवरन का निधन – हिन्दुस्तान टाईम्स”. मूल से 12 दिसंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जून 2020.
  2. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ  “गल्फ टाईम्स लेख”मूल से 24 मार्च 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जून 2020.

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *