अशोक कुमार

अशोक कुमार

१९४३ में निर्मित फ़िल्म किस्मत में कुमार
व्यवसायअभिनेताचित्रकार
सक्रिय वर्ष१९३६ – १९९७
जीवनसाथीरत्तन बाई

अशोक कुमार (बांग्लाঅশোক কুমার ; १३ अक्टूबर १९११, भागलपुर[1]कुमुद कुमार गांगुली – १० दिसम्बर २००१, मुंबई) हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता थे। सन् १९९९ में भारत सरकार ने उन्हें कला के क्षेत्र में उनके योगदानों के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये महाराष्ट्र राज्य से थे।

व्यक्तिगत जीवन

हिन्दी फ़िल्म इंडस्ट्री में दादा मुनि के नाम से मशहूर कुमार का जन्म एक मध्यम वर्गीय बंगाली परिवार में हुआ था। इनके पिता कुंजलाल गांगुली पेशे से वकील थे[2]। अशोक कुमार ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मध्यप्रदेश के खंडवा शहर में प्राप्त की। बाद मे उन्होंने अपनी स्नातक की शिक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पूरी की। इस दौरान उनकी दोस्ती शशधर मुखर्जी से हुई। भाई बहनो में सबसे बड़े अशोक कुमार की बचपन से ही फ़िल्मों मे काम करके शोहरत की बुंलदियो पर पहुंचने की चाहत थी, लेकिन वह अभिनेता नहीं बल्कि निर्देशक बनना चाहते थे। अपनी दोस्ती को रिश्ते मे बदलते हुए अशोक कुमार ने अपनी इकलौती बहन की शादी शशधर से कर दी। सन 1934 मे न्यू थिएटर मे बतौर लेबोरेट्री असिस्टेंट काम कर रहे अशोक कुमार को उनके बहनोई शशधर मुखर्जी ने बाम्बे टॉकीज में अपने पास बुला लिया[2]

फिल्मी सफर

1936 मे बांबे टॉकीज की फ़िल्म (जीवन नैया) के निर्माण के दौरान फ़िल्म के अभिनेता नजम उल हसन ने किसी कारणवश फ़िल्म में काम करने से मना कर दिया। इस विकट परिस्थिति में बांबे टॉकीज के मालिक हिमांशु राय का ध्यान अशोक कुमार पर गया और उन्होंने उनसे फ़िल्म में बतौर अभिनेता काम करने की पेशकश की। इसके साथ ही ‘जीवन नैया’ से अशोक कुमार का बतौर अभिनेता फ़िल्मी सफर शुरू हो गया। 1937 मे अशोक कुमार को बांबे टॉकीज के बैनर तले प्रदर्शित फ़िल्म ‘अछूत कन्या’ में काम करने का मौका मिला। इस फ़िल्म में जीवन नैया के बाद ‘देविका रानी’ फिर से उनकी नायिका बनी। फ़िल्म मे अशोक कुमार एक ब्राह्मण युवक के किरदार मे थे, जिन्हें एक अछूत लड़की से प्यार हो जाता है। सामाजिक पृष्ठभूमि पर बनी यह फ़िल्म काफी पसंद की गई और इसके साथ ही अशोक कुमार बतौर अभिनेता फ़िल्म इंडस्ट्री मे अपनी पहचान बनाने में सफल हो गए। इसके बाद देविका रानी के साथ अशोक कुमार ने कई फ़िल्मों में काम किया। इन फ़िल्मों में 1937 मे प्रदर्शित फ़िल्म इज्जत के अलावा फ़िल्म सावित्री (1938) और निर्मला (1938) जैसी फ़िल्में शामिल हैं। इन फ़िल्मों को दर्शको ने पसंद तो किया, लेकिन कामयाबी का श्रेय बजाए अशोक कुमार के फ़िल्म की अभिनेत्री देविका रानी को दिया गया। इसके बाद उन्होंने 1939 मे प्रदर्शित फ़िल्म कंगन, बंधन 1940 और झूला 1941 में अभिनेत्री लीला चिटनिश के साथ काम किया। इन फ़िल्मों मे उनके अभिनय को दर्शको द्वारा काफी सराहा गया, जिसके बाद अशोक कुमार बतौर अभिनेता फ़िल्म इंडस्ट्री मे स्थापित हो गए। अशोक कुमार को 1943 मे बांबे टाकीज की एक अन्य फ़िल्म किस्मत में काम करने का मौका मिला। इस फ़िल्म में अशोक कुमार ने फ़िल्म इंडस्ट्री के अभिनेता की पांरपरिक छवि से बाहर निकल कर अपनी एक अलग छवि बनाई। इस फ़िल्म मे उन्होंने पहली बार एंटी हीरो की भूमिका की और अपनी इस भूमिका के जरिए भी वह दर्शको का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने मे सफल रहे। किस्मत ने बॉक्स आफिस के सारे रिकार्ड तोड़ते हुए कोलकाता के चित्रा सिनेमा हॉल में लगभग चार वर्ष तक लगातार चलने का रिकार्ड बनाया। बांबे टॉकीज के मालिक हिमांशु राय की मौत के बाद 1943 में अशोक कुमार बॉम्बे टाकीज को छोड़ फ़िल्मिस्तान स्टूडियों चले गए। वर्ष 1947 मे देविका रानी के बाम्बे टॉकीज छोड़ देने के बाद अशोक कुमार ने बतौर प्रोडक्शन चीफ बाम्बे टाकीज के बैनर तले मशाल जिद्दी और मजबूर जैसी कई फ़िल्मों का निर्माण किया। इसी दौरान बॉम्बे टॉकीज के बैनर तले उन्होंने 1949 में प्रदर्शित सुपरहिट फ़िल्म महल का निर्माण किया। उस फ़िल्म की सफलता ने अभिनेत्री मधुबाला के साथ-साथ पार्श्वगायिका लतामंगेश्कर को भी शोहरत की बुंलदियों पर पहुंचा दिया था।

फिल्म निर्माण

पचास के दशक मे बाम्बे टॉकीज से अलग होने के बाद उन्होंने अपनी खुद की कंपनी शुरू की और जूपिटर थिएटर को भी खरीद लिया। अशोक कुमार प्रोडक्शन के बैनर तले उन्होंने सबसे पहली फ़िल्म समाज का निर्माण किया, लेकिन यह फ़िल्म बॉक्स आफिस पर बुरी तरह असफल रही। इसके बाद उन्होनें अपने बैनर तले फ़िल्म परिणीता भी बनाई। लगभग तीन वर्ष के बाद फ़िल्म निर्माण क्षेत्र में घाटा होने के कारण उन्होन अपनी प्रोडक्शन कंपनी बंद कर दी। 1953 मे प्रदर्शित फ़िल्म परिणीता के निर्माण के दौरान फ़िल्म के निर्देशक बिमल राय के साथ उनकी अनबन हो गई थी। जिसके कारण उन्होंने बिमल राय के साथ काम करना बंद कर दिया, लेकिन अभिनेत्री नूतन के कहने पर अशोक कुमार ने एक बार फिर से बिमल रॉय के साथ 1963 मे प्रदर्शित फ़िल्म बंदिनी मे काम किया यह फ़िल्म हिन्दी फ़िल्म के इतिहास में आज भी क्लासिक फ़िल्मों में शुमार की जाती है। 1967 मे प्रदर्शित फ़िल्म .ज्वैलथीफ. में अशोक कुमार के अभिनय का नया रूप दर्शको को देखने को मिला। इस फ़िल्म में वह अपने सिने कैरियर मे पहली बार खलनायक की भूमिका मे दिखाई दिए। इस फ़िल्म के जरिए भी उन्होंने दर्शको का भरपूर मनोरंजन किया। अभिनय मे आई एकरुपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिए अशोक कुमार ने खुद को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया। इनमें 1968 मे प्रदर्शित फ़िल्म आर्शीवाद खास तौर पर उल्लेखनीय है। फ़िल्म में बेमिसाल अभिनय के लिए उनको सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस फ़िल्म मे उनका गाया गाना रेल गाड़ी-रेल गाड़ी बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।

दादामुनि और दूरदर्शन

1984 मे दूरदर्शन के इतिहास के पहले शोप ओपेरा हमलोग में वह सीरियल के सूत्रधार की भूमिका मे दिखाई दिए और छोटे पर्दे पर भी उन्होंने दर्शको का भरपूर मनोरंजन किया। दूरदर्शन के लिए ही दादामुनि ने भीमभवानी बहादुर शाह जफर और उजाले की ओर जैसे सीरियल मे भी अपने अभिनय का जौहर दिखाया।

पुरस्कार व सम्मान

अशोक कुमार को दो बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फ़िल्म फेयर पुरस्कार से भी नवाजा गया। पहली बार राखी 1962 और दूसरी बार आर्शीवाद 1968। इसके अलावा 1966 मे प्रदर्शित फ़िल्म अफसाना के लिए वह सहायक अभिनेता के फ़िल्म फेयर अवार्ड से भी नवाजे गए। दादामुनि को हिन्दी सिनेमा के क्षेत्र में किए गए उत्कृष्ठ सहयोग के लिए 1988 में हिन्दी सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानितअशोक कुमार भारतीय सिनेमा के एक प्रमुख अभिनेता रहे हैं। प्रसिद्ध गायक किशोर कुमार भी आपके ही सगे भाई थे। लगभग छह दशक तक अपने बेमिसाल अभिनय से दर्शकों के दिल पर राज करने वाले अशोक कुमार का निधन १० दिसम्बर २००१ को हुआ[2]

प्रमुख फिल्में

वर्षफ़िल्मचरित्रटिप्पणी
1997आँखों में तुम हो
1996रिटर्न ऑफ ज्वैलथीफ
दुश्मन दुनिया काडॉक्टर
बेकाबू
1995जमला हो जमला
मेरा दामादअजीत खन्ना
1994यूंही कभी
1993आँसू बने अंगारे
1992हमला
1991मौत की सज़ा
आधि मिमांसा
1989ममता की छाँव में
क्लर्कभरत के पिता
अनजाने रिश्ते
दाना पानी
सच्चाई की ताकत
मज़बूर
1988फ़ैसलारहमान
भारत एक खोज
इन्तकाम
1987आवाम
हिफ़ाज़त
वो दिन आयेगा
वतन के रखवालेप्रोफेसर पीटर फ़र्नांडीज़
प्यार की जीत
मिस्टर इण्डिया
जवाब हम देंगे
सुपरमैन
1986भीम भवानी
प्यार किया है प्यार करेंगेअब्दुल रहमान
दहलीज़
कत्ल
असली नकली
शत्रुसुपरिटेन्डेन्ट पुलिस
1985एक डाकू शहर मेंपुलिस इंस्पेक्टर
दुर्गा
फिर आई बरसात
तवायफ़
1984दुनिया
फ़रिश्ताराय बहादुर
राम तेरा देशराम दास
हम लोग
राजा और राना
अकलमंदमेजर
गृहस्थीशंकर
हम रहे ना हम
1983महान
काया पलट
लव इन गोआ
हादसा
चोर पुलिस
प्रेम तपस्या
बेकरार
पसन्द अपनी अपनीशांतिलाल आनन्द
तकदीर
1982डायल 100
चलती का नाम ज़िन्दगी
संबंध
शक्ति
मेहंदी रंग लायेगी
दर्द का रिश्ता
अनोखा बंधन
1981जय यात्रारामनाथ वर्मा
महफ़िल
मान गये उस्ताद
शौकीनओम प्रकाश चौधरी
ज्योति
1980सौ दिन सास केकर्नल गुप्ता
जुदाईनिवृत्त न्यायाधीश उमाकांत वर्मा
खूबसूरत
ज्योति बने ज्वाला
आखिरी इंसाफ
ख़्वाब
साजन मेरे मैं साजन की
आप के दीवाने
टक्कर
नज़राना प्यार कामहेश कुमार गुप्ता
1979बगुला भगत
जनता हवलदार
अमर दीपडॉन (अतिथि पात्र)
1978खट्टा मीठा
तुम्हारे लियेडाक्टर वाचस्पति/वैद्यराज
अपना कानून
दो मुसाफ़िर
चोर के घर चोर
प्रेमी गंगाराम
अनमोल तस्वीर
फूल खिले हैं गुलशन गुलशनलाला गनपत राय
दिल और दीवार
1977अनुरोध
ड्रीम गर्लमिस्टर वर्मा
आनंद आश्रम
प्रायश्चित
चला मुरारी हीरो बनने
हीरा और पत्थर
मस्तान दादा
आनन्द आश्रमठाकुर
जादू टोना
सफेद झूठगुलाटी
1976भँवर
एक से बढ़कर एकराजा
शंकर दादासुपरिटेन्डेन्ट पुलिस
संतान
अर्जुन पंडित
आप बीती
रंगीला रतन
बारूद
1975आक्रमण
एक महल हो सपनों का
चोरी मेरा कामशंकर
मिली
छोटी सी बात
उलझन
दफ़ा ३०२
1974खून की कीमत
पैसे की गुड़िया
बढ़ती का नाम दाढ़ी
उजाला ही उजालाप्रोफेसर श्यामलाल गुप्ता
प्रेम नगर
दुल्हन
दो आँखें
1973हिफ़ाज़त
टैक्सी ड्राइवर
बड़ा कबूतर
दो फूल
धुंध
1972दिल दौलत दुनिया
राखी और हथकड़ी
रानी मेरा नाम
सा रे गा मा पा
विक्टोरिया नम्बर २०३राजा
मालिक
सज़ा
गरम मसाला
ज़मीन आसमानशांति स्वरूप
अनुरागमिस्टर राय
ज़िन्दगी ज़िन्दगीचौधरी रामप्रसाद
1971अधिकार
नया ज़माना
दूर का राही
पाकीज़ाशहाबुद्दीन
कंगन
हम तुम और वो
1970पूरब और पश्चिम
माँ और ममताविलियम
सफर
शराफ़त
जवाबजमींदार उमा शंकर
1969सत्यकाम
आराधना
प्यार का सपना
भाई बहनराजा विक्रम प्रताप
इंतकामहीरालाल मेहरा
पैसा या प्यार
दो भाई
आँसू बन गये फूल
1968आशीर्वादशिव नाथ
एक कली मुस्काई
साधू और शैतान
दिल और मोहब्बत
आबरू
1967ज्वैलथीफअर्जुन सिंह
बहू बेगमनवाब सिकन्दर मिर्ज़ा
नई रोशनी
(1967 फ़िल्म)मुखर्जी
मेहरबाँ
1966अफ़साना
तूफान में प्यार कहाँ
ये ज़िन्दगी कितनी हसीन है
दादी माँ
ममतामनीष रॉय
1965आधी रात के बाद
भीगी रात
ऊँचे लोगमेजर चन्द्रकाँत
(1965 फ़िल्म)
नया कानून
आकाशदीप
बहू बेटीजज
चाँद और सूरज
1964क्रॉसरोड्स
चित्रलेखा
पूजा के फूल
बेनज़ीरनवाब
फूलों की सेजडॉक्टर वर्मा
दूज का चाँद
1963बन्दिनी
गृहस्थीहरीश चन्द्र खन्ना
ये रास्ते हैं प्यार के
उस्तादों के उस्ताद
गुमराहबैरिस्टर अशोक
मेरी सूरत तेरी आँखें
मेरे महबूब
आज और कल
1962आरती
बर्मा रोड
इसी का नाम दुनिया
मेहेंदी लगी मेरे हाथ
प्राइवेट सेक्रेटरी
उम्मीद
नकली नवाब
राखी
1961धर्मपुत्र
फ्लैट नम्बर ९
वारंट
डार्क स्ट्रीट
1960मासूम
आँचल
काला आदमी
कानूनजज बद्री प्रसाद
हौस्पिटल
कल्पनाअमर
1959धूल का फूल
बाप बेटे
डाका
नई राहें
कंगन
बेदर्द ज़माना क्या जाने
1958फ़रिश्ता
कारीगर
रागिनी
सितारों के आगे
हावड़ा ब्रिज
चलती का नाम गाड़ीब्रिजमोहन शर्मा
सवेरा
1957शेरू
एक सालसुरेश कुमार
तलाश
बंदीशंकर
उस्ताद
मिस्टर एक्स
1956भाई भाईअशोक कुमार
शतरंज
एक ही रास्ताप्रकाश मेहता
इंस्पेक्टर
1955सरदार
भगवत महिमा
बंदिशकमल रॉय
1954लकीरें
समाज
नाज़
बादबाँ
1953परिनीताशेखर राय
शमशीर
शोले
1952जलपरी
काफ़िला
नौ बहारअशोक
राग रंग
बेवफ़ाअशोक
बेताब
सलोनी
तमाशा
पूनम
1951अफ़साना
दीदार
1950खिलाड़ी
समाधिशेखर
निशाना
मशालसमर
संग्राम
आधी रात
1949महलहरी शंकर
1948पदमिनी
1947साजन
चन्द्रशेखरप्रताप
1946एट डेज़शमशेर सिंह
शिकारी
(1946 फ़िल्म)
1945बेगम
हुमायूँ
1944किरन
चल चल रे नौजवानअर्जुन
1943अंगूठी
किस्मतशेखर
नज़मायुसुफ़
1941अंजानअजीत
झूलारमेश
नया संसार
1940आज़ाद
बंधननिर्मल
1939कंगनकमल
1938निर्मला
वचन
1937इज़्ज़त
प्रेम कहानी
सावित्री
1936अछूत कन्याप्रताप
जन्मभूमिअजय
जीवन नैयारंजीत

बतौर निर्माता

वर्षफ़िल्मटिप्पणी
1983लाल चुनरिया
1953परिनीता
1949महल

नामांकन और पुरस्कार

सन्दर्भ

  1.  “अशोक कुमार को देख रणबीर कपूर की दादी ने हटा लिया था घूंघट”दैनिक भास्कर. 14 अक्टूबर 2014. मूल से 14 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 अक्टूबर 2014.
  2. ↑ इस तक ऊपर जायें:अ   “सबके प्यारे थे हिन्दी सिनेमा के पहले ‘एंटी हीरो’ अशोक कुमार”आज तक. 14 अक्टूबर 2014. मूल से 15 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 अक्टूबर 2014.

बाहरी कड़ियाँ

[छुपाएँ]देवासं    १९९९ में पद्म भूषण धारक    
अन्य  :रामकिंकर उपाध्याय  • उद्योग  :सोहराब फिरोजशाह गोदरेज  • कला  :अशोक कुमार  • चिकित्सा  :सेंगमेदु श्रीनिवास बद्रीनाथ  • विज्ञान  :अनिल काकोदकर  • जॉर्ज जोसफ  • कृष्णमूर्ति संथानम  • समाज  :जैकब चेरियन  • हरिदेव शौरी  • पुष्पालता दास  • उपक्रम  :जगप्रवेश चंद्र  • साहित्य  :शिवमंगल सिंह सुमन  • विद्या निवास मिश्र  • डी सी किज़ाकेमुरी  •
[छुपाएँ]देवासंदादासाहेब फाल्के पुरस्कार
1969-1990देविका रानी (1969)बीरेन्द्रनाथ सरकार (1970)पृथ्वीराज कपूर (1971)पंकज मलिक (1972)रूबी मेयर्स (1973)बोम्मिरेड्डी नरसिम्हा रेड्डी (1974)धीरेन्द्रनाथ गांगुली (1975)कानन देवी (1976)नितिन बोस (1977)रायचन्द बोराल (1978)सोहराब मोदी (1979)पैडी जयराज (1980)नौशाद (1981)एल॰ वी॰ प्रसाद (1982)दुर्गा खोटे (1983)सत्यजित राय (1984)वी शांताराम (1985)बी॰ नागि रेड्डी (1986)राज कपूर (1987)अशोक कुमार (1988)लता मंगेशकर (1989)अक्किनेनी नागेश्वर राव (1990)
1991-2010भालजी पेंढारकर (1991)भुपेन हजारिका (1992)मजरुह सुल्तानपुरी (1993)दिलीप कुमार (1994)राजकुमार (1995)शिवाजी गणेशन (1996)प्रदीप (1997)बी॰ आर॰ चोपड़ा (1998)ऋषिकेश मुखर्जी (1999)आशा भोंसले (2000)यश चोपड़ा (2001)देव आनन्द (2002)मृणाल सेन (2003)अदूर गोपालकृष्णन (2004)श्याम बेनेगल (2005)तपन सिन्हा (2006)मन्ना डे (2007)वीके मूर्ति (2008)डी रामानायडू (2009)के बालाचंदर (2010)
2011-2030सौमित्र चटर्जी (2011)प्राण (2012)गुलज़ार (2013)शशि कपूर (2014)मनोज कुमार (2015)कसीनथुनी विश्वनाथ (2016)विनोद खन्ना (2017)अमिताभ बच्चन (2018)रजनीकान्त (2019)
[छुपाएँ]देवासंश्रेष्ठ अभिनेता के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार
1967-1980उत्तम कुमार (1967)अशोक कुमार (1968)उत्पल दत्त (1969)संजीव कुमार (1970)एम. जी. रामचन्द्रन (1971)संजीव कुमार (1972)पीजे एंटनी (1973)साधु महर (1974)एमवी वासुदेव राव (1975)मिथुन चक्रवर्ती (1976)भरत गोपी (1977)अरुण मुखर्जी (1978)नसीरुद्दीन शाह (1979)बालन के नायर (1980)
1981-2000ओम पुरी (1981)कमल हासन (1982)ओम पुरी (1983)नसीरुद्दीन शाह (1984)शशि कपूर (1985)चारुहासन (1986)कमल हासन (1987)प्रेमजी (1988)मामूट्टी (1989)अमिताभ बच्चन (1990)मोहनलाल (1991)मिथुन चक्रवर्ती (1992)मामूट्टी (1993)नाना पाटेकर (1994)रजत कपूर (1995)कमल हासन (1996)सुरेश गोपी तथा बालचन्द्र मेनन (1997)मामूट्टी तथा अजय देवगन (1998)मोहनलाल (1999)अनिल कपूर (2000)
2001-वर्तमानमुरली (2001)अजय देवगन (2002)विक्रम (2003)सैफ़ अली ख़ान (2004)अमिताभ बच्चन (2005)सौमित्र चटर्जी (2006)प्रकाश राज (2007)उपेंद्र लिमये (2008)अमिताभ बच्चन (2009)सलीम कुमार तथा धनुष (2010)गिरीश कुलकर्णी (2011)इरफ़ान ख़ान तथा विक्रम गोखले (2012)राजकुमार राव तथा सूरज वेंजरमूदु (2013)संचरी विजय (2014)अमिताभ बच्चन (2015)अक्षय कुमार (2016)रिद्धि सेन (2017)आयुष्मान खुराना तथा विक्की कौशल (2018)
[छुपाएँ]देवासंफ़िल्मफ़ेयर लाइफ़ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार
1991–2000अमिताभ बच्चन (1991)देव आनन्द (1992)दिलीप कुमार (1993)लता मंगेशकर (1994)शम्मी कपूर & वहीदा रहमान (1995)अशोक कुमारसुनील दत्त & वैजयन्ती माला (1996)धर्मेन्द्रमुमताज़ & प्राण (1997)शर्मिला टैगोर (1998)मनोज कुमार & हेलन (1999)विनोद खन्ना & हेमा मालिनी (2000)
2001–2010फ़िरोज़ ख़ान & आशा भोंसले (2001)गुलजार & आशा पारेख (2002)जितेन्द्र (2003)सुलोचनानिरूपा रॉय & बी॰ आर॰ चोपड़ा (2004)राजेश खन्ना (2005)शबाना आज़मी (2006)जावेद अख्तर & जया बच्चन (2007)ऋषि कपूर (2008)भानु अथैया & ओम पुरी (2009)शशि कपूर & खय्याम (2010)
2011–2020मन्ना डे (2011)प्यारेलाल & अरुणा ईरानी (2012)यश चोपड़ा (2013)तनुजा (2014)कामिनी कौशल (2015)मौसमी चटर्जी (2016)
[छुपाएँ]देवासंफ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार
1954–1969दिलीप कुमार (1954)भारत भूषण (1955)दिलीप कुमार (1956)दिलीप कुमार (1957)दिलीप कुमार (1958)देव आनन्द (1959)राज कपूर (1960)दिलीप कुमार (1961)राज कपूर (1962)अशोक कुमार (1963)सुनील दत्त (1964)दिलीप कुमार (1965)सुनील दत्त (1966)देव आनन्द (1967)दिलीप कुमार (1968)शम्मी कपूर (1969)
1970–1989अशोक कुमार (1970)राजेश खन्ना (1971)राजेश खन्ना (1972)मनोज कुमार (1973)ऋषि कपूर (1974)राजेश खन्ना (1975)संजीव कुमार (1976)संजीव कुमार (1977)अमिताभ बच्चन (1978)अमिताभ बच्चन (1979)अमोल पालेकर (1980)नसीरुद्दीन शाह (1981)नसीरुद्दीन शाह (1982)दिलीप कुमार (1983)नसीरुद्दीन शाह (1984)अनुपम खेर (1985)कमल हासन (1986)Not awarded (1987, 1988)अनिल कपूर (1989)
1990–2009जैकी श्रॉफ (1990)सनी देओल (1991)अमिताभ बच्चन (1992)अनिल कपूर (1993)शाहरुख खान (1994)नाना पाटेकर (1995)शाहरुख खान (1996)आमिर ख़ान (1997)शाहरुख खान (1998)शाहरुख खान (1999)संजय दत्त (2000)ऋतिक रोशन (2001)आमिर ख़ान (2002)शाहरुख खान (2003)ऋतिक रोशन (2004)शाहरुख खान (2005)अमिताभ बच्चन (2006)ऋतिक रोशन (2007)शाहरुख खान (2008)ऋतिक रोशन (2009)
2010–2029अमिताभ बच्चन (2010)शाहरुख खान (2011)रणबीर कपूर (2012)रणबीर कपूर (2013)फरहान अख्तर (2014)शाहिद कपूर (2015)रणवीर सिंह (2016)आमिर ख़ान (2017)इरफ़ान ख़ान (2018)रणबीर कपूर (2019)रणवीर सिंह (2020)
[छुपाएँ]देवासंफ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार
1954-1975डेविड (1955)अभि भट्टाचार्य (1956)मोतीलाल (1957)राज मेहरा (1958)जॉनी वॉकर (1959)मनमोहन कृष्णा (1960)मोतीलाल (1961)नाना पालसिकर (1962)महमूद (1963)राज कुमार (1964)नाना पालसिकर (1965)राज कुमार (1966)अशोक कुमार (1967)प्राण (1968)संजीव कुमार (1969)प्राण (1970)फ़िरोज़ ख़ान (1971)अमिताभ बच्चन (1972)प्राण (1973)अमिताभ बच्चन (1974)विनोद खन्ना (1975)
1976-1995शशि कपूर (1976)प्रेम चोपड़ा (1977)श्रीराम लागू (1978)सईद जाफ़री (1979)अमज़द ख़ान (1980)ओम पुरी (1981)अमज़द ख़ान (1982)शम्मी कपूर (1983)सदाशिव अमरापुरकर (1984)अनिल कपूर (1985)अमरीश पुरी (1986)कोई पुरस्कृत नहीं (1987, 1988)अनुपम खेर (1989)नाना पाटेकर (1990)मिथुन चक्रवर्ती (1991)डैनी डेन्जोंगपा (1992)डैनी डेन्जोंगपा (1993)सनी देओल (1994)जैकी श्रॉफ (1995)
1996-2015जैकी श्रॉफ (1996)अमरीश पुरी (1997)अमरीश पुरी (1998)सलमान ख़ान (1999)अनिल कपूर (2000)अमिताभ बच्चन (2001)अक्षय खन्ना (2002)विवेक ओबेरॉय (2003)सैफ़ अली ख़ान (2004)अभिषेक बच्चन (2005)अभिषेक बच्चन (2006)अभिषेक बच्चन (2007)इरफ़ान ख़ान (2008)अर्जुन रामपाल (2009)बोमन ईरानी (2010)रॉनित रॉय (2011)फरहान अख्तर (2012)अन्नू कपूर (2013)नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी (2014)के के मेनन (2015)
2016-2035अनिल कपूर (2016)ऋषि कपूर (2017)राजकुमार राव (2018)गजराज रावविक्की कौशल (2019)सिद्धांत चतुर्वेदी (2020)

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *