कमल कपूर

कमल कपूर
आवासलाहौरपंजाबब्रिटिश भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसायअभिनेता
सक्रिय वर्ष1946-97
जीवनसाथीसुमन देवी कपूर
बच्चे5 समेत;
कपिल कपूर (निर्देशक)
संबंधीरविन्द्र कपूर (भाई)

कमल कपूर (पंजाबी: ਕਮਲ ਕਪੂਰ) एक भारतीय बॉलीवुड अभिनेता थे जिन्होंने लगभग 600 हिन्दीपंजाबी और गुजराती फ़िल्मों मे काम किया था।[1]

प्रारंभिक जीवन

उनका जन्म 1920 में लाहौरपंजाब में हुआ। उन्होंने लाहौर के ही डीएवी कॉलेज से शिक्षा प्राप्त की। वे पृथ्वीराज कपूर के चचेरे भाई और गोल्डी बहल के नाना थे।

फ़िल्मी सफ़र

उन्होने अपने सफर की शुरुआत 1940-50 के दौर में नायक के रूप में की थी। उनकी पहली फ़िल्म “दूर चलें” थी जो 1946 मे प्रदर्शित हुई। साठ के दशक से उन्होने खलनायक की भूमिका करनी आरंभ की, इनमें से कुछ लोकप्रिय किरदार पाक़ीज़ा (1972) में नवाब जफर अली खान, डॉन (1978) में नारंग और मर्द (1985) में जनरल डायर रहें।

प्रमुख फ़िल्में

वर्षफ़िल्मभूमिका
1947डाक बंग्ला
हातिमताई
1948आगवकील खन्ना
1961रेशमी रूमालदीपक
1962एक मुसाफ़िर एक हसीनारंजीत
1965जब जब फूल खिलेराय बहादुर चुन्नीलाल खन्ना
शहीदसरकारी वकील
1967तकदीरविजय
राज़सुनील का मित्र
1968राजा और रंकसेनापति विक्रम
1970सच्चा झूठापुलिस कमीश्नर
1972पाक़ीज़ानवाब जफर अली खान
सीता और गीतारवि के पिता
गोरा और कालादिलावर सिंह
1973बलैक मेलडॉ० जे० के० शेट्टी
हँसते ज़ख़्मदौलत सिंह
1978डॉननारंग
1985मर्दजनरल डायर
1989तूफानएसीपी शर्मा

सन्दर्भ

  1.  Encyclopedia of Bollywood–Film Actors (2010 संस्करण). Diamond. 10 October 2010. पृ॰ 260. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-8128828997.

बाहरी कड़ियाँ

श्रेणियाँ

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *