मराठा साम्राज्य

[छुपाएँ]देवासंमराठा साम्राज्य का इतिहास राज्यकर्ता छत्रपति शिवाजी · संभाजी · राजाराम · ताराबाई · शाहु पेशवा मोरोपंत पिंगले · बालाजी विश्वनाथ · बाजीराव प्रथम  · नानासाहेब · माधवराव · नारायणराव · रघुनाथराव · सवाई माधवराव · बाजीराव द्वितीय · नाना साहब अष्टप्रधानमंडळ शिवकालीन अष्टप्रधानमंडळ · रामचंद्रपंत अमात्य  · राम शास्त्री प्रमुख स्त्रियाँ जिजाबाई  · सईबाई  · सोयराबाई  · येसूबाई  · ताराबाई  · अहिल्याबाई होल्कर  · राधाबाई · काशीबाई  · मस्तानी सेनापति माणकोजी दहातोंडे · नेताजी पालकर · हंबीरराव मोहिते · प्रतापराव गुजर · संताजी घोड़पड़े · धनाजी जाधव · चंद्रसेन जाधव · कान्होजी आंग्रे प्रमुख सरदार/सूबेदार दादाजी कोंडदेव · तानाजी मालुसरे · बाजी पासलकर · बाजीप्रभु देशपाण्डे · मल्हारराव होलकर · महादजी शिंदे प्रमुख वीर/दुर्गपति मुरारबाजी देशपांडे · मानाजी पायगुडे · मायनाक भंडारी · बाजी पासलकर · जिवा महाला प्रमुख अभियान सूरत की […]

अमात्य

भारतीय राजनीति के अनुसार अमात्य राज्य के सात अंगों में दूसरा अंग है, जिसका अर्थ है – मंत्री। राजा के परामर्शदाताओं के लिए ‘अमात्य’, ‘सचिव’ तथा ‘मंत्री’ – इन तीनों शब्दों का प्रयोग प्राय: किया जाता है। इनमें अमात्य नि:संदेह प्राचीनतम है। ऋग्वेद के एक मंत्र (४.४.१) में “अमवान्”‘ शब्द का यास्क द्वारा निर्दिष्ट अर्थ “अमात्ययुक्त” ही है (निरूक्त ६.१२)। व्युत्पति के […]

अमृतराव

अमृत राव (c. 1770 – 1824) पेशवा रघुनाथराव के दतक पुत्र थे। पूर्व जीवन अमृत राव का जन्म १७७० में हुआ। उनको मराठा पेशवा रघुनाथराव नें दतक पुत्र बनाया जिन्होंने १७७५ में ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी से सम्बंध स्थापित किये। यद्यपि १७८२ में सालबाई की संधि ने के स्थान पर उनके प्रतिद्वंद्वी माधव राव द्वितीय को पेशवा बना दिया।उसके बाद वर्ष […]

अली बहादुर

हरि बहादुर का जन्म 1758 ईस्वी में हुआ था और 3 वर्ष की उम्र में उनके पिता शमशेर बहादुर प्रथम की मोत पानीपत के तृतीय युद्ध में हो गई थी।उसके बाद उन्होंने कई सारे मराठा सरदारों की सहायता से बुंदेलखंड के बड़े हिस्से पर अपना प्रभुत्व स्थापित किया। उनकी माता का नाम मेहराम बाई था 1802 ईसवी […]

अष्टप्रधान

मराठा शासक छत्रपति शिवाजी महाराज के सलाहकार परिषद को अष्टप्रधान कहा जाता था। शासन के कार्यों को सुचारू रूप से चलाने के लिए छत्रपति शिवाजी महाराज ने एक 8 मन्त्रियों की परिषद का गठन किया था जिसे छत्रपती शिवाजी का अष्टप्रधान मण्डल कहा जाता था। इस परिषद का प्रत्येक मन्त्री अपने विभाग का प्रमुख होता था। अष्टप्रधान परिषद के सभी मंत्री शिवाजी के […]

आंग्ल-मराठा युद्ध

भारत के इतिहास में तीन आंग्ल-मराठा युद्ध हुए हैं। ये तीनों युद्ध 1775 ई. से 1819 ई. तक चले। ये युद्ध ब्रिटिश सेनाओं और ‘मराठा महासंघ’ के बीच हुए थे। इन युद्धों का परिणाम यह हुआ कि मराठा महासंघ का पूरी तरह से विनाश हो गया। मराठों में पहले से ही आपस में काफ़ी भेदभाव थे, जिस कारण […]

कान्होजी आंग्रे

सरखेलकान्होजी आंग्रेदरियासारंग कान्होजी आंग्रे उपनाम समुंद्र का शिवाजी जन्म १६९९सवर्नदुर्ग, रत्नागिरि, महाराष्ट्र, भारत देहांत ४ जुलाई १७२९अलीबाग, महाराष्ट्र, भारत निष्ठा मराठा साम्राज्य सेवा/शाखा मराठा नौसेना सेवा वर्ष १६८९ से १७२९ उपाधि ग्रेण्ड एडमिरल सम्बंध मथुराबाई, लक्ष्मीबाई और गहीनाबाई (पत्नियां), सेखोजी, सम्भाजी, माणाजी, येसशाजी और धोंदजी (बेटे) कान्होजी आंग्रे (जन्म: अगस्त 1669, देहान्त: 4 जुलाई 1729), 18वीं सदी ई॰ में मराठा साम्राज्य की नौसेना के […]

काशीबाई

काशीबाई जीवनसाथी बाजीराव प्रथम बच्चे ४ माता-पिता महादजी कृष्ण जोशीशिऊबाई [1] काशीबाई १८वीं सदी के मराठा साम्राज्य के प्रधानमंत्री (पेशवा) बाजीराव प्रथम की पहली पत्नी थी। उनके चार पुत्र थे जिनमें से बालाजी बाजीराव और रघुनाथराव आगे चल कर पेशवा बने।[2] बाजीराव की दुसरी शादी के बाद बुंदेलखंड राज्य की मस्तानी काशीबाई की सौतन थी। बाजीराव की मौत के बाद काशीबाई ने विभिन्न तीर्थयात्राएं की। कुछ इतिहासकारों के […]

कोरेगाँव की लड़ाई

कोरेगांव की लड़ाई तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध का भाग भीमा कोरेगांव जय स्तंभ तिथि१ जनवरी १८१८स्थानभीमा कोरेगांव (अब महाराष्ट्र, भारत)18°38′44″N 074°03′33″Eनिर्देशांक: 18°38′44″N 074°03′33″Eपरिणामब्रिटिश सेना की जीत, पेशवाओं की पराजय योद्धा  ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी  मराठा साम्राज्य का पेशवा गुट सेनानायक कैप्टन फ्रांसिस एफ॰ स्टोंटन पेशवा बाजीराव द्वितीयबापू गोखलेअप्पा देसाईत्रिम्बक जी देंगले शक्ति/क्षमता 834, जिसमे लगभग 500 की पैदल सेना, 300 के आसपास घुड़सवार […]

कोल्हापुर रियासत

Kolhapur Stateकोल्हापूर रियासत ← १७०७–१९४९ → ध्वजकुलांक Kolhapur 1896 राजधानी निर्दिष्ट नहीं शासन प्रणाली निर्दिष्ट नहीं इतिहास  –  स्थापित १७०७  –  भारत की स्वतंत्रता १९४९ क्षेत्रफल  –  १९०१ 8,332 किमी ² (3,217 वर्ग मील) जनसंख्या  –  १९०१ est. 9,10,011       घनत्व 109.2 /किमी ²  (282.9 /वर्ग मील) आज इन देशों का हिस्सा है: महाराष्ट्र, भारत इस लेख की सामग्री सम्मिलित हुई […]