अमोघवर्ष २

अमोघवर्ष २ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश दन्तिदुर्ग (735 – 756) • कृष्ण प्रथम (756 – 774) • गोविन्द द्वितीय (774 – 780) • ध्रुव धारवर्ष (780 – 793) • गोविन्द तृतीय (793 – 814) • अमोघवर्ष प्रथम (814 – 878) • कृष्ण द्वितीय (878 – 914)• इन्द्र तृतीय (914 -929) • अमोघवर्ष द्वितीय (929 – 930) • गोविन्द चतुर्थ (930 – 936) • अमोघवर्ष तृतीय (936 – 939) • कृष्ण तृतीय (939 – 967) • खोट्टिग […]

अमोघवर्ष ३

अमोघवर्ष ३ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश दन्तिदुर्ग (735 – 756) • कृष्ण प्रथम (756 – 774) • गोविन्द द्वितीय (774 – 780) • ध्रुव धारवर्ष (780 – 793) • गोविन्द तृतीय (793 – 814) • अमोघवर्ष प्रथम (814 – 878) • कृष्ण द्वितीय (878 – 914)• इन्द्र तृतीय (914 -929) • अमोघवर्ष द्वितीय (929 – 930) • गोविन्द चतुर्थ (930 – 936) • अमोघवर्ष तृतीय (936 – 939) • कृष्ण तृतीय (939 – 967) • खोट्टिग […]

इन्द्र ३

इन्द्र ३ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश दन्तिदुर्ग (735 – 756) • कृष्ण प्रथम (756 – 774) • गोविन्द द्वितीय (774 – 780) • ध्रुव धारवर्ष (780 – 793) • गोविन्द तृतीय (793 – 814) • अमोघवर्ष प्रथम (814 – 878) • कृष्ण द्वितीय (878 – 914)• इन्द्र तृतीय (914 -929) • अमोघवर्ष द्वितीय (929 – 930) • गोविन्द चतुर्थ (930 – 936) • अमोघवर्ष तृतीय (936 – 939) • कृष्ण तृतीय (939 – 967) • खोट्टिग […]

इन्द्र ४

इन्द्र ४ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश दन्तिदुर्ग (735 – 756) • कृष्ण प्रथम (756 – 774) • गोविन्द द्वितीय (774 – 780) • ध्रुव धारवर्ष (780 – 793) • गोविन्द तृतीय (793 – 814) • अमोघवर्ष प्रथम (814 – 878) • कृष्ण द्वितीय (878 – 914)• इन्द्र तृतीय (914 -929) • अमोघवर्ष द्वितीय (929 – 930) • गोविन्द चतुर्थ (930 – 936) • अमोघवर्ष तृतीय (936 – 939) • कृष्ण तृतीय (939 – 967) • खोट्टिग […]

कर्क २

कर्क २ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश दन्तिदुर्ग (735 – 756) • कृष्ण प्रथम (756 – 774) • गोविन्द द्वितीय (774 – 780) • ध्रुव धारवर्ष (780 – 793) • गोविन्द तृतीय (793 – 814) • अमोघवर्ष प्रथम (814 – 878) • कृष्ण द्वितीय (878 – 914)• इन्द्र तृतीय (914 -929) • अमोघवर्ष द्वितीय (929 – 930) • गोविन्द चतुर्थ (930 – 936) • अमोघवर्ष तृतीय (936 – 939) • कृष्ण तृतीय (939 – 967) • खोट्टिग […]

कृष्ण तृतीय

कृष्ण तृतीय ( 939 – 967 ई), मान्यखेत के राष्ट्रकूट राजवंश का अन्तिम महान एवं योग्य शासक था। मध्यप्रदेश के छिन्दवाड़ा जिले के नोलाझिर नामक ग्राम में कई शिवलिंग मिले है जिन्हे आज गोदरदेव के नाम से प्रसिद्ध है। जो कृष्ण तृतीय के समय के है। यहाँ प्रतिवर्ष मकर सक्रांति में मेला लगता है [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश […]

कृष्ण १

कृष्ण १ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। [छुपाएँ]देवासंराष्ट्रकूट राजवंश राष्ट्रकूट राजवंश दन्तिदुर्ग (735 – 756) • कृष्ण प्रथम (756 – 774) • गोविन्द द्वितीय (774 – 780) • ध्रुव धारवर्ष (780 – 793) • गोविन्द तृतीय (793 – 814) • अमोघवर्ष प्रथम (814 – 878) • कृष्ण द्वितीय (878 – 914)• इन्द्र तृतीय (914 -929) • अमोघवर्ष द्वितीय (929 – 930) • गोविन्द चतुर्थ (930 – 936) • अमोघवर्ष तृतीय (936 – 939) • कृष्ण तृतीय (939 – 967) • खोट्टिग […]

खोट्टिग अमोघवर्ष

खोट्टिग अमोघवर्ष राष्ट्रकूट वंश का एक राजा। खोट्टिग राष्ट्रकूट राजवंश के कृष्ण तृतीय का छोटा भाई जो उसके मरने के बाद ९६८ ई. में मान्यखेट की गद्दी पर बैठा। वे दोनों ही अमोघवर्ष तृतीय के पुत्र थे, परंतु उनकी माताएँ संभवत: भिन्न थीं। खोट्टिग की माता का नाम कंदक देवी था। उसके समय से राष्ट्रकूट साम्राज्य का पतन प्रारंभ हो […]

गोविन्द ४

गोविन्द ४ राष्ट्रकूट वंश के राजा थे। गोविंद चतुर्थ इंद्र तृतीय का द्वितीय पुत्र था और अपने बड़े भाई अमोघवर्ष द्वितीय को राजगद्दी से हटा एवं मारकर राष्ट्रकूट की राजगद्दी पर बैठा था। इस घटना के ठीक समय के बारे में कुछ निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता। सिंहासनारोहण के समय वह लगभग २०-२५ वर्षों का नवजवान था। परंतु दुर्भाग्यवश […]

गोविन्द तृतीय

गोविन्द तृतीय ध्रुव धारवर्ष का पुत्र था। ध्रुव ने १३ वर्षों तक सफलतापूर्वक शासन करने के बाद संभवत: अपने जीवनकाल में अपने तीसरे और योग्यतम पुत्र गोविंद (तृतीय) को ७९३ ई. के आसपास राज्याभिषिक्त कर दिया। उसके पूर्व गोविंद का युवराजपद पर विधिवत् अभिषेक हो चुका था। इसका कारण था एक ओर ध्रुव की अपने गोविंद को राज्याधिकारी बनाने […]