शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास

शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास भारत में शिक्षा एवं संस्कृति के क्षेत्र में कार्य करने वाला न्यास है।[1] इसकी स्थापना १८ मई २००७ को की गयी थी। इसके संस्थापक दीनानाथ बत्रा हैं जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व प्रचारक तथा विद्या भारती के पूर्व निदेशक हैं। यह न्यास अपने सहयोगी संगठनों जैसे, शिक्षा बचाओ आन्दोलन समिति के निकट सहयोग से काम करता है। इस न्यास का घोषित लक्ष्य वर्तमान शिक्षा व्यवस्था […]

सरस्वती शिशु मंदिर

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा संचालित विद्या भारती के विद्यालयों को सरस्वती शिशु मंदिर एवं “”सरस्वती विद्या मंदिर”” कहते हैं। संघ परिवार सरस्वती शिशु मंदिर की शिक्षा प्रणाली को अभिनव रूप में मानते हुवे इसका प्रसार करता है। इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी प्रसिध्दि मिली है। विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए सरस्वती शिशु मंदिर अच्छा विकल्प स्वीकार किया […]

सर्व शिक्षा अभियान

मध्य प्रदेश के गांव में एक प्राथमिक स्कूल. सर्व शिक्षा अभियान (BRC) 2001भारत सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है, जिसकी शुरूआत (2001-02) मे अटल बिहारी बाजपेयी द्वारा एक निश्चित समयावधि के तरीके से प्राथमिक शिक्षा के सार्वभौमिकरण जैसा कि भारतीय संविधान के 86वें संशोधन द्वारा निर्देशित किया गया है जिसके तहत 6-14 साल के बच्चों (2001 में 205 मिलियन अनुमानित) की […]

सेंट जॉन्स मैट्रिकुलेशन हायर सेकेंडरी स्कूल आल्वार्थिरुनगर

सेंट जॉन्स मैट्रिकुलेशन हायर सेकेंडरी स्कूल में एक स्कूल है Alwarthirunagar जो 1980 के दशक में अपनी शुरुआत की थी। स्कूल डी जॉन Ponnudurai द्वारा स्थापित किया गया था। इस विद्यालय में IYAP संघ का हिस्सा है। स्कूल निम्नानुसार मैट्रिकुलेशन 10 ग्रेड 1 ग्रेड के बीच छात्रों और ग्यारह और बारह ग्रेड के लिए तमिलनाडु स्टेट बोर्ड के लिए पाठ्यक्रम. […]

अन्य पिछड़ा वर्ग

अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) एक वर्ग है, यह सामान्य वर्ग यानी जनरल में ही सम्मिलित होता है पर इसमें आने वाली जातियाँ गरीबी और शिक्षा के रूप में पिछड़ी होती हैं यह भी सामान्य वर्ग का भाग है जो जातियाँ वर्गीकृत करने के लिए भारत सरकार द्वारा प्रयुक्त एक [1] सामूहिक शब्द है। यह अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों [2] के साथ-साथ भारत की जनसंख्या के कई सरकारी वर्गीकरण में से […]

कुमावत

श्री राजपूत सभा जयपुर द्वारा प्रकाशित”राजस्थान के कछवाहा” नामक पुस्तक में लेखक कुंवर देवी सिंह मण्डावा ने कछवाहा राजवंश की ऐतिहासिक पृष्ठ भूमि में लिखा है कि आमेर के राजा श्री चन्द्रसेन जी के राज्य काल में दिल्ली के लोदी सुल्तान के सेनापति हिन्दाल ने जब अमरसर के शेखावतों पर हमला किया तब राजा चन्द्रसेन […]

यादव

यादव भारत में पारंपरिक रूप से गैर-कुलीन किसान-चरवाहे समुदायों या जातियों का एक समूह को संदर्भित करता शब्द है। 19वीं और 20वीं शताब्दी से वह सामाजिक और राजनीतिक पुनरुत्थान के आंदोलन के भाग के रूप में पौराणिक राजा यदु के वंश से होने का दावा करते हैं।[1][2][3] यदुवंशी क्षत्रिय मूलतः अहीर थे।[4] यादव शब्द अब कई पारंपरिक किसान-चरवाहे जातियों जैसे कि अहीर ग्वाला […]

महिलाओं से छेड़छाड़

महिलाओं से छेड़छाड़ भारत में और कभी-कभी पाकिस्तान और बांग्लादेश[1] में पुरुषों द्वारा महिलाओं के सार्वजनिक यौन उत्पीड़न, सड़कों पर परेशान करने या छेड़खानियों के लिए प्रयुक्त व्यंजना है, जिसके अंग्रेज़ी पर्याय ईव टीज़िंग में ईव[2] शब्द बाइबिलीय संदर्भ में प्रयुक्त होता है। यौन संबंधी इस छेड़छाड़ की गंभीरता, जिसे युवाओं में अपचार[3] से संबंधित समस्या के रूप में देखा जाता है, वासनापरक […]

भारत में इस्लाम

भारत में इस्लाम इतिहास वास्तुकला मुगल  · भारतीय इस्लामी प्रधान आंकडे़ मोइनुद्दीन चिश्ती · अकबरअहमद रजा खान · मौलाना आजा़दसर सैयद अहमद खाँ · बहादुर यार जंग सम्प्रदाय उत्तरीय · मप्पिलाज़ · तमिलकोंकणी  · मराठी · वोरा पटेलमेमन · पूर्वोत्तर  · कश्मीरीहैदराबादी · दाउदी बोहरा · खोजा  · सल़्फीउडि़या  · नवायत · बीयरी · मेओ · सुन्नी बोहराकायमखानी  · बंगाली  · आन्ध्रा मुस्लिम इस्लामी समुदाय बरेलवी · देओबंदी · अहले-हदिस · इस्माईली · शिया  · शिया बोहरा · सल़्फी सुन्नी · संस्कृति हैदराबाद की मुस्लिम संस्कृति अन्य विषय दक्षिण एशिया में सल़्फी आंदोलनभारतीय मुस्लिम राष्ट्रवादमिशन ए हुसैन बिजनौर (उत्तर प्रदेश)जमियत ए अहले-हदिस हिन्दभारतीय इतिहास के मुस्लिम […]

अस्पृश्यता

अस्पृश्यता का शाब्दिक अर्थ है – न छूना। इसे सामान्य भाषा में ‘छूआ-छूत’ की समस्या भी कहते हैं। अस्पृश्यता का अर्थ है किसी वय्क्ति या समूह के सभी लोगों के शरीर को सीधे छूने से बचना या रोकना। ये मान्यता है कि अस्पृश्य या अछूत लोगों से छूने, यहाँ तक कि उनकी परछाई भी पड़ने से उच्च […]