Mangal Pandey

Complete Information About Mangal Pandey in Hindi जीवन परिचय(Biography) मंगल पाण्डेय का जन्म भारत में उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के नगवा नामक गांव में 19 जुलाई 1827 को एक सामान्य सरयूपारीण ब्राह्मण परिवार में हुआ था। हांलाकि कुछ इतिहासकार इनका जन्म-स्थान फैज़ाबाद के गांव सुरहुरपुर को मानते हैं। इनके पिता का नाम दिवाकर पांडे था। मंगल पाण्डेय सन् 1849 में 22 साल […]

important fact

1947 से 2017 तक की 64 बेहद महत्वपूर्ण घटनायें 15 अगस्त, 1947— भारत को दो अलग-अलग देशों हिन्दुस्तान और पाकिस्तान में विभाजित होने के बाद ब्रिटेन से स्वतंत्रता मिली। 15 अगस्त, 1947 जवाहरलाल नेहरू को प्रथम प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया। 27 अक्टूबर, 1947— भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर के विवादित हिमालयी क्षेत्र में युद्ध […]

kamagatamaru

कामागतामारू की घटना क्या है ? कामागतामारू कोयला ढोने वाला भाप चालित जापानी समुद्री जहाज था जिसे हांगकांग में रहने वाले व्यापारी बाबा गुरदित्त सिंह ने खरीदा था। वर्ष 1908 में कनाडा सरकार ने प्रवासियों को रोकने के लिए एक आदेश पारित किया था जिसके तहत वे लोग ही कनाडा आ सकते थे जिनका जन्म कनाडा […]

slogan

 महत्वपूर्ण कथन व नारे प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में पूछे जाते हैं वंदे मातरम –  बंकिम चंद्र चटर्जी हे राम – महात्मा गांधी जन गण मन अधिनायक जय हे–  रविंद्र नाथ टैगोर हू लिव्स इफ इंडिया डाइज–  जवाहरलाल नेहरू इंकलाब जिंदाबाद–   भगत सिंह दिल्ली  चलो–  सुभाष चंद्र बोस पूर्ण स्वराज्य–  जवाहरलाल नेहरू हिंदी हिंदू हिंदुस्तान–  भारतेंदु हरिश्चंद्र तुम […]

sir john Laurence

सर जॉन लारेंस को “भारत का रक्षक और जीत का संचालक कहा जाता है” पर क्यों ?? 1845 से 1846 के प्रथम सिख युद्ध के दौरान, लॉरेंस ने पंजाब में ब्रिटिश सेना की आपूर्ति की थी। पंजाब के अंग्रेजी राज्य में मिलाये जाने के पश्चात वह चीफ कमिश्नर नियुक्त किया गया था,  उस भूमिका में […]

governor general

भारत के प्रमुख गवर्नर जनरल तथा वायसराय ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने 1757 ई. से 1772 ई. तक बंगाल में 4 गवर्नरों की नियुक्ति की 1773 ई. के रेगुलेटिंग एक्ट के तहत बंगाल के गवर्नर को बंगाल का गवर्नर जनरल बना दिया गया तथा मद्रास और बम्बई के गवर्नरों को उसके अधीन कर दिया गया बंगाल […]

British Land Revenue Policy

बिट्रिश लैंड रैवेन्यू पॉलिसी(British Land Revenue Policy) रैयतवाडी व्यवस्था रैयतवाडी व्यवस्था फ्रांस में प्रचलित व्यवस्था की नकल थी और मलवाडी भारतीय आर्थिक समुदाय की नकल थी और स्थाई बंदोबस इंग्लैड में प्रचलित सामंतवाडी व्यवस्था थी स्थाई बंदोबस्त ये व्यवस्था भारत की लगभग 19 % भूमि पर लागू की गई थी ये व्यवस्था लार्ड कार्नवलिस द्वारा […]

peasant movement

 कृषक आंदोलन सर्वप्रथम बंगाल में नील कृषकों की हडताल हुई 1858 से 1860 तक ये आंदोलन अंग्रेजों भूमिपतियों के बीच किया गया था नील खेती  कम्पनी के कुछ अवकाश प्राप्त अधिकारी बंगाल तथा बिहार के जमींदारों से भूमि प्राप्त कर नील की खेती करवाते थे वे किसानों पर अत्याचार करते रहते थे और मनमानी शर्तों […]

trible rebellion

आदिवासी विद्रोह इसमें कोल, संथाल, अहोम, खासी, मुंडा, रमपाई कुछ प्रमुख हैं ! कोल विद्रोह यह 1820से 1836 तक हुआ छोटा नागपुर के कोलो ने अपना क्रोध उस समय प्रकट किया जब उनकी भूमि उनके मुखियाओ से छिन के कृषिक मुस्लिमों तथा सिक्खों को दे दी गई 1831 ई. में कोलो ने लगभग 1हजार विदेशी […]

Revolt after 1857

 1857 के बाद के विद्रोह(Revolt after 1857) 1857 के विद्रोह के बाद भारत में और भी अनेक विद्रोह हुए जिनमें कुछ नागरिक विद्रोह थे कुछ आदिवासी तथा कुछ कृषक विद्रोह थे  सन्यासी विद्रोह (Sanyasi Vidroh)  यह 1763 ई. से 1800 ई. तक चला अंग्रेजो के द्वारा बंगाल के आर्थिक शोषण से जमींदार ,शिल्पकार, कृषक सभी […]