constitutional development under British rule

ब्रिटिश शासन में सांविधानिक विकास  भारत में संविधान का विकास 1857 तक ईस्ट इंडिया कम्पनी के अधीन और उसके पश्चात ब्रिटिश क्राउन के अधीन हुआ, ईस्ट इंडिया कम्पनी का संचालन दो समितियों द्वारा किया जाता था, “स्वामी मण्डल और संचालक मण्डल” स्वामी मण्डल(Court of Proprietors)- कम्पनी के सभी साझीदार इसके सदस्य होते थे, जिन्हें सभी नियम कानून […]

indian states on gdp

अर्थव्यवस्था के आकार के आधार पर भारत के राज्य राज्य/संघ क्षेत्र जीडीपी (अरबरुपयों में) प्रति व्यक्ति आय (हज़ार रूपयों में) भारत 37900.63 31.6050881 महाराष्ट्र 4324.13 44.6345095 उत्तर प्रदेश 2737.85 16.4734311 आंध्र प्रदेश 2611.73 30.484629 तमिल नाडु 2462.66 35.818434 पश्चिम बंगाल 2360.44 29.4406481 गुजरात 2166.51 42.7563946 कर्णाटक 1740.93 33.1298275 राजस्थान 1241.99 21.9793277 मध्य प्रदेश 1185.86 19.6503537 […]

Saturn

शनि ग्रह (Saturn) – बृहस्पति के बाद सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह शनि (Saturn), सूर्य से छठां ग्रह है तथा बृहस्पति के बाद सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह हैं। औसत व्यास में पृथ्वी से नौ गुना बड़ा शनि एक गैस दानव है। जबकि इसका औसत घनत्व पृथ्वी का एक आठवां है, अपने बड़े आयतन के साथ यह पृथ्वी से 95 गुने […]

major mountain peak

भारत के प्रमुख शिखर, एवं उनसे निकलने वाली नदियाँ पर्वत शिखर समुद्र तल से ऊंचाई (मीटर में) नदी लम्बाई (कि.मी.) के 2 8,611 ब्रह्मपुत्र 2900 कंचन जंघा 8,598 सिन्धु 2880 नंगा पर्वत 8,128 गोदावरी 2465 गाशेर ब्रम 8,068 गंगा 2071 ब्रॉड पीक 8,047 सतलज 1500 दिस्तेगिल सर 7,885 यमुना 1375 माशेर ब्रम (पूर्वी) 7,821 घाघरा […]

Jupiter

बृहस्पति – हमारे सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति सूर्य से पांचवाँ और हमारे सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। यह एक गैस दानव है जिसका द्रव्यमान सूर्य के हजारवें भाग के बराबर तथा सौरमंडल में मौजूद अन्य सात ग्रहों के कुल द्रव्यमान का ढाई गुना है। बृहस्पति को शनि, अरुण और वरुण के साथ […]

Earth

पृथ्वी नीला ग़्रह पृथ्वी, जिसे विश्व अथवा द वर्ल्ड भी कहा जाता है (तथा कम प्रचलन में भूमि अथवा गैय अथवा लेटिन में टेरा), सूर्य का तीसरा ग्रह है। यह सौर मंडल में व्यास, द्रव्यमान और घनत्व की दृष्टि से सबसे बड़ा पार्थिव ग्रह है। इसका पृथ्वी, पृथ्वी ग्रह, भूमि, संसार और टेरा के रूप में […]

Rotation and Rotation Period

घूर्णन तथा घूर्णन काल – Rotation and Rotation Period भौतिकी में किसी त्रिआयामी वस्तु के एक स्थान में रहते हुए (लट्टू की तरह) घूमने को घूर्णन (rotation) कहते हैं। यदि एक काल्पनिक रेखा उस वस्तु के बीच में खींची जाए जिसके इर्द-गिर्द वस्तु चक्कर खा रही है तो उस रेखा को घूर्णन अक्ष कहा जाता […]

south Indian river

दक्षिण क्षेत्र से निकलने वाली नदियाँ दक्‍कन क्षेत्र में अधिकांश नदी प्रणालियाँ सामान्‍यत पूर्व दिशा में बहती हैं और बंगाल की खाड़ी में मिल जाती हैं। गोदावरी, कृष्‍णा, कावेरी, महानदी, आदि पूर्व की ओर बहने वाली प्रमुख नदियाँ हैं और नर्मदा, ताप्‍ती पश्चिम की बहने वाली प्रमुख नदियाँ है। दक्षिणी प्रायद्वीप में गोदावरी दूसरी सबसे […]

Himalayan rivers drainage system

हिमालय से निकलने वाली नदियों का अपवाह तंत्र एवं स्वरूप हिमालय से निकलने वाली नदियाँ सिन्घु अपवाह तन्त्र की प्रमुख नदी सिन्धु है। इसकी कुल लम्बाई 2880 किलोमीटर है। भारत मे इसकी लम्बाई 709 किलोमीटर है। तिब्बत में मानसरोवर के निकट से निकलती है और भारत से होकर बहती है और तत्‍पश्‍चात् पाकिस्तान से हो कर और […]

solar time

सौर समय किसे कहते हैं ? आकाश में सूर्य के अवस्थिति के आधार पर समय के चलने के लेखा जोखा को सौर समय कहते हैं। सौर समय का मुलभुत इकाई दिन होता है। दो तरह के सौर समय आभासी सौर समय (सूर्य को भांपकर समय ज्ञात करना) और सौर समय (घड़ी के अनुसार) हैं। एक […]